Category Archives: Current Topic

राम मंदिर के निर्माण के लिए मुस्लिम कार सेवक मंच के कार्यकर्ता मजार पर चढ़ाएंगे चादर

राम मंदिर के निर्माण के लिए मुस्लिम कार सेवक मंच के कार्यकर्ता मजार पर चढ़ाएंगे चादर

 प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए साधू संतों के आंदोलन तेज करेंगे
  2. मुस्लिम कारसेवक मंच के करीब 15 कार्यकर्ता अयोध्या जाएंगे
  3. दरगाह पर चादर चढ़ाकर दुआ मांगेंगे कि भव्य मंदिर बने

लखनऊ: अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए साधू संतों के आंदोलन तेज करने की खबरों के बीच सोमवार को मुस्लिम समाज के करीब 15 लोग बाराबंकी के देवा शरीफ दरगाह में चादर चढ़ाकर मन्नत मांगेगे. देवा में हाजी वारिस अली शाह की दरगाह राजधानी लखनउ से करीब 45 किलोमीटर दूर है. श्री राम मंदिर निर्माण मुस्लिम कारसेवक मंच के अध्यक्ष मो आजम खान ने बताया कि आज राम मंदिर निर्माण मुस्लिम कारसेवक मंच के करीब 15 कार्यकर्ता अयोध्या जाएंगे और वहां दरगाह पर चादर चढ़ाकर दुआ मांगेंगे कि अयोध्या में राम लला का भव्य मंदिर बनें.

आजम ने कहा कि अगर अयोध्या में राम जन्म भूमि पर जहां उनका जन्म हुआ था भव्य राम मंदिर का निर्माण हो गया तो हम दरगाह पर 1000 गरीब लोगों को भोजन कराएंगे तथा दरगाह पर सोने चांदी की चादर भी चढ़ाएंगे. देवा में हाजी वारिस अली शाह की दरगाह काफी मशहूर है और यहां हिंदू-मुस्लिम दोनों धर्मो के लोग अपनी मन्नते मांगने आते हैं . यहां विदेश से भी श्रध्दालु आते है .

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का आंदोलन अगले सप्ताह पड़ने वाली गुर पूणर्मिा के बाद तेजी पकड़ सकता है. संत मंदिर आंदोलन को तेज करने के लिये सीतापुर स्थित नारदानन्द आश्रम में एकत्र होकर कार्ययोजना तैयार करेंगे.

नारदानन्द आश्रम के प्रमुख स्वामी विद्या चैतन्य महाराज ने बताया कि उत्तर प्रदेश तथा आसपास के राज्यों के विभिन्न अखाड़ों के संत आश्रम में एकत्र होंगे और अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के रास्तों के बारे में विचार-विमर्श करेंगे. उन्होंने बताया कि गुर पूणर्मिा आगामी नौ जुलाई को है. इसी दिन से हम राम मंदिर निर्माण के लिये ना सिर्फ संतों का बल्कि आम लोगों को भी सहयोग जुटाने के अभियान की शुरुआत करेंगे.

स्वामी चैतन्य ने गत 27 जून को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ हुई अपनी मुलाकात का जिक्र करते हुए कहा, “हमें विश्वास है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण वर्ष 2019 से काफी पहले शुरू हो जाएगा.” उन्होंने कहा कि नारदानन्द आश्रम में गुर पूणर्मिा की रस्में पूरी करने के बाद वह राम मंदिर निर्माण के समर्थन जुटाने के मकसद से एक विशेष रथ से प्रदेश के साथ-साथ राजस्थान, बिहार, मध्य प्रदेश तथा उत्तराखंड के विभिन्न आश्रमों का दौरा करेंगे. स्वामी चैतन्य ने कहा कि करीब डेढ. महीने तक दौरा करने के बाद वह आश्रम लौटेंगे और मंदिर निर्माण का अंतिम खाका तैयार किया जाएगा.

असर जीएसटी का : देखिए, क्या होगा सस्ता, क्या होगा महंगा…?

 असर जीएसटी का : देखिए, क्या होगा सस्ता, क्या होगा महंगा...?

जीएसटी के तहत खुले अनाज, गुड़, दूध, अंडे और नमक जैसी बहुत-सी आवश्यक वस्तुओं पर कोई टैक्स नहीं लगेगा…

खास बातें

  1. विशेषज्ञों के अनुसार, समय के साथ कर का बोझ कुल मिलाकर कम ही होगा
  2. जीएसटी के आने से बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं महंगी हो जाएंगी
  3. देश में अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को पूरी तरह बदल देगा जीएसटी

नई दिल्ली: स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे बड़ा कर सुधार कहा जा रहा – गुड्स एंड सर्विसेज़ टैक्स, यानी जीएसटी – शनिवार, 1 जुलाई, 2017 से लागू होने जा रहा है, और इसके लिए शुक्रवार मध्यरात्रि को संसद के सेंट्रल हॉल में एक विशेष समारोह आयोजित किया गया है, जिसमें राष्ट्रपति डॉ प्रणब मुखर्जी की उपस्थिति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसे लॉन्च करेंगे… देश और राज्यों में फिलहाल लागू लगभग दर्जनभर अलग-अलग अप्रत्यक्ष करों का स्थान लेने जा रहे जीएसटी को लेकर सरकार का कहना है कि इससे ‘एक देश, एक बाज़ार, एक कर’ व्यवस्था को अमली जामा पहनाया जा सकेगा…

चूंकि जीएसटी का मकसद ‘टैक्स पर टैक्स’ को खत्म करना है, इसलिए विशेषज्ञों का कहना है कि समय के साथ वस्तुओं तथा उत्पादों पर कर का बोझ कुल मिलाकर कम ही होगा… जीएसटी के तहत खुले अनाज, गुड़, दूध, अंडे और नमक जैसी बहुत-सी आवश्यक वस्तुओं पर कोई टैक्स नहीं लगेगा… बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं महंगी हो जाएंगी, क्योंकि जीएसटी के तहत इन्हें मौजूदा 15 फीसदी की स्लैब से निकालकर 18 फीसदी की दर में रखा गया है…

अशोक माहेश्वरी एंड एसोसिएट्स एलएलपी के डायरेक्टर – टैक्स एंड रेग्यूलेटरी संदीप सहगल के मुताबिक, “बहरहाल, आगे चलकर जीएसटी के तहत मिलने वाले टैक्स क्रेडिट, जो अब तक नहीं मिलता था, की वजह से लागत घटेगी, सेवाओं की कीमतों में कमी आएगी, जिससे ग्राहकों तथा उपभोक्ताओं को फायदा होगा…”

विशेषज्ञों का कहना है कि जीएसटी के लागू हो जाने के बाद दुकानों में बिकने वाली बहुत-सी सामान्य वस्तुओं की कीमतें अपरिवर्तित रहने की संभावना है. संदीप सहगल का मानना है कि हो सकता है कि उत्पादक या निर्माता खुद पर और थोक विक्रेताओं व डिस्ट्रीब्यूटरों पर जीएसटी का प्रभाव आंकने के लिए कुछ हफ्ते तक इंतज़ार करें, और फिर ज़रूरत के हिसाब से कीमतें बढ़ाएं…

जीएसटी के लागू हो जाने के बाद 500 रुपये से कम कीमत वाले जूते-चप्पलों, तैयार पोशाकों तथा मोबाइल फोन जैसी कई वस्तुएं सस्ती हो जाएंगी, जबकि टीवी तथा छोटी कारें महंगी होने जा रही हैं…

पेट्रोल, डीज़ल तथा एविएशन टर्बाइन फ्यूल जैसे पेट्रोलियम पदार्थों को फिलहाल जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है. जीएसटी काउंसिल इस मुद्दे पर बाद में फैसला करेगी, फिलहाल शराब को भी जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है…

आइए, आपको रोज़मर्रा की ज़रूरत की चीज़ों की एक सूची हम दिखा रहे हैं, जिसमें उन पर लगने वाले टैक्स की मौजूदा दर भी है, और प्रोफेशनल सर्विसेज़ फर्म अर्न्स्ट एंड यंग (ईवाई) के मुताबिक, जीएसटी के बाद उन पर कितना टैक्स देना पड़ेगा, यह भी बताया गया है…

gst table 01
gst table 02
gst table 03
gst table 04

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर बही योग गंगा

international yog divas flow yog ganga
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर शहर में योग गंगा की अविरल धारा बही। सुबह 4.30 बजे से ही साधकों ने योग किया। कैलाश प्रकाश स्टेडियम, सीसीएसयू मैदान, सर्किट हाउस, विक्टोरिया पार्क, सूरजकुंड पार्क, कंपनी बाग, सैन्य इलाकों  से लेकर गली- मोहल्लों के पार्कों और स्कूल-कॉलेज में योग किया गया। जनप्रतिनिधियों, आला अफसर, खिलाड़ियों से लेकर हर आम-ओ-खास योगमय नजर आया। ऊं ध्वनि ने बरसात के बीच पर्यावरण शुद्ध कर दिया।
  कैलाश प्रकाश स्टेडियम में जिला प्रशासन और आर्ट ऑफ लिविंग के तत्वावधान में योग शिविर हुआ। आर्ट ऑफ लिविंग के अंतरराष्ट्रीय योग शिक्षक अनुराग अरोड़ा ने शुभारंभ ओम प्रार्थना से किया। योग गुरु ने प्राणायाम, वज्रासन, धनुरासन, भुजंगासन, पदमासन, अनुलोम विलोम सर्वांगासन, हलासन, महामुद्रा, कपालभांति, भद्रासन का अभ्यास कराया। शिविर में सांसद राजेंद्र अग्रवाल, कमिश्नर डॉ. प्रभात कुमार, एडीजी आनंद कुमार, डीएम समीर वर्मा सीडीओ आर्यका अखौरी, सीएमओ डॉ. वीपी सिंह, अपर जिलाधिकारी प्रशासन एसपी पटेल, अपर जिलाधिकारी वित्त गौरव वर्मा, अपर जिलाधिकारी नगर मुकेश चंद्र, अपर आयुक्त रणधीर सिंह दुहन, नगर मजिस्ट्रेट एमपी सिंह, उप जिलाधिकारी सदर कुमार भूपेंद्र सिह, एसीएम गुलशन, अंकुर श्रीवास्तव, दक्षिण विधायक डॉ. सोमेंद्र तोमर, विधायक सत्यवीर त्यागी, मेडिकल कॉलेज के  डिप्टी सीएमएस डॉ. विभु साहनी, भाजपा महानगर उपाध्यक्ष ललित नागदेव, आर्ट ऑफ लिविंग परिवार से डॉ. शिवकांत अग्रवाल, निकुंज गर्ग, मनीष श्रीवास्तव, उमेश शर्मा, नरेंद्र कुमार शर्मा, देवेंद्र मोहन, सुजाता जैन, आकाश अग्रवाल, हरी लाटे, डॉ. सपना अग्रवाल, आरजी कॉलेज से आशा, अश्वनी, सिद्धार्थ, जतिन, दीपांशु, अभि, विभु, अखंड, नेहा, अनुपम, मोहित, वान्या, विदुषी, कनक, प्रशांत, इशा, मनुश्री, धीरज, नीरज, प्रणव, अदिति, मेहुल, रिम्पी, रितिका, प्रिया, जसमीत, अनिल, मीना व अदिल ने सहयोग दिया। खिलाड़ियों, कोच, क्लीन मेरठ टीम, एनएसएस कैडेट्स, एनसीसी कैडेट्स, नेहरु युवा केंद्र  से समन्वयक आशु गुप्ता, आरएसओ आले हैदर, महिला डिग्री कॉलेज की प्राचार्या डॉ. रेखा रानी तिवारी, जैनब, डॉ. सपना अग्रवाल ने योगाभ्यास किया।

माहेश्वरी मित्र मंडल ने मनाया योगदिवस
माहेश्वरी मित्र मंडल के सदस्यों ने सेठ बीके माहेश्वरी बालिका इंटर कॉलेज सराय लालदास में योग दिवस मनाया। योग शिविर का शुभारंभ संस्था अध्यक्ष देवेंद्र कुमार भट्टर, मंत्री नरेश माहेश्वरी ने किया। संयोजक अखिल मूंदड़ा रहे। माहेश्वरी परिवार के सदस्यों ने मिलकर योगाभ्यास किया। योग विज्ञान संस्थान के प्रदीप गुप्ता, अनिल गोयल, संत राम, देवेंद्र माहेश्वरी, नरेश माहेश्वरी, संजीव हरकूट, अखिल, राजीव, विशाल, प्रदीप टावरी, दीपक, अनुज, शशिकांत, श्याम केला, श्यौराज, मधु डांगरा, प्रगति, संजीव, आदित्य, मीना, इंद्रा, राज, मोना, गौरव टावरी, अखिल, नेरश डांग आदि ने सहयोग दिया।

थल सेना पाइन डिवीजन में मनाया योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर देश के वीर जवानों ने भी योगाभ्यास किया। थल सेना की पाइन डिवीजन की ओर से शिविर में सैनिकों ने परिवार जनों के साथ योगाभ्यास किया। मुख्य अतिथि ब्रिगेडियर श्री कुमार सेना मेडल रहे।

जगह-जगह लगाए गए शिविर
मोदीपुरम। भारतीय स्टेट बैंक की पल्हैड़ा शाखा द्वारा एटूजेड कालोनी में योग शिक्षिका रेणु और डॉ. नरेंद्र कुमार ने विभिन्न जानकारी दी। शाखा प्रबंधक गुलशन राय चोपड़ा, जगपाल सिंह मौजूद रहे। शील कुंज कॉलोनी में ओमनी बस हेल्थ केयर द्वारा योग शिक्षिका डॉ. सुप्रिया सोंधी ने योग की जानकारी दी। कृषि विश्वविद्यालय में प्रशिक्षक विनोद शर्मा ने योग क्रियाओं के बारे में जानकारी दी। कुलपति डॉ. गया प्रसाद, डीएसडब्लू डॉ. अनिल सिरोही, डॉ. अरविंद राणा मौजूद रहे। दयावती मोदी इंटरनेशनल में आचार्य राहुल पंवार ने जानकारी दी। प्रधानाचार्य रेणू अनेजा, मीनाक्षी चौहान आदि मौजूद रहे।

योगी सरकार के पास नहीं अल्पसंख्यक और पिछडों के लिए बजट

Yogi government does not have the budget for minorities and backward
अल्पसंख्यक कल्याण विभाग कार्यालय में पहुंची छात्रा फरजाना
अल्पसंख्यक और पिछड़े वर्ग की छात्रवृत्ति के लिए सरकार पर बजट नही है। छात्रवृत्ति और प्रतिपूर्ति के लिए आन लाइन आवेदन करने वाले इस वर्ग के 41941 छात्रों में 12338 छात्रों के डाटा संदिग्ध बताकर इनकी जांच कराई गई। जांच के बाद 9040 छात्र पात्र मिले, जब रिपोर्ट आई तो दोनों विभागों ने छात्रवृत्ति वेबसाइट का वेरीफिकेशन पोर्टल बंद कर दिया। इससे पात्र छात्रों का आनलाइन डाटा अपडेट नहीं हो सका और ये छात्रवृत्ति से वंचित रह गए।
सत्र 2016-17 में पढ़ने वाले कक्षा 6 से हायर एजुकेशन लेवल तक पिछड़े वर्ग के 27,114 छात्रों ने छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति को आन लाइन आवेदन किया था।  8302 छात्रों के आवेदन डाटा को संदिग्ध मिला। जिला स्तरीय कमेटी की जांच में 6700 छात्रों को पात्र माना गया था। इसी तरह अल्पसंख्यक वर्ग के कुल 14,827 छात्रों ने आवेदन किया था लेकिन इनमें से 4026 छात्रों के डाटा संदिग्ध बताकर जांच कराई गई थी। जांच के बाद इनमें से 2340 छात्र पात्र मिले थे। छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति के लिए अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी कार्यालय पहुंच रहे छात्र वापस लौट रहे हैं। कार्यालय पहुंची सिसौला खुर्द निवासी बीएड छात्रा फरजाना को प्रतिपूर्ति और गोरखपुर निवासी मेरठ के कालेज का पालीटेक्निक छात्र सुहैल को दोनों ही चीजें नहीं मिली।

क्या है व्यवस्था

सीएम योगी आदित्यनाथ

सरकारी और मान्यता प्राप्त स्कूल कालेजों में पढ़ने वाले कक्षा छह से हायर एजुकेशन लेवल के छात्रों को सरकार द्वारा छात्रवृत्ति और शुल्क प्रतिपूर्ति दी जाती है। कक्षा वार सभी की छात्रवृत्ति निर्धारित है। प्रतिपूर्ति शुल्क अधिकतम दो लाख रुपये तक है।

अब वेरीफिकेशन रोकी
जिला स्तरीय कमेटी ने मार्च में अपनी जांच पूरी कर ली थी। जांच के आधार पर पात्र मिले अभ्यर्थियों का डाटा साइट पर अपडेट होना था, जिसके बाद इन्हें छात्रवृत्ति मिल सकती थी लेकिन जब डाटा अपडेट करने का नंबर आया तो दोनों विभागों ने वेबसाइट का वेरीफिकेशन पोर्टल ही बंद कर दिया। 18 मार्च से पोर्टल बंद है।

ये बोले अफसर 
पिछड़ा वर्ग कल्याण अधिकारी पारिशा मिश्रा का कहना है कि पोर्टल खुलवाने के लिए मुख्यालय को पत्र लिखे गए। बात करने पर बताया गया कि विभाग पर बजट नहीं है। शासनादेश के अनुसार बजट उपलब्ध होने पर ही छात्रवृत्ति और प्रतिपूर्ति शुल्क दिया जाता है। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग का प्रभार देख रहे जिला समाज कल्याण अधिकारी उमेश दिवेद्वी कहते हैं इसके लिए मुख्यालय को लिखा गया है, प्रयास किए जा रहे हैं।

दिल को रखना है फिट, तो इन 10 योगासन को जरूर ट्राई करें

दिल को रखना है फिट, तो इन 10 योगासन  को जरूर ट्राई करें

प्रतीकात्मक तस्वीर

योग न केवल शरीर का लचीलापन, मजबूत मांस पेशियों और तनाव से छुटकारा दिलाता है बल्कि, इसमें सबसे ज्यादा ध्‍यान सांसों पर होता है, जिस कारण हमारी श्वसन प्रणाली दुरुस्त रहती है. इससे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा पर्याप्त होने लगती है, जिसका  सीधा असर हमारे बल्ड सर्कुलेशन और वज़न पर पड़ता है.

तंदरुस्त दिल के लिए ये हैं सबसे आसान 10 योगासन-

1. अंजली मुद्रा

दोनों हाथों को जोड़कर छाती के बीचो बीच रखें और आंखें बंद कर धीरे से सांस अंदर लें, थोड़ी देर सांस रोकें और फिर धीरे धीरे उसे छोड़ें. यही पैटर्न कुछ मिनटों तक जारी रखें.

2. वीरभद्रासन

एक पैर को पीछे की तरफ ले जाएं, वहीं दूसरे पांव को 90 डिग्री एंगल पर स्ट्रेच करें. दोनों हाथों को ऊपर ले जाकर जोड़ें, बिलकुल एक पहाड़ की आकृति जैसा. फिर धीरे धीरे दोनों हाथों को सामने की ओर लाएं और पीछे के पैर को और पीछे सट्रेच करें. ध्यान रहे, दूसरे पैर को उसी अवस्था (यानी 90 डिग्री एंगल) में रहने दें. बारी बारी से दोनों पैरों से इस आसन को करें.

3. सेतु बंधासन

पीठ के बल लेट जाएं, दोनों हाथों को अपनी लंबाई में स्ट्रेच करें. अब धीरे धीरे अपने घुटनों को मोड़ते हुए कमर को ऊपर उठाएं. थोड़ी देर इसी पोजीशन में रहें, फिर नॉर्मल अवस्था में वापस आ जाएं. बार बार इसी पैटर्न को दोहराएं. इस आसन को करने से आपकी कमर, पेट और जांघ शेप में रहेंगे.

4. त्रिकोनासन

दोनों पैरों को फैलाएं. दांए पैर को बाहर की ओर स्ट्रेच करें और बांए हाथ को ऊपर की दिशा में ले जाते हुए कमर को भी दाईं ओर झुकएं. इसी अवस्था में रहते हुए अपनी दाईं हाथेली को जमीन से सटाएं और साथ ही साथ बांए हाथ को ऊपर की तरफ और स्ट्रेच करें. बारी बारी से दोनों तरफ से इसे करें.

5.स्वासासन

जमीन पर लेट जाएं और आंखें बंद कर लें. दोनों हथेलियों को खुला छोड़े और पांव के अंगूठे को बाहर की दिशा में रखें. धीरे धीरे सांस लें और छोड़ें. 5 मिनट तक इसी अवस्था में रहें.

6. सूर्य नमस्कार

यह सबसे मशहूर योगासन है. इसका शाब्दिक अर्थ है सूरज को नमस्कार करना. इसमें कुल 12 योगासन होते हैं जिनमें लगभग शरीर के हर हिससे पर फोकस होता है. सबसे खास बात ये कि अगर केवल हर दिन सूर्य नमस्कार भी कर लिया जाए तो ‘निरोगी काया’ का लक्ष्य हासिल करना आसान हो जाता है.

7.भुजंगासन

पेट की तरफ लेट जाएं और दोनों हाथों को ठीक छाती के पास रखें. धीरे धीरे अपने शरीर को ऊपर की ओर ले जाएं. अपनीं सांसों पर ध्यान केंद्रित करें और अपने पेट को स्ट्रेच करें. इस आसन से आपकी रीढ़ की हड्डी, पेट और बांह फिट रहते हैं. साथ ही चक्कर आने की समस्या भी इस आसन को करने से दूर हो जाती है.

8. पश्चिमोत्तासन

दोनों पैरों को सामने की ओर स्ट्रेच करते हुए एक दूसरे से जोड़ें. धीरे धीरे आगे झुकते हुए, बिना अपने घुटने मोड़े, अपनी नाक को घुटनों से सटाएं. हो सके तो अपने सिर को घुटनों से सटाने की कोशिश करें. इस आसन से शरीर का लचीलापन तो बढ़ता ही है, धड़कनों की रफ्तार भी नियंत्रित रहती है.

9.तड़ासन

यह आसान योगासनों में से एक है. खड़े हो जाएं और दोनों पैरों को बाहर की दिशा में हल्का सा फैलाएं. दोनों हाथों को ऊपर ले जाएं और नमस्कार अवस्था में जोड़ें. गहरी सांस लें और शरीर को स्ट्रेच करें. अंजली मुद्रा जहां बैठकर और हाथों को छाती से सटाकर की जाती है, तड़ासन खड़े होकर हाथों को ऊपर जोड़कर किया जाता है. इस आसन से तनाव दूर होता है.

10. दंडासन

पेट के बल लेट जाएं और दोनों हाथों को छाती के करीब रखें. अब अपने शरीर को ऊपर की ओर ले जाएं और हथेली ओर पैर के निचले हिस्से की मदद से शरीर को बैलेंस करें. सांस रोककर इसी अवस्था में 30-40 सेकेंड तक रहें, फिर रिलैक्स करें.

 

दुनियाभर में मनाया जा रहा योग दिवस, क्रोएशिया में भी लोगों ने बीच पर किया योग

क्रोएशिया में योग दिवस की धूम। (ANI)
 लखनऊ के रमाबाई अंबेडकर मैदान में आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 50 हजार लोगों के साथ योग कर रहे हैं। विश्व योग दिवस के मौके पर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में योग अभ्यास का विशाल शिविर आयोजित किया गया है। इस ऐतिहासिक मौके पर योग की ताकत में विश्वास रखने वाले हजारों लोग पीएम मोदी के साथ लगभग 80 मिनट तक आसन करेंगे। लखनऊ के अलावा देश के कई प्रमुख शहरों दिल्ली, अहमदाबाद, भोपाल, गुवाहाटी, देहरादून, चंडीगढ़ में भी योग शिविर आयोजित किये गये हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, योग गुरु बाबा रामदेव ने लोगों से बड़ी संख्या में योग करने की अपील की है।

7:30  AM: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कर रहे हैं योग।

7: 20 AM: पीएम मोदी ने कहा- मुझे बड़ी खुशी हो रही है यह देखकर की बीते 3 सालों में कई योग इंस्टिट्यूट खुले हैं।

6: 57 AM: प्रधानमंत्री मोदी संबोधित कर रहे हैं। देश और विदेश में योग के बढ़ते चलन के विषय में बता रहे हैं।

6:43 AM: योगी आदित्यानाथ मंच से संबोधित कर रहे हैं।

6:42 AM: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कार्यक्रम में मौजूद है।

6:41 AM: प्रदानमंत्री मोदी योग कार्यक्रम में लखनऊ पहुंच चुके हैं।

5:41 AM: बाबा रामदेव योग की मानव जीवन में जरूरत और शरीर में इसकी फायदे के विषय में बता रहे हैं।

5:40 AM: अहमदाबाद में बाबा रामदेव का योग कार्यक्रम शुरू हो चुका है।

  शांति निकेतन के विद्यर्थियों ने मतदाता जागरूकता विषय पर पोस्टर बनाए

 IMG20170116122650 IMG20170116122851

जिलाधिकारी के निर्देश पर स्वीप ( सुनिश्चित मतदाता   शिक्षा एंव निवार्चक  सहभागिता ) की ओर से आयोजित   मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के तहत शांति निकेतन के विद्यार्थी  विधानसभा चुनाव को लेकर काफी उत्साहित है।  आज विद्यालय में छात्र छात्राओं ने मतदाता जागरूकता पर आकर्षक चित्र बनाकर जनसरोकार के इस कार्य  में अपनी जमकर भागीदारी प्रर्दशित की।

प्रधानाचार्या विभा  गुप्ता  एंव निदेशक श्री विशाल जैन  ने  बच्चों का उत्साहवर्धन किया   ।

 

जवानों के लिए बीएसएफ ने शुरु की हेल्पलाइन

Advertisement
 सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने एक विशेष टेलीफोन आधारित हेल्पलाइन शुरू की है ताकि उसके जवान 31 जनवरी तक गुप्त तरीके से अपनी शिकायतें दर्ज करा सकें। कुछ दिन पहले बल के एक जवान ने सोशल मीडिया पर वीडियो डालकर कथित तौर पर खराब गुणवत्ता वाला खाना मिलने का आरोप लगाया था।

अधिकारियों ने कहा कि बीएसएफ के महानिदेशक केके शर्मा ने गुरुवार देश भर में बल की क्षेत्रीय इकाइयों के साथ उपग्रह आधारित एक सैनिक सम्मेलन किया था। इसमें उन्होंने जवानों से गुप्त तरीके से अपनी शिकायतें उन्हें बताने को कहा। शर्मा ने यहां बीएसएफ मुख्यालय के दो टेलीफोन नंबर भी बताए और कहा कि जवान और अधिकारी इन हेल्पलाइनों पर अपनी कोई भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं, कॉल करते वक्त उनके नाम, रैंक, पदनाम वगैरह नहीं पूछे जाएंगे। उन्होंने कहा कि यह हेल्पलाइन 31 जनवरी तक काम करेगी। उसके बाद वाजिब शिकायतों पर कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

बता दें कि इससे पहले रविवार (नौ जनवरी) को बीएसएफ के कांस्टेबल तेज बहादुर यादव ने फेसबुक पर कई वीडियो शेयर करके सैनिकों को खराब खाना दिए जाने की शिकायत की। बुधवार (11 जनवरी) शाम चार बजे तक इस वीडियो को लाखों से ज्यादा लोग देख चुके हैं। तेज बहादुर ने फेसबुक पर तीन और वीडियो शेयर किए हैं। इन वीडियो में जली रोटी, पानी वाली दाल को दिखाया गया है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तत्काल मामले की जांच का आदेश दे दिया। बीएसएफ ने मामले पर सफायी देते हुए खराब दिए जाने से इनकार किया। लेकिन पूरे मामले में भावनाओं में बहकर इस बात की अनदेखी की जा रही है कि यादव ने अपनी सेवा शर्तों का उल्लंघन किया है।

42 वर्षीय यादव हरियाणा के महेंद्रगढ़ जिले के रहने वाले हैं। वो 1996 में बीएसएफ में भर्ती हुए थे। उन्हें जम्मू-कश्मीर स्थित राजौरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के निकट तैनात किया गया था। वीडियो में यादव ने आरोप लगाया है कि सैनिकों को पिछले 10 दिनों से लगातार जली हुई रोटी और पानी मिली हुई दाल खाने में दी जा रही है। यादव ने आरोप लगाया कि कई बार जवानों को भूखा भी रहना होता है। यादव 2032 में रिटायर होने वाले हैं लेकिन उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) की अर्जी दी है। माना जा रहा है कि वीआरएस स्वीकार किए जाने पर इसी महीने के अंत तक उन्हें सेवा मुक्त किया जा सकता है।

संवेदनशील क्षेत्र में तैनात यादव ने वीडियो पोस्ट करके सुरक्षा बलों पर लागू होने वाली सेवा शर्तों का उल्लंघन किया है। सैन्य बल और अर्ध सैनिक बल की सेवा शर्तें काफी कड़ी होती हैं। इन सेवा शर्तों के अनुसार सुरक्षा बलों के ऊपर से नीचे के पद के अधिकारियों पर अपने विचार सार्वजनिक करने पर रोक होती है, खासकर संवेदनशील मुद्दों पर। यादव द्वारा अपनी दिक्कत को इस तरह फेसबुक पर शेयर करने और उसके वायरल होने से दूसरे सैन्य बलों को भी ऐसा करने की प्रेरणा मिल सकती है।

पिछले कुछ समय से सुरक्षा बलों के अनुशासन का मुद्दा उठता रहा है। फेसबुक और ट्विटर के बढ़ते प्रयोग से स्थिति पहले से चिंताजनक हुई है। पिछले साल “वन रैंक वन पेंशन” आंदोलन के समय व्हाट्सऐप के प्रयोग को सरकार विशेष रूप से चिंतित हो गयी थी। सेना में काम करने वाले अधिकारियों और जवानों द्वारा एनक्रिप्टेड मैसेज सर्विस के प्रयोग से सरकार के लिए उनकी निगरानी मुश्किल हो गयी। साल 2012 में लेह में तैनात एक रेजिमेंट में अफसरों और सैनिकों के बीच मारपीट से सभी लोग स्तब्ध रह गये थे।

नोटबंदी: ‘अपमानित’ महसूस कर रहा RBI स्टाफ, गवर्नर को कहा- इतना नुकसान पहुंचा कि दुरूस्त करना मुश्किल

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल। (File Photo)

नोटबंदी के बाद के घटनाक्रमों से ‘अपमानित’ महसूस कर रहे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के कर्मचारियों ने शुक्रवार (13 जनवरी) को गवर्नर उर्जित पटेल को चिट्ठी लिखकर अपना विरोध दर्ज कराया। कर्मचारियों ने पत्र में नोटबंदी की प्रक्रिया के परिचालन में ‘कुप्रबंधन’ और सरकार द्वारा करेंसी संयोजन के लिए एक अधिकारी की नियुक्ति कर केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता को चोट पहुंचाने का विरोध किया है। पत्र में कहा गया है कि इस कुप्रबंधन से आरबीआई की छवि और स्वायत्तता को ‘इतना नुकसान पहुंचा है कि उसे दुरूस्त करना काफी मुश्किल है।’ इसके अलावा मुद्रा प्रबंधन के आरबीआई के विशेष कार्य के लिए वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी की नियुक्ति को कर्मचारियों ने ‘जबर्दस्त अतिक्रमण’ बताया।

पटेल को संबोधित इस पत्र में यूनाइटेड फोरम ऑफ रिजर्व बैंक ऑफिसर्स एंड इम्पलाइज की ओर से कहा गया है, ‘रिजर्व बैंक की दक्षता और स्वतंत्रता वाली छवि उसके कर्मचारियों के दशकों की मेहनत से बनी थी, लेकिन इसे एक झटके में ही खत्म कर दिया गया। यह अत्यंत क्षोभ का विषय है।’

इस पत्र पर ऑल इंडिया रिजर्व बैंक इम्पलाइज एसोसिएशन के समीर घोष, ऑल इंडिया रिजर्व बैंक वर्कर्स फेडरेशन के सूर्यकांत महादिक, ऑल इंडिया रिजर्व बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन के सी. एम. पॉलसिल और आरबीआई ऑफिसर्स एसोसिएशन के आर. एन. वत्स के हस्ताक्षर हैं। इनमें से घोष और महादिक ने पत्र लिखने की पुष्टि की है।

घोष ने कहा कि यह फोरम केंद्रीय बैंक के 18,000 कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करता है। उल्लेखनीय है कि इससे पहले आरबीआई के तीन पूर्व गवर्नर मनमोहन सिंह (पूर्व प्रधानमंत्री), वाई. वी. रेड्डी और विमल जालान ने रिजर्व बैंक के कामकाज के तरीकों पर सवाल उठाया था। केंद्रीय बैंक के पूर्व डिप्टी गवर्नर उच्च्षा थोराट और के. सी. चक्रवर्ती ने भी इस पर चिंता जताई थी।

हरियाणा निकाय चुनावों में भाजपा की बंपर जीत, नोटबंदी के बाद लगातार पांचवां राज्‍य किया फतेह

भाजपा ने हरियाणा में फरीदाबाद नगर निगम और भिवानी नगर परिषद के चुनावों में जोरदार जीत दर्ज की है।

भाजपा ने हरियाणा में फरीदाबाद नगर निगम और भिवानी नगर परिषद के चुनावों में जोरदार जीत दर्ज की है। पार्टी ने फरीदाबाद में 40 में से 30 सीटों पर कब्‍जा जमाया। कांग्रेस यहां पर एक भी सीट नहीं जीत पाई। 10 सीटों पर निर्दलीय उम्‍मीवार विजयी रहे हैं। यहां पर पहली बार भाजपा का मेयर बनने जा रहा है। चुनाव में केंद्रीय मंत्री कृष्‍णपाल सिंह गुर्जर के बेटे भी खड़े हुए थे। उन्‍होंने नौ हजार वोट से जीत दर्ज की है। चुनावों के दौरान बसपा ने भी उम्‍मीदवार उतारे थे। पिछली बार उसके तीन पार्षद बने थे लेकिन इस बार उसे एक भी सीट नहीं मिली। चुनावों के दौरान बसपा और निर्दलीयों ने नोटबंदी का मुद्दा उठाया था। फरीदाबाद में 8 जनवरी को निकाय चुनाव हुए थे। वहीं भिवानी में भाजपा ने सिंबल दिए बिना प्रत्‍याशी मैदान में उतारे। इसके चलते उसे फायदा हुआ और उसने 31 में से 18 वार्ड जीते। कांग्रेस को केवल एक और इनेलो को दो सीटों से संतोष करना पड़ा।

हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और केंद्रीय मंत्री कृष्‍णपाल सिंह गुर्जर ने जीत का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया है। भाजपा नेताओं का कहना है कि नतीजे मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले पर मुहर है। इससे पहले भाजपा ने चंडीगढ़ नगर निगम चुनाव में भी जबरदस्त जीत दर्ज की थी। भाजपा ने चंडीगढ़ में कुल 26 सीटों में से 20 सीटों पर जीत दर्ज की थी। नोटबंदी के ऐलान के बाद से भाजपा को सभी चुनावों में जीत हासिल हुई है। उसने यहां से पहले गुजरात, महाराष्‍ट्र, राजस्‍थान और मध्य प्रदेश में भी निकाय चुनाव फतेह किए थे। इसमें बड़ी बात यह भी है कि सभी निकाय चुनावों में भाजप की जीत का अंतर बड़ा रहा है। कांग्रेस के लिए कहीं से भी अच्‍छी खबर नहीं मिली। हालांकि यह भी एक तथ्‍य है कि जिन भी राज्‍यों में निकाय चुनाव हुए हैं वहां पर भाजपा का राज है।

इसी साल होने जा रहे पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा के लिए यह उत्‍साहजनक खबर है। हालांकि नोटबंदी के फैसले पर जनता का रुख क्‍या है यह पांच राज्‍यों के चुनावों से पता चलेगा। पंजाब, गोवा, उत्‍तराखंड, उत्‍तर प्रदेश और मणिपुर में चुनावों की शुरुआत फरवरी से होने जा रही है। 11 मार्च को इन चुनावों के नतीजे आएंगे। पंजाब और गोवा में भाजपा सत्‍ता में है। नोटबंदी के बाद यह पहले बड़े चुनाव है। भाजपा नोटबंदी और सर्जिकल स्‍ट्राइक को इन चुनावों में मुद्दा बना रही है। वहीं विपक्ष नोटबंदी से हुर्इ परेशानी को भुनाना चाहेगा। इन राज्‍यों के चुनाव नतीजे नरेंद्र मोदी के नेतृत्‍व वाली केंद्र सरकार के आधे कार्यकाल पर जनमत की तरह होगा।