Category Archives: About Meerut

St. Xavier World School : Meerut, Ghaziabad, Sardhana & Meerapur

25 Questions before selecting your  Child’s school

The second most important decision you will make as a parent — apart from deciding to have the kid in the first place — is deciding which school for them to enroll in. Make the right decision and you could put them on a path toward lifelong learning, a prestigious college education and a successful career. Choose wrong, and well, you know.

It can be challenging to know the right questions to ask while evaluating your school options. In order to make the process easier, we’ve created this list of 25 essential questions that will help you acquire the information you need to make an educated decision about the best fit for your child. We encourage you to print a copy of this guide for each school on your list and answer all 25 questions. Good luck with your school search!

Question 1. What is positioning of school?

For Example: Is school known for Stimulating Academic Environment, Strong infrastructural support for Sports, Vibrant Extra Curricular activities to enable holistic development.

Question 2.  How is school suited for the kind of personality of your child?

For Example: Kids have different personalities such as moderate, dominant, reserved etc. Is he/she academically brilliant, outstanding in sports or an average performer with a clear objective about his career path.

Question 3. What is the School Fee ? What does the tuition include? On top of tuition fees, what fees or additional charges can I expect during the year?

Question 4.  How does the school meet individual students’ academic requirements? How does school assesses performance of the students?

For Example: Quality Teachers, Instructors, Coaches to enable No Tuition policy, Remedial Classes, Smart classes, students in a class must not be more than 35 .

Question 5. How does the schools’ daily schedule support learning?

or example:  Basic principles of Morning Assembly, Alternative to homework, Olympiad / NTSE Preparation , 21 century learning classrooms, Science Labs, Play way environment for KG students etc.

Question 6. What Pedagogy – Teaching Methodology  is followed  by school to enable development of vision of the students.

For example: In Pre-Primary level – strong academics environment constituting of the following: Personal, social and emotional development; Communication, language and literacy; Problem solving, reasoning and numeracy; Physical development; Creative development; Knowledge and understanding of the world

For Primary Level Stimulating Environment to enable following:

Developing Mathematical and Scientific knowledge & skills; Developing an effective and imaginative use of language through English Labs; Advanced computer labs for improving academic ability

For Middle Years following set of objectives to be considered:

Gaining practical knowledge in the science lab; Engaged minds in the Library; Model Class Presentations help promote talents and instil confidence; Voicing their thoughts over social issues during assemblies; Promoting confidence through joyful activities

xseed-original-images

Question 7. Does school have strong infrastructural set up to promote over all development?

For Example: Library, 21st century classrooms, computer labs,  Sports fields like Indoor Badminton, Cricket stadium, Lawn tennis court, Basket ball courts, TT Tables, Indoor Volley ball court, Swimming pool, Martial arts, Shooting arena, Football Ground etc.

( Link to pics of 21 century classrooms )

Question 8. How will I know how my child is doing in school?

For Example: Principals and teachers accessibility ( Meet principal twice before admission and see that the principal is accessible .

Question 9. Does school provide professional educational counselling support to your ward?

For Example: Educational Counsellors accessibility (Meet Counsellor  before admission and check the professional counselling support?)

Question 10. How strong is school is sports facilities ?

For Example: Sports fields like Indoor Badminton, Cricket stadium, Lawn tennis court, Basket ball courts, TT Tables, Indoor Volley ball court, Swimming pool, Martial arts, Shooting arena, Football Ground etc.

Link to school sports facilities  / Ad Astra sports academy website )

Question 11. Is school upto  class  XIIth?

For Example: Will this one time decision help your child to find his future journey and career path after completing his school education?

Question 12. Does school has school calendar with rich Inter school and intra school competitions ?

( Link to example school calendar )

Question 13. Does school has Facebook page and a website where daily events are updated for parents  to review the participation and performance of their child?

Question 14. In which grades do sports begin at the school?

For Example:  Kindergarten with sports curriculum,

Question 15. Quality of Boarding facility at school?

For Example: How does school shape and support the hostel students to meet their career objectives? What are the qualities of wardens, food, evening preparatory classes at boarding facility? Does school creates a self motivated learner ?

Question 16. How are alumni of school placed after passing out from school?

Question 17. Does School has senior division of NCC program ?

Question 18. Does school has facility and teachers for differently abled students ?

( Pics and percentage of Ayush and Piyush )

Question 19.  Is  mission of the school well defined

For example : School mission is to develop young men with active and creative minds, a sense of understanding and compassion for others, and the courage to act on their beliefs. We stress the total development of each child: spiritual, moral, intellectual, social, emotional, and physical. Every student must identify with his/her learning curve to find the right career path.

Question 20. Is  Vision of the school clear and foresighted?

For example: School vision is to give the society, citizens with high moral values.To do our part for the progress of our country, we strive to give to our nation the following good professionals by year 2025.

15 IAS OFFICERS, 50 IIT’IANS, 50 DOCTORS, 100 DEFENSE OFFICERS, 50 CA`S

Question 21. Which schools are your first choice ?
( Link to school rank list )

Question 22.  What are your aspirations for the future of your child?

For Example: Has school adopted a wide range program to facilitate those aspirations and expectations.

Question 23. What is the student teacher ratio and students per class ?

For example : Please do not select a school with more than 1:12 student teacher ratio and never send your child to a school where number of students are more than 35 in a class.

For Example :

http://www.centerforpubliceducation.org/Main-Menu/Organizing-a-school/Class-size-and-student-achievement-At-a-glance/Class-size-and-student-achievement-Research-review.html

https://en.wikipedia.org/wiki/Student%E2%80%93teacher_ratio

Question 24. Is the school you plan to admit your ward, flexible, Relevant, Professional, Innovative,  Diverse,  has clean and well organised environment, supportive teachers and administrators, reliable support staff and efficient service providers, state of the art equipment and facilities

Question 25. Why are you choosing a particular school for your child?
For Example: Some people choose a particular  school only for society display and child gets into depression after few years as parents had not considered or pondered on the questions as listed for your reference as above.

1450770_1164187203594469_4940258430393078405_n

हालात में सुधार, पटरी पर आने में लगेगा वक्त

दृश्य एक – ईस्टर्न कचहरी रोड स्थित एनएएस कॉलेज से सटे बैंक ऑफ महाराष्ट्र में लोग दिनभर कैश के लिए परेशान हुए। दोपहर 12.05 बजे बैंक का मुख्यद्वार बंद कर भीतर ही कुछेक लोगों की कतार लगवाई गई, जबकि जरूरी काम से आए लोगों के काम अटके रहे। यहां किसी को एक तो किसी को तीन हजार रुपये तक का ही भुगतान किया गया। बैंक स्टाफ ने आरबीआइ से मामूली कैश के कारण समस्या गहराने की बात कही।
दृश्य दो – खूनी पुल स्थित यूनियन बैंक की मुख्य शाखा। यहां पासबुक एंट्री, कैश जमा करने समेत तमाम मशीनें खराब पड़ी हैं। बुधवार को प्रति व्यक्ति 5-6 हजार रुपये का भुगतान किया गया। वहीं एटीएम भी गड़बड़ी का शिकार दिखा। दोपहर 12.25 बजे तक तो एटीएम से पैसे निकले। इसके बाद तकनीकी खामी दिखाने लगा और लोग मायूस हुए।
दृश्य तीन- बाउंड्री रोड स्थित आइसीआइसीआइ बैंक में दोपहर 12.50 बजे चेक क्लियरेंस, पासबुक एंट्री के लिए लोग परेशान दिखे। यहां भी 24 हजार रुपये लेने आने वाले लोगों को 6-8 हजार रुपये ही दिए गए, जबकि बैंक के एटीएम के बाहर लंबी कतार लगी रही। दो-दो हजार रुपये एटीएम से निकले तो लोगों ने राहत की सांस ली।
दृश्य चार- हापुड़ अड्डा स्थित इलाहाबाद बैंक के बाहर सुबह से लोगों की कतार के कारण बाहर जाम लगा रहा। दोपहर 1.25 बजे पुलिस ने कतार ठीक से लगवाकर स्थिति सुधारी। यहां कैश की किल्लत बरकरार रही। नो-कैश के नोटिस के कारण लोगों ने हंगामा किया तो मेन गेट बंद करना पड़ा। यहां पासबुक एंट्री, चेक क्लियरेंस समेत तमाम काम के लिए लोग परेशान दिखे।
दृश्य पांच- रुड़की रोड स्थित एसबीआइ शाखा के बाहर दोपहर 1.50 बजे आम लोगों के साथ ही पेंशनर्स व वेतनभोगी परेशान रहे। यहां बैंक के बाहर बने केबिन में कैश डिपोजिट, पासबुक प्रिंटिंग मशीन में तकनीकी खराबी के कारण लोग परेशान हुए, जबकि पासबुक पर एंट्री के लिए जरूरी बारकोड बैंक में नहीं लगाया जा रहा था। वहीं लोगों को कैश का भुगतान पांच-छह हजार रुपये किया गया।
बैंकों की मनमानी बढ़ा रही परेशानी
यूनियन बैंक खूनीपुल में पासबुक एंट्री कराने आए अशोक कुमार गर्ग की बुक में एंट्री नहीं हो सकी। उन्होंने बारकोड के साथ ही तमाम कमियां पूरी कीं, लेकिन मशीन ने प्रिंट नहीं किया। उन्होंने कहा कि बैंक में न तो कैश पूरा न मिल रहा है और न ही अन्य सेवाएं।
यूनियन बैंक खूनीपुल आए इस्लामाबाद निवासी साकिब ने कहा कि बैंक के एटीएम काम नहीं कर रहे। दोपहर 12 बजे तक तो कुछ लोगों के पैसे निकले, इसके बाद एटीएम में पैसे खत्म हो गए।
बैंक ऑफ महाराष्ट्र ईके रोड पर पहुंचे पंकज शर्मा को भुगतान नहीं मिला। उन्होंने बताया कि कुछ लोगों को कतार में लगाया गया बाद में गेट बंद कर दिया। कैश की किल्लत बताकर कुछेक लोगों को ही कैश दिया गया।
यहीं पर आए एससी शर्मा ने कहा कि दो दिन पहले बीमार परिचित को दिल्ली लेकर गए। गाड़ी का भाड़ा और अस्पताल के खर्च में ही दस हजार रुपये खर्च हो ग,। जबकि बैंक महज तीन हजार रुपये ही बैंक दे रहा है। घंटों बाद नंबर आया। बड़ी जद्दोजहद के बाद तीन हजार रुपये का भुगतान किया गया।

फिलहाल कम हुई आफत पर राहत नहीं

मेरठ : करेंसी की किल्लत के बीच बैंकों और एटीएम के बाहर लगी कतार में जरूर कमी आई है, लेकिन आमजन को परेशानियों का सामना अभी भी करना पड़ रहा है। मंगलवार को बैंकों से नकदी की निकासी हुई और एटीएम से भी नोट निकले, लेकिन बड़ी संख्या में एटीएम का शटर डाउन रहने से लोगों को परेशानी हुई। कई एटीएम से सौ-सौ के नोट निकलने से भी लोगों को राहत महसूस हुई।
नोटबंदी के निर्णय के बाद से बैंक और एटीएम के बाहर लगने वाली कतार में कमी अब दिखने लगी है। जिले में करेंसी का फ्लो बढ़ने से स्थिति में कुछ सुधार होता दिख रहा है। मंगलवार को जिले के अधिकांश बैंकों से नकदी की निकासी हुई। हालांकि बैंकों ने एक बार फिर अपने स्तर से ही निकासी की लिमिट तय कर रकम ग्राहक को दी। उधर, कचहरी स्थित सिंडिकेट बैंक में मंगलवार को फिर करेंसी कि किल्लत के कारण हंगामे के हालात बने। सोमवार की दोपहर बैंक में नकदी संकट छा गया था। जिस कारण मंगलवार रुपये निकालने पहुंचे लोगों को निराशा ही हाथ लगी। कुछ लोगों ने इसका विरोध भी जताया, लेकिन समस्या का निदान नहीं हो सका। उधर, शहरी क्षेत्र स्थित कई नए एटीएम चलने से लोगों को राहत जरूर मिली। बैंक अधिकारियों के अनुसार, नई करेंसी का फ्लो अब बाजार और बैंक में बढ़ने लगा है। एलडीएम अविनाश तांती ने बताया कि करेंसी की किल्लत में अब सुधार होने लगा है। जनवरी के प्रथम सप्ताह तक काफी कुछ बेहतर होने की उम्मीद है।
छोटे नोट आए तो बने बात
बैंकों और एटीएम से नकदी के रूप में अभी दो हजार का नोट ही मिल रहा है। कई बैंक छोटे नोट के रूप में 10, 20 और 50 रुपये ग्राहक को थमा रहे हैं। दो हजार का नोट मिलने से लोगों को अभी भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि बड़ा नोट होने के कारण उसे चलाने में परेशानी होती है।
बड़ा सवाल बने एटीएम
रकम निकासी की समस्या को बढ़ाने में सबसे बड़ा कारण शटर के पीछे छिपे एटीएम हैं। बैंक अधिकारियों के अनुसार, जिले में 391 एटीएम हैं, जिसमें से निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के करीब 200 शहरी क्षेत्र में हैं और अब 90 प्रतिशत कैलिब्रेट भी हो चुके हैं। लेकिन बैंक एटीएम में रकम डालने से परहेज कर रहे हैं। जिस कारण सिर्फ 20 प्रतिशत एटीएम ही चालू स्थिति में हैं। अधिकांश एटीएम का शटर डाउन होने से छोटी जरूरतों के लिए भी भीड़ बैंकों में पहुंच रही है।

आइटी पार्क में अफसरों पर पथराव, गाड़ियों के शीशे तोड़े –

मेरठ : वेदव्यासपुरी में आइटी पार्क की जमीन में निर्माण करने के लिए मंगलवार को आए अफसरों-कर्मचारियों तथा मजदूरों पर किसानों ने पथराव कर दिया। टीम जेसीबी और निर्माण सामग्री लेकर भारत सरकार लिखी गाड़ियों में वहां पहुंची थी। किसानों के पथराव में जेसीबी तथा गाड़ियों के शीशे टूट गए
गंगानगर, लोहियानगर तथा वेदव्यासपुरी के किसान शताब्दीनगर के बराबर बढ़े मुआवजे की मांग कर रहे हैं। एमडीए से उनका समझौता हो चुका है, लेकिन किसानों को भुगतान का इंतजार है। मुआवजा मिलने तक वेदव्यासपुरी में किसानों ने एमडीए के सभी निर्माण कार्य रोक रखे हैं। आइटी पार्क के लिए एमडीए ने अनुबंध होने के बाद नवंबर में ही केंद्र सरकार की एजेंसी एसटीपीआइ (सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ इंडिया) को ढाई एकड़ जमीन हैंडओवर की है। मंगलवार को इस जमीन पर भारत सरकार लिखी गाड़ियों में अधिकारी और कर्मचारी पहुंचे। उनके साथ जेसीबी तथा निर्माण सामग्री से लदे ट्रक भी थे। टीम ने मौके पर पहुंचकर जैसे ही जमीन सफाई का कार्य शुरू किया वैसे ही दो सौ से ज्यादा किसान वहां पहुंच गए। किसानों ने काम कर रही टीम पर पथराव शुरू कर दिया। जिससे भगदड़ मच गई। अधिकारी कर्मचारी तथा मजदूर गाड़ियों में बैठकर भागने लगे तो किसानों ने वाहनों के शीशे भी तोड़ डाले। नारेबाजी की तथा आइटी पार्क के बोर्ड को भी तोड़ने का प्रयास किया।
किसान नेता अनिल कुमार, सुभाष गुर्जर आदि ने कहा कि जब तक किसानों को भुगतान नहीं होगा तब तक कोई भी काम नहीं होने दिया जाएगा। हंगामा करने वालों में मंगत, सतबीर चौधरी, सुरेंद्र चौधरी, धमेंद्र गुर्जर, तेजपाल चौधरी आदि शामिल रहे।
—-
किसी को नहीं पता कौन पिटा?
आइटी पार्क में किस विभाग के अधिकारी गए थे? यह किसी को नहीं पता। एमडीए के मुख्य अभियंता शबीह हैदर ने घटना की जानकारी से इंकार किया। एक्सईएन एपी सिंह ने बताया कि एसटीपीआइ को जमीन हैंडओवर की जा चुकी है। उसी एजेंसी के लोग काम करने गए होंगे। वहीं एसटीपीआइ अफसरों ने फोन पर बताया कि जमीन तो हैंडओवर हो गई है लेकिन अभी ड्राइंग फाइनल नहीं है। ड्राइंग एप्रूव होने के बाद निर्माण कार्य का टेंडर किया जाएगा। उसके बाद ही हमारा काम शुरू होगा।
इन्होंने कहा…
वेदव्यासपुरी आइटी पार्क में पथराव की सूचना पुलिस को नहीं है। घटना के शिकार होने वाले किसी भी अधिकारी-कर्मचारी ने थाने में आकर अथवा फोन पर ऐसी किसी घटना की सूचना नहीं दी है।

दुश्मनी सबसे थी तो किन्नर ही निशाने पर क्यों रहा

मेरठ: साकेत जेलचुंगी रोड पर सोमवार शाम को हुई किन्नर शमशाद उर्फ सोनाली की हत्या में भले ही छह युवकों को नामजद किया गया है, लेकिन क्राइम सीन ने पूरे मामले को उलझाकर रख दिया है। अगर ये हत्या गैंगवार में हुई तो बड़ा सवाल ये है कि हमलावरों ने सिर्फ किन्नर को ही निशाना क्यों बनाया, जबकि असल दुश्मनी तो उनकी कार में किन्नर के साथ बैठे तीन युवकों से भी थी। ऐसे में पूरे मामले के पीछे बड़ी साजिश नजर आ रही है। जेल में बंद सलमान की प्रेमिका को भी पुलिस शक के घेरे में लेकर चल रही है।
सोतीगंज के बिलाल हत्याकांड में जेल में बंद सलमान से मिलाई करने के बाद लौटते वक्त साकेत में किडनी अस्पताल के पास हमलावरों ने सोमवार को किन्नर शमशाद उर्फ सोनाली की गोलियां बरसाकर हत्या कर दी थी। पैर में गोली लगने से गाड़ी चला रहा शादाब उर्फ भूरा और किन्नर के बगल में बैठा सलमान का चचेरा भाई राशिद भी घायल हो गया था। इस मामले में राशिद की तरफ से दी गई तहरीर में हत्या की वजह कोतवाली के इस्माइल नगर निवासी फईक और सलमान के बीच पुरानी रंजिश को बताया गया, लेकिन मंगलवार को पूरा क्राइम सीन सामने आने के बाद मामला उलझ गया। पता चला है कि हमलावरों का टारगेट सिर्फ सोनाली उर्फ शमशाद था, जबकि शमशाद सिर्फ सलमान को पैसों के मामले में मदद कर रहा था। उसके साथ मौजूद अन्य तीन युवक तो सलमान के बेहद नजदीक थे। राशिद उसका चचेरा भाई ही है। अगर गैंगवार का मामला होता तो हमलावर उन्हें भी निशाना बनाते, लेकिन ऐसा हुआ नहीं। सलमान के चचेरे भाई राशिद को भी सीने पर जो गोली लगी वो पिस्टल छीना झपटी के दौरान लगी है। वहीं, गाड़ी चला रहे शादाब को पैर में गोली भी बाहर से लगी। एक गोली गाड़ी में पीछे से डिग्गी को भेदते हुए सोनाली को लगी। सिविल लाइन इंस्पेक्टर को दिए बयान में राशिद ने बताया कि उसे जो गोली सीने पर लगते हुए साइड से निकली वो पिस्टल की छीना-झपटी में लगी। शादाब को भी निशाना बनाकर गोली नहीं मारी गई। उसे बाहर चली वो गोली लगी है, जिसकी बुलेट ड्राइवर साइड की खिड़की को पार करके निकली। पुलिस इसकी भी जांच कर रही है कि कहीं एक तीर से दो निशाने तो नहीं साधे गए। सभी नामजद भी अपराधिक छवि के हैं। पुलिस का कहना है कि जांच में दूसरी बातें भी शामिल की जा रही हैं।
सलमान की प्रेमिका भी रखती थी रंजिश
किन्नर सोनाली से सलमान की प्रेमिका भी नफरत करती थी। उसे सलमान का सोनाली से मिलना पसंद नहीं था। सूत्रों के मुताबिक, इसे लेकर दोनों में कई बार विवाद हो चुका था। पुलिस इस बिंदु पर भी काम कर रही है।
एक हत्यारोपी मोहसिन गिरफ्तार
सिविल लाइन पुलिस ने सोमवार आधी रात में ही हत्या में नामजद कराए गए कोतवाली के मोहसिन को गिरफ्तार कर लिया। थाने में मोहसिन ने बताया कि वो तो अपने घर में सो रहा था। उसका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। बता दें कि मोहसिन मॉडल शॉप पर हुई सेल्समैन की हत्या में जेल में बंद जोनचीना का भाई है।
24 घंटे बीतने पर भी कार की नहीं हुई फोरेंसिक जांच
सोनाली उर्फ शमशाद की हत्या को हुए 24 घंटे बीतने के बाद भी सिविल लाइन थाने में खड़ी कार की फोरेंसिक जांच नहीं कराई गई। इंस्पेक्टर ने मंगलवार शाम को गाड़ी को खोलकर देखा तो उसमें एक बुलेट भी मिली। गाड़ी का एक शीशा दारोगा ने खोलकर ऐसे ही छोड़ा हुआ था। पुलिस ने वारदात के समय गाड़ी में मौजूद हाशिम से भी मंगलवार शाम तक कोई पूछताछ नहीं की।
छह नामजद समेत आठ के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज
शमशाद उर्फ सोनाली की हत्या में उसके साथी आनंद अस्पताल में गोली लगने से भर्ती घायल राशिद ने फईक उसके भाई शारिक निवासी इस्माइल नगर, मोहसिन निवासी कोतवाली, छोटा, कासिफ उर्फ चीता निवासी जाकिर कालोनी और कामरान निवासी सोतीगंज को नामजद व दो अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। हत्या की वजह फईक और सलमान की पुरानी रंजिश बताई गई है।
पोस्टमार्टम हाउस पर हंगामा
पोस्टमार्टम हाउस पर मंगलवार को किन्नर सोनाली के साथियों ने जल्दी पोस्टमार्टम कराने को लेकर हंगामा किया। मेडिकल थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचे और डॉक्टरों से बात की तो उन्हें बताया गया कि पोस्टमार्टम के दौरान एक बुलेट मिल नहीं रही है। डॉक्टरों ने एक्सरे कराने की बात कही तो थानाध्यक्ष ने सोनाली के साथियों को समझाया कि एक्सरे की वजह से देरी हो रही है। पोस्टमार्टम के बाद शमशाद के भाई को उसका शव सुपुर्द कर दिया गया। उसके साथी हत्यारोपियों को फांसी की सजा देने की मांग करते रहे।
इन्होंने कहा
एक हत्यारोपी मोहसिन को गिरफ्तार कर लिया गया है। आठ युवकों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। पुलिस मामले में जांच कर रही है।

अब सरकारी अस्पतालों में डायलिसिस कराने के लिए मरीजों को नहीं करना पड़ेगा इंतजार

सरकारी अस्पतालों में डायलिसिस कराने के लिए मरीजों को अब लंबी वेटिंग का इंतजार नहीं करना पडे़गा। पंडित प्यारेलाल शर्मा जिला चिकित्सालय में जल्द ही डायलिसिस यूनिट की सुविधा व्यापक स्तर पर शुरू होने जा रही है। पीपीपी मॉडल पर आधारित इस यूनिट में 10 बेड की व्यवस्था की गई है।

इस यूनिट में बीपीएल कार्ड धारकों को डायलिसिस की सुविधा निशुल्क मिलेगी। शासन की ओर से पीपीपी मॉडल पर वाराणसी की हैरिटेज (एजेंसी) को डायलिसिस यूनिट संचालित करने का काम सौंपा गया है। एजेंसी की तरफ से 10 मशीनें जिला अस्पताल को उपलब्ध कराईं गई हैं। जिला अस्पताल में सीएमएस कार्यालय के पीछे स्थित चार मंजिला बिल्डिंग में अलग से डायलिसिस यूनिट बनाई गई है। सीएमएस डॉ. पीके बंसल का कहना है कि सभी डायलिसिस मशीनें इंस्टॉल की जा चुकी हैं। कुछ तकनीकी खामियां हैं, जिन्हें जल्द दूर किया जाएगा। इसके अतिरिक्त कई मुद्दों पर एजेंसी के लोगों के साथ वार्ता चल रही है। बुधवार को होने वाली बैठक में इन बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा होगी। एमओयू के मुताबिक सरकार ने जो भी शर्तें तय की है, उन्हीं के हिसाब से कंपनी जिला अस्पताल में सुविधा उपलब्ध कराएगी।

हर रोज 40 मरीजों की होगी डायलिसिस
इस यूनिट में 30 से 40 मरीजों की प्रतिदिन डायलिसिस की जाएगी। जिला अस्पताल के वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि नई यूनिट में हीमो और पेरिटोनियम डायलिसिस की सुविधा भी मिलेगी। कुछ मरीजों को हीमो डायलिसिस की जरूरत होती है तो कुछ को पेरिटोनियम की। बेहद कम या अधिक आयु वर्ग के ऐसे मरीज जिन्हें हृदय संबंधी समस्या होती है, उन्हें पेरिटोनियम डायलिसिस दिया जाता है।

पीपीपी मॉडल से सुधरेंगे हालात
जिला अस्पताल में पहले से ही डायलिसिस की तीन मशीनें संचालित हैं, लेकिन उनका मेंटिनेंस खर्च काफी ज्यादा होने और नेफ्रोलॉजिस्ट की उपलब्धता नहीं होने के कारण मशीनों का संचालन ठीक से नहीं हो सकता है। आलम यह है कि तीन मशीनें होने के बाद भी एक महीने में 20 से 25 लोगों का डायलिसिस हो पाता था। मशीन खराब होने पर उन्हें ठीक होने में भी महीनों लग जाते थे, लेकिन पीपीपी मॉडल से अब यह सुविधा बेहतर तरीके से चलने की उम्मीद है।

शपथ भारद्वाज ने 14 साल की उम्र में रच दिया इतिहास, अब सीनियर टीम में खेलेंगे

डबल ट्रैप शूटर शपथ भारद्वाज ने 14 साल की उम्र में इतिहास रच दिया। उन्होंने नेशनल की सीनियर टीम के लिए क्वालीफाई किया है। ऐसा करने वाले वह देश के सबसे कम उम्र के शूटर हैं। हाल में हुई एशियाई चैंपियनशिप के पदक विजेता अंकुर मित्तल और संग्राम सिंह दहिया टीम के अन्य सदस्य होंगे। शपथ दिल्ली, मैक्सिको और साइप्रस में होने वाले वर्ल्ड कप मैचों में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे।

नवंबर में जयपुर में हुई 60वीं नेशनल शूटिंग चैंपियनशिप में शानदार प्रदर्शन कर शपथ ने 136/150 का स्कोर बनाकर जूनियर वर्ग में द्वितीय और सीनियर वर्ग में तृतीय रैंक हासिल की थी। पंजाब के पटियाला शहर में 18 से 24 दिसंबर तक वर्ल्ड कप के लिये बनने वाली सीनियर नेशनल टीम के लिये सलेक्शन ट्रायल हुआ। शपथ भारद्वाज ने देश के अंतरराष्ट्रीय शूटरों के साथ खेलते हुए पहले ट्रायल में 122/150 का स्कोर किया। दूसरे ट्रायल में जबरदस्त वापसी करते हुए 136/150 का स्कोर कर दूसरा स्थान पक्का किया। वह अपनी सफलता का श्रेय कोच और शूटर योगिंदर पाल सिंह को देते हैं। भारतीय जूनियर टीम (डबल ट्रैप) के मुख्य कोच विक्रम चोपड़ा ने भी उन्हें बधाई दी है। सेंट मेरीज एकेडमी के प्रधानाचार्य ब्रदर बाबू वर्गीज और शिक्षकों ने भी बधाई दी है।

शपथ के रिकॉर्ड
फिनलैंड में मई में हुए 8वें इंटरनेशनल शॉटगन कप में खेलते हुए टीम की ओर से सर्वाधिक 128/150 का स्कोर किया। टीम ने रजत पदक जीता।
जर्मनी में अप्रैल में हुई जूनियर वर्ल्ड कप में टीम का सबसे कम उम्र का सदस्य।
केरल में अप्रैल में हुई 35वें नेशनल गेम्स में 13 वर्ष की आयु में अपने प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर रिकॉर्ड बनाया।

बस-कार की टक्कर में दो घायल

बिजली बंबा बाईपास स्थित सुपरटेक पामग्रीन के सामने मंगलवार शाम 7:30 बजे प्राइवेट बस और स्विफ्ट कार की आमने-सामने की टक्कर हो गई। इससे स्विफ्ट के परखच्चे उड़ गए। कार सवार प्रधान और उनका साथी गंभीर रुप से घायल हो गया। हादसे का कारण सड़क के किनारे खडे़ ट्रक बताए गए है। सूचना देने के 50 मिनट बाद पुलिस पहुंची। इस पर पुलिस के पहुंचने पर लोगों ने हंगामा किया।

खरखौदा थाना क्षेत्र के नरहाड़ा ग्राम प्रधान रणसिंह अपने दोस्त सतवीर निवासी गगोलपुर के साथ स्विफ्ट कार से लौट रहे थे। सुपरटेक पामग्रीन के सामने सड़कों पर ट्रक और टैंकर खडे़ थे। खरखौदा की तरफ से आती एक प्राइवेट बस ने स्विफ्ट में टक्कर मार दी। हादसे की जानकारी लगते ही सुपरटेक पामग्रीन पर तैनात गार्ड और वहां से गुजरते लोगों ने स्विफ्ट की खिड़की तोड़कर घायल रणसिंह और सतवीर को निकाला। इस दौरान चालक छोड़कर फरार हो गया। मौके पर पहुंचे सुपरटेक के लोगों ने यूपी-100 को इसकी सूचना दी। काफी देर तक पुलिस नहीं पहुंची। लोगों ने एक कार से दोनो घायलों को बागपत रोड पर केएमसी हॉस्पिटल में भर्ती कराया। जहां से दोनों को आनंद हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। करीब 50 मिनट बाद इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी मौके पर पहुंचे तो लोगों ने हंगामा किया। हालांकि हॉस्पिटल में दोनों की हालत ठीक बताई गई है। प्रधान ने बताया कि स्विफ्ट कार सतवीर चला रहे थे।

खड़े ट्रक से बने हादसे की वजह
लोगों ने बताया कि सड़क के किनारे खडे़ ट्रक और टैंकर हादसे की वजह बन रहे है। बस-स्विफ्ट का भी हादसा भी इस वजह से हुआ है। बस ड्राइवर को सड़क के किनारे खड़े ट्रक नहीं दिखे और उन्होंने स्विफ्ट में टक्कर मार दी। लोगों ने सड़क के किनारे खडे़ ट्रक और टैंकर को हटवाने की मांग की।

सरकार के खिलाफ नारेबाजी
नवीन मंडी से सब्जी लेकर हापुड़ का एक फौजी गाड़ी से आया था। हादसा देखकर वह भी घटनास्थल पर रुक गया। फौजी ने कहा कि मुख्यमंत्री को यूपी 100 हटा देनी चाहिए। सूचना पर 50 मिनट देरी से पहुंचेगी, तब तक आदमी मर जाएगा। लोगों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की। इस दौरान जाम लग गया था।

ट्र्रैफिक की पहली परीक्षा में फे ल हुए होमगार्ड

ट्रैफिक पुलिस की पहली ही परीक्षा में होमगार्ड फेल हो गए। एसपी ट्रैफिक के आदेश पर मंगलवार को होमगार्डों की एक घंटे की लिखित परीक्षा कराई गई। परीक्षा के बाद सभी को यातायात नियमों की जानकारी की भी दी गई। जांच में सामने आया है कि 50 प्रतिशत होमगार्ड के पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं हैं।

जिले में ट्रैफिक पुलिस में सौ होमगार्ड तैनात हैं। मंगलवार को एसपी ट्रैफिक किरन यादव के आदेश पर पहले चरण में 45 होमगार्डों की लिखित परीक्षा कराई गई। जिसमें ट्रैफिक के नियम संबंधी 20 आसान से सवाल पूछे गये। लाल बत्ती, नीली बत्ती पर क्या करना चाहिए। इस पर भी होमगार्ड जवाब नहीं दे सके। चौराहे पर वाहनों को कैसे पार करायें इसके बारे भी नहीं बता सके। दो होमगार्ड ही बीस अंकों में से 16 अंक प्राप्त कर सके। जिसके बाद राजस्नेह मारुति ड्राइविंग स्कूल के एजीएम अश्विनी गुप्ता ने होमगार्डाें को ट्रेनिंग दी। एसपी ट्रैफिक किरन यादव और ट्रैफिक इंस्पेक्टर सुनील कुमार ने यातायात नियमों के बारे में बताया। एसपी ट्रैफिक ने बताया कि दूसरे चरण में उन होमगार्डों को ट्रेनिंग दी जाएगी जिनकी ड्यूटी रात्रि में लगी हुई है। ट्रेनिंग एक सप्ताह तक दी जाएगी। जांच में पता चला है कि ट्रैफिक में सौ होमगार्डों में से 52 के पास डीएल नहीं है। पूछने पर होमगार्डाें ने बताया कि वह बिना डीएल के वाहन चलाते हैं, उन्हें कोई रोकता नहीं है। एसपी ट्रैफिक ने कहा कि एक सप्ताह की ट्रेनिंग के बाद सभी के डीएल बनवाए जाएंगे।

रिजल्ट लटका, बीएड अभ्यर्थियों का आक्रोश भड़का

मेरठ: चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय से जुड़े बीएड कालेजों में वर्ष 2013-14 के हजारों अभ्यर्थियों का भविष्य अधर में लटका है। परीक्षा देने के बाद परिणाम की आस लगाए अभ्यर्थियों का आक्रोश भड़कने लगा है। सोमवार को विवि से जुड़े काईट कालेज में अभ्यर्थियों ने हंगामा और तोड़फोड़ की।
चौ. चरण सिंह विवि से जुड़े बीएड कालेजों में बीएड सत्र 2013-14 में बगैर काउंसिलिंग के प्रवेश लेने वाले करीब 10 हजार छात्र-छात्राओं का रिजल्ट अटका हुआ है। हाईकोर्ट से रिजल्ट को लेकर रोक होने की वजह से विवि रिजल्ट घोषित नहीं कर रहा है। इसी से परेशान काईट के छात्र छात्राओं का सब्र जवाब दे गया तो उन्होंने सोमवार को कालेज में पहुंचकर तोड़फोड़ की, दिल्ली रोड स्थित कालेज में उन्होंने रिजल्ट घोषित करने को लेकर हंगामा किया, कालेज में रखे गमले और शीशे तोड़ दिए। कालेज प्रशासन से उनकी तीखी बहस हुई, मामला मारपीट तक पहुंच गया, हालांकि मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थिति को संभाला। बीएड के अभ्यर्थियों ने कालेज प्रशासन के खिलाफ थाने में तहरीर दी, जिसमें उन्होंने कालेज पर बदतमीजी करने और रिजल्ट रोकने का आरोप लगाया। इस दौरान मनीष, मोनिका, हिना, साक्षी, सुनीता, शिखा, पिंकी, आशा, कविता, सुमन आदि छात्र-छात्राएं रहे।
हमारे साथ धोखा हुआ
कालेज की छात्रा रचना सहित अन्य अभ्यर्थियों का कहना था कि बीएड सत्र 2013-14 की परीक्षा होने के बाद भी उनका रिजल्ट नहीं निकल रहा है, इस समय राजकीय कालेजों में एलटी की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकला है, परिणाम न आने से उनका भविष्य अधर में हैं। कालेज में रिजल्ट के विषय में पूछने पर बदतमीजी की जाती है। कालेज से लेकर विवि का चक्कर काटने के बाद भी परिणाम नहीं निकल रहा है। उनके साथ धोखा हुआ है।
कालेज का कोई दोष नहीं
काईट के डायरेक्टर मुनीश सब्बरवाल का कहना है कि छात्रों को समझाने की कोशिश की, लेकिन छात्रों के साथ आए बाहरी छात्रों ने तोड़फोड़ की। परिणाम घोषित करने की जिम्मेदारी विवि की है। हाईकोर्ट से परिणाम पर स्टे होने की वजह से रिजल्ट नहीं निकल पा रहा है, उम्मीद है कि छात्र हित में विवि रिजल्ट घोषित करेगा।
विवि भी हाथ पर हाथ धरे बैठा
चौ. चरण सिंह विश्वविद्यालय से जुड़े बीएड कालेजों में सत्र 2013-14 में करीब दस हजार छात्र छात्राएं हैं, जिन्होंने बीएड की संयुक्त प्रवेश परीक्षा के बाद ओपन मेरिट में बगैर काउंसिलिंग कराए प्रवेश लिया। शासन के आदेश पर प्रवेश लेने के बाद विवि ने उनकी परीक्षा करा ली, और आज तक रिजल्ट नहीं घोषित हुआ है। हाईकोर्ट से परिणाम पर स्टे है। लेकिन विश्वविद्यालय इसकी पैरवी नहीं कर रहा है। विवि शासन के पास आज तक प्रस्ताव भी नहीं भेज पाया है।


Warning: Illegal string offset 'update_browscap' in /home/meeruefh/public_html/wp-content/plugins/wp-statistics/includes/classes/statistics.class.php on line 157