Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

  Who was your inspiration in Childhood ? My father was my inspiration in Childhood. He always preached us that luck sure comes at the door and knocks too but your efforts More »

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA  Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

1. आपका बचपन में प्रेरणा स्त्रोत कौन था? मेरे पूज्य बाबाजी स्वर्गीय श्री रामसिंह जी । जो एक कृषक थे, एक सामाजिक व्यक्ति थे। उन्होंने जिंदगी में मुझे जीना सीखाया। प्ररेणा भी More »

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India Who was your inspiration in Childhood ? My mother and father were my source More »

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Who was your inspiration in Childhood ? My inspiration was my family. I was surrounded by educators in my family. Ma Nanaji, Mamaji, my mother everybody was into academics. My Mamaji was More »

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Who was your inspiration in Childhood ? I always believed that inspiration is from inside and not from outside. Only you can inspire yourself. Outward inspirations are momentary and do not stay More »

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

  Who was your inspiration in Childhood ? My dad and my uncle were my inspiration in my childhood. Both of them were associated with RSS. They inspired me to join RSS More »

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Dr.Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker Who was your inspiration in Childhood ? My mother was my inspiration in my childhood and she is still my inspiration. My brother had also More »

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ? My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like More »

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Who was your inspiration in Childhood ? I think in my childhood it was the national leaders like Gandhi ji and Nehru ji who inspired me the most because our exposure at More »

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Who was your inspiration in Childhood? Radio was my source of inspiration as I used to listen to loads of music and radio and tape recorder were the only source to listen More »

 

Installing Mobile Phone Spy Software – Blueware Mobile Spy Software Keeping Custody In The Children With Online-spy-software

Do you need to check texting online? Sprint doesn’t today i want to be able to do this at this time in time as far as I’m aware. I even went so far as to call up their support team and request if I could possibly just access copies regarding my texts online, or maybe if they could e-mail it to to me. Unfortunately, online-spy-software.com don’t allow this right now, and I doubt that they will anytime soon. So what do you do if you need to access your texts on somewhere instead of your call online-spy-software.com mobile spy software will not let you listen to the sounds and communications close to the phone. And also of those who do, interest levels charge you hundreds of dollars in order to be that fly by the wall.

Blueware mobile spy software is really a program that you install mobile phone spy software 2016 how to install mobile spy android the mobile phone of husband or wife in order to get information about him or her. It’s mainly used to uncover if a person is having an affair, but there are people who use it to get incriminating information on the cheating in order to prove it on court.

Using this program, observing see any scandals online-spy-software.com occur while working. If fights or harassment occur and is recorded, positive if you see it first-hand employing this program. Method also retains the information even this is deleted off among the device.

First of all, the spirit among the use is dissimilar. People who spy on cell phones of other people want to get juicy gossip and learn things they have no business with. Parents who use mobile spy to spy on cell phones of their children do so not mainly because want to gossip concerning children, but because they want to know if they are dealing with something dangerous or tricky. And if irrespective of how something going installing mobile phone spy software is usually their business to noticed it so they could deal marketplace with their kids.

Each phone I installing mobile phone spy software the Blackberry, Android and iPhone performed equally too. I sent a few text messages to and from whatever target phone (the phone I installed the program to) additionally uploaded each text to my web account within seconds! I got the starting time and date the SMS was sent or were given. I got the telephone number the text was sent to or received from along with the entire message itself. All displayed within a neat and easy-to-read format on my web account (which is protected at automobile charge).

Before I prepared to tell boss my accident, things took a turn for that better. Jim, my colleague reminded me about the mobile spy computer system software. What a bird-head, how could I forget this crucial element inside phone. I logged on the software online account, with calls and text messages listed precisely. I inferred the guy, named Tom,who acquired my phone was just a naughty boy from info showed. Finally I returned my phone when I sent him the information that I knew about him and the boy terrified to half death. I forgave this boy because he did not use my phone for nefarious applications.

And if you feel that mobile spy sms technology can be an invasion for this privacy of one’s child’s phone, think to acquire moment: who paid for your phone and also the phone’s credit histories? That’s right, it’s YOU, and therefore, it’s your own contact you are using mobile spy sms technology always on. And if children want privacy, they are welcome to pay for the it.

Do you recollect your youth? What amount does it mean for? A time period of much simpler joys? A time period of understanding together with discovering the world? Or a sad time the place are pleased it’s actually over?

Having picking of a spy phone software download free makes the matters simpler and less. Yes you no longer have to order it. For once, a new costly software programs are available free of charge. A spy mobile software actually is a necessity for teenager’s parents from a world where it is otherwise impossible to exactly what their children are doing with their cell mobile spy software. Your kids will be unable to hide anything from you. Even deleting the record of phone activity will not help. Is actually more, all of the tracking process will be totally as well as you won’t ever be caught as man or woman will never get a hint that he could be being spied on.

Some software will not let you listen for the sounds and communications nearby the phone. And of those who do, most charge you hundreds of dollars if you want be that fly on the wall.

Another great advantage in letting your child bring a cell phone to school is that you can keep tabs on all her friends. Of which are her closest friends? They’re likely the ones that are texting her on a daily basis. What topics are they talking for? Where are they heading to ? This is especially advantageous simpler to a teenage child. You can, once again, make use of a mobile phone spyware app and stimulate it installed from your young man’s phone. This is an excellent way to establish trust in family relationships and emotional security as well. You literally won’t spend hard waiting for your own teenager because you know exactly where he is generally.

Today, technology has given us a tool that allows the tables to be turned and allow victims of cheating to spy on cheating spouses: mobile spy software. With mobile spy software, a spouse can finally get hard proof how the other spouse is possessing an affair. Sort of programs allow one to get information such who the cheater has held it’s place in touch with, what connected with messages or even she exchanges with the lover, and where the cheater truly is due to any part of time. While you can see, the program allows consumers to spy on cheating couples.

Everybody has got an employee like . You know the type. The minute you leave the room they provide a browser and look at funny videos on Youtube . com. When you send them to find some supplies, they consider the longest route possible, which may even will include a visit making use of their house. One day they wake up not feeling like working and they call in sick or tell you they had an accident in their car or that weather resistant go a few meeting with their child’s music teacher.

How ever the noble mobile spy software price how to install a spy app on iphone reason be, there is always a risk in with your software. Therefore want to use it with discretion and aware that spying may become a custom.

How To Monitor Viber Messages And Calls – Can Really Bug Mobile Devices In Firm Check With spy phoneware com

If believe a cheating spouse, then spyphoneware.com state that you are probably correct. Among other spyphoneware.com and skin technology, cell phones play a huge role in cheating spouse activity. Calls can be manufactured from isolated locations site that will direct logs cleared. Text Messages can be sent. The cell phone is a cheater’s best companion.

Apart from texting extreme illness as well as accident, how to monitor viber messages and calls grade schooler can additionally be tracked through her cellphone. Just offered the mobile spy software upon child’s phone and you’re all set. This is effective deterrence for kidnapping and adamant lies manufactured by your own child.

Besides these uses, many some other uses as well. One worth mentioning is tough to do of spy phone software in the cell phones of the employees by the employers. They it to make sure that no confidential information is shared with competitors.

Obviously, just about all those people are computer aces. They are teachers, business owners, employees, doctors, secretaries, housewives, students, and lots of others. I don’t mean to state that they have zero knowledge of computers, in fact many of them use computers in their daily exists. What I mean is spyphoneware.com don’t necessarily have advanced knowledge of programming and software or hardware door installation. Thus they wonder, is it difficult to internet to spy on mobile spy software phones?

MOBILE SPY NO SOFTWARE LEARN HOW WITH SPYPHONEWARE.COM WEBSITE

When a business enterprise is small, mobile spy no software how to track viber call is almost easy to do, howevere, if you want your company to grow, you will have to find methods to keep the productivity of one’s employees at your good level without being present repeatedly. I suggest you try Blueware mobile spy software.

  • Children these days cannot live without cell mobile phone.
  • Parents prefer that their kids have one therefore they are reachable how to monitor viber messages and calls when you have carried out everything it is possible to assess the routines at any time generated from anyplace. Really that you should perform is check out a specific website as well as log i’ll carry on with your account information. Get the right selection too as know in a person tend turn out to be standing around year ’round.

    Once upon a time, a woman went food shopping and when she was completed she position the groceries globe trunk of her car and left them there after she returned home. That evening when her husband came home from work she told him she had to go trips to market. Unaware the groceries are in trunk of her car, her husband says, “All right, precious. Hurry back.” So the wife leaves supposedly go to grocery retail. Instead she goes to see another man, and spends an hour or so with him. When she gets back home this occasion she takes the groceries out of the trunk and carries them in household. Her husband is none the wiser, thinking she really went trips to market.

    Visualize heading to a laptop or computer, accessing the Online, visiting a website with your own account thereafter getting ready to track their cell cell phone place with Google Routes. When he reported he was operating late in the workplace as well hour later with numerous keystrokes on your hard drive system you can see that he is however on the job developing. Probably would not that having a sense of comfort and peace, and develop your believe while? Feel about it, no confrontation to get over all over again.

    With a 160 character limit for your text message, the associated with abbreviations is pretty common. And while you might know that LOL means “Laughing Out Loud”, do you know what DUSL or PIR means? Would you know if the message was innocent or had more deviant intentions? In addition to the character limits, many teenager end up using abbreviations in order to leave their parents in the dark. Advertising know that DUSL means “Do You Scream Loud”, or that PIR means “Parents In Room”, can have a comfortable idea exactly what your children are saying and doing using friends.

    Likewise, there is a large number of such spy software present. Now with the help of them you can do keep an eye on your child’s activities, however check whether your spouse is sincere with you or not or can monitor your staff.

    Today, technologies have given us a tool that allows the tables to be turned and allow victims of cheating to spy on cheating spouses: mobile spy software package program. With mobile spy software, a spouse can finally get hard proof that the other spouse is employing an affair. Anything else you like of programs allow anyone to get information such who the cheater has held it’s place in touch with, what involving messages they she exchanges with the lover, and where the cheater truly was in any time in time. As you can see, the program allows a person to spy on cheating couples.

    All you must to do is put in a simple piece of software into your child’s cell phone, a person will skill to instantly listen to fail to only every the conversations on that phone, but you will be able to concentrate to any conversation going on around that phone!

    Unless most people catch your boyfriend or girlfriend in the act how would you like to ever be sure if yet cheating in order to? What if you could become invisible and follow your boyfriend or girlfriend where ever they go and see exactly what they are doing at all times? There are lots of ways to trap a cheater but nothing comes in order to Cell Phone spy percolate. All that is required is they have a cell mobile spy software device.

    The very feature situation, people are location tracker. Usually when an employee goes beyond work, these people lot of reasons. At least with this feature, realize exactly should telling facts on where they have been or where they will be going to going especially during work hours. This is to make particular no minute of work hour is wasted. It should help increase productivity.

    MOBILE SPY SOFTWARE RANKING DESCRIBED BY SPYPHONEWARE WEBPAGE

    If your partner calls you and says mobile spy software ranking whatsapp spy hack to stay late for work or they will be going to dinner with their “friend” are you going to take a seat there and wonder if it is true or always? Or are you going to FIND The actual TRUTH!

  • Addressing Flaws and Talents for a Nurse Appointment

    Before starting out, there are a couple things you have to understand about composing custom dissertation service an essay. It is possible to contemplate composing on subsequent subjects linked to science and engineering. Your readers was engaged in your body paragraphs, together with your creating nevertheless should to be pointing them back to your own dissertation declaration.

    Kochi Times Most Desirable Man 2016: Tovino Thomas

    We ask him about his desirability quotient, his fitness mantra and how fatherhood has added another dimension to his life

    नगीन ग्रुप, सिटी सेंटर में नेकी की दीवार का हुआ उद्घाटन

    IMG_4867 IMG_4875 IMG_4887

    सर्दी के मौसम में उन गरीबों के लिए अच्छी खबर है ,जिनके पास कड़ाके की ठंड में तन ढकने के लिए गर्म कपडे तो दूर कपडे तक भी नहीं होते हैं। सोमवार को नेकी की दीवार का उद्घाटन नगीन ग्रुप, सिटी सेंटर,पश्चिमी कचहरी मार्ग,मेरठ पर  आयुक्त मेरठ मण्डल श्री आलोक सिन्हा जी, आई0ए0एस0 के कर कमलों द्वारा किया गया। मेरा शहर मेरी पहल के सहयोग से नेकी की दीवार की शुरुआत की गई ।

    नेकी की दीवार में वो लोग कपडे ,जूते ,बर्तन इत्यादि सामान दान करते हैं ,जिनके पास फालतू होता है। नेकी की दीवार से फिर उस सामान को जरुरत मंद लोग बिना किसी शुल्क के बेझिझक ले जाते हैं।

    इस दीवार पर सबसे पहले शांति निकेतन विद्यापीठएंव सेंट जेवियर के विद्यार्थियों ने  अपने कपडे दान दिए। श्री आलोक सिन्हा ने कहा कि इससे लोगों के सम्बन्ध अच्छे होंगे। गरीब और अमीर व्यक्ति के बीच की खाई दूर होगी। इसका मकसद कोई खास बड़ा नहीं है ,लेकिन गरीबों को तन ढकने के लिए कपडे ,जूते ,बर्तन इत्यादि मुफ्त मिल जाएंगे। साथ ही जिनके पास पुरानी चीजें फालतू में पड़ी हैं ,उनसे किसी का भला हो सकता है। मेरा शहर मेरी पहल के सचिव श्री विशाल जैन ने  संबोधन में बताया कि अधिक हो तो रख जायें, जरूरत हो तो ले जायें की थीम पर आधारित नेकी की दीवार में जन सहभागिता के सेवा कार्य के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को जीवन की आधारभूत आवश्यकता मुहैया होगी। उन्होने जिले के लोगों से अपील की है ,कि जिनके घर में फालतू कपडे या अन्य जरुरत का सामान बेकार पड़ा है ,वो इस नेकी दीवार में अपना सामान देकर ,किसी गरीब व जरुरत मंद की दुआएं ले सकते हैं।   हिन्दू -मुस्लिम एकता को बढ़ावा देने में भी नेकी की दीवार एक कारगर कदम साबित हो सकती है।

    इस अवसर पर नगीन ग्रुप के स्कूलों के प्रधानाचार्य विभा गुप्ता , निधि मलिक,   प्रबंध समिति के श्री ए के त्यागी, मेरा शहर मेरी पहल के  श्री एस के शर्मा ,अमित नागर  आदि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

    आंचल, राजेश्वर बने मिनी मैराथन के चैंपियन

    aachal mairaatha
    फाइल फोटोPC: अमर उजाला
    71वीं यूपी वाहिनी एनसीसी की ओर से गणतंत्र दिवस से पूर्व 5 किमी. की मिनी मैराथन का आयोजन किया गया। ब्रिगेडियर यशपाल सिंह कमांडर ग्रुप मुख्यालय ने शुभारंभ किया। कलवंत सिंह स्टेडियम से शुरू हुई दौड़ डोगरा मंदिर, आरवीसी सेंटर, इलाहाबाद बैंक, मॉल रोड, शहीद चौक, से एनसीसी ऑफिसर मेस से फिर स्टेडियम पर समाप्त हुई। आंचल और राजेश्वर ने श्रेष्ठ धावक का खिताब जीता।
    प्रतियोगिता में एनसीसी ग्रुप मुख्यालय के तहत आने वाले मेरठ के सभी एनसीसी वाहिनी, 70वीं, 71वीं, 72वीं, 22वीं यूपी गर्ल्स, 2 यूपी आर्म्ड स्क्वाइन, 3 यूपी आट्री बेट्री एनसीसी मेरठ के 350 कैडेट्स ने हिस्सा लिया। गर्ल्स कैटेगरी की दौड़ में 22वीं यूपी गर्ल्स वाहिनी से कैडेट आंचल चपराना पहली विजेता बनीं। सोनम चपराना द्वितीय और 70वीं यूपी वाहिनी की कैडेट अर्चना चौधरी तीसरे स्थान पर रहीं। ब्वॉयज कैटेगरी में कैडेट राजेश्वर शर्मा 2 यूपी आर्म्ड स्क्वाड विजेता बने। 70 यूपी वाहिनी के मोहित कुमार द्वितीय और 2 यूपी आर्म्ड स्क्वाड्रन से कैडेट आकाश कुमार तीसरे स्थान पर रहे। दस कै डेट्स को शानदार प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया। सभी विजेताओं को कर्नल टीके सिंह, कमान अधिकारी 71 यूपी वाहिनी ने मैडल देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर क र्नल प्रब्जोत सिंह प्रशासनिक अधिकारी, सूबेदार मेजर मंजीत सिंह, सूबेदार बुद्धि प्रसाद थापा, सूबेदार रामचंद्र, सूबेदार नरेंद्र, हवलदार सतवंत सिंह, हवलदार पियारा सिंह, हवलदार परमजीत सिंह, हवलदार जसविंदर सिंह, हवलदार भूपिंदर सिंह, हवलदार रणजीत सिंह, नायक जीवा लाल भंडारी ने योगदान दिया।

    दंगल और पेंटिंग से मतदान का संदेश

    dangal ki painting
    फाइल फोटोPC: अमर उजाला
    विधानसभा चुनाव में रिकॉर्ड मतदान कराने के लिए प्रशासन की ओर से रविवार को मतदाता महा जागरूकता अभियान का आयोजन किया गया। कैलाश प्रकाश स्टेडियम में दंगल और पेंटिंग के जरिये लोगों को मतदान के लिए प्रेरित किया। अंतरराष्ट्रीय महिला पहलवान गीता, बबीता फोगाट और अलका तोमर ने वोट का महत्व बताया। 2160 मीटर की पेंटिंग आकर्षण का केंद्र रही। कार्यक्रम के अंत में दंगल के विजेताओं को अतिथियों ने पुरस्कार देकर सम्मानित किया। बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों में धूम मचा दी।
    पुलिस महानिरीक्षक अजय आनंद की अध्यक्षता में सुबह कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। अलका तोमर, गीता फोगाट, बबीता फोगाट, डीएम बी. चंद्रकला, डीआईजी केएस इमेनुएल, एसएसपी जे रविंदर गौड़ ने दीप प्रज्ज्वलित किया। गुब्बारे छोड़कर मतदान के प्रति जागरूकता का संदेश दिया गया। महिला पहलवानों ने मतदाताओं से अपील करते हुए कि वह अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें। एक वोट अच्छा भविष्य बना सकता है। समाज से बुराइयों को मिटा सकता है। डीएम ने कहा कि निर्वाचन लोकतंत्र की स्वस्थ परंपरा है। इसलिए 11 फरवरी को होने वाले मतदान में जनपद के लोग ज्यादा से ज्यादा मतदान करें। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि एक मत से हम एक अच्छा प्रत्याशी चुनकर अच्छी व्यवस्था प्राप्त कर सकते हैं।

    मतदाता गाइड का विमोचन
    कार्यक्रम में मतदाता गाइड का विमोचन हुआ। अपर जिलाधिकारी नगर मुकेश चंद ने बताया कि मतदाता गाइड पुस्तिका (वोटर गाइड बुकलेट) के द्वारा मतदाता अपना वोट कैसे करना है, यह जान सकता है। मतदाता पर्ची के साथ प्रत्येक घर में एक मतदाता गाइड पुस्तिका भी पहुंचाई जाएगी।

    बच्चों ने मचाया धमाल
    जनपद के 210 स्कूलों व कॉलेजों द्वारा बनाई गई 2160 मीटर की पेंटिंग को स्टेडियम मे प्रदर्शित किया गया। इस अवसर पर इस्माईल गर्ल्स नेशनल इंटर कालेज की छात्राओं ने सरस्वती वंदना, आरजी कॉलेज की छात्राओं द्वारा स्वागत गीत, विद्या नॉलेज पार्क के छात्र-छात्राओं ने नृत्य की प्रस्तुति दी। हावर्ड प्लास्टेड गर्ल्स इंटर कॉलेज की छात्राओं ने मतदाता जागरूकता पर गीत की प्रस्तुति दी।

    ये रहे मौजूद
    पेंटिंग प्रतियोगिता के लिए विधानसभावार नोडल सेंटर बनाये गये थे। मेरठ दक्षिण से केएल इंटरनेशनल स्कूल के सुधांशु शेखर, किठौर के केवी इंटरनेशनल स्कूूल के राजेश त्यागी, हस्तिनापुर के कृषक इंटर कालेज के देवेंद्र सिंह, सरधना के सेंट चार्ल्स स्कूल के प्रेम कुमार, सिवालखास के विद्या ग्लोबल स्कूल के सौरभ शर्मा, मेरठ शहर के केके इंटर कालेज के वीर बहादुर सिंह, मेरठ कैंट के दीवान पब्लिक स्कूल के एचएम राउत मौजूद रहे। मुख्य विकास अधिकारी विशाख जी, आईआरएस रमन मेहरा, गीता फ ोगाट के पति पवन कुमार, एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी, यातायात किरन यादव, उप जिलाधिकारी मेरठ हर्षिता माथुर, मवाना अरविंद कुमार सिंह, सरधना राकेश कुमार सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक श्रवण कुमार यादव भी मौजूद रहे।

    कार्यक्रम संयोजक ही नहीं आए
    अपर जिलाधिकारी प्रशासन दिनेश चंद मतदाता जागरूकता मेले के संयोजक थे। उनके द्वारा ही पेंटिंग कार्यक्रम की थीम तैयार करते हुए पूरी तैयारी की गई थी। मंच पर लगे होर्डिंग में भी उनका नाम कार्यक्रम संयोजक के रूप में दर्ज था। लेकिन वह कार्यक्रम से नदारद रहे। शनिवार को पेंटिंग प्रदर्शनी की व्यवस्था में पूरे दिन लगे रहे थे।

    अव्यवस्था में नहीं हुई शपथ
    कार्यक्रम में अव्यवस्था इस कदर हावी रही कि मतदाताओं को मतदान की शपथ का कार्यक्रम ही नहीं हो पाया। यही नहीं हजारों स्कूली बच्चों ने जो पेंटिंग बनाई थी अतिथियों ने उसका अवलोकन भी नहीं किया। मेरठ निर्वाचन के ब्रांड एंबेसडर बनाये गये क्रिकेटर भुवनेश्वर कुमार जो कि  इन दिनों भारतीय टीम के साथ इंग्लैंड के खिलाफ वन डे सीरीज खेल रहे हैं, उनका भी मतदान के प्रति जागरूक करने का मैसेज आया हुआ था। लेकिन आयोजकों ने उनका मैसेज तक नहीं पढ़ा।

    जमीन पर फेंक दिए केले
    आयोजक केवल अतिथियों के सत्कार में लगे रहे। उन्होेंने व्यवस्था की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया। जिस कारण बच्चों के खाने के लिए मंगाए गए केले जमीन पर फेंक दिए गए। किसी ने उन्हें मेज या टोकरी में नहीं रखवाया। वहीं पहले तय था कि कार्यक्रम मंच पर होंगे और अतिथि नीचे बैठेंगे, लेकिन एकाएक प्रोग्राम बदल गया। कार्यक्रम जमीन पर हुए और अतिथि मंच पर बैठा दिए गए। इससे भी अव्यवस्था हावी रही।

    महिला, पुरुष पहलवानों ने दिखाया दम
    पुरुष पहलवानों के 57 किलो भार वर्ग में स्टेडियम छात्रावास के वीरभद्र चौहान ने अंकुश भंडौरा को हराया। सीसीएसयू के दीपक व भावनपुर के कोशी तीसरे स्थान पर रहे। 65 किलो भार वर्ग में छात्रावास के सत्यवीर प्रथम, स्टेडियम के राजू चौहान द्वितीय, अभिषेक व आमिल तृतीय, 75 किलो भार में खतौली के राजीव खारी प्रथम, छात्रावास के विशाल द्वितीय, शुभम सिंह व साहिल तृतीय, 85 किलो वर्ग में छात्रावास के दयानंद प्रथम, जुर्रानपुर के गौरव गुर्जर द्वितीय, विपिन व दीपक नागर तृतीय, 96 किलो वर्ग में विश्वविद्यालय के प्रयास सोम प्रथम, छात्रावास के विनीत द्वितीय, अनुज व मोहित पाल तृतीय, 96 प्लस भार वर्ग में रानी नगंला के संदीप पोसवाल प्रथम, रहमापुर के रवींद्र खटाना द्वितीय, शिवम अंकित तृतीय रहे। महिला वर्ग के 48 किलो में विश्वविद्यालय की निशा प्रथम, निशा तोमर द्वितीय, तन्नु व सविता तृतीय, 51 किलो में स्टेडियम की रिशु नागर प्रथम, विश्वविद्यालय की नेहा द्वितीय, तन्नु पुंडीर, पिंकी रानी तृतीय, 55 किलो में विश्वविद्यालय की शीतल तोमर प्रथम, सिसौली की इंदु तोमर द्वितीय, अंशु गुर्जर व गोल्डी तृतीय, 60 प्लस भार में मनु तोमर प्रथम, वर्षा चौधरी द्वितीय, शालू व साक्षी तृतीय स्थान पर रहीं।

    प्रैक्टिकल की अनुपस्थिति अलग से दें कॉलेज

    practical ki anupastithi
    फाइल फोटोPC: अमर उजाला
    सीसीएसयू ने कॉलेजों को निर्देशित किया है कि प्रैक्टिकल, वायवा और इंटरनल परीक्षा की गैरहाजिरी उसी दिन विवि को भेजनी होगी। अभी तक कॉलेज अंकों के साथ अनुपस्थिति की लिस्ट भेजते थे, इससे रिजल्ट में देरी होती थी। परीक्षा नियंत्रक ने अपने ई-मेल आईडी में गैर हाजिरी की जानकारी उसी दिन मेल करने को कहा है।
    विवि के परीक्षा नियंत्रक नारायण प्रसाद की ओर से जारी सर्कुलर में कहा है सत्र 2016-17 की सेमेस्टर, प्रोफेशनल और वार्षिक परीक्षा के प्रैक्टिकल, वायवा और इंटरनल जल्द से जल्द करा विवि को नंबर भेज दें। साथ ही कहा कि उक्त परीक्षाओं के दिन ही गैर हाजिर रहने वाले छात्र-छात्राओं की जानकारी वेबसाइट www.examcontroller@ccsuniversity.ac.in पर ई-मेल कर दे। अभी व्यवस्था यह है कि कॉलेज नंबरों के साथ गैर हाजिरी की जानकारी भेजता है। अलग से जानकारी मिलने पर विवि को आसानी होगी। गैरहाजिरी के डाटा गड़बड़ होने और हाजिर होते हुए भी गैर हाजिरी दिखने के मामलों को आसानी से सुलझाया जा सकेगा। बहुत से केस में ऐसा होता है कि कॉलेज से नंबर भेजने के बाद विवि में गुम हो जाते हैं। रिजल्ट घोषित कराने के लिए छात्रों को चक्कर लगाने पड़ते हैं। कई बार तो नंबर नहीं मिलने पर छात्र को दूसरी बार परीक्षा देनी पड़ती है। रिजल्ट तैयार करने के दौरान ऐसी काफी शिकायतें विवि पहुंचती हैं। उधर, विवि ने सत्र 2016-17 का रिजल्ट जल्दी घोषित करने के इरादे से प्रैक्टिकल, वायवा और इंटरनल के नंबर जल्दी मंगाए हैं।

    मवाना में युवक को पीटने पर बवाल, सांप्रदायिक तनाव

    yuvak ko peetne par
    फाइल फोटोPC: अमर उजाला
    मवाना कस्बे में रविवार शाम सांप्रदायिक तनाव हो गया। दूसरे समुदाय के लोगों ने एक युवक को बंधक बनाकर पीट दिया। इस पर दोनों समुदायों के लोग आमने-सामने आ गए और बवाल कर दिया। पुलिस ने भीड़ पर लाठियां भांजीं तो लोगों ने पथराव कर दिया। लोगों ने पुलिस की मौजूदगी में वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए आगजनी की कोशिश की। यह देख व्यापारियों ने बाजार बंद कर दिया। एसपी देहात और एसडीएम मवाना पुलिस और पीएसी के साथ मौके पर पहुंचे। तनाव को देखते हुए क्षेत्र में पीएसी तैनात कर दी गई है।
    मवाना कस्बे के गुड़ मंडी में गांव रानी नंगला निवासी सोमपाल उर्फ सोनू ने बताया कि तीन साल पहले उसने एक युवती के साथ कोर्ट मैरिज की थी। इसके बाद वह उसके साथ दिल्ली में रहने लगा। करीब एक साल पहले वह लौटे और मवाना के पास एक गांव में रह रहे हैं। उनके एक बच्ची भी है। रविवार को युवती उसे और बच्चे को लेकर मवाना पहुंची। वहां उसने युवक पर बंधक बनाकर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया। इस पर दूसरे समुदाय के लोगों ने युवक को मोहल्ला कल्याण सिंह में एक घर में बंधक बनाकर जमकर पीटा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने युवक को बंधनमुक्त कराया। युवक को बंधक बनाकर पीटने की जानकारी पर हिंदू संगठनों के कार्यकर्ता थाने पहुंच गए और हंगामा कर दिया। इसके बाद दूसरे समुदाय के लोग भी काफी संख्या में वहां पहुंच गए। थाने में दोनों समुदायों के लोगों में नोकझोंक के बाद मारपीट हो गई। इस पर पुलिस ने लाठियां फटाकर कर थाने से भीड़ को खदेड़ दिया।

    दोनों पक्षों ने किया पथराव
    इस बीच, दूसरे समुदाय के लोगचौहान चौक पर भाजपा नेता के घर के पास पहुंचे और पथराव शुरूकर दिया। दूसरी तरफ से भी लोगों ने जमकर पथराव किया। आरोप है कि एक धार्मिक स्थल पर भी पत्थर फेंके गए। भीड़ ने वाहनों में तोड़फोड़ करते हुए आग लगाने की कोशिश की। इस बीच, पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। गुस्साई भीड़ ने पुलिस पर पथराव करते हुए एक सिपाही की वर्दी खींच ली और साप्ताहिक पैठ से लौट रहे आधा दर्जन वाहनों में तोड़फोड़ कर दी। इस दौरान थाने के सामने ही दूसरे समुदाय के लोगों ने भाजपा कार्यकर्ता अभिनव चौहान से मारपीट कर दी। एसपी देहात श्रवण कुमार, एसडीएम मवाना, एएसपी मवाना अंकित मित्तल पुलिस और पीएसी के साथ पहुंचे और स्थिति पर काबू किया। क्षेत्र में तनाव देखते हुए पीएसी तैनात कर दी गई है। युवती ने युवक के खिलाफ बंधक बनाकर दुष्कर्म करने की तहरीर दी है।

    महिलाएं अपनी शक्ति पहचानें : गीता फोगाट

    mahilaaye apni shakti phechaane
    फाइल फोटोPC: अमर उजाला
    दंगल’ फिल्म से चर्चा में आईं महिला कुश्ती खिलाड़ी गीता फोगाट और बबीता फोगाट रविवार को मेरठ पहुंचीं। मीडिया से औपचारिक बातचीत में गीता ने कहा कि महिलाएं अपनी शक्ति पहचानें। उत्पीड़न और शोषण के खिलाफ आवाज उठाएं।
    प्रशासन द्वारा आयोजित मतदाता महा जागरूकता अभियान में फोगाट बहनें लोगों को मतदान के प्रति जागरूक करने आईं थीं। गीता ने कहा कि महिलाओं पर जो भी अत्याचार करे उस पर सख्त कार्रवाई हो। एक सवाल के जवाब में कहा कि देश में महिला कुश्ती खिलाड़ियों में प्रतिभा की कमी नहीं है। लेकिन उनकी प्रतिभा को पहचानते हुए परिवार और सरकार यदि उन्हें सहयोग करे तो वह देश ही नहीं विदेश में भी नाम रोशन कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि सरकार को कुश्ती के लिए और बेहतर प्रयास करने चाहिए। क्योंकि यह हमारी संस्कृति से जुड़ा खेल है।

    रूढ़िवादिता पर प्रतिभा को बलि न चढ़ाएं
    दंगल फिल्म में गीता का किरदार निभाने वाले जम्मू कश्मीर की जायरा का गीता फोगाट ने पूरा पक्ष लिया। असदुद्दीन ओवैसी के बयान पर पूछे गये सवाल पर गीता ने कहा कि बुर्का पहना या दूसरे कपड़े पहनना मुस्लिम धर्म की अपनी संस्कृति है। उस पर वह कुछ नहीं कहेंगी। लेकिन देश आज स्वतंत्र है। युवा पीढ़ी समझदार हो चुकी है। उसे रूढ़िवादिता में बांधकर नहीं रखा जा सकता है। इस पूरे मामले में हम जायरा वसीम के साथ हैं। इस दौरान बबीता फोगाट, गीता फोगाट के पति पवन कुमार मौजूद रहे।