Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

  Who was your inspiration in Childhood ? My father was my inspiration in Childhood. He always preached us that luck sure comes at the door and knocks too but your efforts More »

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA  Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

1. आपका बचपन में प्रेरणा स्त्रोत कौन था? मेरे पूज्य बाबाजी स्वर्गीय श्री रामसिंह जी । जो एक कृषक थे, एक सामाजिक व्यक्ति थे। उन्होंने जिंदगी में मुझे जीना सीखाया। प्ररेणा भी More »

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India Who was your inspiration in Childhood ? My mother and father were my source More »

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Who was your inspiration in Childhood ? My inspiration was my family. I was surrounded by educators in my family. Ma Nanaji, Mamaji, my mother everybody was into academics. My Mamaji was More »

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Who was your inspiration in Childhood ? I always believed that inspiration is from inside and not from outside. Only you can inspire yourself. Outward inspirations are momentary and do not stay More »

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

  Who was your inspiration in Childhood ? My dad and my uncle were my inspiration in my childhood. Both of them were associated with RSS. They inspired me to join RSS More »

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Dr.Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker Who was your inspiration in Childhood ? My mother was my inspiration in my childhood and she is still my inspiration. My brother had also More »

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ? My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like More »

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Who was your inspiration in Childhood ? I think in my childhood it was the national leaders like Gandhi ji and Nehru ji who inspired me the most because our exposure at More »

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Who was your inspiration in Childhood? Radio was my source of inspiration as I used to listen to loads of music and radio and tape recorder were the only source to listen More »

 

बेंच न मिली, तो मोदी की मेरठ में एंट्री बैन

bench nahi to
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
केंद्रीय संघर्ष समिति के बैनर तले वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर अधिवक्ताओं ने शुक्रवार को बेगमपुल जाम कर दिया। दो घंटे के चक्का जाम के दौरान अधिवक्ताओं ने जल्द से जल्द बेंच देने की मांग जोरशोर से उठाई।
सुबह 10 बजे बड़ी संख्या में अधिवक्ता, लिपिक और वादकारी बेगमपुल पर पहुंच गए और सभी रास्तों को बंद कर दिया। किसी भी वाहन को वहां से गुजरने नहीं दिया। इस दौरान कई वाहन चालकों से वकीलों की नोकझोंक भी हुई। वकीलों ने कहा कि हाईकोर्ट बेंच की मांग बिल्कुल जायज है। केंद्र और राज्य सरकार जागरूक हो और वेस्ट यूपी के लोगों की इस बड़ी मांग को पूरा करे।
किसान यूनियन और कुछ अधिवक्ताओं ने हरित प्रदेश की मांग करते हुए चेतावनी दी कि बेंच न मिली, तो पूरा प्रदेश ही हरित प्रदेश बना देंगे। अनिल कुमार जंगाला ने कहा कि मेरठ की धरती पर पीएम नरेंद्र मोदी को भी कदम नहीं रखने देंगे। इस दौरान भाजपा सांसद और विधायकों के न आने से नाराज अधिवक्ताओं ने कहा कि जल्द ही इन सांसद और विधायकों को ‘पूर्व’ बना देंगे। धरने के बाद अधिवक्ताओं ने कचहरी पहुंचकर प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन डीएम को दिया।

ये रहे मौजूद
बंद के दौरान मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष गजेंद्र पाल सिंह, संयोजक अजय कुमार शर्मा, जिला बार एसोसिएशन अध्यक्ष लीलापत, महामंत्री विजय शर्मा, पंचायती राज्य संगठन के सदाराम त्रिवेदी, संयुक्त व्यापार संघ के अध्यक्ष नवीन गुप्ता, संयुक्त युवा व्यापार संघ अध्यक्ष लल्लू मक्कड़, सिख वेलफेयर आर्गनाईजेशन के अध्यक्ष मंजीत सिंह कोछड़, इनकम टैक्स बार एसोसिएशन के अध्यक्ष महेश कुमार त्यागी, पूर्व विधायक राजेंद्र शर्मा, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण कुमार किशनी, कांग्रेस कमेटी के महासचिव संजय गोयल, डीएन कालेज के छात्र संघ अध्यक्ष अंकित चौधरी, पूर्व विधायक सतेंद्र सोलंकी, विष्णु दत्त पाराशर, मनिंद्र सिंह ढोढी, भरतीय किसान यूनियन के मौहम्मद अर्शी, गौरव शर्मा, सर्व समाज जागरूक समिति के अध्यक्ष जीशान सिद्दकी, चौधरी यशपाल सिंह, पूर्व महामंत्री अनिल कुमार जंगाला, मनोज कुमार कुराली,  सूरजवीर सिंह, दिनेश शर्मा, गुलबीर भाटी, आशीष चौरसिया, गजेंद्र सिंह धामा, उदयवीर सिंह राणा, रामेश्वर प्रसाद त्यागी, पंकज शर्मा, फजल हसनैन जैदी, अब्दुल जब्बार खां, जितेंद्र सिंह बना, तरुण ढाका, राजेंद्र सिंह जानी, राजीव त्यागी, सिद्धार्थ सिंह आदि मौजूद रहे।

कचहरी में होता है कस्टडी से फरारी का सौदा

kuchery me hota
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
कचहरी में पुलिस और बंदियों के बीच चंद रुपयों में कस्टडी से फरारी का सौदा होता है। बृहस्पतिवार को मुल्जिम इकराम के भागने के बाद शुक्रवार को एसपी सिटी ने यहां औचक चेकिंग की तो बंदियों की पेशी कराने आए सिपाहियों की पोल खुल गई। तमाम खामियां मिलने पर एसपी सिटी बोले कि पुलिस ही तो मुल्जिमों को भगाती है। क्योंकि चंद रुपये लेकर मुल्जिम की हथकड़ी ढीली कर उसके कहने पर इधर-उधर ले जाते हैं। इसका फायदा उठाकर मुल्जिम भागता है।
एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी, इंस्पेक्टर नौचंदी एसके राणा और इंस्पेक्टर सिविल लाइन विजय कुमार टीम के साथ कचहरी में पहुंचे। उन्होंने पेशी पर जाते बंदियों से पूछताछ करते हुए उनकी हथकड़ी चेक करनी शुरू कर दी। हथकड़ी इतनी ढीली लगी थी कि एसपी सिटी ने थोड़ा ही खींचा तो वह उनके हाथ में आ गई। कई बंदियों को तो हथकड़ी लगी ही नहीं थी। पेशी कराने वाले पुलिसकर्मियों की लापरवाही देखकर एसपी सिटी भड़क उठे। बोले कि यही कारण है कि कचहरी से मुल्जिम भागने का। एसपी सिटी ने बंदियों से यह भी पूछा कि कितने पैसे दिए हैं पुलिसकर्मियों को इसके लिए।
पुलिसकर्मियों को एसपी सिटी ने जमकर लताड़ भी लगाई। एसपी सिटी ने बताया कि बृहस्पतिवार को मुल्जिम इकराम के भागने के पीछे भी पुलिस की घोर लापरवाही रही है। क्योंकि इकराम की हथकड़ी ढीली लगी थी और उसने आसानी से अपना हाथ निकाल लिया था। बदमाशों को इकराम को कस्टडी से भगाकर ले जाने में ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी थी। पुलिसकर्मियों की रिपोर्ट एसएसपी को दी गई है।

कब तक पीटोगे लकीर
कचहरी में पुलिस फोर्स देखकर अधिवक्ता बोले कि कचहरी से जब मुल्जिम भाग जाता है या फिर कोई बड़ी घटना हो जाती है तो पुलिस को कचहरी की सुरक्षा याद आने लगती है। पुलिस अगर कचहरी में रूटीन से सख्त  चेकिंग करे तो शायद मुल्जिम को भागने का मौका नहीं मिलेगा। अधिवक्ताओं का कहना है कि कचहरी में फरारी के दौरान मुल्जिम या उसको छुड़ाने आए बदमाश बड़ी घटना कर सकते हैं। सिर्फ आधे घंटे की एसपी सिटी की चेकिंग पर भी अधिवक्ताओं ने सवाल उठाए है। उनका कहना था कि एसपी सिटी तो सिर्फ खानापूर्ति के लिए चेकिंग करने आए थे।

बढ़ला के जंगल में एसयूवी छोड़कर भागा वांटेड इकराम

barta jungle raaj
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
पुलिस पर हमला कर कचहरी से भागे इकराम ने बृहस्पतिवार की रात परीक्षितगढ़ के बढ़ला गांव के जंगल में शरण ली थी। वह कचहरी के बाहर से एसयूवी (इको स्पोर्ट्स) से जंगल में पहुंचा था। ग्रामीणों ने रात में ही पुलिस को इसकी सूचना दे दी थी। लेकिन पुलिस उन्हें पकड़ने में नाकामयाब रही। शुक्रवार सुबह पुलिस फिर सूचना पर जंगल में पहुंची तो इकराम एसयूवी छोड़कर पैदल ही अपने साथियों के साथ फरार हो चुका था। पुलिस ने इस गाड़ी से एक तमंचा बरामद किया है। यह गाड़ी लूट या चोरी की मानी जा रही है क्योंकि गाड़ी पर फर्जी नंबर प्लेट लगी थी। नंबर भी बाइक का निकला।
बृहस्पतिवार दिनदहाड़े कचहरी में पुलिस पर हमला कर इकराम को छुड़ाकर ले जाने वाले ऊधमसिंह के शूटर बताए गए। कुख्यात इकराम का एक साथी परीक्षितगढ़ क्षेत्र के बढ़ला गांव का बताया गया। बृहस्पतिवार देर रात ही ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी थी कि बढ़ला गांव मार्ग पर एक एसयूवी गाड़ी में बदमाश हैं। गश्ती पुलिस बढ़ला मार्ग पर पहुंची। लेकिन वहां उन्हें कोई नहीं मिला। ग्रामीणों ने शुक्रवार सुबह फिर सूचना दी कि बढ़ला मार्ग पर लावारिस हालत में एसयूवी खड़ी है। जिसे पुलिस ट्रैक्टर से खींचकर थाने ले आई। पुलिस ने इकराम के साथी की तलाश में बढ़ला गांव में दबिश दी। लेकिन वह भी फरार मिला। एसओ परीक्षितगढ़ ओपी सिंह ने बताया कि गाड़ी को लावारिस में दाखिल कर दिया है।

सीसीटीवी कैमरे में हुआ कैद
पुलिस ने शुक्रवार को कचहरी गेट पर लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले। पुलिस ने बताया कि कचहरी परिसर से इकराम बाइक पर बैठकर गया था। लेकिन कचहरी के बाहर से वह लाल रंग की गाड़ी में बैठकर भागा था। जोकि कैमरे में कैद हुई है। परीक्षितगढ़ में मिली एसयूवी का रंग भी कुछ ऐसा ही है।

तो पकड़ा जाता इकराम
पुलिस खुद मान रही है कि इकराम और उसके साथी कचहरी से भागने के बाद परीक्षितगढ़ के जंगल में रुके थे। रात में पुलिस गंभीर हो जाती तो इकराम साथियों के साथ पकड़ा जा सकता था।

सरधना में थी पुलिस की दबिशें
इकराम खिर्वा जलालपुर सरधना का निवासी है। पुलिस को अंदेशा था कि इकराम सरधना जरूर जाएगा। यही सोचकर पुलिस की टीमें बृहस्पतिवार रात भर सरधना इलाके में दबिश देती रहीं। देर रात पुलिस को सूचना मिली कि इकराम परीक्षितगढ़ इलाके में हो सकता है। शुक्रवार सुबह देखेंगे, यह सोचकर नहीं गए। शुक्रवार सुबह यह अंदेशा यकीन में बदल गया कि इकराम परीक्षितगढ़ इलाके में ही पहुंचा था।

जेल में इकराम के साथी से पूछताछ
इकराम के तीन साथियों से जेल में पूछताछ की गई है। पुलिस ने बताया कि इकराम कई दिनों से भागने का प्लान बना रहा था। जेल अफसरों ने इस मामले को गंभीरता से लिया है। शुक्रवार को जेल अफसरों ने बंदियों से बात की व इकराम की फरारी के बारे में पूछा। जेल में बंद हाई सिक्योरिटी बैरक में कुख्यात भरतू नाई व देवेश त्यागी से भी पूछताछ की गई। भरतू नाई कुख्यात ऊधमसिंह का शूटर बताया गया है।

फरार इकराम पर पांच हजार इनाम
मेरठ। एसएसपी जे. रविंदर गौड़ ने पुलिस पर हमला कर भागने वाले इकराम पर पांच हजार का इनाम घोषित कर दिया है। वहीं, सिविल लाइन पुलिस ने आरोपी कांस्टेबल अरविंद कुमार व करम अली को कोर्ट में पेश किया। दोनों पुलिसकर्मियों की ओर से अधिवक्ता सुनील चिंदौड़ी ने पैरवी करते हुए बताया कि दोनों सिपाहियों को जमानतीय अपराध में गिरफ्तार किया गया है। न्यायालय ने सिपाहियों को 20-20 हजार के दो जमानतियों पर सिपाहियों को छोड़ने के आदेश जारी किए। एसएसपी ने बताया कि इकराम की तलाश में क्राइम ब्रांच समेत पांच टीमें लगी है। दोनों सिपाहियों को सस्पेंड कर जांच बैठाई गई है।

पहाड़ों पर बारिश, दो दिन में और बढ़ेगी ठंड

paharo par baarish
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 दीपावली के बाद मौसम में लगातार बदलाव आ रहा है। शुक्रवार को पारा चार डिग्री लुढ़ककर 28 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया। पूरे दिन धुंध छाई रही। पहाड़ों पर बारिश के कारण मैदान में और ठंड बढ़ेगी। एक-दो दिन में बारिश भी हो सकती है।
दिल्ली के बाद अब मेरठ में भी धुंध का असर दिखना शुरू हो गया है। बृहस्पतिवार की अपेक्षा शुुक्रवार को मेरठ और आसपास में इसका असर अधिक देखने को मिला। सुबह से शाम तक धुंध रही। दिन का तापमान एक ही दिन में चार डिग्री गिर गया। तापमान के गिरने से मौसम सर्द रहा। शाम होते होते धुंध का असर और भी बढ़ गया। दिन के साथ रात में भी तापमान तेजी से गिर रहा है, जिस कारण से ठंड बढ़ती जा रही है। मौसम के बदलाव से हल्की बारिश की भी संभावना बनी हुई है। अगर बारिश नहीं हुई तो सुबह के समय कोहरे का असर अधिक दिखाई देगा। मौसम कार्यालय पर दिन का अधिकतम तापमान 28.3 डिग्री व रात का न्यूनतम तापमान 12.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। अधिकतम आर्द्रता 90 व न्यूनतम 48 प्रतिशत दर्ज की गई। एक दिन पहले के अपेक्षा दिन के तापमान में 4 डिग्री की गिरावट और रात के तापमान मेें मामूली बढ़ोतरी हुई है। पिछले वर्ष की अपेक्षा चार नवंबर को दिन का तापमान करीब एक डिग्री व रात का तापमान 2 डिग्री कम रिकॉर्ड किया गया। वहीं शुक्रवार को जम्मू कश्मीर में बारिश हुई है। उसका असर दो दिन बाद मैदान में दिखाई देगा। ठंड बढ़ेगी और कोहरा भी रहेगा।

बढ़ेगा कोहरे का असर
मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो शनिवार से कोहरे का असर बढ़ सकता है। रात का पारा अगर गिरेगा तो कोहरे का असर भी बढे़गा। अभी दिन में भी तापमान 30 से ऊपर चल रहा था, तापमान नीचे आया और रात का तापमान गिरा तो धुंध का असर भी दिखा। दो तीन दिन में कोहरे के बढ़ने की संभावना जताई जा रही है। धुंध स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है। सांस के रोगियों की परेशानी बढ़ा सकती है।

पिछले वर्ष चार दिन का अधिकतम और न्यूनतम तापमान
तारीख अधिकतम न्यूनतम
1        32.6      16.3
2       31.6       15.4
3       29.3        16.3
4       29.4        14.9

वर्तमान में नवंबर का तापमान
1       30.3      13.6
2       30.7      12.9
3       32.4       12.6
4        28.3       12.7

रालोद से नहीं होगा भाजपा का गठबंधन : केशव प्रसाद मौर्य

raalod gathbandhan
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि प्रदेश से सपा, बसपा और कांग्रेस का खेल खत्म हो चुका है। भाजपा को प्रदेश की जनता का पूर्ण समर्थन मिल रहा है। विधानसभा चुनावों में भाजपा बहुमत से सरकार बनाएगी। उन्होंने कहा कि बसपा के नेता पार्टी छोड़कर भाग रहे हैं। साथ ही स्पष्ट किया कि रालोद से भाजपा का कोई गठबंधन नहीं होगा।
मौर्य शुक्रवार को सहारनपुर जाते समय बाईपास स्थित रिसॉर्ट में पत्रकारों से मुखातिब हुए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने प्रदेश में रिकॉर्ड काम कराए हैं। अखिलेश यादव को प्रदेश की जनता की आह लगी है। यही वजह है कि उनका रथ लोहियाजी के द्वार पर ही रुक गया। बसपा पर निशाना साधते हुए कहा कि 2017 के चुनाव के बाद बसपा का नाम लेने वाला कोई नहीं रहेगा। वह बोले कि राम मंदिर भाजपा का चुनावी मुद्दा नहीं, बल्कि आस्था का केंद्र है। हम भी चाहते हैं कि शीघ्र न्यायालय का फैसला आए और राम मंदिर का निर्माण शुरू हो। जनता के पूर्ण समर्थन के साथ भाजपा आगामी विधानसभा चुनाव में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी। रालोद से न तो भाजपा का गठबंधन है और न होगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली में पूर्व सैनिक की आत्महत्या के दौरान उसके परिवार के साथ पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई के मामले में सियासत ठीक नहीं है। आरोप लगाया कि जिस दल को कभी सैनिकों से कोई लगाव नहीं रहा, उसके नेता भी सैनिकों की बात करके सियासत पर उतर आए हैं। ऐसे नेताओं को प्रदेश की जनता सबक सिखाने की तैयारी कर चुकी है। उन्होंने कहा कि सहारनपुर से शुरू होने वाली भाजपा की रथ यात्रा पूरे प्रदेश में संदेश देगी। इस दौरान भाजपा नेता समय सिंह सैनी के नेतृत्व में भाजपाइयों ने फूल-मालाओं से मौर्य का स्वागत किया। इस मौके पर सांसद राजेंद्र अग्रवाल, विधायक सत्यप्रकाश अग्रवाल, रविंद्र भड़ाना, मेयर हरिकांत आहलूवालिया, पूर्व एमएलसी हरपाल सैनी, पूर्व विधायक अमित अग्रवाल, रणवीर राणा, बिजेंद्र अग्रवाल, जिलाध्यक्ष शिवकुमार राणा, महानगर अध्यक्ष करुणेश नंदन गर्ग, जगदीश सैनी, अजय गुप्ता, भरत सिंह सैनी, पुलकित सैनी, हरीश चौधरी, अनिल सैनी, हरवीर पाल, पदम सैनी आदि मौजूद रहे।

आरजी में 7, मंगल पांडे 12 नामांकन

rg me saath
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
छात्रसंघ चुनाव के हाईटेक रूप का असर महिला कॉलेजों पर भी दिखाई दिया। शुक्रवार को आरजी और मंगल पांडे कॉलेज में प्रत्याशियों ने पूरे जोर-जोश से नामांकन किया। आरजी में एबीवीपी की महामंत्री पद की प्रत्याशी का पर्चा जमा न होने पर जमकर हंगामा हुआ। आरजी में सात और मंगल पांडे में 12 नामांकन हुए।
आरजी में निर्दलीय भ्रष्टाचार विरोधी पार्टी की प्रत्याशी गाड़ियों पर बैनर, पोस्टर चिपकाकर नामांकन करने पहुंचीं। वहीं एबीवीपी की तीन प्रत्याशियों द्वारा फर्जी तरीके से नामांकन करने की कोशिश की गई। लेकिन कॉलेज प्रशासन ने पर्चा जमा नहीं किया। इससे हंगामा हो गया। कॉलेज गेट पर जाम लगाया और पुलिस से भी भिड़ंत हो गई। पुलिस ने किसी तरह स्थिति संभाली। छात्राओं के साथ बाहरी युवक भी नामांकन कराने पहुंचे थे। वहीं शहीद मंगल पांडे डिग्री कॉलेज में एबीवीपी का पैनल ढोल-नगाड़े के साथ नामांकन करने पहुंचा।

चीफ प्रीफेक्ट पद से हटाई प्रत्याशी
आरजी पीजी कॉलेज की चीफ प्रीफेक्ट अर्चना ने एबीवीपी से अध्यक्ष पद का पर्चा भरा है। अर्चना ने तीन दिन पहले पांच नामांकन फार्म लिए थे। अपने, श्रद्धा और दो अन्य नामों से पर्चे लिए। नामांकन जमा कराने पर महामंत्री पद की प्रत्याशी श्रद्धा की जगह अंजली शर्मा का फार्म आया, इसी तरह अन्य दो पदों पर भी जिन छात्राओं के नाम से फार्म गए थे, उनकी जगह अन्य छात्राआें के पर्चे आए। अर्चना ने पैनल पूरा करने के लिए छात्राओं से बात किए बिना ही आवेदन करने की कोशिश की। छात्रा की इस हरकत के कारण प्राचार्या व चुनाव अधिकारी डॉ. बीना राय ने उसे चीफ प्रीफेक्ट के पद से हटा दिया।

समर्थकों, पुलिस और प्राचार्य में बहस
नामांकन फार्म पर व्हाइटनर और पेन से नामाें क ो मिटाया गया। नामों में गड़बड़ी देखकर चुनाव अधिकारी डॉ. दीपशिखा, डॉ. बीना राय ने पर्चा जमा करने से इंकार कर दिया। थोड़ी देर बाद अन्य समर्थक, महामंत्री प्रत्याशी अंजली शर्मा का भाई व छात्र नेता भी कॉलेज गेट पर हंगामा करने आ गए। पुलिस ने समर्थकों को बाहर रोका तो पुलिस से भिड़ गए कुछ छात्र प्राचार्या डॉ. स्नेह गुप्ता के कक्ष में जाकर हंगामा करने लगे। समर्थकों, शिक्षकों व प्राचार्या के बीच देर तक लिंगदोह समिति के नियमों पर बहस होती रही। समर्थकों ने पर्चा जमा करने का दबाव बनाया, लेकिन कॉलेज ने इंकार कर दिया।

अपहरण और मारपीट तक पहुंची बात
आरजी कॉलेज में अध्यक्ष पद निर्दलीय प्रत्याशी शिवानी ने प्राचार्य से कहा अर्चना मेरा अपहरण कराने की धमकी दे रही थी। प्राचार्या ने दोनों प्रत्याशियों को समझाया। आगे से नियमों के पालन पर चुनाव करने को कहा। भ्रष्टाचार दल की प्रत्याशी पीले पर्चे से प्रचार कर रही थी, उनके पर्चे भी चुनाव अधिकारी डॉ. दीपशिखा ने फाड़ दिए।

ढोल के कारण मचा बवाल
शहीद मंगल पंाडे कॉलेज में एबीवीपी प्रत्याशी ढोल लेकर नामांकन करने आए। छात्राओं के साथ समर्थक भी झूमने लगे। पुलिसकर्मियों ने लड़कों और ढोल वालों को हटाया। यह देखकर छात्राओं ने हंगामा किया और माधवपुरम पुलिस चौकी चली गईं। समर्थकों ने भी चौकी पर जाकर हंगामा किया। चुनाव अधिकारी डॉ. अंजू सिंह ने कहा गेट के अंदर ऐसा कोई हंगामा नहीं हुआ। सड़क पर कुछ भी हो उसकी कॉलेज की जिम्मेदारी नहीं है।

आरजी डिग्री कॉलेज में इन्होंने किया नामांकन
भ्रष्टाचार विरोधी पार्टी से अध्यक्ष पद पर शिवानी बालियान, उपाध्यक्ष कंचन, महामंत्री कावेरी, संयुक्त सचिव भावना, कोषाध्यक्ष प्राची ने नामांकन किया। एबीवीपी से अध्यक्ष पर अर्चना व संयुक्त सचिव पर तानिया ने पर्चा भरा है। समाजवादी छात्रसभा, रालोद और एनएसयूआई से कोई पर्चा नहीं भरा गया है। शनिवार को नामांकन पत्रों की जांच, नाम वापसी के बाद अंतिम सूची जारी होगी। कॉलेज में 3 नवंबर को नामांकन था, लेकिन छात्राओं को तैयारी के लिए एक दिन और दिया गया। 4 नवंबर को नामांकन हुए मगर प्रत्याशी नहीं पहुंचे।

शहीद मंगल पांडे कॉलेज में प्रत्याशी
एबीवीपी से अध्यक्ष पद पर संस्कृति, उपाध्यक्ष सोनम कपासिया, बरखा रानी, महामंत्री शिप्रा गुप्ता और निशी चिकारा, सचिव विदुषी सेन, कोषाध्यक्ष सुषमा पाल ने नामांकन किया। समाजवादी छात्रसभा से अध्यक्ष पद पर स्वाति गुर्जर, उपाध्यक्ष नेहा, संयुक्त सचिव श्वेता, महामंत्री ज्योति, कोषाध्यक्ष के लिए भारती ने नामांकन किया है। कॉलेज में 13 छात्राओं ने पर्चा लिया था, लेकिन 12 ही नामांकन जमा कराने पहुंचीं। अध्यक्ष पद के लिए पर्चा लेने वाली रितिका ने आवेदन नहीं किया। इस बार भी मुकाबला एबीवीपी और समाजवादी छात्रसभा में होगा।

सेंक्चुरी के मैनेजमेंट प्लान पर काम शुरू

sanctury ke management
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 पांच जिले और 2073 वर्ग किमी क्षेत्र में फैली हस्तिनापुर सेंक्चुरी के नए मैनेजमेंट प्लान पर काम शुरू हो गया है। एक्सपर्ट्स की कोर कमेटी ने दो दिन तक बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, हापुड़ और बुलंदशहर जिले में सेंक्चुरी का दौरा कर वन्य जीवों और उनके हैबिटेट की जानकारी जुटा ली है। सेंक्चुरी के आसपास तेजी से हुए बदलाव और वन्य जीवों के लिए बढ़ते खतरे के बीच मैनेजमेंट प्लान जरूरी हो गया है। प्लान बनने के बाद वन विभाग का अगला कदम सेंक्चुरी में इको टूरिज्म शुरू करने का है।
 वर्ष-1986 में हस्तिनापुर सेंक्चुरी का नोटिफिकेशन हुआ था। तभी से सेंक्चुरी क्षेत्र उपेक्षा का शिकार है। सेंक्चुरी की कई बातें ऐसी हैं, जो इसे अनोखा बनाती हैं। देश की यह सबसे बड़ी सेंक्चुरी है। बारहसिंघा संरक्षण के लिए बनी यह देश की इकलौती सेंक्चुरी है। गंगा किनारे खोला (मिट्टी के ऊंचे टीले) सिर्फ यहां पर पाए जाते हैं, जो वन्य जीवों के लिए संजीवनी हैं। सेंक्चुरी के साथ कुछ विडंबनाएं भी हैं। जैसे आज तक इसके क्षेत्र की सटीक मार्किंग नहीं हो सकी है। वाइल्ड लाइफ स्टॉफ नहीं है। वाइल्ड लाइफ का डिविजन भी नहीं हुआ। देर से ही सही, लेकिन अब वन विभाग ने नया मैनेजमेंट प्लान बनाने की शुरुआत कर दी है। इसके लिए पहले एक वर्कशॉप से हुई थी, जिसमें देश भर से वन्य जीव विशेषज्ञों को बुलाया गया था। एक कोर कमेटी बनाई गई, जिसकी मदद से मेरठ रेंज के वन संरक्षक एसके अवस्थी मैनेजमेंट प्लान तैयार कर रहे हैं।

वाइल्ड लाइफ की ली जानकारी
मुख्य वन संरक्षक मेरठ जोन मुकेश कुमार के मुताबिक, वन विभाग, डब्ल्यूडब्ल्यूएफ, वाइल्ड लाइफ इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के रिटायर प्रोफेसर और अन्य एक्सपर्ट की टीम ने बृहस्पतिवार और शुक्रवार को सेंक्चुरी क्षेत्र का दौरा किया। इस दौरान जलीय और वन्य जीवों के बारे में जानकारी जुटाई। मैनेजमेंट प्लान में सेंक्चुरी में मौजूद वन्य जीव और जंगल को कैसे सुरक्षित व संरक्षित किया जाए, इसकी योजना बनेगी। इससे ग्रामीणों को भी जोड़ा जाएगा। प्लान वर्किंग में आने के बाद अगला कदम इको टूरिज्म का होगा।

गंगा किनारे मिट्टी के टीले हैं मददगार
सेंक्चुरी क्षेत्र की एक खास बात वाइल्ड लाइफ को सपोर्ट करती है। गढ़ से लेकर मुजफ्फरनगर में पुरकाजी तक गंगा किनारा खोला बना है। खोला मिट्टी के टीले हैं, जो जलीय जीव और बारहसिंघा के लिए मुफीद ठिकाना हैं। इनसे जलाशयों में पानी का स्तर मेंटेन रहता है। गंगा किनारे यह टीले और कहीं नहीं पाए जाते। खास बात यह है कि ये टीले गंगा के सिर्फ एक किनारे पर हैं।

600 से अधिक हैं बारहसिंघा
हस्तिनापुर सेंक्चुरी क्षेत्र में हाल में रिमोट सेंसिंग से बारहसिंघा की गिनती कराई गई थी। इसमें पता चला कि सेंक्चुरी में 600 से अधिक बारहसिंघा हैं। बारहसिंघा उत्तर प्रदेश का स्टेट एनिमल है। सारस स्टेट बर्ड है। ये दोनों ही इस सेंक्चुरी में पाए जाते हैं। मुजफ्फरनगर क्षेत्र में सबसे अधिक बारहसिंघा हैं। परीक्षितगढ़ और हस्तिनापुर में भी हैं।

संरक्षण और सुरक्षा पर फोकस
सेंक्चुरी क्षेत्र में मौजूद पशु, पक्षी और जलीय समेत अन्य जीवों के संरक्षण की योजना बनेगी। हैबिटेट को कैसे सुरक्षित किया जाए, इसके लिए एक्सपर्ट्स के सुझाव शामिल करते हुए कार्ययोजना बनेगी। क्षेत्रीय लोगों को जागरूक किया जाएगा। प्लान का मकसद सेंक्चुरी में जो भी धरोहर है, उसे सुरक्षित और संरक्षित करना है। सेंक्चुरी में लोगों के दखल को भी कम करना है।

सेंक्चुरी एक नजर में
एरिया – 2073 वर्ग किमी
जिले – मेरठ, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, हापुड़ और बुलंदशहर
लाइफ लाइन – 170 किमी गंगा नदी का किनारा
खास बात – स्टेट एनिमल बारहसिंघा और स्टेट बर्ड सारस रहते हैं

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India

Who was your inspiration in Childhood ?

My mother and father were my source of inspiration. They had always encouraged me to do something in life.

Which great leaders from history or your contemporaries influenced your thought process?

I am very much influenced by our great leader Indira Gandhi.

Also Mahatama Gandhi made us understand that “Andolan” can have masses behind a mission which even guns cannot do.

I am also extremely influenced by our current Prime Minister Modi ji and also Kejriwal ji who are honest and dedicated towards country. There should be more people like them.

When did you start working on your ambition?

I actually wanted to join Army as my father was also in Army. But because of some reasons I was not able to join the Army. Then I along with few of my friends started a coaching institute by the name of Oxford. Oxford lasted for sometime but not for very long as my colleagues got jobs and they left.

During that time only I realized that the students are really knowledgeable and the only hindrance in their success is English. So after that, I thought of opening a speaking center for English.

At that time there were literally very few institutes teaching spoken English and they were also teaching like school studies, focusing only on grammar rules and not on spoken part which the child is already learning in school. So such classes were of no use to the students.

I realized this problem and starting researching on the ways to teach them English without telling them the rules by play way method and taking instances from the real life situation.

I really worked very hard and prepared a three months intensive course for English speaking which became a real hit and rest is history.

Franchisee development also happened on its own, when I realized that students are coming to attend the classes from far off places. To ease their learning and avoid wastage of timings, I opened another branch in Hapur and from there our growth story started.

My wife, also joined the company and came up with American Kids.

By Gods grace we are celebrating our 25th year this year.

What do you do in your leisure time i.e. your hobbies?

I am a very inclined toward sports specially cricket. My whole staff plays cricket every Sunday. But I also like playing other sports like badminton.

In my leisure time I love to watch cricket matches on television.

I also like to read books, newspapers, keenly interested in geography though I was a science student. Reader Digest is something I do not give a miss.

I also love to travel a lot specially adventurous trips.

Quick bites of favorites?

  1. Holiday destination – Hilly areas specially Nainital. I also enjoy going on Adventurous Trips.
  2. Book – Motivational books, Grammar books
  3. Movie – I like a lot of movies, but one which I feel is the milestone in the cine world is Sholay
  4. Food – All Indian food, specially Rajma chawal, kadhi chawal, sarson ka saag and makke ki roti
  5. Actor – Undoubtedly Amitabh Bachchan
  6. Actress – Rekha, Madhuri Dixit, Deepika padukone
  7. Singer – Kishore Kumar
  8. Song – “Ek din bik jayega mati ke mol, jag me rah jayenge pyare tere bol”

What is your fitness regime?

I regularly go to university for almost 10 km run. I jog and do yoga too.

Who all are there in your immediate family?

My wife, my son and my daughter. My wife is the MD of American kids chain of play schools.

How do you maintain work-life balance?

My work is my life. For me work is not actually work. I keep on working and love to work. My family is with me in my work.

Whenever we are back after work we do not discuss work as such and enjoy our family life. We are very happily able to balance our work life.

Who is your best friend and his/her good qualities?

My wife is my best friend. She is full of qualities. She is very sincere towards her work. She works very methodologically and she is much disciplined and patient. She does not gets annoyed when things does not get as planned. She keeps on working in positive direction and finally achieves the goal.

What one thing makes you very angry?

If somebody does not work sincerely and honestly, I feel angry.

I also get irritated by people who look for shortcuts as I feel there are no shortcuts for life.

What one thing makes you very happy?

The moments when my dream comes true are the euphoric moments for me.

Also when I am with my family is my most cherished moment. My brothers are all placed at distant place and whenever we are together, we feel ecstatic and blissful.

What accomplishments of your life you are proud of?

When AIEL received “Best English language Institute of India” by V.V.S. Laxman

What are your contributions to your city Meerut?

I am a teacher and would remain a teacher for whole of my life. The institute that we are running by the grace of God, is having 300+ branches. It is very common for a company in big cities and metros to have braches in small cities but it is very uncommon to have head office in Meerut and braches all across the country and successfully running. I think this is my contribution to Meerut city.

Also my contribution is in the life of all my students and their success which I feel blessed of.

What are your future goals?

Our future goals are to open school in each and every corner of India. We are also planning for schools in future till 8th and slowly upgrading till 12th.

One line that defines you in totality?

My AIEL punch line is “Life will never fail, if you join AIEL”

Also this one punch line I had followed throughout my life –

सीढियाँ उन्हें मुबारक जिन्हें छतों पर जाना है, जिनकी मंजिल है आसमां उन्हें अपना रास्ता खुद बनाना है। 

CBSE Chairman meets principals on Mandatory Disclosure

CBSE Chairman Shri R.K.Chaturvedi,IAS

CBSE Chairman Shri R.K.Chaturvedi,IAS

In a recent interaction with the CBSE Chairman Shri R.K.Chaturvedi , IAS it was enlightening that the new chief is democratic to the level that he interacts , discuss and address the issues faced by CBSE schools of rural area / C tier cities. CBSE Chief called a meeting with some principals of Meerut and adjoining areas and discussed over some issues and took an immediate decision for the betterment of all stakeholders of schools.

For the Mandatory disclosure details with CBSE and School website, when discussed he appreciated the concerns and decided to decrease the number of details required. Some schools have approached the Honourable high court for mandatory disclosure form. He also mentioned that schools can come and share their views/concerns and we are ready to address and solve them. He also mentioned Mandatory disclosure with enable CBSE examination team to have GPS coordinates of schools and students will be allocated schools 5 km from their houses for examination centres. Now examination system will be more transparent as good schools will automatically get a chance to become examination centre with this Mandatory disclosure also schools not performing well will automatically be removed from being an examination center . On the fields like details of all teaching staff he agreed on entering grades and scales of teachers as some schools mentioned for unhealthy practices might prevail if salaries are disclosed. He also mentioned and agreed on FEE V/s salary and salary differences in A , B and C class cities.

CBSE Chairman is quality oriented and with his rich experience in various administrative jobs at Madhya pradesh and Central government he wish to transform all CBSE schools with effective quality management systems.

He mentioned students have all rights to get clean drinking water and separate hygienic toilets for boys and girls which schools need to immediately make provisions and mention the same in Mandatory disclosure .The form is not threatening but a facility to make a better systems for all stakeholders .

New mandatory disclosure form comfortable to schools will be uploaded on CBSE website soon.

Some schools also mentioned and requested for the subject change in XII class, principals mentioned that some students face difficulty with some subjects on which CBSE Chairman immediately ordered Mr. Manoj Shrivastava , Joint Secretary Academics  to look into it and students been given chance to change the subjects from XI to XII class.

This is for the first time in CBSE board history that rural schools have been heard and solutions been given immediately.

On X boards CBSE chairman awaits the feedback of more schools to take a final call.

In the coming years CBSE will  become more IT enabled , transparent and effective board which will again take indian education system on the top of the world.

CBSE Chairman praised his team primarily Dr. Antrish Johri, Director IT for the IT developments in transparency and effectiveness of Examination systems, Mr. Manoj Shrivastava who has returned after successfully creating RO Dehradun office and being very instrumental in the latest and current changes in CBSE, Neha Sharma , B. Saha and others.

Vishal Jain
Editor
School of Educators and www.meerut.com

Note : Do leave your comments / feedback below. CBSE is watching …

वारदात ने खोली कचहरी में सुरक्षा की पोल

vaardaat ne kholi
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
हत्यारोपी इकराम को भगाने की घटना बदमाशों ने फिल्मी स्टाइल में की। बेखौफ पांच बदमाश हथियारों से लैस कचहरी में करीब दो घंटे घूमे। पुलिस का मानना है कि बदमाशों ने कचहरी चारो तरफ से घेरी थी। उनकी प्लानिंग थी कि अगर उनके सामने कोई आया तो उसको मार देंगे। बड़ा सवाल तो कचहरी की सुरक्षा पर उठता है। रोजाना वारदात होने के बावजूद भी पुलिस कचहरी में चेकिंग क्यों नहीं करती।
कचहरी में छह हजार से अधिक अधिवक्ता वकालत करते है। रोजाना करीब 500 से 600 तक मुल्जिमों की कचहरी में पेशी भी होती है। इसके बावजूद कचहरी असुरक्षित है। एक के बाद एक वारदात होने पर भी पुलिस की नींद नहीं टूटती। बृहस्पतिवार दोपहर कचहरी की सुरक्षा की पोल बदमाशों ने खोली। हथियारों से लैस बदमाश कचहरी में घूमते रहे और पेशी पर आए अपने साथी इकराम को आसानी से छुड़ाकर भी ले गए। पुलिस अफसरों को इसकी भनक तक नहीं लगी। जबकि पुलिस दावा करती है कि कचहरी परिसर में कैमरे लगे है और उन पर 24 घंटे पुलिस की निगाहें होती है। पुलिस गंभीर होती तो क्या बदमाश मुल्जिम को छुड़ाने में कामयाब हो जाते।

मेरी तो जान ही बच गई…
कांस्टेबल करम अली ने बताया कि एक बदमाश ने पहले उसकी कमर पर तमंचा लगाया और गोली मारने की धमकी दी। एक पल के लिए मैं डर गया और मुझे मौत सामने दिखाई दे रही थी। क्योंकि दूसरे बदमाश ने उसकी कनपटी पर पिस्टल तानी। कनपटी पर पिस्टल व कमर पर तमंचा लगते ही उसके कंधे पर लटकी एसएलआर नीचे गिर गई। तभी कांस्टेबल अरविंद एसएलआर के ऊपर लेट गया। गनीमत रही कि बदमाशों ने गोली नहीं चलाई। बस मेरी तो जान ही बच गई। हमने सरकारी असलहा नहीं लुटने दिया।

कचहरी से क्यों भागते बदमाश
बदमाशों के भागने का कचहरी साफ्ट अड्डा बन गया है। कुख्यात मोनू जाट, नजाकत अली और कपिल समेत कई बड़े अपराधी कचहरी से भाग चुके हैं। पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठते हैं, इसके बावजूद भी बदमाशों की फरारी नहीं रुकती। यहां तक कि भरी कचहरी में गैंगवार में नितिन गंजा को गोलियों से भून दिया गया था। इसको लेकर पुलिस कठघरे में खड़ी है। सीसीटीवी कैमरे लगते हैं। लेकिन उनको देखने वाला कोई नहीं है। अधिकांश तो यह कैमरे बंद या खराब रहते हैं। मोनू, कपिल और नजाकत भी पुलिस की साठगांठ से भागे थे।
बंदियों की भूमिका पर सवाल
कांस्टेबल अरविंद ने बताया कि इकराम के साथ दहेज हत्या का आरोपी राहुल और वाहन चोरी का आरोपी नरेंद्र था। सबसे पहले राहुल, फिर नरेंद्र और उसके बाद इकराम की पेशी न्यायालय में कराई गई। जब तीनों को दोनों पुलिस वाले पेशी कराने के बाद सेशन हवालात में ले जाने लगे तभी सामने से बदमाश आए और इकराम को वहां से भगाने लगे। बदमाश इकराम को बाइक पर लेकर गए हैं। कांस्टेबलों ने बंदी राहुल व नरेंद्र पर भी उठाए कि दोनों बंदियों ने बदमाशों का कोई विरोध नहीं किया।

अफसर बोले, चलो कोई बात नहीं
दोनों सिपाहियों की तैनाती पुलिस लाइन में है। आरआई सत्यप्रकाश शर्मा और इंस्पेक्टर सिविल लाइन एसके राणा ने दोनों सिपाहियों से पूछताछ की। इंस्पेक्टर ने पूछा कि जब इकराम भाग रहा था तो क्या उन्होंने शोर मचाया, तुम्हारे हाथ तमंचा कैसे आया, तुम्हारे पास तो रायफल थी तो गोली क्यों नहीं चलाई? इन तमाम सवालों पर दोनों सिपाहियों ने चुप्पी साध ली।  बाद में अरविंद बोला कि एसएलआर लूट जाती। जिस पर दोनों पुलिसकर्मियों को अधिकारियों ने हौसला बंधाते हुए कहा कि चलो कोई बात नहीं।

सपा जिलाध्यक्ष ने मुझे हटवाया था
कांस्टेबल अरविंद ने बताया कि वह सपा जिलाध्यक्ष जयवीर सिंह का गनर था। दीपावली पर बगैर बताए वह अपने घर चला गया था। जिस पर सपा जिलाध्यक्ष ने मुझे अपने पास से हटवा दिया था। तीन दिन पहले पुलिस लाइन में आया था। दोनों सिपाहियों की तरफ से मुल्जिम इकराम के खिलाफ सिविल लाइन थाने में केस दर्ज हो गया। वहीं, दोनों सिपाहियों के खिलाफ भी लापरवाही बरतने का केस दर्ज हुआ है। दोनों सिपाहियों को कप्तान ने सस्पेंड भी कर दिया।