Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

Impacting Lives of Beginners: Mrs. Neena Bhatia, Principal ABC Public School

  Who was your inspiration in Childhood ? My father was my inspiration in Childhood. He always preached us that luck sure comes at the door and knocks too but your efforts More »

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA  Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

Top of the Town: Ravindra Bhadana, MLA Indian politician and a member of the 16th Legislative Assembly of Uttar Pradesh of India

1. आपका बचपन में प्रेरणा स्त्रोत कौन था? मेरे पूज्य बाबाजी स्वर्गीय श्री रामसिंह जी । जो एक कृषक थे, एक सामाजिक व्यक्ति थे। उन्होंने जिंदगी में मुझे जीना सीखाया। प्ररेणा भी More »

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Top of the Town: Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd.

Mr. Vikram Parakash Lamba, MD American Institute of English Language Pvt. Ltd. with 300+ Centers all across India Who was your inspiration in Childhood ? My mother and father were my source More »

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Top of the town: Dr. Mohini Lamba, Director in American Kids Play School, Early Childhood Curriculum Developer, Montessori Teachers Trainer

Who was your inspiration in Childhood ? My inspiration was my family. I was surrounded by educators in my family. Ma Nanaji, Mamaji, my mother everybody was into academics. My Mamaji was More »

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Top of the Town: Mrs. Monika Kohli, 52 years young model and actor, into print ads, T.V. commercials and movies

Who was your inspiration in Childhood ? I always believed that inspiration is from inside and not from outside. Only you can inspire yourself. Outward inspirations are momentary and do not stay More »

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

Top of the town: Respected Rajendra Aggarwal, MP

  Who was your inspiration in Childhood ? My dad and my uncle were my inspiration in my childhood. Both of them were associated with RSS. They inspired me to join RSS More »

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Top of the town: Dr. Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker

Dr.Vishwajeet Bembi, renowned Physician and Social Worker Who was your inspiration in Childhood ? My mother was my inspiration in my childhood and she is still my inspiration. My brother had also More »

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Top of the town: Mr. Rakesh Kohli, Chairman, Stag International known for sporting goods in different countries of the world.

Who was your inspiration in Childhood ? My grandfather was my biggest inspiration. I had learnt the minutest details of life from him. I learnt a lot from him about business. Like More »

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Top of the town: Mr. Prem Mehta, Principal City Vocational Public School

Who was your inspiration in Childhood ? I think in my childhood it was the national leaders like Gandhi ji and Nehru ji who inspired me the most because our exposure at More »

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Top of the town: Dr. Mamta Varshney, Lecturer and Poetess

Who was your inspiration in Childhood? Radio was my source of inspiration as I used to listen to loads of music and radio and tape recorder were the only source to listen More »

 

कांवड़ यात्रा के बाद गणेश शोभयात्रा में देशभक्ति का रंग

 

गणेश शोभयात्रा में तिरंगा लहराते श्रद्धालु।

कांवड़ यात्रा के बाद अब गणपति के साथ भी तिरंगा लहराने लगा है। शुक्रवार को शास्त्रीनगर एल ब्लॉक से निकाली गई गणेश विसर्जन यात्रा में भक्तजनों ने देशभक्ति नारों के बीच गणपति बप्पा मोरया का उद्घोष कर तिरंगा लहराया। गणेश पूजा महोत्सव में शुक्रवार को कई जगह गणेश पूजा की धूम रही। कई स्थानों पर शोभायात्रा निकाली। श्रद्धालुओं ने ढोल नगाडे़ की थाप पर  खूब नृत्य किया।शास्त्रीनगर एल ब्लॉक में शुक्रवार को पांच दिन से चल रहे गणपति जी की मूर्ति का विसर्जन किया गया। इस दौरान सैकड़ों महिलाओं और बच्चों ने खूब डांस किया। इसके बाद नानू नहर पर विसर्जन किया। आयोजनकर्ता भाजपा नेता कुलदीप तोमर, अमित चौहान, गगन सोम, मुकेश कौशिक, विवेक, गौरव चंदेल, तेज बहादुर, पूनम, वंदना, अनीता, रिद्धि, सुभ्रा, नैना, अनिता, श्वेता आदि मौजूद रहीं। वहीं, श्री गणेश शोभायात्रा समिति के तत्वावधान में गणेश महोत्सव के पांचवें दिन बागपत गेट स्थित प्राचीन भोले शंकर शिव मंदिर से गणेश शोभायात्रा निकाली गई।

मुख्य यजमान दिनेश अग्रवाल ने मुख्य तिलक और गणेश शृंगार किया। आरती के बाद प्रसाद वितरण हुआ। श्रद्धालुओं ने धार्मिक गीतों पर जमकर डांस किया।  नवयुवक मित्र मंडल महामंत्री अंकुर गुप्ता ने बताया कि शीशमहल में गणेश महोत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है। शनिवार शाम को मंगला आरती का आयोजन होगा तथा रविवार को 51 किलो लड्डू का भोग लगाया जाएगा। इसके अलावा खत्रियों का चौक, सुभाष बाजार, बुढ़ाना गेट से होकर जिमखाना तक शोभायात्रा निकाली जाएगी। सुपरटेक पामग्रीन में अमित गौतम ने गणेश पूजा की। शोभायात्रा निकालने के बाद गणेश मूर्ति का मुरादनगर स्थित गंगनहर में विसर्जन किया गया।

दोस्ती, दुष्कर्म, शादी फिर कराया धर्मपरिवर्तन

हस्तिनापुर क्षेत्र की एक दलित युवती को दूसरे समुदाय के एक युवक ने बिजनेस कराने का झांसा देकर उसकी आबरू से खेलता रहा। दोस्ती कर दुष्कर्म किया फिर धर्मपरिवर्तन कराकर निकाह कर लिया। एक साल तक बिजनेस कराने के बाद आरोपी और उसका परिवार उसे धोखा देकर फरार हो गया। बेघर हुई युवती शुक्रवार को एसएसपी के पास पहुंची। उसने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की।

बीएड पास पीड़ित इस युवती ने एसएसपी दिए शिकायती पत्र में आरोप लगाते हुए बताया कि उसकी मुलाकात दो साल पहले किठौर निवासी इदरीश से हुई थी। वह खुद का बिजनेस करना चाहती थी। युवक ने उससे कहा कि घरेलू सामान बनाने की फैक्ट्री लिसाड़ी गेट में अच्छी चलेगी। जिस पर युवती ने अपने परिजनों से करीब 30 लाख रुपये लेकर लिसाड़ी गेट की एक कॉलोनी में बिजनेस शुरू कर दिया।
आरोप है कि इदरीश ने बहला फुसलाकर एक दिन उससे दुष्कर्म किया। करीब छह महीने पहले इदरीश ने उसका धर्म परिवर्तन कराया और उसके साथ निकाह किया। दोनों किराये के मकान में लिसाड़ी गेट क्षेत्र में रहने लगे। कुछ दिनों बाद इदरीश वहां अपने परिजनों को भी ले आया। एक महीने पहले इदरीश अचानक उसको छोड़कर चला गया। उसके बाद उसके परिजन भी गायब हो गए।
एसएसपी जे. रविंदर गौड़ ने बताया क‌ि युवती ने इदरीश नाम के युवक पर दुष्कर्म, निकाह और धर्म परिवर्तन का आरोप लगाया है। हालांकि युवती खुद अपनी इच्छा से इदरीश के साथ दो साल से रहती थी। पुलिस मामले की जांच करने के बाद कार्रवाई करेगी।

फाइनेंस कंपनी में पांच मिनट में 15 लाख का डाका

 सीसीएसयू के सामने मंगलपांडे नगर में शुक्रवार दोपहर हथियारबंद बदमाशों ने करीब पांच मिनट में फाइनेंस कंपनी में 15 लाख का डाका डाल दिया। बदमाशों ने ऑफिस में घुसते ही फायरिंग कर दहशत फैला दी और स्टाफ को बंधक बना लिया। सीसीटीवी कैमरे में छह बदमाश कैद होना सामने आए हैं।

मेडिकल थानाक्षेत्र अंतर्गत मंगल पांडे नगर में उज्ज्वल जीवन फाइनेंस कंपनी का ऑफिस है। सामने ही चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी है तो बगल में कोटक बैंक की ब्रांच है। शुक्रवार दोपहर करीब 2:20 बजे हथियार से लैस तीन बदमाश फाइनेंस ऑफिस में पहुंचे। जबकि तीन हथियारबंद बदमाश ऑफिस के बाहर ही निगरानी करते रहे। अंदर घुसने वालों में एक बदमाश ने कैशियर धर्मराज की कनपटी पर पिस्टल तान दी और दूसरे बदमाश ने ऑफिस में बैठे डिस्ट्रीब्यूटर मैनेजर अमित कुमार, एरिया मैनेजर सर्वेश प्रताप सिंह और एक ग्राहक को केबिन में बंधक बना लिया। जबकि तीसरे बदमाश ने तिजोरी से करीब 15 लाख रुपये लूट लिए।

Kitchen hacks: 10 secrets no one told you

To master the art of cooking it is not necessary to be a great cook. It is important to be a smart one though.

To master the art of it is not necessary to be a great cook. It is important to be a smart one though.

If you know some basic tips and tricks that come only with experience or are handed over down to generations, you can actually become a czar of perfect cooking.

Try out these amazing secrets that our readers and staffers have shared to make cooking easier.

Gunjan Arora : If your milk is almost at the point of getting spoilt, add a pinch of baking soda and you can save your milk!

Ankita Shukla : If your curd is not being set, add a slit green chilly to it.

Jamuna Das: To prevent ants in your kitchen and also disinfect the floor and slabs, add turmeric and salt to the water used in wiping.

Shruti : Add a pinch of sugar while heating oil. It will give your veggies a rich look.

Inam Sarah Pangin: Wrap the ends of bananas in silver foil to keep them fresh for long.

Kalpana Sharma: To make softer rotis knead the dough in whey (paneer) water.

Muneet Walia: To do away with the smell of garlic in your hands, rub your hands in your sink or against a stainless steel container.

Pallavi Bansal: Add 2-3 bay leaves and a bunch of dried curry leaves in rice to prevent rice moths.

Bhavjit Kaur: Add a tbsp of hot cooking oil to ginger-garlic paste, mix well and store it in the refrigerator.

Deepika Singh : To keep fresh for long, store them with apples. from apples prevent potatoes from sprouting.

For more stories, follow us on and

Stay updated on the go with Times of India App. Click to download it for your device.

शास्त्रीनगर, जागृति विहार डेंगू की चपेट में

जिले में चिकनगुनिया और डेंगू का रोग बेकाबू हो चुका है। खासकर शहर के शास्त्रीनगर और जागृति विहार इलाके इसकी चपेट में हैं। मेडिकल कॉलेज की लैब में कराई गई जांच के बाद डेंगू और चिकनगुनिया के बृहस्पतिवार को 56 नए मामले सामने आये हैं। इससे साफ है कि शहर में एडिस मच्छर को पनपने का पूरा मौका मिल रहा है। इसके अलावा वायरल को जन्म देना वाला बैक्टीरिया भी गंदगी के चलते फैल रहा है। अब जिले में डेंगू से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 55 हो गई है, जबकि चिकनगुनिया के मरीजों की संख्या ने भी सौ का आंकड़ा छू लिया है।
वायरल बुखार से पीड़ित बड़ी संख्या में लोग सरकारी और निजी अस्पतालों में भर्ती हैं। वहीं उससे कहीं ज्यादा संख्या उन मरीजों की है, जो चिकित्सकों की सलाह से घरों पर ही इलाज ले रहे हैं। अलर्ट के बीच स्वास्थ्य विभाग थोड़ा एक्टिव हुआ है तो नगर निगम सफाई, कीटनाशक, चूना छिड़काव और फॉगिंग के मोर्चे पर फेल साबित हो रहा है। जिसके कारण वायरल फैलाने वाला बैक्टीरिया तेजी से सक्रिय हो रहा है।नहीं चल रहा अभियान
जिला मलेरिया विभाग और नगर निगम उन क्षेत्रों को चिन्हित कर अभियान नहीं चला पाया है, जहां एडिस मच्छर सबसे ज्यादा पनप रहा है। जबकि पहले दिन से ही स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम को संकेत मिलने शुरू हो गए थे कि किस क्षेत्र में सबसे ज्यादा लोग डेंगू और चिकनगुनिया के आ रहे हैं।खास एरिया चपेट में
शुरूआत में मेडिकल कॉलेज कैंपस व जागृति विहार से चिकनगुनिया और डेंगू के मामले सामने आये थे। उसके बाद इसका दायरा बढ़ा और उसने मेडिकल से सटी अजंता कॉलोनी व उसके बाद जागृति विहार से मिले शास्त्री नगर को घेरा। लेकिन नगर निगम और जिला मलेरिया विभाग ने महज रस्म अदायगी ही की। जिसके कारण डेंगू और चिकनगुनिया फैलाने वाले मच्छर का दायरा बढ़ता चला गया। अब माछरा और परीक्षितगढ़ ब्लॉक के काफी गांव भी इसकी चपेट में है। अकेले परीक्षितगढ़ और माछरा ब्लॉक से चिकनगुनिया के 30 से अधिक केस सामने आने आ चुके हैं। वहीं डेंगू के भी करीब 15 मामले इन्हीं दोनों ब्लॉक से सामने आये हैं।शहर में गंदगी नहीं दिखती इन्हें
सरकारी अफसरों को शहर में व्याप्त गंदगी नहीं दिखती। जबकि कूड़ा एकत्र करने से लेकर उसके निस्तारण की प्रक्रिया इतनी खराब है कि उसमें बैक्टीरिया जमकर पल रहा है। वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. योगिता सिंह का कहना है कि वायरल के फैलने के पीछे असली वजह गंदगी है, क्योंकि गंदगी की वजह से बैक्टीरिया पैदा होता है और उसी से फैलता है। लेकिन शहर में जगह-जगह गंदगी है, जिससे वायरल के मामले बढ़ना लाजिमी है।

चूने का छिड़काव नहीं
जिला मलेरिया अधिकारी योगेश सारस्वत का कहना है कि नियम कहता है कि जहां पर कूड़ा एकत्र किया जाता है वहां दिन में दो दफा अनिवार्य तौर पर चूना गिरना चाहिये। इस शहर में कूड़ा एक ही टाइम उठाया जाता है, इसलिए कूड़े के ऊपर और बराबर मे चूना गिरना चाहिये, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। वहीं, डंपिंग जोन में भी कूड़े के ऊपर चूने की पूरी परत होनी चाहिये। अगर नगर निगम थोड़ी सक्रियता से काम करे तो वायरल को ज्यादा प्रभावित तरीके से रोक सकता है।

पुलिस ही लगा रही सरकारी तेल में ‘आग’

पुलिस महकमे में सरकारी तेल की जमकर कालाबाजारी हो रही है। पुलिस ड्राइवर थाने की जीप से लेकर पुलिस अफसरों की गाड़ियों में पुलिस लाइन स्थित पेट्रोल पंप से डीजल और पेट्रोल डलवाते हैं। उसके बाद सरकारी गाड़ी को प्राइवेट दुकान पर ले जाकर तेल बेच देते हैं।
मेरठ पुलिस के पास 128 गाड़ी और 141 फैंटम बाइक हैं। प्रदेश सरकार हर महीने करीब तीन करोड़ रुपये का पुलिस को डीजल, पेट्रोल और गाड़ियों के मरम्मत के लिए देती है। पुलिस की सुविधा को देखते पुलिस लाइन परिसर में ही पेट्रोल पंप बनवाया हुआ है। जहां से पुलिस की गाड़ियों में डीजल व पेट्रोल भरा जाता है। वहीं पुलिस के ड्राइवर खुलेआम तेल की काला बाजारी कर रहे हैं। दिन निकलते ही एक के बाद एक सरकारी गाड़ियों में तेल भरवाकर पुलिसकर्मी प्राइवेट दुकान पर गाड़ी लेकर पहुंचते हैं। जहां पर गाड़ियों से तेल निकालाकर बेच दिया जाता है। इनमें थाने की गाड़ी से लेकर बंदी वाहन, गश्त की मोबाइल और पुलिस अफसरों की सरकारी गाड़ियां होती हैं। पुलिसकर्मियों की कालाबाजारी से पुलिस विभाग को हर महीने लाखों रुपये का चूना लगा रहा है। पुलिस के ड्राइवरों के साथ पुलिस लाइन के अधिकारी भी इस खेल में शामिल हैं। पुलिसकर्मियों के इस कारनामों को अमर उजाला ने कैमरे में कैद किया और उसकी वीडियो भी हमारे पास है।ऐसा करते हैं खेल
रोजाना सुबह सात बजे से पुलिस लाइन स्थित पेट्रोल पंप से ड्राइवर सरकारी गाड़ियों में तेल लेकर मवाना बस स्टैंड समेत शहर के अलग अलग पांच जगहों पर प्राइवेट दुकान पर पहुंचते हैं। मवाना बस स्टैंड के पास एक पेट्रोल पंप है। जिसके पीछे नगर निगम की दुकानें बनी हुई है, जोकिराये पर दी हुई है। पुलिसकर्मी सरकारी गाड़ी दुकान पर लाते हैं, जिसको देखते ही दुकानदार तेल की केन और पाइप लेकर आता है। पुलिसकर्मी दुकान के बाहर पड़ी कुर्सी पर बैठता है और दुकानदार सरकारी गाड़ी से तेल निकाल लेता है। उसके बाद पुलिसकर्मी गाड़ी को फिर पुलिस लाइन में लाकर खड़ी कर देता है। दिनभर शहर की कई दुकानों पर एक के बाद एक पुलिस विभाग की सरकारी गाड़ियां आकर तेल देती हैं।

माफ कर दो, गलती हो गई
अमर उजाला टीम ने गाड़ी से तेल निकालने का खेल अपने कैमरे में कैद किया तो वहां अफरातफरी मच गई। दुकान पर काम करने वाले बच्चों ने आनन-फानन में पुलिस की गाड़ी से पाइप निकाला और तेल से भरी केन को लेकर दुकान में रखने लगे। जबकि पुलिसकर्मी हाथ जोड़कर माफी मांगने लगा। पुलिसकर्मी बोला कि गलती हो गई माफ कर दो। पुलिसकर्मी खुद ही बताने लगा कि पुलिस के सभी ड्राइवर तेल बेचते हैं।

ऑफिस में बैठे पुलिसकर्मी भी शामिल
इस कालाबाजारी में केवल पुलिस ड्राइवर ही नहीं, बल्कि पुलिस लाइन में ऑफिस में तैनात पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। ऑफिस के पुलिसकर्मी से सेटिंग के बगैर इतनी बड़ी काला बाजारी संभव नहीं। ऑफिस के पुलिसकर्मियों से जब इस संबंध में बात की तो उन्होंने कहा कि ड्राइवरों नेे तेल चोरी के स्टिंग के बारे में उनको बताया है। इससे साफ हो गया कि ऑफिस के पुलिसकर्मी भी इस काला बाजारी में शामिल हैं। पुलिस ड्राइवर ने ऑफिस के पुलिसकर्मियों से साफ कहा कि अगर वो फंसा तो वह सबका नाम उजागर कर देगा।

मेट्रो ट्रेन पर काम से पहले बनाएं यातायात व्यवस्था

शहर में मेट्रो ट्रेन का काम शुरू करने से पहले शासन ने यातायात व्यवस्था बनाने के लिए योजना तैयार करने को कहा है। साथ ही पूछा है कि ऐसी कौन सी तीन कनेक्टिंग रोड हैं जिन पर ट्रैफिक कंट्रोल होना चाहिए। उधर यहां इस बाबत ब्लू प्रिंट तैयार किया जा रहा है। इस बाबत शासन को भी सूचना प्रेषित करने की तैयारी है।

सीएम अखिलेश यादव का मेट्रो ट्रेन ड्रीम प्रोजेक्ट है। लखनऊ में काम शुरू हो चुका है तो मेरठ की डीपीआर प्रदेश सरकार को भेजी जा चुकी है। मुख्य सचिव इसे हरी झंडी भी दे चुके हैं। कवायद यह है कि इस साल यहां काम शुरू हो जाए। इसके दो कॉरिडोर बनाए गए हैं। पहला कॉरिडोर परतापुर से पल्लवपुरम तक है। दूसरा कॉरिडोर श्रद्धापुरी से गोकलपुर तक है। एक कॉरिडोर एलीवेटिड है तो दूसरा अंडर ग्राउंड।व्यवस्था बनाना आसान नहीं
दिल्ली रोड का जाम किसी से छिपा नहीं है। कॉरिडोर एक का बड़ा भाग भी इसी रोड पर है। यहां कहीं एलीवेटिड तो कहीं अंडर ग्राउंड मेट्रो दौड़ेगी। भैंसाली अड्डे केसामने रोज जाम लगता है। ऐसे में जब यहां काम शुरू होगा तो क्या हाल होगा? कही सड़क के  ऊपर ट्रैक जाएगा तो कहीं सड़क के नीचे खुदाई होगी। पूरी टनल बिछाई जाएगी। ऐसे में पूरी तरह से ट्रैफिक व्यवस्था ध्वस्त हो जाएगी। हजारों लोग यहां से दिल्ली तक का सफर तय करते हैं। वे कैसे दिल्ली तक का सफर तय कर सकेंगे।

टर्न पर फिर होगी गड़बड़ी
बेगमपुल होते हुए मेट्रोमेडिकल की तरफ जाएगी तो गढ़ रोड पर भी हाल बुरा होगा। बेगमपुल पर तो वैसे ही जंक्शन है। यहां दोनों कॉरिडोर मिलेंगे। ऐसे में यहां व्यवस्था बनाना चुनौती होगा। गढ़ रोड पर एलीवेटिड ट्रैक रहेगा पर काम शुरू होते ही उस रोड पर भी व्यवस्थाएं पूरी तरह से ध्वस्त हो जाएगी।

शासन ने कहा रोड करो चिह्नित
हालांकि एमडीए इस प्लान पर पहले ही काम कर रहा था पर अब प्रदेश सरकार ने कहा है कि इस बाबत ब्लू प्रिंट तैयार करो। कैसे यातायात व्यवस्था बनाई जाएगी। वहीं यहां प्लान यह है कि  दिल्ली से आने वाले ट्रैफिक को मोदीनगर के पास से डायवर्ट किया जाएगा। हापुड़ रोड पर यहां खरखौदा में रोड दिल्ली रोड को मिला रही है। जोर रहेगा कि उधर जाने वाला ट्रैफिक वहीं से डायवर्ट हो। मोदीनगर से बागपत रोड की तरफ जाने वाले रूट को पहले ही गंगनहर की पटरी से गुजारने का प्लान है। इंटरनल ट्रैफिक प्लान पर भी काम शुरू करने की बात कही जा रही है। हालांकि इस पर बड़ी मशक्कत अभी बाकी है। गंगनहर मार्ग बनाने के लिए पीडब्लूडी ने शासन को रिपोर्ट भेजी है। साथ ही पांच हजार पेड़ काटने का प्रस्ताव भी भेजा है।

बनानी होगी ये सड़कें
इनर रिंग रोड बनानी होगी। यह एकमात्र ऐसी रोड है जो इस समस्या के निदान के लिए सबसे बड़ा काम करेगी। सुपरटेक चौराहा से यह रोड हापुड़ रोड, वहां से बिजनौर रोड को मिला रही है। इधर दिल्ली बाईपास को मिला रही है। दूसरे चरण में बिजनौर रोड से घूमकर इसे फिर से रुड़की रोड से मिलाने का प्रस्ताव है। इस सड़क को बनाकर ही यहां ट्रैफिक व्यवस्था को थोड़ा कंट्रोल किया जा सकेगा।

परतापुर की महायोजना रोड
परतापुर में प्रवेश के बाद हवाई पट्टी को जाने वाली रोड बिजली बंबा बाईपास से मिलना प्रस्तावित है। लेकिन यहां लगभग पांच सौ मीटर हिस्से पर अवैध टाउनशिप डेवलेप हो गई है। यह रोड  बनानी होगी। तभी ट्रैफिक बिजली बंबा चौकी होते हुए शहर में प्रवेश कर सकेगा।

जुर्रानपुर फाटक
यहां रेलवे ने तो हवा में पुल बना दिया है पर इसका अभी पूर्ण निर्माण होना है।हवा में लटके पुल को सड़क से जोड़ना होगा। जमीन लेकर दोनों तरफ मार्ग बनाकर इसे जोड़ना होगा। इस साल हर हाल में ओवरब्रिज बनाना ही होगा। यदि महायोजना की सड़क बन भी गई और यह पुल नहीं बना तो यहां जाम की समस्या होगी, जिससे पार पाना टेढी खीर साबित होगा। किसानों से यहां इस बाबत लगातार प्रयास किया जा रहा है।

कुख्यात मोनू को समाज के ठेकेदार देते पनाह

घटनास्थल पर मौजूद पुलिस PC: अमर उजाला

दंपति की हत्या में पुलिस की घोर लापरवाही सामने आई है। पुलिस कस्टडी से अंजू शर्मा के भागने के बाद पुलिस ने कुख्यात मोनू की तलाश बंद कर दी थी। जिसके चलते मोनू ने दोबारा से रोहटा में आतंक मचाना शुरू कर दिया है। पुलिस की कमजोरी का फायदा उठाकर मोनू ने दिनदहाड़े डबल मर्डर को अंजाम देकर फिर से सनसनी फैला दी है।

रंगदारी न देने पर दंपति की सरेआम हत्या पर ग्रामीणों ने जमकर हंगामा किया तो मौके पर पहुंचे एसएसपी जे. रविंदर गौड़ ने ग्रामीणों से कहा कि मोनू जाट को समाज का ठेकेदार बताने वाले कुछ लोग पनाह देते हैं। पुलिस कस्टडी से अंजू शर्मा के भागने पर समाज के उक्त ठेकेदारों ने रोहटा थाने में बवाल काटा था। वह सभी लोग पुलिस ने चिन्हित कर लिए हैं। उनके खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की जाएगी। अंजू शर्मा को पुलिस ने इसलिए उठाया था कि उस पर मोनू को खाना भेजने का आरोप लगा था। पुलिस मोनू तक पहुंचने ही वाली थी कि यह बखेड़ा कर समाज के ठेकेदारों ने बवाल कर दिया था। पुलिस के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज करना पड़ा। थाने में तैनात सिपाहियों को हटाना पड़ा।आखिर कब पकड़ा जाएगा मोनू
दंपति की मौत पर गुस्साए कुछ लोगों ने एसएसपी से कहा कि साहब आप कुख्यात मोनू को गिरफ्तार करो। हम सब लोग आपको सहयोग करेंगे। एसएसपी ने आश्वासन दिया कि कुख्यात मोनू जल्द पकड़ा जाएगा। पुलिस की एक टीम उसकी तलाश में लगाई गई है।

गांव में दहशत का माहौल
दंपति की हत्या के बाद रोहटा गांव में दहशत का माहौल है। लोगों का कहना है कि मोनू ने गांव में करीब 20 लोगों से रंगदारी मांगी हुई है। जिसमें कुछ लोगों ने गुपचुप तरीके से पैसा दे दिया है। जबकि कुछ लोग दहशत में हैं कि आखिर वो करें तो क्या। पुलिस ने लोगों से कहा कि रंगदारी मत देना। गांव में पुलिस का पहरा होगा। मोनू गिरफ्तार हो जाएगा।

…तो बच जाती जान
डबल मर्डर के बाद जब सैकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो रोहटा पुलिस के देरी पर पहुंचने पर उनका सब्र जवाब दे गया। ग्रामीणों ने पुलिस को घेरकर खरीखोटी सुनाते हुए कहा कि पुलिस अगर शीशपाल की शिकायत पर गंभीर हो जाती तो उसकी जान बच सकती थी। कुख्यात मोनू लगातार शीशपाल के परिवार को धमकी दे रहा था कि अगर रंगदारी नहीं दी तो वह उनको मार देगा। वारदात के करीब ढाई घंटे बाद एसएसपी मौका-ए-वारदात पर पहुंचे तो ग्रामीणों ने उनसे रोहटा पुलिस की शिकायत की। एसएसपी ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि तीन दिन में मोनू जाट को गिरफ्तार कर लेंगे। उसके बाद ही ग्रामीण शांत हुए।

पहले पति अब सास-ससुर का साथ छूटा

शीशपाल और संतोष की दिनदहाड़े हत्या से परिवार पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है। तीन साल पहले पति खोने वाली सीमा का सास-ससुर से भी साथ छूट गया। पोता-पोती रोते हुए बोले कि अब हमारी परवरिश कैसे होगी। परिवार में कोहराम मचा है तो गांव में मातम छाया हुआ है। ग्रामीणों ने पुलिस के प्रति आक्रोश जताते हुए बाजार बंद रखा।

तीन साल पहले शीशपाल का परिवार खुशी से जीवन काट रहा था। शीशपाल खेतीबाड़ी करता था तो उसका इकलौता बेटे कपिल मोदी शहर में मेट्रो प्लाजा में शेयर ब्रोकर का ऑफिस चलाता था। तीन साल पहले अचानक कपिल को ब्रेन हेमरेज हुआ और उसकी मौत हो गई। कपिल के परिवार में पत्नी सीमा के अलावा नौ साल का बेटा मानव उर्फ मानू और छह साल की बेटी सीमोन हैं।
बेटे की मौत के बाद परिवार पर संकट पैदा हुआ। लेकिन शीशपाल और संतोष ने परिवार को टूटने नहीं दिया। कलेजे पर पत्थर रखकर अपनी पुत्रवधू और पोता-पोती की परवरिश में जुट गए। परिवार इस दु:ख से कुछ बाहर निकला ही था कि बृहस्पतिवार को फिर इस परिवार पर कहर टूट गया। कुख्यात मोनू जाट ने रंगदारी न देने पर असहाय दंपति की गोली मारकर हत्या कर दी। चर्चा यह भी है कि कुख्यात मोनू के चचेरे भाई ने कपिल के शेयर ब्रोकर में दस लाख रुपये लगाए थे, जिसको मोनू मांगता था। दंपति कहता था कि कपिल के साथ उसके पैसे भी चले गए।सीमा के सामने बड़ी चुनौती
पहले पति और अब सास ससुर की मौत के बाद मासूम बच्चों की परवरिश करना सीमा के लिए बड़ी चुनौती बन गई है। उसका रो रोकर बुरा हाल है। परिवार के लोग सीमा को ढांढस बंधाने में लगे हैं। लेकिन वह कभी पति तो कभी सास-ससुरा को याद कर बेहोश हो जाती है। रोती हुई कहती कि अब वह किसके सहारे जिंदगी कटेगी। कौन देखेगा उसके मासूम बच्चों को।

मम्मी! हमें कौन ले जाएगा स्कूल
मानव कक्षा तीन और सीमोन कक्षा एक में पढ़ती है। रोजाना उनकी दादी संतोष ही स्कूल लेकर जाती और वही उन्हें लेकर आती थी। दादा शीशपाल भी बच्चों को बहुत प्यार करते थे। दादा-दादी की मौत का पता चला तो दोनों बच्चे अपनी मम्मी से पूछ रहे हैं कि अब कौन उनको स्कूल लेकर जाएगा। यह सुनकर मां सीमा ही नहीं, बल्कि परिवार के अन्य लोग भी आंसू नहीं रोक पाए। इन मासूम और बेबस बच्चों को कोई जवाब नहीं दे पाया।

पहले पति और फिर पत्नी को मारा
पुलिस के मुताबिक चश्मदीद कंवरपाल सिंह ने बताया कि उसका भाई शीशपाल बुग्गी पर बैठा था। वह कई दिनों से बीमार चल रहे थे। शीशपाल की पत्नी संतोष चारा काट रही थी। मोनू व उसके साथियों ने पहले शीशपाल फिर संतोष को गोली मारी। गोलियां बरसाने के बाद देखा भी कि कहीं दंपति जिंदा तो नहीं बच गया। शीशपाल की सांस चलती देख मोनू ने उसके सिर से सटाकर एक ओर गोली मारी। संतोष के सिर पर भी गोली लगी है।

दोहरे हत्याकांड के बाद बाजार बंद
शीशपाल और संतोष की हत्या की खबर फैली तो गांव का बाजार बंद होता चला गया। बदमाशों की दहशत के चलते देखते ही देखते कुछ ही समय में बाजार में सन्नाटा पसर गया और गांव की गलियां सुनसान हो गईं।

चार लोगों को पहले मार चुका मोनू
मोनू और भरतू नाई का रोहटा इलाके में गैंग बना हुआ है। भरतू नाई फिलहाल जेल में है। मोनू लोगों से रंगदारी मांगता है। विरोध करने पर हत्या कर देता है। दंपति के अलावा पहले भी रंगदारी न देने पर मोनू चार लोगों की हत्या कर चुका है। ग्रामीणों की शिकायत के बाद पुलिस गंभीर नहीं है। पुलिस जानकारी के बावजूद भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है।

रंगदारी न देने पर कुख्यात ने दंपति को गोलियों से भूना

रोहटा गांव में बृहस्पतिवार सुबह डबल मर्डर से सनसनी फैल गई। कुख्यात मोनू जाट ने दो लाख रुपये की रंगदारी न देने पर दंपति को गोलियों से भून डाला। सूचना मिलने के एक घंटा बाद पुलिस पहुंची तो ग्रामीणों ने जमकर हंगामा काटा। एसएसपी ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को शांत किया। तभी शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए।

रोहटा गांव निवासी शीशपाल (58) पुत्र चतर सिंह किसान था। तीन साल पहले शीशपाल के इकलौते बेटे कपिल की बीमारी के चलते मौत हो गई थी। शीशपाल के कंधों पर विधवा पुत्रवधू सीमा व पोते-पोती की जिम्मेदारी थी। शीशपाल से कुख्यात अमित उर्फ मोनू जाट ने दो लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी। उसने यह शिकायत रोहटा थाने में की थी। लेकिन पुलिस ने इस पर कोई ध्यान नहीं दिया।
बृहस्पतिवार सुबह 8:30 बजे शीशपाल पत्नी संतोष (55) के साथ खेत पर चारा लेने गया था। शीशपाल का भाई कंवरपाल सिंह भी साथ था। दंपति चारा काटने लगा तो कंवरपाल अपना ईख का खेत देखने लगा। तभी कुख्यात मोनू अपने दो साथियों के साथ दंपति के पास पहुंचा। बदमाशों ने रंगदारी न देने पर शीशपाल पर गोलियां बरसा दीं। यह देख संतोष बदमाशों पर टूटी तो बदमाशों ने उसे भी गोलियों से भून दिया। शीशपाल को पांच गोलियां मारी गईं। दंपति ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। गोलियों की आवाज सुन कंवरपाल वहां पहुंचा तो बदमाशों ने उस पर भी गोलियां चला दीं। हालांकि कंवरपाल बाल-बाल बच गया।पुलिस को जमकर सुनाई खरीखोटी
दंपति की हत्या की जानकारी लगते ही ग्रामीण मौके पर पहुंच गए। एक घंटे बाद रोहटा थाने की पुलिस पहुंची। ग्रामीणों ने पुलिस को जमकर खरीखोटी सुनाई। ग्रामीणों का आरोप है कि रोहटा पुलिस अगर शीशपाल की शिकायत पर गंभीर हो जाती तो उसकी जान बच सकती थी। कुख्यात मोनू लगातार शीशपाल के परिवार को धमकी दे रहा था कि अगर रंगदारी नहीं दी तो वह उनको मार देगा।

एसएसपी पहुंचे तो उठे शव
ग्रामीणों के आक्रोश को देखकर पुलिस की हिम्मत शवों का पंचनामा भरने और पोस्टमार्टम के लिए भेजने की नहीं हुई। डबल मर्डर और हंगामे की सूचना पर जानी, सरूरपुर, कंकरखेड़ा, समेत कई थानों की पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी। करीब 11 बजे एसएसपी जे. रविंदर गौड़ मौके पर पहुंचे। एसएसपी ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि तीन दिन में आरोपी मोनू जाट को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। तभी ग्रामीण शांत हुए और शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए। कंवरपाल की तहरीर पर मोनू जाट और उसके साथियों पर केस दर्ज हुआ। तहरीर में मोनू के अलावा शिव कुमार पुत्र ब्रह्म सिंह, पवन पुत्र राजवीर, यशपाल पुत्र धर्मवीर, रतन पुत्र बारू को हत्या का षड्यंत्र रचने में नामजद किया गया है।


Warning: Illegal string offset 'update_browscap' in /home/meeruefh/public_html/wp-content/plugins/wp-statistics/includes/classes/statistics.class.php on line 157