Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

  Who was your inspiration in Childhood ? My father was my inspiration in Childhood. He always preached us that luck sure comes at the door and knocks too but your efforts More »

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA  Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

1. आपका बचपन में प्रेरणा स्त्रोत कौन था? मेरे पूज्य बाबाजी स्वर्गीय श्री रामसिंह जी । जो एक कृषक थे, एक सामाजिक व्यक्ति थे। उन्होंने जिंदगी में मुझे जीना सीखाया। प्ररेणा भी More »

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India Who was your inspiration in Childhood ? My mother and father were my source More »

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Who was your inspiration in Childhood ? My inspiration was my family. I was surrounded by educators in my family. Ma Nanaji, Mamaji, my mother everybody was into academics. My Mamaji was More »

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Who was your inspiration in Childhood ? I always believed that inspiration is from inside and not from outside. Only you can inspire yourself. Outward inspirations are momentary and do not stay More »

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

  Who was your inspiration in Childhood ? My dad and my uncle were my inspiration in my childhood. Both of them were associated with RSS. They inspired me to join RSS More »

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Dr.Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker Who was your inspiration in Childhood ? My mother was my inspiration in my childhood and she is still my inspiration. My brother had also More »

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ? My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like More »

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Who was your inspiration in Childhood ? I think in my childhood it was the national leaders like Gandhi ji and Nehru ji who inspired me the most because our exposure at More »

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Who was your inspiration in Childhood? Radio was my source of inspiration as I used to listen to loads of music and radio and tape recorder were the only source to listen More »

 

मोबाइल टावरों के रेडिएशन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र से मांगा जवाब

मोबाइल टावरों के रेडिएशन पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, केंद्र से मांगा जवाब

मोबाइल टावरों के रेडिएशन पर सख्त रुख अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट में CJI ठाकुर ने कहा कि आम लोगों के पास ऐसा यंत्र होना चाहिए, जो पता लगा सके कि रेडिएशन का स्तर क्या है? कहा जाता है कि मोबाइल टावरों से निकलने वाले रेडिएशन से पक्षी गायब हो रहे हैं. या कोई सिस्टम होना चाहिए, जिससे लोगों को रेडिएशन का पता चले.

रेडिएशन को लेकर लोगों के मन में जो डर है, वह दूर होना चाहिए. विदेशों की तुलना में देश में सरकार के रेडिएशन को लेकर क्या स्टैंडर्ड है? क्या मोबाइल टावर रेडिएशन को लेकर नियमों का उल्लंघन हुआ है, क्या एक्शन लिया गया?
इस पर केंद्र 17 अक्तूबर तक जवाब दाखिल करें.

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को कुछ सवालों के जवाब देने को कहा कि क्या कभी मोबाइल टावर की रेडिएशन को लेकर कोई स्टडी की गई कि इसका लोगों और पक्षियों पर क्या असर पड़ता है? क्या सरकार ने रेडिएशन की कोई लिमिट तय की है?

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट मोबाइल टावरों से होने वाली रेडिएशन को लेकर दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा है. याचिकाकर्ता की ओर से प्रशांत भूषण ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि संसदीय दल ने कहा था कि जिन जगहों पर जनसंख्या ज्यादा है, वहां से टावरों को हटाया जाए, लेकिन केंद्र ने कुछ नहीं किया.

आतंकी हमलों की आशंका के मद्देनजर दिल्ली में चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा

आतंकी हमलों की आशंका के मद्देनजर दिल्ली में चप्पे-चप्पे पर कड़ी सुरक्षा

नई दिल्ली: उरी और बारामुला में आतंकी हमले का असर राजधानी दिल्ली में भी दिखने लगा है. दिल्ली में सुरक्षा बड़े पैमाने पर चाक चौबंद की जा रही है. सभी पुलिस थानों को आदेश दिया गया है कि वे अपने इलाके में हथियारबंद पुलिस कर्मियों की गश्त और बढ़ाएं.

गृह मंत्रालय के आदेश के बाद सभी बड़े मॉलों,अस्पतालों, होटलों, बस अड्डों, बड़े बाजारों और भीड़भाड़ वाले इलाकों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. इन स्थानों पर दिल्ली पुलिस,अर्धसैनिक बलों और स्वात कमांडो की तैनाती की गई है. दिल्ली की कई रामलीलाओं के अलावा लाल किले का रामलीला का आयोजन भी कड़ी सुरक्षा के दायरे में है. यहां सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जा रही है.

राजधानी में सभी वीआईपी की सुरक्षा का ऑडिट भी किया जा रहा है. नवरात्र के चलते मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए हैं. नवरात्र के बाद दशहरा और दीवाली का त्यौहार है, और आतंकी हमले का खतरा ज्यादा है. दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक सबसे ज्यादा खतरा लश्कर ए तैयबा, जैश ए मोहम्मद,अल कायदा इंडिया सबकान्टिनेंट और कुछ कश्मीरी आतंकियों से है.

 

 

शास्त्री नगर स्थित गार्गी किड्ज में इंड़िया महोत्सव का आयोजन 

  आज दिनांक 04-10-2016 (मंगलवार) को शास्त्री नगर स्थित गार्गी किड्ज में इंड़िया महोत्सव का आयोजन किया गया जिसमें सभी शिक्षिकायें व मातायें परंपरागत वेशभूषा में नजर आये। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ दुर्गा को माल्यार्पण करके किया गया। 

इस कार्यक्रम में बच्चों ने विभिन्न गीतों पैर इंड़िया किया जैसे मैने पायल है छनकाई, नगाड़े संग ढ़ोल बाजे आकि। इसके साथ ही मदर्स के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया व विजेता मदर्स को सर्टिफिक्ट व उपहार भी दिये गये। कार्यक्रम के अंत में प्रधानाचार्य मोनिका गौड़ ने सभी को नवरात्रों की शुभकामनाए दी। तथा बताया की नवरात्रे माँ दुर्गा से सम्बन्धित है जिसे हन पूर्ण निष्ठा व आस्था से मानते है किन्तु फिर भी हमारे समाज में महिलाओं व बच्चियों की स्थिति अच्छी नहीं है अतः इस पर्व को हम सभी को बेटी बचाओ व बेटी पढाओं का संकल्प लेना चाहिए। कार्यक्रम का संचालन शिवांगी व शिखा ने किया तथा कार्यक्रम को सफल बनाने में सभी शिक्षिकाओं का पूर्ण योगदान रहा।

सपा ने दिया हत्या के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी को टिकट, अखिलेश बोले ‘जानकारी नहीं’

सपा ने दिया हत्या के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी को टिकट, अखिलेश बोले 'जानकारी नहीं'

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी में सोमवार को फिर से खींचतान देखने को मिली. दरअसल, इसने नौ विधानसभा सीटों के लिए उम्मीदवारों की घोषणा की जिनमें हत्या के आरोपी नेता अमर मणि त्रिपाठी के बेटे भी शामिल हैं. इस घटनाक्रम से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव नाखशु नजर आए क्योंकि उन्होंने कहा कि वह इससे वाकिफ नहीं हैं. यादव ने हाल ही में अपने चाचा और प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव से शक्ति संघर्ष के दौरान अगले साल के चुनाव में उम्मीदवारों के चयन में अपनी बात माने जाने की मांग थी. उन्होंने आज कहा कि उम्मीदवार बदले जा सकते हैं.

एक कार्यक्रम के दौरान जब उनका ध्यान उम्मीदवारों की घोषणा की तरफ आकृष्ट किया गया तो उन्होंने कहा, “मेरे पास कोई जानकारी नहीं है. मैं फिलहाल इस भवन का उद्घाटन कर रहा हूं. कल मैं कानपुर में मेट्रो का काम शुरू करूंगा. भविष्य में और उम्मीदवार बदले जाएंगे.” उससे पहले दिन में शिवपाल यादव ने 2017 के विधानसभा चुनाव के वास्ते 14 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उम्मीदवारों को बदले जाने के अलावा नौ सीटों के लिए सपा उम्मीदवारों की घोषणा की. घोषित किए गए उम्मीदवारों में अमरमणि त्रिपाठी के बेटे अमनमणि त्रिपाठी भी हैं. अमरमणि त्रिपाठी कवियत्री मधुमिता हत्याकांड के सिलसिले में जेल में हैं.

अमनमणि को महाराजगंज जिले की नौटवाना सीट से टिकट दिया गया है. उन पर अपनी पत्नी की हत्या का आरोप है. जब अखिलेश से उनके करीबी समझे जाने वाले अतुल प्रधान को टिकट नहीं दिए जाने और अमनमणि को टिकट दिये जाने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “मैंने अपने सारे अधिकार छोड़ दिए हैं. सभी अधिकार लोगों के पास हैं.” इस मुद्दे पर कुरेदे जाने पर उन्होंने कहा, “अब मैं या तो सत्यवादी बनूं या राजनीतिक. मैं अपनी आदतें नहीं बदल सकता.” दिन में बाद में सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के निवास पर बैठक हुई जिसमें रामगोपाल यादव, शिवपाल यादव और अखिलेश मौजूद थे.

रामगोपाल ने कहा, “टिकट वितरण को लेकर पार्टी में कोई मतभेद नहीं है.” जब उनसे अमनमणि को टिकट दिये जाने के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि उन्हें 2012 में भी टिकट दिया गया था.

जब उनसे टिकट वितरण के बारे में अखिलेश की अनभिज्ञता के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “यह प्रदेश अध्यक्ष का काम है और उसमें कुछ भी गलत नहीं है.” हाल ही जब मुख्यमंत्री अखिलेश को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटाया गया था और उनके स्थान पर उनके चाचा शिवपाल यादव को अध्यक्ष बनाया गया था तो दोनों के बीच शक्तिसंघर्ष हुआ था. मुलायम सिंह यादव के हस्तक्षेप के बाद खींचतान ठंडी पड़ गई थी.

सपा के प्रांतीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव द्वारा यहां जारी की गयी सूची के मुताबिक, कांग्रेस के बागी विधायक मुकेश श्रीवास्तव को बहराइच जिले की पयागपुर सीट से उम्मीदवार बनाया गया है. वहीं, अमनमणि को महराजगंज जिले की नौतनवा सीट से टिकट दिया गया है.

कवयित्री मधुमिता शुक्ला हत्याकांड मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहे पूर्व विधायक अमरमणि त्रिपाठी के बेटे अमनमणि पिछले साल अपनी पत्नी की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के बाद अपनी ससुराल के लोगों द्वारा लगाये गए हत्या के आरोपों के घेरे में आए थे. उन्हें एक व्यापारी को धमकी देने के आरोप में लखनऊ में गिरफ्तार भी किया गया था.

सोमवार को घोषित सूची के मुताबिक, सुभाष राय को अम्बेडकरनगर जिले की जलालपुर सीट से, मोहम्मद इरशाद को सहारनपुर की नकुड़ सीट से, संजय यादव को सोनभद्र की ओबरा सीट से, उषा वर्मा को हरदोई की सांडी सीट से सपा प्रत्याशी बनाया गया है. इसके अलावा पार्टी ने 14 सीटों पर अपने प्रत्याशी बदले भी हैं.

आगरा की खरागढ़ सीट से विनोद कुमार सिकरवार की जगह पक्षालिका सिंह को टिकट दिया गया है. इसके अलावा ललितपुर सीट से ज्योति लोधी की जगह चंद्रभूषण सिंह बुंदेला उर्फ गुड्डू राजू को प्रत्याशी बनाया गया है.

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

दशहरे पर लखनऊ में रावण दहन करेंगे पीएम मोदी! पार्टी ने किया आने का अनुरोध

दशहरे पर लखनऊ में रावण दहन करेंगे पीएम मोदी! पार्टी ने किया आने का अनुरोध

पीएम नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार दशहरे पर लखनऊ की प्रसिद्ध ऐशबाग रामलीला में हिस्सा ले सकते हैं. बीजेपी नेताओं के अनुसार, प्रधानमंत्री से इसके लिए अनुरोध किया गया है और अब उनकी औपचारिक ‘हां’ का इंतजार है. राज्य बीजेपी नेताओं ने प्रधानमंत्री के संभावित दौरे के लिए तैयारियां शुरू कर दी हैं.

लखनऊ के ऐशबाग की रामलीला देश की सबसे प्राचीन और ऐतिहासिक रामलीलाओं में से एक है. माना जाता है कि तुलसीदास द्वारा रामचरितमानस का सृजन करने के बाद उनके शिष्यों ने इस रामलीला की शुरुआत करीब तीन सौ वर्ष पूर्व की थी. यह गंगा-जमुनी तहजीब का प्रतीक भी है. नवाबों के शासन के दौर में यह रामलीला चलती रही. 19 वीं शताब्दी में श्रीरामलीला समिति ऐशबाग का पंजीकरण कराया गया था.

लखनऊ के मेयर और बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिनेश शर्मा श्रीरामलीला समिति ऐशबाग के संरक्षक हैं. उन्होंने बताया कि कालीकट में बीजेपी की राष्ट्रीय परिषद की बैठक के दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस रामलीला में आने का अनुरोध किया था.

अमूमन सारे प्रधानमंत्री दिल्ली में रामलीला मैदान पर रामलीला समितियों के कार्यक्रमों में हिस्सा लेते आए हैं हालांकि 2014 में प्रधानमंत्री मोदी को वहां रावण दहन कार्यक्रम में नहीं बुलाया गया था क्योंकि समिति के मुख्य संरक्षक और पूर्व कांग्रेस सांसद जयप्रकाश अग्रवाल ने पीएम मोदी की मौजूदगी का विरोध किया था. इसके बाद पीएम मोदी ने सुभाष मैदान में रावण दहन कार्यक्रम में हिस्सा लिया था.

ऐशबाग की ऐतिहासिक रामलीला कभी पूरे मैदान में हाथी-घोड़ों और रथों के जरिए होती थी. बाद में इसे मंच पर कर दिया गया. वहां राम भवन और तुलसी भवन का निर्माण भी किया गया है. पिछले साल ऐशबाग रामलीला की थीम गोहत्या प्रतिबंध थी और मंच का निर्माण अयोध्या में प्रस्तावित राम मंदिर की तरह किया गया था. इस साल रामलीला में थाईलैंड के कलाकारों को भी बुलाया गया है.

गौरतलब है कि बीजेपी ने तय किया है कि राज्य में आने वाले विधानसभा चुनावों के मद्देनजर प्रधानमंत्री महीने में कम से कम एक बार उत्तर प्रदेश जरूर आएं. बीजेपी का कहना है कि दशहरे पर पीएम के लखनऊ आने से कार्यकर्ताओं का जोश दोगना हो जाएगा.

डेंगू-चिकनगुनिया पर सुप्रीम कोर्ट में सतेंद्र जैन का हलफनामा- मेरी नहीं, एलजी की सुनते हैं स्वास्थ्य सचिव

डेंगू-चिकनगुनिया पर सुप्रीम कोर्ट में सतेंद्र जैन का हलफनामा- मेरी नहीं, एलजी की सुनते हैं स्वास्थ्य सचिव

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट की फटकार और जुर्माने के बाद दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा है कि स्वास्थ्य सचिव चंद्राकर भारती कई मीटिंग में कहने के बावजूद शामिल नहीं हुए और न ही मंत्री से मिलने के लिए उपस्थित रहे.

स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने अपने हलफ़नामे में कहा है कि सचिव उपराज्यपाल को रिपोर्ट करने में विश्वास रखते हैं न कि मंत्री को. सतेंद्र जैन ने अपने हलफनामे में उपराज्यपाल पर सवाल उठाते हुए कहा कि मंत्री के मना करने के बावजूद उपराज्यपाल ने उन्हें स्वास्थ्य सचिव बनाया.

स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने अपने हलफ़नामे में यह भी कहा कि भारती ने मोहल्ला क्लीनिक को स्थापित करने में कभी दिलचस्पी नहीं दिखाई. उन्होंने छुट्टी पर जाने से पहले मुझसे मिलना भी जरूरी नहीं समझा और यहां तक कि बिना मेरी इजाजत के छुट्टी पर चले गए. मुझे बाद में उपराज्यपाल के दफ्तर से पता चला कि वह 5 सितंबर से 15 सितंबर तक के लिए छुट्टी पर गए हैं.

इतना ही नहीं सचिव ने छुट्टी से लौटने के बाद किसी भी मीटिंग में हिस्सा नहीं लिया जिसमें यह तय होने था कि डेंगू और चिकनगुनिया पर कैसे रोकथाम लगाई जाए?

स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने अपने हलफ़नामे में यह भी कहा कि पिछले 20 दिनों से उन्होंने दिल्ली के 15 अस्पतालों में खुद विजिट किया और मरीजों और डॉक्टरों के संपर्क में रहे.

Five coaches of Doon Express derail in Uttar Pradesh’s Faizabad

 

Five coaches of Doon Express derail in Uttar Pradesh's Faizabad

Lucknow: Five coaches of the Doon Express derailed in Uttar Pradesh’s Faizabad on Tuesday afteoon, said railway officials. No casualties were reported so far.

However, the accident brought the crucial Gorakhpur route to a grinding halt due to which many trains are stuck at different places.

A Northern Railway official told IANS that the train was going from Dehradun to Howrah when the coaches suddenly started tilting one way and five were derailed. No injuries have been reported as at the time of the incident, the train was at a slow speed.

The derailed coaches include two general and three sleeper compartments.

Many trains including the 19709 Jaipur-Kamakhyaa Express have been stopped at the Lucknow railway station and many other trains are being diverted.

 

CBSE to review affiliation by-laws

The Central Board of Secondary Education (CBSE) has set the ball rolling to check the commercialisation of education and is mulling the idea of placing a cap on the maximum fees a school can charge for providing education.

The CBSE has set up a committee to review its affiliation bye-laws so as to enable it to combat rampant commercialisation. The committee is expected to make its recommendations within a month.

On its agenda, among other points, is the need to recommend appropriate means to control commercialisation of education.

‘Upper cap on fees’

“There will be discussions on fixing an upper cap on the fees charged by any school affiliated to the CBSE,” said a well-placed source. Over the decades, there have been concerns among parents across the country about hikes in school fees.

The CBSE has been mulling the updating of its by-laws for some time now.

At a workshop on inclusive education organised by the institution late in August, CBSE chairman Rajesh Chaturvedi had told journalists: “We will work to update our bye-laws to better tune them to government policies that affect education to ensure better regulation and compliance.”

Officials then had said that while in the past disabled children often had to attend special schools, the CBSE was trying to ensure that schools develop the infrastructure to cater to children with special needs by making its by-laws fully compatible with disability laws.

UP cabinet expansion on Monday, perhaps last before polls

UP cabinet expansion on Monday, perhaps last before polls

Lucknow: Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav will expand his cabinet on September 26 in perhaps the last reshuffle of his council of ministers ahead of the Assembly election in early 2017.

Governor Ram Naik will administer the oath of office and secrecy to the new ministers at Raj Bhawan on Monday, a Raj Bhawan release said here tonight.

This will be the eighth expansion of the Akhilesh Yadav government since it assumed office in 2012.

The UP council of ministers can have 60 ministers and there are three vacancies at present.

Sacked Mines Minister Gayatri Prajapati is all set to be inducted as a cabinet minister as part of a compromise formula to end the recent family feud in the Yadav clan, but he may get a different portfoilo, sources said.

Car falls into gorge in UP’s Bareilly; five dead, three injured

Bareilly: At least five persons were killed and three were left injured when a car in which they were travelling fell into a gorge in Bareilly district of Uttar Pradesh.

The incident took place on late Saturday, as per the report.

All the injured were rushed to a nearby government hospital.

Details awaited.

Car falls into gorge in UP's Bareilly; five dead, three injured