Category Archives: Lucknow

अतुल प्रधान का बड़ा बयान, कहा- लखनऊ में बैठे चाचा शिवपाल को हैसियत…

mr

संत चार्ल्स इंटर कॉलेज के मैदान में शनिवार को सपा नेता अतुल प्रधान ने जनसभा का आयोजन किया। सभा में उमड़ी भीड़ से गदगद अतुल ने भाजपा, बसपा और कांग्रेस पर जमकर भड़ास निकाली। बिना किसी का नाम लिए उन्होंने कहा कि लखनऊ में बैठे चाचा इस भीड़ को देख लें। उन्हें हैसियत का अंदाजा लग जाएगा।

दादरी मार्ग पर शुक्रवार को सड़क के लोकार्पण को लेकर अतुल प्रधान और सरधना विधायक संगीत सोम के समर्थकों में टकराव के हालात पैदा हो गए थे। ऐसे में जनसभा स्थल के आसपास भारी पुलिस बल तैनात रहा। पूर्वाह्न 11 शुरू होने वाली जनसभा में अतुल प्रधान, जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा प्रधान के साथ करीब दो बजे पहुुंचे। इस दौरान सभा स्थल समर्थकों से भर चुका था। पहले सीमा प्रधान ने अतुल द्वारा सपा के लिए की गई मेहनत मशक्कत का बखान किया। उन्होंने टिकट कटने के बाद उत्पन्न हालात में जनता से अतुल के लिए समर्थन मांगा। वहीं, अतुल ने जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि यह भीड़ बता रही है कि उनमें और किसी चिंटू मिंटू, पिंटू की हैसियत में कितना फर्क है। उन्होंने बसपा प्रत्याशी इमरान कुरैशी पर तंज कसे तो विधायक संगीत सोम के प्रति अमर्यादित शब्दों का प्रयोग किया। पुलिस-प्रशासन और संगीत सोम को खुली चुुनौती दी। कहा कि विधायक समर्थकों द्वारा लगाये शिलापट को हटवा दिया जाए, वरना वह खुद हटवाने में सक्षम हैं।

शिलापट को रखा सुरक्षा घेरे में
पुलिस विधायक संगीत सोम समर्थकों द्वारा लगाए गए शिलापट को सुरक्षा घेरे में लिये रही। इस दौरान जिला पंचायत की तरफ से प्रस्तावित विकास कार्यों का लोकार्पण जिला पंचायत अध्यक्ष सीमा प्रधान ने फीता काटकर किया। इनमें दादरी मार्ग और ग्राम दादरी में प्रस्तावित कन्या डिग्री कॉलेज शामिल रहे। जनसभा सकुशल संपन्न होने पर ही प्रशासन और पुलिस अधिकारियों ने राहत की सांस ली। दरअसल, शुक्रवार रात हुई घटना को लेकर पुलिस-प्रशासन सतर्क रहा। एसडीएम, एसपी देेहात, सीओ और इंस्पेक्टर से लेकर अन्य आला अधिकारी मौके पर मौजूद रहे। इस दौरान हालात बिगड़ने की आशंका के चलते भारी फोर्स तैनात रहा। खुफिया विभाग के अधिकारी भी चौकस रहे। वे समय-समय पर लखनऊ में बैठे आला अधिकारियों को जानकारी देते रहे। सीओ सरधना सीपी सिंह का कहना है कि पुलिस-प्रशासन ने अपनी तरफ से पूरी चौकसी बरती। इससे सब कुछ सामान्य रहा।

सारा हत्याकांड के अारोपी अमनमणि को सीबीआइ ने दिल्ली में किया गिरफ्तार

सारा हत्याकांड के अारोपी अमनमणि को सीबीआइ ने दिल्ली में किया गिरफ्तार
पत्नी सारा की हत्या के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी को सीबीआइ ने दिल्ली में शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। अमनमणि पूर्व मंत्री व मधुमिता हत्याकांड में जेल में बंद अमरमणि त्रिपाठी का पुत्र

लखनऊ (जेेएनएन)। पत्नी सारा की हत्या के आरोपी अमनमणि त्रिपाठी को सीबीआइ ने दिल्ली में शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। अमनमणि पूर्व मंत्री व मधुमिता हत्याकांड में जेल में बंद अमरमणि त्रिपाठी का पुत्र है। वह महाराजगंज के नौतनवां विधान सभा से सपा प्रत्याशी भी है। गौरतलब है कि नौ जुलाई, 2015 को अमनमणि त्रिपाठी की पत्नी सारा की फिरोजाबाद में रहस्यमय हालात में मौत हो गई थी। सारा व अमन कार से दिल्ली जा रहे थे, उसी दौरान वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गई थी। इसमें सारा ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था, जबकि अमन को खरोच भी नहीं आई थी।

सारा की मौत के बाद मां सीमा सिंह ने अमनमणि, अमरमणि, मधुमणि व अन्य के खिलाफ हत्या समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था। साथ ही कुछ अनसुलझे तथ्यों की उच्चस्तरीय जांच की मांग की थी। राज्यपाल राम नाईक ने पत्र लिखकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखा था, जिसके बाद सीबीआइ को जांच सौंप दिया गया था। पिछले एक वर्ष से ज्यादा समय से न्याय की लड़ाई लड़ रहीं सीमा ने राहत की सांस ली है। सीमा ने दैनिक जागरण से बातचीत में कहा कि अमनमणि की गिरफ्तारी न्याय की जीत है। उन्होंने सपा सरकार को हत्यारोपियों को टिकट न देने की नसीहत भी दी। सीमा ने कहा कि बेटी के हत्यारे की गिरफ्तारी से मुझे खुशी है। सपा को अपराधियों को टिकट देने से बचना चाहिए।

सपा काटेगी अमनमणि का टिकट

पत्नी सारा सिंह की हत्या के इल्जाम में अमनमणि त्रिपाठी की गिरफ्तारी के बाद समाजवादी पार्टी पर उनका टिकट काटने का नैतिक दबाव बढ़ गया है। सूत्रों का कहना है कि परिस्थितियों का आकलन करने के बाद उनके टिकट पर सपा फैसला करेगी। दरअसल, 4 अक्टूबर को समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव ने जिन नौ सीटों के लिए प्रत्याशी घोषित किये थे, उनमें एनआरएचएम घोटाले में घिरे पयागपुर से कांग्रेस विधायक मुकेश श्रीवास्तव व पत्नी सारा सिंह की हत्या में सीबीआइ जांच का सामना कर रहे अमनमणि का नाम भी था। दागियों को प्रत्याशी बनाये जाने पर विपक्ष ने भी सपा पर जमकर निशाना साधा था। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी अमनमणि को टिकट दिये जाने से खुश नहीं थे, तब उन्होंने यह कहकर खुद का बचाव किया था कि ‘मैंने सारे अधिकार छोड़ दिये हैं।इस बीच सारा सिंह की मां ने सपा मुखिया मुलायम सिंह से मिलने प्रयास किया और पत्र भेजकर अमनमणि का टिकट काटने की मांग की थी। उस समय पार्टी की ओर से कहा गया था कि वर्ष 2012 में भी अमनमणि सपा से चुनाव लड़ चुके हैं। अभी जांच का निष्कर्ष नहीं आया है। शुक्रवार को अमनमणि की गिरफ्तारी के बाद पार्टी नेतृत्व उनका टिकट काटने पर विचार कर रहा है।

पढ़ें- नोटबैन पर भाकियू नेता बोले- ‘भाजपा को भी कांग्रेस जैसा सबक सिखाएगी जनता’

पढ़ें- नोटबंदी से खर्च न चला तो प्रेमी को बॉय- बॉय कर वापस घर लौट गयी

पढ़ें- कानपुर देहात में रेलवे ट्रैक में फिर गड़बड़ी, रोकी गई उद्योग नगरी एक्सप्रेस

पढ़ें- तांत्रिक झाड़फूंक के बहाने करता रहा तीन लड़कियों से दुष्कर्म, गिरफ्तार

पढ़ें- सुना है कभी पंचों का ऐसा फैसला, प्रेमियों के लिए बना वरदान

पढ़ें- मेरठ में युवक ने फेसबुक पर पोस्ट की पत्नी की अश्लील फोटो

पढ़ें- समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव पर कॉमिक्स भी

पढ़ें- बाराबंकी में शादी के दिन बीएसएफ सब इंस्पेक्टर की हत्या

मोदी ने जनता की मुस्कुराहट छीनी, अब हम हम उनकी छीनेंगे : राजबब्बर

मोदी ने जनता की मुस्कुराहट छीनी, अब हम हम उनकी छीनेंगे : राजबब्बर
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आम आदमी की मुस्कुराहट छीनने की तोहमत जड़ते हुए कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष राज बब्बर ने हुंकार भरी कि अब हम मोदी जी की मुस्कुराहट छीन लेंगे।

कानपुर (जेएनएन)। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद वन रैंक वन पेंशन पर केंद्र सरकार को घेरने वाली कांग्रेस अब नोटबंदी के खिलाफ सड़कों पर है। शुक्रवार को दावेदारों के दम के साथ कांग्रेस ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पर प्रदर्शन में पूरा दमखम दिखाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आम आदमी की मुस्कुराहट छीनने की तोहमत जड़ते हुए आंदोलन के अगुआ कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष राज बब्बर ने हुंकार भरी कि अब हम मोदी जी की मुस्कुराहट छीन लेंगे।
हजारों के हुजूम के साथ कांग्रेसी पार्टी कार्यालय तिलक हॉल से जुलूस के रूप में दोपहर 3.45 बजे आरबीआइ पहुंचे। यहां नेतृत्वकर्ता तो गांधीवादी प्रदर्शन की बात कह रहे थे, लेकिन कुछ कार्यकर्ता बैरीकेडिंग को धकिया कर बैंक में प्रवेश की कोशिश कर रहे थे, जिसे पर्याप्त पुलिस बल ने नाकाम कर दिया। बैंक के मुख्य द्वार पर भाजपा सरकार के खिलाफ नारेबाजी करने के बाद डिवाइडर पर खड़े होकर प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने माइक थामा। उन्होंने कहा कि हम यहां इसलिए आए हैं, क्योंकि बता देना चाहते हैं कि इस दीवार (बैंक की ओर इशारा) के पीछे 24 घंटे काम करने वाले बैंक कर्मियों के परिवार भी भूखे सो रहे हैं। धिक्कार है प्रधानमंत्री को, जो ऐसा फैसला सुनाया। ऐसा ही फरमान हिटलर ने सुनाया था, जिसका परिणाम उसने देखा भी। बब्बर बोले कि ये मामूली सी बैरीकेडिंग हम किसी भी वक्त तोड़ सकते थे। ये गिनती के सिपाही कांग्रेस की ताकत को क्या रोकते। ये हमें रोकते वक्त मुस्कुरा रहे थे। हमें इनकी मुस्कुराहट थोड़ी छीननी है, हमें तो मोदी जी मुस्कुराहट छीननी है। उन्होंने कहा कि मोदी जी कहते हैं कि हमारी तैयारी बहुत पहले से चल रही थी। मगर, गरीबों ने तो कोई तैयारी नहीं की थी। बेटे ने तैयारी नहीं की थी कि पैसे नहीं होंगे तो बाप की अर्थी कैसे उठेगी। बेटी की डोली कैसे उठेगी। किसी का बाप, किसी का भाई फांसी लगा रहा है। तल्ख होते हुए बब्बर ने कहा कि प्रधानमंत्री का नाम इतिहास में लिखा तो जाएगा, लेकिन तवे की पीछे वाली काली स्याही से। मोदी जी ने देश की जनता को जनआंदोलन के लिए तैयार कर दिया है। प्रदर्शन के लिए राज्यसभा सांसद प्रमोद तिवारी ने कार्यकर्ताओं की हौसलाअफजाई की।

छह आइपीएस व 44 वरिष्ठ पीसीएस अफसरों के तबादले

छह आइपीएस व 44 वरिष्ठ पीसीएस अफसरों के तबादले
शासन ने आज छह आइपीएस अफसरों के अलावा 44 वरिष्ठ पीसीएस अफसरों के तबादले कर दिए। इसमें अपर आयुक्त, नगर मजिस्टे्रट और सीडीओ से लेकर उपायुक्त स्तर के अधिकारी हैं।

लखनऊ (जेएनएन)। शासन ने आज छह आइपीएस अफसरों के तबादले कर दिए। यूपी-100 में खास सुपरविजन और तकनीकी दिक्कतों के चलते लगातार अवरोध उत्पन्न हो रहे हैं। इसकी बेहतरी के लिए आइटेक्स यूपी-100 के आइजी पद पर एसबी शिरडकर की तैनाती हुई है। शिरडकर के अलावा देवरंजन वर्मा को इसी सेल में एसपी का दायित्व दिया गया है। देवीपाटन परिक्षेत्र में डीआइजी बदले गये हैं। इसके अलावा शासन ने 44 वरिष्ठ पीसीएस अफसरों के तबादले कर दिए। इसमें अपर आयुक्त, नगर मजिस्टे्रट और सीडीओ से लेकर उपायुक्त स्तर के अधिकारी हैं।

अाइपीएस नाम- वर्तमान – नवीन तैनाती
1. अनिल कुमार राय – डीआइजी पीएचक्यू – डीआइजी देवीपाटन रेंज।
2. अमिताभ यश – आइजी यातायात – आइजी पीएसी, मुख्यालय।
3. एसबी शिरडकर – आइजी पीएसी मुख्यालय – आइजी आइटेक्स (यूपी-100), लखनऊ।
4. जितेन्द्र प्रताप सिंह – डीआइजी देवीपाटन रेंज – डीआइजी पीटीएस, गोरखपुर।
5. संतोष कुमार मिश्र – डीजीपी मुख्यालय से सम्बद्ध – एसपी, तकनीकी सेवाएं, लखनऊ।
6. देवरंजन वर्मा – एसपी तकनीकी सेवाएं, लखनऊ – एसपी आइटेक्स (यूपी-100), लखनऊ।

पीसीएस नाम – वर्तमान – नवीन तैनाती
1. श्रीकृष्ण – एडीएम वित्त व राजस्व (विरा) – अपर आयुक्त ग्राम्य विकास, लखनऊ।
2. राकेश कुमार श्रीवास्तव – नगर मजिस्ट्रेट झांसी – एडीएम विरा कौशांबी।
3. गुरू प्रसाद – एसडीएम मैनपुरी – नगर मजिस्ट्रेट झांसी।
4. जयशंकर त्रिपाठी – एडीएम विरा फैजाबाद – उपायुक्त खाद्य व रसद, लखनऊ।
5. मदन चंद्र दुबे – नगर मजिस्ट्रेट, फैजाबाद – एडीएम विरा फैजाबाद।
6. राम नारायण पटेल – एसडीएम हरदोई – नगर मजिस्ट्रेट फैजाबाद।
7. कैलाश नाथ सहगल – एडीएम विरा मुरादाबाद – संयुक्त निदेशक, आयुर्वेद निदेशालय, लखनऊ।
8. हिमांशु गौतम – नगर मजिस्ट्रेट, बुलंदशहर – एडीएम विरा मुरादाबाद।
9. राम गोपाल – एसडीएम कन्नौज – नगर मजिस्ट्रेट बुलंदशहर।
10. बृज बिहारी पाण्डेय – एडीएम विरा चंदौली – उप भूमि व्यवस्था आयुक्त, राजस्व परिषद, लखनऊ।
11. राजेन्द्र सिंह – नगर मजिस्ट्रेट, मुजफ्फरनगर – एडीएम विरा चंदौली।
12. मोहम्मद नईम – एसडीएम अमरोहा – नगर मजिस्टे्रट, मुजफ्फरनगर।
13. पुष्पेन्द्र कुमार जैन – एडीएम विरा सिद्धार्थनगर – उपनिदेशक भूमि अध्याप्ति सिंचाई, लखनऊ।
14. बाबू राम – उप संचालक चकबंदी, सुलतानपुर – एडीएम विरा सिद्धार्थनगर।
15. इंद्रासन यादव – एडीएम विरा सुलतानपुर – उपनिदेशक, मण्डी परिषद, लखनऊ।
16. अमरनाथ राय – नगर मजिस्ट्रेट, उप संचालक चकबंदी, मऊ – एडीएम विरा सुलतानपुर।
17. राम अभिलाष – एसडीएम संतकबीरनगर – नगर मजिस्ट्रेट, मऊ।
18. राममूर्ति मिश्र – एडीएम प्रशासन बिजनौर – उपनिदेशक मंडी परिषद, इलाहाबाद।
19. मदन सिंह गरब्याल – एडीएम प्रशासन रामपुर – एडीएम प्रशासन बिजनौर।
20. उमेश कुमार मंगला – प्रतीक्षारत – एडीएम प्रशासन, रामपुर।
21. महेन्द्र सिंह – सीडीओ, सोनभद्र – अपर भूमि व्यवस्था आयुक्त, राजस्व परिषद, लखनऊ।
22. रामाश्रय – प्रतीक्षारत – सीडीओ, सोनभद्र।
23. प्रवीण कुमार अग्रवाल – अपर आयुक्त आगरा मंडल – अपर आयुक्त, इलाहाबाद मंडल।
24. शारदा प्रसाद यादव – एडीएम नागरिक आपूर्ति कानपुर नगर – उप भूमि व्यवस्था आयुक्त, राजस्व परिषद, लखनऊ।
25. चित्रलेखा सिंह – कमांडेंट नागरिक सुरक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान, लखनऊ – एडीएम नागरिक आपूर्ति कानपुर नगर।
26. ज्वाला प्रसाद तिवारी – अपर आयुक्त फैजाबाद मंडल – अपर आयुक्त देवीपाटन मंडल।
27. श्यामा कुमार भट्ट – उप संचालक चकबंदी – संयुक्त दुग्ध आयुक्त, लखनऊ।
28. प्रभात कुमार शर्मा – अपर आयुक्त बरेली मंडल – अपर आयुक्त आगरा मंडल।
29. राजाराम – अपर आयुक्त देवीपाटन मंडल – अपर आयुक्त बस्ती मंडल।
30. सूर्यमणि लाल चंद – विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा – अपर आयुक्त मीरजापुर मंडल।
31. राम सिंह गौतम – अपर नगर आयुक्त, आगरा – एडीएम नागरिक आपूर्ति आगरा।
32. डॉ. कंचन सरन – अपर आयुक्त, उद्योग, मुरादाबाद – एडीएम प्रोटोकाल, आगरा।
33. चंद्रशेखर – स्थानांतरणाधीन एडीएम मेरठ – संभागीय खाद्य निरीक्षक, मुरादाबाद।
34. राम सेवक द्विवेदी – नगर मजिस्ट्रेट सीतापुर – एडीएम विरा औरैया।
35. जगदंबा प्रसाद गुप्ता – एसडीएम कुशीनगर – नगर मजिस्ट्रेट, सीतापुर।
36. मंजू लता – उप संचालक चकबंदी बुलंदशहर – एडीएम भूमि अध्याप्ति मेरठ।
37. हरि प्रताप शाही – नगर आयुक्त, नगर निगम वाराणसी – विशेष सचिव, कृषि विभाग।
38. हरिकेश चौरसिया – एडीएम प्रशासन, लखनऊ – नगर आयुक्त, नगर निगम वाराणसी।
39. अविनाश सिंह – एडीएम सिटी कानपुर नगर – एडीएम प्रशासन लखनऊ।
40. कामता प्रसाद सिंह – एडीएम भूमि अध्याप्ति गौतमबुद्धनगर – एडीएम कानपुर नगर।
41. देव कृष्ण तिवारी – प्रतीक्षारत – अपर आयुक्त, वाराणसी मंडल, वाराणसी।
42. अधर किशोर मिश्रा – उप संचालक चकबंदी मुजफ्फरनगर – एडीएम गौतमबुद्धनगर।
43 . अवधेश कुमार श्रीवास्तव – एसडीएम प्रतापगढ़ – एसडीएम बांदा।
44. प्रभुदयाल – एसडीएम सहारनपुर – एसडीएम संभल।

अब 15 दिसंबर तक 500 के नोट से करें बिल का भुगतान

अब 15 दिसंबर तक 500 के नोट से करें बिल का भुगतान
500 के पुराने बंद हो चुके नोट से ही बिजली-पानी व भवनकर का भुगतान कर सकते हैं। 15 दिसंबर तक 500 के नोट से रजिस्ट्रेशन फीस और स्टाम्प शुल्क भी अदा की जा सकेगी।

लखनऊ (जेएऩएन)। अब आप सिर्फ 500 के पुराने बंद हो चुके नोट से ही बिजली-पानी व भवनकर का भुगतान कर सकते हैं। 15 दिसंबर तक 500 के नोट से रजिस्ट्रेशन फीस (निबंधन शुल्क) और स्टांपवादों में आरोपित अतिरिक्त स्टाम्प शुल्क भी अदा की जा सकेगी। केंद्र सरकार द्वारा शुक्रवार से खास तरह के भुगतान में सिर्फ 500 रुपये के पुराने नोट के चलन को 15 दिसंबर तक बढ़ाए जाने के बाद राज्य सरकार के संबंधित महकमों ने भी प्रदेशवासियों को देय बिल, टैक्स, पेनाल्टी आदि को 500 रुपये के नोट में ही भुगतान की सुविधा दे दी है।

पॉवर कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक एपी मिश्र ने बताया कि बिजली के बिल का भुगतान 15 दिसंबर तक पुराने 500 रुपये के नोट से किया जा सकता है। मिश्र ने बताया कि आठ नवंबर को 500-1000 के नोट बंद होने के बाद से अब तक तकरीबन दो हजार करोड़ रुपये बिजली का बिल जमा हुआ है। इसमें 452 करोड़ रुपये पुराने बकाए बिल के भुगतान से आया है। वित्तीय संकट से जूझ रहे प्रबंधन की कोशिश है कि अब 15 दिसंबर तक विद्युत बिल के बकाएदारों पर सख्ती कर पुराने नोट के जरिए ही ज्यादा से ज्यादा बिल की वसूली कर ली जाए।
नगर विकास सचिव श्रीप्रकाश सिंह ने भी बताया कि अब नगर निगम, नगर पालिका परिषद और नगर पंचायतों में जलकर व भवनकर 15 दिसंबर की मध्य रात्रि तक 500 रुपये के पुराने नोट से जमा किया जा सकता है। इस संबंध में सभी संबंधित को निर्देश जारी किए गए हैं।
महानिरीक्षक निबंधन और विभागीय प्रमुख सचिव अनिल कुमार ने भी निबंधन शुल्क के तौर पर 500 रुपये के नोट स्वीकारने का आदेश जारी किया है। उल्लेखनीय है कि किसी भी संपत्ति की रजिस्ट्री के मौके पर संपत्ति के कुल मूल्य का दो फीसदी या अधिकतम 20 हजार रुपये नकद बतौर निबंधन शुल्क भुगतान करना होता है। 500 रुपये के पुराने नोट से स्टाम्पवादों के निस्तारण में आरोपित देय अतिरिक्त स्टाम्प शुल्क का भुगतान भी किया जा सकेगा।

नोट बंदी का बड़ा असर स्टाम्प राजस्व पर : राज्य सरकार का खजाना भरने में अहम भूमिका निभाने वाले स्टाम्प राजस्व पर नोटबंदी का जबरदस्त असर देखने को मिला है। राज्य सरकार ने नवंबर में स्टाम्प शुल्क आदि से 1170 करोड़ रुपये हासिल करने का लक्ष्य रखा है। गौर करने की बात यह है कि अब तक मात्र 455.28 करोड़ रुपये यानी कुल लक्ष्य का सिर्फ 38.91 फीसद ही सरकारी खजाने में पहुंचा है। विभागीय प्रमुख सचिव अनिल कुमार ने बताया कि पिछले महीने अक्टूबर में 1210 करोड़ रुपये राजस्व आय का लक्ष्य था जिसमें से 90 फीसद से अधिक 1092.37 करोड़ रुपये प्राप्त हुए थे।
उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक स्टाम्प राजस्व में भारी-भरकम कमी ने चुनावी साल में सरकार की चिंता बढ़ा दी है। सूत्र बताते हैं कि राजस्व में इजाïफा करने के लिए राज्य सरकार, केंद्र की नोट बंदी के साथ ही उन अधिसूचनाओं का अध्ययन करा रही है जिसके तहत खास तरह के भुगतानों को पुराने नोट से करने की छूट दी गई है। सरकार देख रही है कि क्या पुराने नोट से स्टाम्प ड्यूटी को अदा किया जा सकता है? अगर इसमें किसी तरह की विधिक अड़चन न आई तो सरकार जल्द ही पुराने 500 रुपये के नोट से स्टाम्प पेपर खरीदने की भी सशर्त अनुमति दे सकती है।

घुंघरुओं की झनकार से सराबोर हुआ महोत्सव, मंत्रियों ने किया शुभारंभ

घुंघरुओं की झनकार से सराबोर हुआ महोत्सव, मंत्रियों ने किया शुभारंभ
अवध की गंगा-जमुनी तहजीब, कला और संस्कृति को समेटे लखनऊ महोत्सव का आगाज हो गया। उद्घाटन अवसर पर मशहूर कथक नृत्यांगना शोवना नारायण अपनी प्रस्तुति दी।

लखनऊ (जेएनएन) । रैंप पर खादी पहने मॉडलों की कैटवॉक और कथक नृत्यांगना पद्मश्री शोवना नारायण की कलात्मक प्रस्तुति के साथ ही लखनऊ महोत्सव का आगाज हो गया। मुख्यमंत्री के नहीं आने पर सूबे के चार मंत्रियों ने महोत्सव का उद्घाटन किया। महोत्सव का शुभारंभ मंत्री शारदा प्रसाद शुक्ल, मंत्री अभिषेक मिश्रा, मंत्री रविदास मेहरोत्रा, मंत्री एसपी यादव और कमिश्नर भुवनेश कुमार ने किया। उद्घाटन के मौके पर कौशल विकास मंत्री में प्रदेश सरकार की उपलब्धियों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि कहा कि मेट्रो, एक्सप्रेस वे, गोमती रिवर फ्रंट सहित कैंसर अस्पताल आदि सरकार द्वारा कराए गए विकास के सबूत हैं।

मंडलायुक्त भुवनेश कुमार ने बताया कि इस बार महोत्सव में सैलानियों को राज्य सरकार के डायल 100, यमुना एक्सप्रेस वे, मेट्रो ट्रेन, महिला हेल्पलाइन 1090 जैसे बड़े विकास कार्यों की झलक भी देखने को मिलेगी। यही नहीं महोत्सव के तहत जनेश्वर मिश्र पार्क में कृषि मेला एग्रीहार्टीटेक का आयोजन भी किया गया है। 11 दिवसीय लखनऊ महोत्सव पांच दिसम्बर तक चलेगा। इस बार लखनऊ महोत्सव का थीम – विरासत एवं विकास, बदलता क्षितिज रखा गया है। महोत्सव पांच दिसम्बर तक चलेगा। जबकि राज्यपाला रामनाईक पांच दिसम्बर को समापन करेंगे।
मंत्री की फिसली जबान
लखनऊ महोत्सव के शुभारंभ के मौके पर जंतु उद्यान मंत्री एसपी यादव की जुबान कई बार फिसली। मंत्री महोदय ने गायक अनूप जलोटा को अनूप जटोला तक कह डाला।

पढ़ें- नोटबैन पर भाकियू नेता बोले- ‘भाजपा को भी कांग्रेस जैसा सबक सिखाएगी जनता’

पढ़ें- नोटबंदी से खर्च न चला तो प्रेमी को बॉय- बॉय कर वापस घर लौट गयी

पढ़ें- कानपुर देहात में रेलवे ट्रैक में फिर गड़बड़ी, रोकी गई उद्योग नगरी एक्सप्रेस

पढ़ें- तांत्रिक झाड़फूंक के बहाने करता रहा तीन लड़कियों से दुष्कर्म, गिरफ्तार

पढ़ें- सुना है कभी पंचों का ऐसा फैसला, प्रेमियों के लिए बना वरदान

पढ़ें- मेरठ में युवक ने फेसबुक पर पोस्ट की पत्नी की अश्लील फोटो

पढ़ें- समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव पर कॉमिक्स भी

पढ़ें- बाराबंकी में शादी के दिन बीएसएफ सब इंस्पेक्टर की हत्या

कैंसर संस्थान: उत्तर भारतीयों के लिए उम्मीद की किरण

कैंसर संस्थान: उत्तर भारतीयों के लिए उम्मीद की किरण
लखनऊ: सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सीजी सिटी स्थित कैंसर संस्थान में उच्च स्तरीय इलाज की सुविधा होगी।

लखनऊ: सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सीजी सिटी स्थित कैंसर संस्थान में उच्च स्तरीय इलाज की सुविधा होगी। उत्तर भारत के कैंसर रोगियों के लिए इलाज का यह मुख्य केंद्र होगा। आर्गन बेस्ड कैंसर ट्रीटमेंट पर आधारित सुपर स्पेशयलिटी हॉस्पिटल में कुल एक हजार बेड होंगे।

केजीएमयू के कुलपति व कैंसर संस्थान के निदेशक प्रो. रविकांत ने शुक्रवार को निर्माणदायी संस्था के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान मीडिया के समक्ष संस्थान का पूरा ब्योरा पेश किया। प्रो. रविकांत ने कहा कि संस्थान का परिसर कुल 101 एकड़ का है। प्रथम चरण में 35 एकड़ पर भवनों का निर्माण हो रहा है। इसमें 500 बेड की इंडोर बिल्डिंग समेत 11 भवन निर्माणाधीन हैं। वहीं द्वितीय चरण में शेष भूमि पर विभागों का विस्तार किया जाएगा। इसमें 500 बेड का एक और इंडोर भवन प्रस्तावित है। इसका पूरा खाका तैयार किया जा चुका है। ऐसे में कुल मिलाकर कैंसर संस्थान एक हजार बेड का होगा।

-प्रथम चरण के भवन

भवन मंजिल

आइपीडी भवन 10

ओपीडी ब्लॉक 04

एंट्रेंस स्वाक्यर 01

ओटी ब्लॉक 05

रेडियोलॉजी ब्लॉक 03

किचन लांड्री ब्लॉक 01

प्रशासनिक भवन 04

एचवीएसी एंड माच्र्युरी 01

विजिटर हॉल 01

रेडिएशन अंकोलॉजी 04

सब स्टेशन 01

—————–

कुल भवन ——11

——————

ये होंगी सुविधाएं

-खुलेंगे 20 विभाग

-6 एक्सीलिरेटर मशीन

-6 सीटी सेम्युलेर मशीन

-डिजिटल एक्स-रे

-एमआरआइ

-लैब मेडिसिन की सुविधा

-40 बेड का डे केयर वार्ड

-24 मेजर ओटी व 16 माइनर ओटी

-आइसीयू व प्री ऑपरेटिव वार्ड

-24 घंटे इमरजेंसी सेवा

-दोनों ओपीडी ब्लॉक में कुल 32

क्लासिकल कंसल्टेंट रूम

-दो पहिया व चार पहिया वाहन पार्किंग

—————

-ये हैं खासियत

-भवनों की बाहरी दीवारों पर जर्मनी का टैराकोटा क्ले टायल्स, सौ वर्षो तक यूं ही रहने का दावा

-फ्रेम नुमा लग रहे टायल्स की कीमत साढ़े पांच हजार रुपये स्क्वायर मीटर

-देश के किसी सरकारी अस्पताल के निर्माण में पहली बार विशेष टायल्स को हुआ इस्तेमाल

-ओपीडी हॉल में मिड राउंडिंग रिसेप्शन एरिया

-एंट्रेंस स्क्वायर की सिग्नेचर बिल्डिंग

-ओपीडी ब्लॉक में डबल वॉल के बीच में वैक्यूम। इससे आइसोलेशन सिस्टम बेहतर रहेगा

-कक्ष में एनर्जी सेविंग डिवाइस, यानी कि व्यक्ति के बाहर जाते ही एसी, लाइट खुद ही बंद

-आधुनिक फायर सेफ्टी डिवाइस से लैस भवन

-स्मॉग अलॉर्म, इंडीकेटर व स्प्रिंकलर की फिटिंग

———

कैंसर संस्थान में हर प्रकार के कैंसर का इलाज होगा। यहां आर्गन बेस्ड कैंसर के इलाज पर फोकस किया जाएगा। साथ-साथ शोध पर भी विशेष जोर दिया जाएगा।

प्रो. रविकांत

कुलपति व निदेशक

बंद नोटों से नहीं खरीदे जा सकते जनरल स्टांप, याचिका खारिज

बंद नोटों से नहीं खरीदे जा सकते जनरल स्टांप, याचिका खारिज
लखनऊ बेंच ने 500 व 1000 रुपये के नोट जनरल स्टांप खरीदने के लिए स्वीकार करने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया है।

लखनऊ (जेएऩएन)। हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने 500 व 1000 रुपये के नोट जनरल स्टांप खरीदने के लिए स्वीकार करने की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया है। न्यायमूर्ति एपी शाही और न्यायमूर्ति डीके उपाध्याय की खंडपीठ ने याचिका को खारिज करते हुए कहा कि रजिस्ट्रेशन विभाग द्वारा इस संबंध में जारी आदेश में कुछ भी गलत नहीं है। न्यायालय ने कहा कि अब यह मुद्दा महज एकेडमिक बहस भर का बचा है।

अनूप कुमार पाण्डेय की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया था कि जनरल स्टांप खरीदने के लिए जिला ट्रेजरी कार्यालयों में 500 व 1000 रुपये के पुराने नोट नहीं लिए जा रहे हैं। याची की ओर से कहा गया कि 15 नवंबर को जनरल स्टांप व स्टांप ड्यूटी के लिए इन नोटों को न स्वीकार करने का आदेश दिया गया लेकिन उसी दिन एक अन्य आदेश जारी करते हुए स्टांप ड्यूटी के लिए पुराने नोटों को लेने संबंधी आदेश में संशोधन कर दिया गया।
याची की ओर से दलील दी गई कि आठ से 14 नवंबर तक केंद्र सरकार की ओर से जारी आदेशों में कहा गया है कि केंद्र व राज्य सरकार को दिए जाने वाले शुल्क, टैक्स या पेनाल्टी पुरानी करेंसी से दिए जा सकते हैं। लिहाजा जनरल स्टांप के लिए भी पुरानी करेंसी ली जानी चाहिए। 24 नवंबर को याचिका पर आदेश पारित करते हुए न्यायालय ने कहा कि इस आदेश की तिथि 24 नवंबर को ही समाप्त हो रही है, लिहाजा अब इसका कोई लाभ नही मिलेगा।

रुलाने लगा नकदी का संकट-कहीं रुकी सगाई तो कहीं मेडिकल सुविधा नहीं मिली

रुलाने लगा नकदी का संकट-कहीं रुकी सगाई तो कहीं मेडिकल सुविधा नहीं मिली
कहीं पर विवाह टू रहा है तो कहीं पर लोग मेडिकल की सुविधा से वंचित रह जा रहे हैं। तमाम तरह के निर्देश के बाद भी बैंक तथा आवश्यक सेवा से लोगों को लाभ नहीं मिल पा रहा है।

लखनऊ (जेएनएन)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 500 तथा एक हजार रुपए के नोट को चलन से बाहर करने का संकट अब गहराने लगा है। कहीं पर विवाह टू रहा है तो कहीं पर लोग मेडिकल की सुविधा से वंचित रह जा रहे हैं। तमाम तरह के निर्देश के बाद भी बैंक तथा आवश्यक सेवा से लोगों को लाभ नहीं मिल पा रहा है।

कैश ने रोकी सगाई, बैठी पंचायत

सुहागनगरी फीरोजबाद में एक लड़की की सगाई तय रकम न मिलने के कारण रुक गई। लड़के वालों के सगाई से मना करने के बाद लड़की के घर के लोगों ने दूल्हे के घर पर डेरा डाल दिया है। फीरोजबाद के सिरसागंज के कारीखेड़ा के विक्रम ने बेटी का रिश्ता शिकोहाबाद के गांव चितावली निवासी राजेश से तय किया। कल सगाई टीका लग्न था। कैश पूरा न होने पर विवाद शुरू हो गया। तय नकद रुपये न मिलने पर दूल्हे वाले ने सगाई से इनकार कर दिया। इसके बाद लड़की वालों ने उनके घर पर डेरा जमा दिया। इस मामले को लेकर रात भर पंचायत हुई।

एटा में नोट के बदले कमीशन लेते दो हिरासत में

एटा में रोडवेज बस स्टैंड पर खुले आम नोट बदलने के एवज में कमीशन लेते दो लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। पुलिस ने अशोक कुमार निवासी कुरावली व बबलू ङ्क्षसह निवासी वनगांव को गिरफ्तार किया। इसके बाद भी कई जगह दबिश दी गई। यह लोग कमीशन पर प्रतिबंधित नोटों को खुला कर रहे थे।

मथुरा में लगाया जाम

मथुरा में लौहवन ङ्क्षसडिकेट बैंक से धन न मिलने से नाराज होकर लोगों ने सड़क पर जाम लगा दिया। इस मामले में महिलाएं भी सड़क पर उतरी। केनरा बैंक, सैलई, फीरोजाबाद के बाहर कुछ महिलाओं ने हंगामा कर रास्ता जाम कर दिया।

रुपया न मिलने पर महिला ने दम तोड़ा

बहराइच के कैसरगंज थाना क्षेत्र के ग्राम चिलवा की एक 50 वर्षीय महिला की उस समय रास्ते में मौत हो गयी जब वह बैंक से वापस आ रही थी। वह चार दिन से अपनी पास बुक को लेकर पैसे निकालने के लिए बैंक का चक्कर काट रही थी। उसका पेंशन का पैसा निकल नही पाया। निराश होकर वह अपने घर लौट रही थी रास्ते मे उसकी मौत हो गयी।

ग्राहकों ने बंद किया बैंक का शटर

हाथरस के सादाबाद के जवाहर बाजार स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में कैश न होने पर लोगों का गुस्सा उबल पड़ा। इन लोगों ने बैंक का शटर बंद कर की नारेबाजी की। इन लोगों ने बैंक कर्मियों पर गुपचुप रूपये बांटने का आरोप भी लगाया। इसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंची और मामला शांत कराया।

बैंक का ताला नहीं खुला

गोरखपुर के बेलीपार क्षेत्र के विस्टौली खुर्द में एसबीआई के ग्राहक सेवा केंद्र के साथ बेलीपार में पूर्वांचल बैंक की शाखा पर रुपया न होने की वजह से ताला नहीं खुला। सुबह से लाइन लगाकर इंतजार कर रहे लोगों को जब पता चला कि बैंक नही खुलेगा तो सडक जाम कर दिया। 100 नंबर डायल करने के बाद पहुँची पुलिस ने मौके पर लोगों को समझा कर 45 मिनट बाद जाम खुलवाया।

पढ़ें- कानपुर देहात में रेलवे ट्रैक में फिर गड़बड़ी, रोकी गई उद्योग नगरी एक्सप्रेस

पढ़ें- सुना है कभी पंचों का ऐसा फैसला, प्रेमियों के लिए बना वरदान

पढ़ें- समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव पर कॉमिक्स भी

अब अखिलेश का 'समाजवादी' नमक, 10 जिलों में हुई शुरुआत

अब अखिलेश का ‘समाजवादी’ नमक, 10 जिलों में हुई शुरुआत
अखिलेश ने आगे कहा, आज यहां आईं सभी महिलाओं को ये भी नहीं पता होगा कि वो कहां पर बैठी हैं, लेकिन सच्चाई ये है कि इन्हीं लोगों की वजह से लोग सीएम बनते हैं।

लखनऊ( जेएनएन)। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज प्रदेश के 10 जिलों में पायलेट प्रोजेक्ट के तौर पर नमक वितरण योजना की शुरुअात की। सरकार के पायलेट प्रोजेक्ट आयरन और आयोडीन युक्त (समाजवादी डबल आयोडाइड नमक) नमक वितरण कार्यक्रम के मौके पर अखिलेश ने कहा, ‘हमारी सरकार लगातार अच्छे कामों की कोशिश कर रही है। आपका और आने वाली पीढ़ी का स्वास्थ्य बेहतर हो, ये हमारी सरकार की जिम्मेदारी है। समाजवादियों की कोशिश होगी कि यूपी के लोगों का स्वास्थ्य और उनकी शिक्षा बेहतर हो।’
अखिलेश ने आगे कहा, ‘आज यहां आईं सभी महिलाओं को ये भी नहीं पता होगा कि वो कहां पर बैठी हैं, लेकिन सच्चाई ये है कि इन्हीं लोगों की वजह से लोग सीएम बनते हैं।’ ‘एक एेसी भी सरकार थी, जिसने यहां तक आने वाला रास्ता ही बंद कर दिया था। अब एक ऐसी सरकार आई है, जिसने गरीबों से लेकर अमीरों तक के लिए काम किया है।’ ‘केंद्र की सरकार ने तो गरीबों को और परेशान कर रखा है। 500 की नोट बंद होने से लोगों को परेशानी हो रही है। लोग बेचारे सुबह से शाम तक परेशान रहते हैं।’

खाद्य रसद आयुक्त अजय चौहान ने कहा, ‘डबल फोर्टिफाइड नमक एनीमिया रोग से लड़ने में मदद करेगा। यूपी में कुपोषण की वजह से एनीमिया को बढ़ावा मिलता है। सीएम अखिलेश सबसे पहले इस पायलेट प्रोजेक्ट को शुरू कर लोगों को एनीमिया से दूर करने में मदद करेंगे। यह नमक लखनऊ, सिद्धार्थनगर, मुरादाबाद, फर्रुखाबाद, इटावा, औरैया, हमीरपुर, फैजाबाद, संतकबीरनगर, मऊ में 60 हजार मीट्रिक टन नमक बांटा जाएगा। यूपी सरकार की ओर से इसके लिए 48.52 करोड़ की अनुदान राशि हर साल दी जा रही है। इसका लाभ 46.02 लाख राशन कार्ड वाले धारक उठाएंगे।

32 लाख 59 हजार बीपीएल और अंत्योदय कार्ड धारकों को 3 रुपए प्रति किलो की दर से नमक दिया जाएगा। एपीएल कार्ड धारकों को 6 रुपए प्रति किलो की दर से नमक दिया जाएगा। 50 फीसदी महिलाएं एनीमिया से प्रभावित। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी में इस वक्त 50 फीसदी गर्भवती महिलाएं एनीमिया रोग से प्रभावित हैं। 6 से 59 महीने के करीब 73 फीसदी बच्चे भी इससे ग्रसित हैं। इसके अलावा 20 साल से कम उम्र के 24 फीसदी लोग भी इससे प्रभावित हैं।

समाजवादी नमक में एक बड़े सहयोगी के तौर पर टाटा ट्रस्ट को सामने लाया गया है। इसमें टाटा ट्रस्ट सभी जिलों में समाजवादी नमक के प्रचार-प्रसार और उत्पादन की देखरेख करेगा। साथ ही खाद्य रसद विभाग जो इस योजना की नोडल एजेंसी के तौर पर है, उसे भी सहयोग करेगा। बिल मिलंडा गेट्स फाउंडेशन की सहयोगी संस्था ग्लोबल एलायंस फॉर इम्प्रूव्ड न्यूटिशन यानी गेन के जरिए गुणवत्ता जांच की जाएगी।

पढ़ें- आज से रंंगारंग कार्यक्रम के साथ शुरू होगा लखनऊ महोत्सव, अखिलेश करेंगे उद्घाटन

पढ़ें- नोटबैन पर भाकियू नेता बोले- ‘भाजपा को भी कांग्रेस जैसा सबक सिखाएगी जनता’

पढ़ें- नोटबंदी से खर्च न चला तो प्रेमी को बॉय- बॉय कर वापस घर लौट गयी

पढ़ें- कानपुर देहात में रेलवे ट्रैक में फिर गड़बड़ी, रोकी गई उद्योग नगरी एक्सप्रेस

पढ़ें- तांत्रिक झाड़फूंक के बहाने करता रहा तीन लड़कियों से दुष्कर्म, गिरफ्तार

पढ़ें- सुना है कभी पंचों का ऐसा फैसला, प्रेमियों के लिए बना वरदान

पढ़ें- मेरठ में युवक ने फेसबुक पर पोस्ट की पत्नी की अश्लील फोटो

पढ़ें- समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव पर कॉमिक्स भी

बाराबंकी में शादी के दिन बीएसएफ सब इंस्पेक्टर की हत्या