Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

  Who was your inspiration in Childhood ? My father was my inspiration in Childhood. He always preached us that luck sure comes at the door and knocks too but your efforts More »

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA  Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

1. आपका बचपन में प्रेरणा स्त्रोत कौन था? मेरे पूज्य बाबाजी स्वर्गीय श्री रामसिंह जी । जो एक कृषक थे, एक सामाजिक व्यक्ति थे। उन्होंने जिंदगी में मुझे जीना सीखाया। प्ररेणा भी More »

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India Who was your inspiration in Childhood ? My mother and father were my source More »

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Who was your inspiration in Childhood ? My inspiration was my family. I was surrounded by educators in my family. Ma Nanaji, Mamaji, my mother everybody was into academics. My Mamaji was More »

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Who was your inspiration in Childhood ? I always believed that inspiration is from inside and not from outside. Only you can inspire yourself. Outward inspirations are momentary and do not stay More »

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

  Who was your inspiration in Childhood ? My dad and my uncle were my inspiration in my childhood. Both of them were associated with RSS. They inspired me to join RSS More »

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Dr.Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker Who was your inspiration in Childhood ? My mother was my inspiration in my childhood and she is still my inspiration. My brother had also More »

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ? My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like More »

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Who was your inspiration in Childhood ? I think in my childhood it was the national leaders like Gandhi ji and Nehru ji who inspired me the most because our exposure at More »

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Who was your inspiration in Childhood? Radio was my source of inspiration as I used to listen to loads of music and radio and tape recorder were the only source to listen More »

 

ब्रह्मपुरी में बीजेपी अध्यक्ष के घर ५ लाख की लूट

whatsapp-image-2016-10-18-at-12-42-20-pm

ब्रह्मपुरी में बीजेपी अध्यक्ष के घर ५ लाख की लूट पर अज्ञात की गिरफ़्तारी की मांग करते बीजेपी  कर्येकर्ता

थाना सिविल लाइन्स में युवक पकड़ा गया जो गाय को कटवाने ले जा रहा था

whatsapp-image-2016-10-18-at-12-41-07-pm whatsapp-image-2016-10-18-at-12-41-08-pm

R.G कॉलेज में बास्केटबॉल टूर्नामेंट खेलते छात्र

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ?

My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like how to be a good person, how to maintain your Goodwill in business, how to help people in business and how to avoid people who do not deserve help in business.

In my formative years, I was inspired by one of my senlior Mr. Trilokanand. He had always been an inspiration for me and he made me work hard enough to do an MBA in 1982 when people have not even heard of such a course.

Which great leaders from history or your contemporaries influenced your thought process?

The simplicity of APJ Abdul Kalam Azad after achieving so much in life was worth noting and appealed me a lot. I am a proud winner of an award by respected Kalam sir for promoting an Indian brand internationally.

Atal Bihari Vajpayee ji’s commitment towards his country had always appealed me.

When did you start working on your ambition?

There had been many ambitions in life. I can segregate my life in few divisions. I had always been inclined toward business and I joined business when I was 17 years old and it had been more than 40 years now that I am into business.

I was also inclined towards sports from childhood only. I played 12 inter university titles from the side of Meerut university and BHU. Also served as a captain of Meerut University and Banaras Hindu University.

I started playing on international fronts from 2005. I consider it as my second innings. I had never thought that I would be the one to waive the flag of India on the international courts.

Another thing which I wanted to do was to impart the knowledge I had attained over a period of time. That is achieved through my interaction with MBA students in and around the country.

My current ambition is to produce a world champion in Table Tennis from India. For this I had started a very ambitious project. The name of the project is Stag india 20-20 One million Players. In this we will introduce one million new table tennis player by the year 2020

Another project is Stag Talent Hunt. Under this we are going to put 20000 camps all across India. From here we will select kids from such camps to play on state and national level. We will also start an academy in every district, every state and 6 national academies equipped with best trainers and sporting goods. Kids out of the national academies will be knocking at the doors of international table tennis.

And then my third dream to have an Olympic medal for India could be fulfilled.

What do you do in your leisure time i.e. your hobbies?

I follow my passion which is Table Tennis. I also do a lot of planning for my various dream projects.

Quick bites of favorites?

  1. Holiday destination – Ananda in Rishikesh, internationally Switzerland and New Zealand.
  2. Book – How to win friends and influence people by Dale Carnegie
  3. Movie – Anupama and all the Devanand and Madhubala starrer movies.
  4. Food – Any kind of food specially Rajma Chawal
  5. Actor – Amitabh Bacchhan
  6. Actress – Madhubala
  7. Singer – Pankaj Udhas
  8. Song – “Main pal do pal ka shayar hoon”

What is your fitness regime?

I play table tennis for two hours, 45 minutes of yoga and 45 minutes of Gym.

Who all are there in your immediate family?

My wife, Monika kohli she is an actress. My two sons, elder one in business and the younger one is a player and also in product development.

How do you maintain work-life balance?

I have a good team so normally the team takes care of all my business engagements when I am not there. Of course, I am quite occupied with tennis and we have more of tennis holidays where my wife accompanies me.

Who is your best friend and his/her good qualities?

My wife is my best friend. She is very caring and her thought process towards life is very positive. She has charisma attached to her.

What one thing makes you very angry?

Why do people get angry makes me angry.  Anger is something which itself is a very negative thing. You should at times when required should show anger but should not be angry and lose control.

What one thing makes you very happy?

My tennis achievements. The happiest moment of my life were when I held Indian Flag and when I got awarded from Kalam Sir.

What accomplishments of your life you are proud of?

We are working in 198 countries, sponsored teams of 40 countries. In India, almost all states are sponsored by Stag. On international level, Greece, many African teams, many South American teams are sponsored by Stag international.

I am also a player of Tennis and I represent India on international frontiers. I had played 6 world championships. My Current ranking is 30. I had won 14 titles on international level with 12 different partners. I was past president of Meerut Management Association and delivers lectures in many management institutions across the globe.

What are your contributions to your city Meerut?

I have been instrumental in sharing my knowledge of various platforms. I had also been doing lot of social activities being involved with MMA. We have been going to various places where people actually need help.  I am also associated with lot of NGO’s and keep supporting them. We have adopted some children and providing them education.

What are your future goals?

On professional front I want my one million project to complete successfully.

We are also working to bring the factory to international standards with in one year time frame. And getting higher and higher on my Tennis Ranking.

One line that defines you in totality?

I follow my dreams with passion, grit and determination and keep reinventing myself by utilizing my capacity into projects of different nature.

रोशनी पर्व पर भी अंधेरे में रहेगा शहर

meerut nager negam
लाइट का फाइल फोटो।PC: फाइल फोटो
इस बार दिवाली पर शहर अंधेरे में रहेगा। नगर निगम ने पथ प्रकाश की व्यवस्था नहीं की है। बीओटी मार्ग से लेकर गलियों तक में स्ट्रीट लाइटें खराब पड़ी हैं। बीओटी ठेकेदार निगम अधिकारियों की नहीं सुनता है। तीन साल से बीओटी ठेका हवा हवाई चल रहा है। न तो स्ट्रीट लाइटें ही नियमित जलती हैं और न ही डिवाइडर और खंभे आदि का रखरखाव हो रहा है। निगम अधिकारी और ठेकेदार मिलकर गोलमाल कर रहे हैं। निगम प्रशासन शहर में एलईडी लगवाने में भी कामयाब नहीं हो पाया है।
शहर में 41992 हैं स्ट्रीट लाइटें
शहर में मुख्य मार्ग और गली मोहल्लों में लगी स्ट्रीट लाइटें लगभग 41992 हैं। इनमें से शहर के मुख्य छह मार्गों पर लगी स्ट्रीट लाइटों को जलाने और बुझाने की जिम्मेदारी बीओटी ठेकेदार की है। लेकिन बाकी शहर की स्ट्रीट लाइटों को ठीक करने और नियमित स्ट्रीट लाइट जलाने की जिम्मेदारी नगर निगम लाइट विभाग की है। शहर में लगी स्ट्रीट लाइट ठीक करने के लिए निगम के पास भी स्थाई और अस्थाई कर्मचारियों की भारी भरकम फौज है। लगातार लाइटें ठीक करने का काम भी होता है, लेकिन लापरवाही के कारण व्यवस्था पूरी तरह पटरी से उतरी हुई है। दीपावली पर शहर के काफी हिस्से ऐसे रह जाएंगे, जहां लाइटें नहीं जल पाएंगी।

अभी तक नहीं हुआ एलईडी का अनुबंध 
शहर में एलईडी कब लगेगी यह तो अभी स्पष्ट नहीं, लेकिन इतना जरूर है कि निगम प्रशासन ने एक कंपनी को एलईडी लगाने की स्वीकृति दे दी है। निगम अधिकारी 15 दिन से कंपनी के अधिकारियों से अनुबंध कराने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन सफलता नहीं मिल रही है। कंपनी के अधिकारी निगम प्रशासन के सभी पत्रों को डस्टबिन में डाल रहे हैं।

विद्युत विभाग की लापरवाही से छाएगा अंधेरा
अगर नगर निगम पथ प्रकाश विभाग की मानें तो दीपावली पर मुख्य मार्ग और शहर के अन्य कुछ मार्गों पर बिजली विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के कारण अंधेरा छाएगा। क्योंकि  विभाग के अधिकारियों ने अनेकों बार पत्र लिखने के बाद भी स्ट्रीट लाइट की लाइन चालू नहीं की है।

यहां की लाइन बंद 
– रुड़की रोड पर डेरी फार्म बिजली घर से स्ट्रीट लाइटों की आए दिन विद्युत सप्लाई प्रभावित रहती है। सात सितंबर से सोफीपुर तक स्ट्रीट लाइटों का पूरा सर्किट बंद पड़ा है।
– गढ़ रोड पर आनंद अस्पताल के निकट से सोमदत्त विहार तक डिवाइडर की लाइटें दो सितंबर से बंद हैं। मार्ग पर दिन छुपते ही अंधेरा पसर जाता है।
– दिल्ली रोड पर जेपी रिसोर्ट से उद्योगपुरम तक लाइटें आठ सितंबर से बंद पड़ी हैं। जिसके कारण मार्ग पर अंधेरा पसरा है।

ये हैं ठेकेदार से अनुबंध की शर्तें 
– बीओटी छह मार्गों पर स्ट्रीट लाइटों को जलाने, बंद करने, रखरखाव करने, साल में दो बार डिवाइडर, रेलिंग, और खंभों की रंगाई पुताई कराने का कार्य।
– बिजली के खंभों की सफाई, रंगाई पुताई कराने के साथ-साथ लाल, पीली व सफेद रंग की रिफलेक्टिव टेप लगाने का कार्य।
– डिवाइडर पर बनी ग्रीन बेल्ट को हरा भरा रखने और कटाई छंटाई कराने का कार्य।
– हादसे में डिवाइडर और विद्युत पोल टूटने पर सात दिन के भीतर ठीक कराना होगा।

लाइट बंद मिलने पर लगेगा जुर्माना 
नगर निगम और ठेकेदार के बीच हुए अनुबंध के अनुसार अगर तीन दिन से अधिक प्रकाश पुंज यानी लाइट बंद रहती है तो पांच रुपये प्रतिदिन के हिसाब से जुर्माना लगेगा। अगर इससे यह अधिक पांच दिन के बाद 100 रुपये प्रति पुंज के हिसाब से ठेकेदार को जुर्माना भरना होगा।

लाइट ठीक करा रहे 
एलईडी लाइटें लगाने की योजना के कारण नई स्ट्रीट लाइटें नहीं खरीदी गई हैं। पुरानी सभी स्ट्रीट लाइटों को ठीक करने का काम चल रहा है। दीपावली तक सभी लाइटें ठीक कर दी जाएंगी। मुख्य मार्गों पर जो लाइटें बंद पड़ी हैं, उनके लिए विद्युत विभाग जिम्मेदार हैं। हम अनेकों पर विद्युत विभाग के अधिकारियों को पत्र लिख चुके हैं। लेकिन सप्लाई शुरू नहीं की है। – राजेश चौहान, इंस्पेक्टर पथ प्रकाश नगर निगम।

सूचना मिलते ही कराते हैं काम
बीओटी मार्गों की स्ट्रीट लाइटें ठीक करने के लिए हमने कर्मचारियों की टीम लगाई हुई है। निगम की तरफ से भी सूचना मिलती है। तत्काल लाइटों को ठीक कराया जाता है। जहां लाइटें बंद हैं, वहां विद्युत विभाग की गलती है। हम कई बार पत्र लिखकर सप्लाई की मांग कर चुके हैं।
– सचिन चौधरी, डायरेक्टर, अभिनव एडवरटाइजिंग कंपनी

सीसीएसयू कैंपस में अधिसूचना जारी, अब कार्रवाई की बारी

student election in ccs university
लोगोPC: अमर उजाला
चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय ने सोमवार को छात्रसंघ चुनाव 2016 की अधिसूचना जारी कर दी। इसके साथ ही कैंपस में आचार संहिता लागू हो गई है। संभावित प्रत्याशी प्रचार में लिंगदोह समिति की सिफारिशें का उल्लंघन कर रहे थे। अब इस पर रोक लगेगी। कैंपस के अंदर बाइक, स्कूटर, कार और ट्रैक्टर से प्रचार पर प्रतिबंध लगा दिया है। छात्रों को पैदल ही प्रचार करना होगा। अगर नियम का उल्लंघन किया तो उनका नामांकन कैंसिल हो सकता है। अभी तक कैंपस में लग्जरी गाड़ियों से प्रचार किया जा रहा था।
सोमवार देर शाम अधिसूचना जारी की गई। चुनाव आयुक्त प्रोफेसर अतवीर सिंह का कहना है कैंपस में प्रचार के लिए जुलूस निकालने पर पाबंदी है। अगर किसी ने ऐसा किया तो कार्रवाई होगी। प्रचार और नामांकन के दौरान भी जुलूस के नाम पर नियमों का उल्लंघन करने वालों पर नजर रहेगी। विडियोग्राफी कराई जा रही है। अधिसूचना जारी होने से पहले और बाद में विवि विडियोग्राफी करा रहा है। चुनाव के दौरान गेस्ट हाउस में छात्रों के परिजन नहीं रहेंगे। प्रचार में नियमों के उल्लंघन पर चुनाव आयुक्त का कहना है कि अधिसूचना जारी होने के बाद अब कार्रवाई होगी। विवि के पास इसका इनपुट है। लिंगदोह समिति की सिफारिशों का उल्लंघन बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ग्रीवेंस के लिए कमेटी गठित कर दी गई है। विवि की वेबसाइट पर नामांकन परफोरमा अपलोड किया जाएगा। मंगलवार से छात्र वेबसाइट पर परफोरमा और आचार संहिता की जानकारी ले सकते हैं। नामांकन के दौरान 250 रुपये का डिमांड ड्राफ्ट जमा करना होगा।

प्रत्याशियों की आयु सीमा   
कोर्स                                  न्यूनतम आयु            अधिकतम आयु
बीटेक                                   17 वर्ष                    23 वर्ष
बीए एलएलबी                          17                        24
तीन साल यूजी के साथ पीजी          17                       24
चार साल यूजी के साथ पीजी          17                       25
एलएलएम                               17                       25
एमफिल सत्र 2016-17 के छात्र     17                       25
पीएचडी                                  17                      28

पीएचडी में पांच साल की लिमिट
पीएचडी शोधार्थियों को चुनाव लड़ने और वोट देने के लिए कंडीशन है। ऐसे शोधार्थी ही चुनाव लड़ सकेंगे और वोट दे सकेंगे जिनकी अवधि पांच साल से कम है और ट्यूशन फीस जमा की है। पीडीएफ शोधार्थी न तो चुनाव लड़ सकेंगे और न ही वोट कर सकेंगे। चुनाव खर्च की अधिकतम सीमा पांच हजार रुपये रखी गई है।

प्रचार के लिए लगेंगे बोर्ड 
अधिसूचना जारी होने के बाद प्रचार हाथ से लिखे पोस्टर आदि से ही हो सकेगा। इसके लिए विवि लाइब्रेरी के सामने पांचों पदों के लिए बोर्ड लगाएगा। उस पर प्रत्याशी अपना प्रचार कर सकेंगे।

चुनाव कार्यक्रम ः नामांकन  21 अक्तूबर को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक होगा। शाम पांच बजे प्रत्याशियों की सूची का प्रकाशन। 22 अक्तूबर को सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक स्क्रूटनी होगी। 1 से 3 बजे तक नाम वापसी होगी। शाम को 5 बजे वैध प्रत्याशियों की सूची प्रकाशित होगी। मतदान 26 अक्तूबर को सुबह 8 से 2 बजे तक। इसके बाद 3 बजे से मतगणना होगी।

जीशान और शुभम के आगे ओडिशा के बल्लेबाज चित

ck nadiu cricket match
भामाशाह पार्क में बल्लेबाजी करता ओडिशा का खिलाड़ी।PC: अमर उजाला
भामाशाह पार्क में सोमवार से शुरू हुए सीके नायडू क्रिकेट ट्रॉफी के मैच में यूपी ने गेंदबाजों के दम पर शिकंजा कस दिया है। फिरकी गेंदबाज जीशान अंसारी और तेज गेंदबाज शुभम मावी ने ओडिशा की टीम को 222 रनों पर समेट दिया है। जवाब में दिन का खेल खत्म होने तक यूपी ने बिना विकेट गंवाए 57 रन बना लिए थे।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ओडिशा की शुरुआत शानदार रही। दोनों ओपनर बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 115 रन जोड़े। शांतनु मिश्रा ने 61 और देबाशीष सामंत्रे ने 49 रन बनाए। यूपी के कप्तान शिवम चौधरी ने मेहमान टीम को शांतनु मिश्रा के रूप में पहला झटका दिया। इसके बाद 129 रन के स्कोर पर तेज गेंदबाज शुभम मावी ने देबाशीष सामंत्रे का विकेट लेकर दूसरा झटका दिया। इसके बाद विकेटों की झड़ी लग गई।

लेग स्पिनर जीशान अंसारी की फिरकी में फंसकर तीन बजे तक पूरी टीम 71.3 ओवर में 222 रन बनाकर आउट हो गई। देवप्रिय पटनायक ने अंतिम समय तक संघर्ष किया और वे 44 रन बनाकर नाबाद रहे। जीशान ने चार, शुभम मावी ने तीन, शानू सैनी ने दो व शिवम चौधरी ने एक विकेट लिया। जवाब में खेलने उतरी यूपी की टीम ने सधी हुई शुरुआत की। दिन का खेल खत्म होने पर 18 ओवर में बिना विकेट खोए 57 रन बनाए। कप्तान शिवम चौधरी 26 व शुभम अग्रवाल 27 रन बनाकर क्रीज पर डटे हैं।

मंडलायुक्त ने किया मैच का शुभारंभ 
मंडलायुक्त आलोक सिन्हा ने सुबह साढ़े आठ बजे दोनों टीमों के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर मैच का शुभारंभ किया। इस मौके पर विशिष्ट अतिथि यूपीसीए के उपाध्यक्ष रियायत अली, यूपीसीए के संयुक्त सचिव डॉ. युद्धवीर सिंह, एमडीसीए अध्यक्ष अरविंद नाथ सेठ, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जेके अग्रवाल, उपाध्यक्ष जेके गुप्ता, कोषाध्यक्ष राकेश गोयल, कोच संजय रस्तौगी, पिच क्यूरेटर रवींद्र चौहान, आयोजन सचिव सुभाष शर्मा, सुरेंद्र चौहान, गजेंद्र सिंघल मौजूद रहे।

सत्त्रिय से दिया नारी सशक्तिकरण का संदेश

message for womens empowerment
ईस्माइल कॉलेज में आयोजित स्पिक मैके कार्यक्रम में प्रस्तुति देतीं डॉ. अन्वेसा महंता।PC: अमर उजाला
सीता स्वयंवर, महिषासुर मर्दिनी, दुर्गा सप्तशती के माध्यम से सुप्रसिद्ध सत्त्रिय नृत्यांगना अन्वेषा महन्ता ने नारी सशक्तिकरण का संदेश दिया। सीता स्वयंवर में उन्होंने महिलाओं को स्वैच्छिक वर चयन के अधिकार, महिषासुर मर्दन में नारी शक्ति और अपमान के खिलाफ आवाज उठाने का आह्वान किया। वहीं, दुर्गा सप्तशती के पदों पर प्रस्तुति देकर नारी के सम्मान की आवाज उठाई।
इस्माईल नेशनल महिला पीजी कॉलेज में सोमवार को स्पिक मैके की ओर से शास्त्रीय सत्त्रिय नृत्य की प्रस्तुति हुई। सुप्रसिद्ध नृत्यांगना डॉ. अन्वेषा महन्ता ने सत्त्रिय नृत्य के जरिये कोटोरा (कृष्ण बाल लीला), माखन चोरी, कालिया नाग मर्दन, महिषासुर मर्दिनी, गोपिका चीरहरण आदि कथाओं को दर्शाया। अद्भुत नृत्य की इस प्रस्तुति में मृदंग पर उनके साथ हरि सेठिया, गायन में गौतम और बांसुरी पर भूपेंद्र ने संगत की। डॉ. अन्वेषा गुवाहाटी आईआईटी में अतिथि व्याख्याता हैं। आयोजन का शुभारंभ कॉलेज कार्यकारिणी सचिव दयानंद गुप्ता और प्राचार्य डॉ. साधना सहाय ने किया। संयोजन डॉ. रेखा सेठ का रहा। सहयोग डॉ. रीना गुप्ता, डॉ. दीपा त्यागी, रविशंकर, निरुपमा, गरिमा का रहा। कार्यक्रम का संयोजन स्पिक मैके की कोऑर्डिनेटर सुचेता सहगल ने किया।
यहां भी हुई प्रस्तुति
स्पिक मैके के सौजन्य से सत्त्रिय नृत्य की प्रस्तुति सोमवार सुबह भागीरथी आर्य कन्या इंटर कॉलेज लालकुर्ती में भी हुई। नृत्यांगना डॉ. अन्वेषा महन्ता द्वारा दी गई प्रस्तुति को छात्राओं ने खूब सराहा। आयोजन में स्कूल प्रिंसिपल लता सागर सहित दीवान पब्लिक स्कूल के छात्रों ने सहयोग दिया।
क्या है सत्त्रिया नृत्य
सत्त्रिया भारतीय शास्त्रीय नृत्य का आठवां फॉर्म है। भारतीय नृत्य संस्कृ ति में पहले सात प्रकार थे। आठवें प्रकार के रूप में सत्त्रिया को जोड़ा गया। सत्त्रिया असम की लोकनृत्य परंपरा है। इसे आज भी कृष्ण मंदिरों में मंचित करते हैं। असम में इस नृत्य की पूजा करते हैं। घुंघरुओं के बिना बिना सामान्य साज शृंगार के साथ इस नृत्य की प्रस्त्ुाति होती है। भगवत पुराण, महालक्ष्मी कथा, सीता स्वयंवर और कृष्ण लीला की कथाओं का मंचन नृत्य की इसी विधा में होता है। सत्त्रिया में ताल क्रम बिलंवित, द्रुत और बिलंवित होता है। बिलंवित ताल से प्रारंभ होकर द्रुत में जाता है। इसका अंत भी बिलंवित ताल पर होता है। मृदंग, बांसुरी जैसे साजों पर इसे प्रस्तुत किया जाता है।
इंसान की दैनिक जिंदगी में शामिल है नृत्य
रंगकर्म से लोकनृत्य को आत्मसात करने वाली अन्वेषा महन्ता नृत्य को आम आदमी की दैनिक जिंदगी का हिस्सा मानती हैं। वह कहती हैं कि रोना, हंसना, आश्चर्य, क्रोध, प्रेम, घृणा और करुण के जिन भावों को इंसान दिनचर्या में निभाता है, इन्हीं रसों पर नृत्य मुद्राएं बनी हैं। नृत्य में गीत हैं, आम जिंदगी संवादों और रसों का सामंजस्य है। नृत्य स्वयं को अहसास करने की कला है। अन्वेषा को उस्ताद बिस्मिल्लाह खां युवा पुरस्कार समेत कई पुरस्कार मिले हैं। चार्ल्स वैलेश फेलोशिप भी ले चुकी हैं। सृष्टि से मोक्ष, नारी सशक्तिकरण इनक ी प्रमुख प्रस्तुतियां रही हैं।

तीन तलाक पर राजनीति नहीं, बहस हो : चक्रपाणि महाराज

divorce is a matter for debate
सपा प्रत्याशी पिंटू राणा के आवास पर विचार रखते चक्रपाणि महाराज।PC: अमर उजाला
हिंदू संत समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष चक्रपाणि महाराज ने कहा कि केंद्र में सरकार बनाने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गौरक्षा कानून बनाने की बात कही थी, लेकिन आज देश गोमांस का सबसे बड़ा निर्यातक  बन गया है। अभी तक कोई कानून नहीं बनाया गया है।
हरिद्वार से दिल्ली जाते समय सोमवार दोपहर दो बजे चक्रपाणि महाराज सरधना से सपा प्रत्याशी पिंटू राणा के आवास पर पहुंचे। यहां पत्रकारों से बात करते हुए महाराज ने कहा कि कैराना में पलायन नहीं हुआ था, बल्कि उसे सांप्रदायिकता का रंग दिया गया था। चुनाव के दौरान इस तरह के मुद्दों को तूल दिया जाता है। कैराना में गुंडा तत्व जरूर हावी है, लेकिन उन पर कार्रवाई करना पुलिस-प्रशासन का काम है। सर्जिकल स्ट्राइक पर महाराज ने कहा कि इस पर राजनीति नहीं होने चाहिए। सेना ने जो किया, वह सही है। राजनीति से सेना का मनोबल गिरता है। तीन तलाक को लेकर चल रहे विवाद पर कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति के बजाय बहस होनी चाहिए।
चक्रपाणि महाराज ने कहा कि भाजपा ने सत्ता में आने से पहले हिंदू हितोें की बात की थी। लेकिन दो साल बाद भी गौरक्षा कानून नहीं बना है। संत समाज मोदी की दोहरी नीति से नाराज है। अभी तक जम्मू से धारा 370 नहीं हटी है। अब अयोध्या में राम मंदिर का भाजपा राग अलाप रही है। इसके लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट की सहायता ली जाए। उत्तर प्रदेश में सांप्रदायिक ताकतों को जनता इस बार नकार देगी। भाजपा से सरधना विधायक संगीत सोम पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह मामलों को सांप्रदायिकता का रंग देते हैं। पिंटू राणा के बारे में कहा कि उन्हें हिंदू और मुस्लिम दोनों पसंद करते हैं। उनके लिए वह चुनाव प्रचार भी करेंगे। वाराणसी में भगदड़ के बारे में कहा कि यह शासन-प्रशासन की लापरवाही है। इससे पूर्व मुस्लिम समाज के लोगों ने टोल प्लाजा पर चक्रपाणि महाराज का फूल-मालाओं से स्वागत किया। इस दौरान प्रदीप गर्ग, प्रदीप चौधरी, अजय शर्मा, साइम रिजवी, पवन गुर्जर, अभिषेक तोमर, संजू मित्तल, कारी ओसामा, शाहरुख, आसिफ अंसारी, मनीष शर्मा, अशरफ, अभिषेक गुर्जर, हाजी खुर्शीद, मौ. कामिल, शमशाद आदि मौजूद रहे।

‘केवल गाय का दूध पीता हूं’
इस दौरान चक्रपाणि महाराज ने गाय का दूध पीया। चुटीले अंदाज में कहा कि भैंस का दूध सामने आते ही मैं उसकी पहचान कर लेता हूं। हमेशा गाय का ही दूध पीता हूं। महाराज ने इसके बाद फलाहार किया और दिल्ली रवाना हो गए।

रिक्शे पर अंतिम यात्रा, डर कर टेंपो से कूदीं छात्राएं

dead body on rickshaw
तेजगढ़ी चौराहे पर रिक्शे में जाती शव।PC: अमर उजाला
लावारिस लाशों की अंतिम यात्रा की परंपरा बड़ी ही शर्मसार करने वाली है। सोमवार शाम एक लावारिस लाश को रिक्शे से मोर्चरी से सूरजकुंड स्थित श्मशान गृृह ले जाते समय बड़ी अजीबोगरीब स्थिति बनी। हुआ यूं कि तेजगढ़ी चौराहे पर जाम लगा था। भीड़ भरे इलाके में रिक्शे में कफन में लिपटी लाश को देखकर टेंपो में सवार दो छात्राएं डर के मारे कूद गईं और घबराकर चिल्लाने लगीं। यह देखकर चौराहे पर मौजूद लोग ट्रैफिक नियम तोड़कर भागने लगे।
मेडिकल कॉलेज स्थित पोस्टमार्टम हाउस में हफ्ते में एक-दो दिन जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों से लावारिस लाई जाती हैं। 72 घंटे तक शिनाख्त नहीं होने पर पोस्टमार्टम के बाद लाश को मोर्चरी से करीब पांच किमी दूर सूरजकुंड श्मशान गृह ले जाकर अंतिम संस्कार कराया जाता है। इसकी जिम्मेदारी संबंधित थाने के दो सिपाहियों पर होती है। लेकिन, वे इसे हाथ भी नहीं लगाते। ऐसे ही सोमवार शाम एक लावारिस लाश को मोर्चरी से सूरजकुंड तक पहुंचाने के लिए सिपाहियों ने रिक्शे वाले का सहारा लिया। उसने ही जैसे-तैसे लाश को रिक्शे पर रखकर बांधा और सूरजकुंड के लिए चल पड़ा। वह तेजगढ़ी चौराहे पर पहुंचा तो वहां जाम में फंस गया। इस दौरान आसपास से गुजर रहे लोग शव देखते और मुंह फेर लेते। इसी बीच, टेंपो पर सवार सीसीएसयू की दो छात्राएं लाश देखकर डर गईं। वे टेंपो से कूदीं और शोर मचाने लगीं। इससे चौराहे पर भगदड़ मची तो ट्रैफिक सिपाही सड़क के किनारे जाकर खड़ा हो गया। कुछ ही देर में चौराहा भी खाली हो गया। इसके बाद रिक्शा चालक लाश को गांधी आश्रम चौराहा, हापुड़ अड्डा होते हुए सूरजकुंड लेकर पहुंचा। यहां भी उसने अकेले ही लाश को श्मशान के अंदर पहुंचाया।
सिर्फ सवाल ही उठते रहे हैं
लावारिस लाशों की इस कदर अंतिम यात्रा को लेकर पहले भी सवाल उठते रहे हैं। लेकिन, सिस्टम ने ऐसी कोई व्यवस्था बनाने में दिलचस्पी नहीं दिखाई है, जिससे ऐसी अजीबोगरीब स्थितियों से बचा जा सके।