Category Archives: Crime

15 घंटे के भीतर फिर डबल मर्डर, किसान और उनकी पत्नी की गोलियों से भूनकर हत्या

In Yogiraj, the courage of the accused, double murder again within 15 hours
जांच करती पुलिसPC: अमर उजाला ब्यूरो
अलीपुर मोरना के जंगल में खेत से चारा लेकर बुग्गी से लौट रहे किसान और उनकी पत्नी की सोमवार सुबह गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। इस दौरान किसान के बेटे ने खेत में भागकर किसी तरह जान बचाई। हमलावरों ने दंपति के शरीर पर भी चाकुओं से भी हमला किया। वहीं घटनास्थल से कुछ दूरी पर खड़ा 15 वर्षीय किशोर भी पैर में गोली लगने से घायल हो गया। हमलावरों ने किसान के बेटे की हत्या के लिए भी उसके घर तक पीछा किया। उधर, गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिस अफसरों को घेर लिया और शव नहीं उठने दिए। पिता की हत्या का बदला लेने के लिए आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया है।
अलीपुर मोरना निवासी प्रेम सिंह भाटी (58) पुत्र सुक्कन सिंह किसान थे। सोमवार सुबह प्रेम सिंह अपनी पत्नी मुनेश (53) और बड़े बेटे जोगेंद्र के साथ खेत से चारा लेकर भैंसा बुग्गी से घर जा रहे थे। गांव से करीब पांच सौ मीटर पहले जंगल के रास्ते में तीन बाइकों पर आधा दर्जन युवक हाथ में पिस्टल और तमंचे लेकर पहुंचे। जैसे ही हमलावरों ने पिस्टल से फायरिंग की तो किसान का बेटा जोगेंद्र बुग्गी से कूदकर ईख के खेत के रास्ते से भाग निकला। उसके बाद हमलावरों ने प्रेमसिंह और उनकी पत्नी की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। खून से लथपथ किसान और उनकी पत्नी बुग्गी से सड़क पर गिर पड़े, उसके बाद भी हमलावर गोली दागते रहे। किसान के सिर, कनपटी और कंधे के पास और सीने में पांच गोली लगी हैं, जबकि महिला के सिर, नाक के पास और और सीने समेत पांच गोली मारी हैं। उन पर चाकुओं से भी वार किए गए। इस बीच 15 वर्षीय अंश पुत्र भूपेंद्र पर भी फायर किया, उसके दाहिने पैर में गोली लगी है। घायल को सीचएसी में भर्ती कराया गया।

ग्रामीणों ने पुलिस के खिलाफ की नारेबाजी

मृतक की फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो

दिनदहाड़े पति पत्नी की हत्या से गांव में सनसनी फैल गई। मौके पर सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ जुट गई। सूचना पर यूपी 100 और एसओ हस्तिनापुर पहुंचे। बाद में एसपी देहात राजेश कुमार कई थानों की फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। पुलिस ने शव गाड़ी में रखे तो आक्रोशित लोगों ने एसओ के खिलाफ नारेबाजी कर पुलिस को घेर लिया। घंटो तक ग्र्रामीणों ने शव नहीं जाने दिए। एसपी देहात और तहसीलदार राजबहादुर ने आर्थिक सहायता का आश्वासन दिया, जिसके बाद दोनों शव को उठने दिया गया। पुलिस ने शवों को मोर्चरी भेज दिया। एसपी देहात ने बताया कि मृतक के पुत्र जोगेंद्र सिंह ने गांव निवासी सोनू पुत्र धर्म सिंह, मोनू पुत्र कंवरपाल, मान सिंह पुत्र जिलेराम, गुड्डू पुत्र रणवीर उर्फ लीले, राहुल पुत्र दुष्यंत और अजय पुत्र अजीतपाल निवासी ग्राम निडावली व तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

गैर कश्मीरी के लश्कर में शामिल होने से उड़े होश, मां घरों में करती है चौका-बर्तन

non-Kashmiri joining Lashkar
यहां किराए पर रहता है संदीप का परिवारPC: अमर उजाला ब्यूरो
लश्कर-ए- तैयबा में संदीप शर्मा कब शामिल हो गया किसी को कानों कान खबर तक नहीं लगा। उसके परिवार वालों को भी जानकारी नहीं है। उसके घर की माली हालत ठीक नहीं है। शहर में किराए के एक कमरे में रहकर उसकी मां घरों में चौका-बर्तन कर किसी तरह गुजर-बसर करती है। पुलिस ने आतंकी की मां और भाभी को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। पहली बार किसी गैर कश्मीरी युवक के लश्कर में शामिल पाए जाने से खुफिया एजेंसियों के होश उड़ गए हैं।

सात माह पहले भाई के पास किया था फोन

पुलिस हिरासत में आतंकी की मां और भाभीPC: अमर उजाला ब्यूरो

नईमंडी थाने के मुस्तफाबाद-पचेंडा गांव निवासी 24 वर्षीय संदीप शर्मा अपने पिता रामकुमार शर्मा, भाई प्रवीण शर्मा के साथ यहां रहता था। वर्ष 1990 में गांव का मकान बेचकर शहर की आदर्श कॉलोनी में घर बनाया था। बाद में यह मकान भी बेच दिया। संदीप के ताऊ राजकुमार से उसके परिवार के संबंध में जानकारी मिली। उन्होंने बताया कि संदीप के पिता रामकुमार हिमाचल में अंबा रोलिंग मिल में काम करते थे। पेट में इंफेक्शन होने की वजह से वर्ष 2006 में उनकी मौत हो गई थी। संदीप शर्मा की शहर के मालवीय विद्यामंदिर देवपुरम में कक्षा नौ तक पढ़ाई हुई। पढ़ाई में मन नहीं लगने पर उसने एक दुकान पर वेल्डिंग का काम सीखा। वर्ष 2011 में संदीप शर्मा मुंबई चला गया। वहां उसने किसी ठेकेदार के साथ वेल्डिंग का काम किया। अंतिम बार संदीप को वर्ष 2013 में अपने दादा मायाराम की तेरहवीं में देखा गया था। उसके बाद से वह मुजफ्फरनगर नहीं आया। सात माह पहले संदीप का अपने भाई प्रवीण के पास फोन जरूर आया था। प्रवीण को उसने बताया था कि उसे जम्मू में एक ठेकेदार के यहां 12 हजार रुपये प्रतिमाह की तनख्वाह पर वेल्डिंग का काम मिल गया है। कुछ दिन बाद भाई ने उसी नंबर पर कॉल की, तो वह नंबर उसके मकान मालिक का निकला। बाद में उस मकान को वह छोड़ चुका था।

संदीप का भाई हरिद्वार में टैक्सी चालक

संदीप का ताऊ राजकुमार शर्माPC: अमर उजाला ब्यूरो

माना जा रहा है कि मुंबई में जिस ठेकेदार के साथ संदीप ने काम किया, वहीं से आतंकी तंजीमों से उसके तार जुड़ गए। संदीप का भाई हरिद्वार में टैक्सी चालक है। वह भी तीन-चार माह में एक बार मुजफ्फरनगर आता है। उसने न्यू अंकित विहार कॉलोनी में बरनावा के मूल निवासी गजेंद्र त्यागी के मकान में तीसरी मंजिल पर एक कमरा किराए पर लिया हुआ है। संदीप की मां प्रेमवती और प्रवीण की पत्नी रेखा अपने दो बच्चों के साथ इसी कमरे में रहते हैं। घर की माली हालत बेहद खराब है। प्रेमवती आसपास के घरों में चौका-बर्तन और उसकी बहू रेखा लोगों के घरों में खाना बनाने का काम करती है। रेखा के दो बच्चे आर्यन (7) और पीहू (3) भी साथ रहते हैं। बड़ी बेटी 13 वर्षीय मानू अपने मामा के घर खानपुर लक्सर में रहती है। संदीप के लश्कर से जुड़े होने की खबर मिलते ही प्रशासनिक मशीनरियां सक्रिय हो गई।  सोमवार दोपहर पुलिस पता खोजते हुए न्यू अंकित विहार पहुंची। पुलिस ने प्रेमवती और उसकी बहू रेखा को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। पुलिस ने फोन कर उसके भाई को भी हरिद्वार से बुलाया है। पहली बार किसी गैर कश्मीरी के लश्कर में शामिल पाए जाने से खुफिया एजेंसियों के होश उड़े हुए हैं। यह जानकारी जुटाई जा रही है कि संदीप शर्मा को लश्कर तक पहुंचाने वाले कौन हैं। वह कैसे उनके संपर्क में आया। स्थानीय स्तर पर कुछ और युवक उसके संपर्क में हैं या नहीं इन सब तथ्यों की गहनता से प्रारंभिक स्तर पर छानबीन की जा रही है।

पुलिस को घर तलाशने में लगे चार घंटे

आतंकी से संबंध में जानकारी लेती पुलिसPC: अमर उजाला ब्यूरो

जम्मू-कश्मीर में लश्कर आतंकी संदीप शर्मा उर्फ आदिल के पकड़े जाने के बाद स्थानीय पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों में खलबली मच गई है। पूरे मामले में जम्मू-कश्मीर और यूपी पुलिस में तालमेल की कमी देखी गई। जम्मू में प्रेस कांफ्रेंस होने के बाद ही स्थानीय पुलिस को इस मामले की जानकारी हुई। आतंकी का घर तलाशने में पुलिस को चार घंटे लग गए। गाजियाबाद से आई एटीएस की टीम भी दोनों महिलाओं से पूछताछ करने में जुटी हुई है।

मां और भाभी से गोपनीय स्थान पर हो रही पूछताछ

आतंकी के घर की सूचना पर पहुंची पुलिसPC: अमर उजाला ब्यूरो

सोमवार को जम्मू में आईजी मुनीर खां ने मीडिया को अनंतनाग में मुठभेड़ के दौरान लश्कर-ए तैयबा के आतंकवादी संदीप शर्मा उर्फ आदिल को गिरफ्तार करने की जानकारी दी। एसएसपी अनंत देव ने जम्मू के आईजी से संपर्क कर इस संबंध में जानकारी ली। जानकारी मिली कि आतंकवादी संदीप शर्मा उर्फ आदिल पुत्र रामकुमार शर्मा मुजफ्फरनगर के सरवट इलाके की गली नंबर नौ का निवासी है। इसी जानकारी के बाद पुलिस और खुफिया विभाग उसके मकान की तलाश में जुट गया। चार घंटे के बाद पुलिस को कामयाबी मिली। पता चला कि आतंकी संदीप शर्मा मूल रूप से नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गांव मुस्तफाबाद का निवासी है। मुस्तफाबाद गांव पहुंची पुलिस को पता चला कि उनका परिवार तीन दशक पहले गांव से मकान बेचकर शहर चला गया था। पुलिस ने जानकारी जुटाई तो नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के पॉश इलाके गांधी कालोनी के उप कालोनी न्यू अंकित विहार में संदीप शर्मा का मकान मिला। यहां परिजन किराए के मकान में रहते हैं। घर पर संदीप की मां प्रेमवती, भाभी रेखा और दो बच्चे सात साल का भतीजा आर्यन और तीन साल की भतीजी पीहू मिले। इसी बीच गाजियाबाद से यहां पहुंची एटीएस की टीम ने संदीप शर्मा की मां और भाभी को अपनी हिरासत में ले लिया। दोनों से किसी गोपनीय स्थान पर ले जाकर गहन पूछताछ की जा रही है। संदीप के भाई प्रवीण से संदीप के बारे में जानकारी लेने के लिए एक टीम हरिद्वार गई है।

भाई से पूछताछ करने एक पुलिस की एक टीम हरिद्वार रवाना

आतंकी के बारे में जानकारी देते एसएसपी अनंत देवPC: अमर उजाला ब्यूरो

मुजफ्फरनगर के एसएसपी अनंत देव ने बताया कि कश्मीर में पकड़ा गया आतंकी संदीप शर्मा यहां मुस्तफाबाद का मूल निवासी है। वर्तमान में उसके परिजन अंकित विहार में रहे हैं। पुलिस ने संदीप की मां और भाभी को हिरासत में लिया है, जिनसे संदीप के बारे में पूछताछ की जा रही है। उसके भाई से पूछताछ के लिए एक टीम को हरिद्वार भेजा गया है।

महिला से दिनदहाड़े चेन लूटी

chain loot with lady
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
पल्लवपुरम में सोमवार दिनदहाड़े बाइक सवार दो बदमाशों ने एक महिला से घर के पास ही पिस्टल के बल पर चेन लूट ली।
पल्लवपुरम फेज-दो एनएच पॉकेट निवासी ठेकेदार नरेंद्र शर्मा की पत्नी पत्नी अनीता दोपहर को बच्चे को ट्यूशन छोड़कर घर आ रही थीं। घर के पास ही बाइक सवार दो बदमाशों ने अनीता पर पिस्टल तानते हुए गले से चेन तोड़ ली। विरोध करने पर एक बदमाश ने उन्हें गोली मारने की धमकी दे दी, जिस पर अनीता घबरा गईं। बदमाशों के फरार होने के बाद अनीता का शोर सुनकर वहां कॉलोनी के लोग पहुंचे। सूचना पर पहुंची पल्लवपुरम पुलिस ने बदमाशों की तलाश की। लेकिन उनका सुराग नहीं लगा। भाजपा के मंडल महामंत्री विक्रांत ढाका ने कहा कि एक माह में पल्लवपुरम में चेन लूट की कई घटनाएं हो चुकी हैं। पुलिस को इस पर अंकुश लगाना चाहिए। एसओ पल्लवपुरम के अनुसार रिपोर्ट दर्ज कर कार्यवाही की जा रही है।

दोस्त को जलाकर मार डाला, लॉकेट ने खोल दिया राज

Seeing 'blind law' hit friend, did not escape the law
आरोपी को गिरफ्तार कर पुलिस ने किया खुलासा
वैसे तो आप हत्या, लूट, चोरी और गैंगरेप जैसी घटनाएं आये दिन सुनते व पढ़ते रहते होंगे, लेकिन जिस वारदात के बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं उसे जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

दो दिन पूर्व साईंपुरम के पीछे मिले शव की शिनाख्त होने के साथ ही चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। कर्ज में डूबे एक युवक ने अंधा कानून फिल्म देखकर अपने ही दोस्त की हत्या की पटकथा लिख डाली। शव की पहचान न हो, इसलिए उसे तेजाब से जला दिया। इस शव को अपना दर्शाने के लिए अपना आधार कार्ड और शर्ट वहां डाल दी। लेकिन कानून की गिरफ्त से बच नहीं पाया और ब्रह्मपुरी थाना पुलिस ने उसे जिंदा गिरफ्तार कर इसका खुलासा कर दिया।

यह था मामला
ब्रह्मपुरी थानाक्षेत्र अंतर्गत साईंपुरम में खाली पड़े प्लाट में 27 जून को एक युवक का लावारिस शव मिला था। शव बुरी तरह से जला हुआ था, जिसकी शिनाख्त नहीं हुई थी। पुलिस ने शव के पास से एक आधार कार्ड और अधजली शर्ट बरामद की थी। यह आधार कार्ड मोबीन पुत्र मुनफेद निवासी इत्तफाक नगर लिसाड़ी गेट के नाम का था। जिस पर पुलिस शव को मोबीन का समझकर उसके घर पहुंची तो परिजनों ने भी दो दिन से उसका कोई अता- पता न होने की बात कही।

ताबीज ने खोली पोल

शातिर बदमाश

इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी अजय अग्रवाल को शक हुआ कि आखिर शव के पास आधार कार्ड क्यों पड़ा मिला। स्थानीय लोगों ने बताया कि मोबीन का एक दोस्त आरिफ उर्फ मामा (25) पुत्र गफ्फार निवासी शानदार गार्डन लिसाड़ी गेट है। पुलिस आरिफ के घर गई और परिजनों से पूछताछ की। परिजनों ने शव देखा। गले में ताबीज और चप्पल के आधार पर परिजन बोले कि यह शव आरिफ का है।

कर्ज से बचने के यह ड्रामा
सीओ ब्रह्मपुरी धर्मेंद्र चौहान के अनुसार हत्यारोपी मोबीन को दिल्ली रोड से गिरफ्तार कर लिया गया। उसे बृहस्पतिवार को मीडिया के सामने पेश किया गया। सीओ के मुताबिक आरोपी मोबीन ने बताया वह फल मंडी में काम करता था। व्यापारियों का उस पर एक लाख रुपये से ज्यादा का कर्ज है। आरिफ उसका दोस्त था। उसने आरिफ को शराब पिलाकर गला घोटकर मारा था और पहचान छिपाने के लिए शव तेजाब से जलाया था। लोग यह शव मेरा (मोबीन का) समझें इसलिए शव के पास अपना आधार कार्ड और शर्ट डाली थी। ताकि मेरे मरने का पता चलने पर कोई व्यापारी तगादा न कर सके।

मुंबई भागना चाहता था 
इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी ने बताया कि हत्यारोपी मोबीन मुंबई भागना चाहता था। मोबीन ने बताया कि उसने अंधा कानून फिल्म देखकर अपने दोस्त की हत्या कर खुद को अंडरग्राउंड करने का प्लान बनाया था। वह मुंबई भागने की फिराक में था। लेकिन उससे पहले ही पुलिस के हत्थे चढ़ गया। हत्यारोपी की निशानदेही पर आरिफ के कपड़े एक झाड़ी से बरामद कर लिए गए।

जीरो माइल पर छेड़छाड़, कंडक्टर धुना

जीरो माइल पर छेड़छाड़, कंडक्टर धुना
मेरठ। जीरो माइल पर शुक्रवार को एक महिला से प्राइवेट बस के कंडक्टर ने छेड़छाड़ कर दी। महिला ने शोर मचाया तो लोगों ने घेराबंदी कर कंडक्टर को पकड़कर जमकर धुनाई कर दी। पुलिस ने आरोपी गिरफ्तार कर लिया। गंगानगर क्षेत्र की एक महिला अपनी सहेली के साथ बेगमपुल से सामान लेकर जीरो माइल पर टेंपो के इंतजार में खड़ी थी। आरोप है कि मेरठ-सरूरपुर मार्ग पर चलने वाली प्राइवेट बस का कंडक्टर और तीन युवक वहां खडे़ थे। महिला से कंडक्टर मोंटी उर्फ अभिषेक निवासी सरूरपुर ने छेड़छाड़ कर दी। जिस पर महिला ने शोर मचाना शुरू कर दिया। कंडक्टर ने खुद को बेकसूर बताया तो महिला ने हंगामा करना शुरू कर दिया। मौके पर पहुंचे लालकुर्ती थाने के दरोगा जयवीर सिंह मलिक कंडक्टर को भीड़ से बचाकर थाने ले आए। महिला ने तहरीर दे दी। इंस्पेक्टर लालकुर्ती सुधीर कुमार ने बताया कि आरोपी पर छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हो गया है।
– महिला के शोर मचाने पर लोगों ने कंडक्टर की धुनाई की

आशिकी में गिरफ्तार लुटेरे कानून की कैद में

love arrest caught by police
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
शहर के लिए सिरदर्द बने सात लुटेरे पुलिस के हत्थे चढ़ गए। आशिकी में गिरफ्तार में ये लुटेरे प्रेमिकाओं को खुश करने के लिए चेन या मोबाइल फोन लूटते थे। पुलिस का दावा है कि इन लुटेरों ने 100 से अधिक वारदातें कबूली हैं। जिनसे लूटी गई सोने की चेन, नगदी और मोबाइल फोन बरामद हुए है। एसपी सिटी मान सिंह चौहान ने प्रेस वार्ता में ये खुलासा किया। इस दौरान एएसपी अंकित मित्तल, सीओ रणविजय सिंह, इंस्पेक्टर ब्रह्मपुरी अजय अग्रवाल, सदर इंस्पेक्टर पंकज पंत और एसओ लिसाड़ी गेट धर्मेंद्र कुमार मौजूद रहे।
दो उंगलियों से चेन पार करने वाला बिलाल सरगना
सदर पुलिस ने महताब तिराहे से बिलाल निवासी उमर गार्डन, लिसाड़ी गेट निवासी फिरोज उर्फ भूरा और खत्ता रोड ब्रह्मपुरी निवासी समीर और शारदा रोड निवासी मयूर को दबोचा। मयूर मूल रूप से सतारा, महाराष्ट्र का रहने वाला है। ये बदमाश लूट की चेन का सौदा करने जा रहे थे। मौके से इनके साथी शानू निवासी लिसाड़ी गेट और खत्ता रोड निवासी आसिफ, तसलीम और सरताज फरार हो गए। बिलाल इनका सरगना है। उसके केवल दो उंगली और अंगूठा है। इन्हीं दो उंगलियों में वह बड़ी सफाई से गले से चेन उड़ा लेता था जबकि राह चलते मोबाइल झपट लेता था। इन पर 14 मुकदमे दर्ज हैं।

टिंगू मास्टर सबसे शातिर 
मयूर की लंबाई पांच फुट से भी कम है। लेकिन बेहद शातिर है। यही लूट की चेन गलाकर बेचता है। इसका तरीका वह जानता है। बिलाल, भूरा पहले भी देहली गेट थाने से जेल जा चुके हैं।

महंगे गिफ्ट, सैर सपाटा
एसपी सिटी के अनुसार इन आरोपियों ने आशिकी के चक्कर में जरायम का रास्ता अपनाया। लूटी गई रकम से ये युवक अपनी प्रेमिकाओं को महंगे गिफ्ट देने के अलावा सैरसपाटा कराते थे। इन्होंने अधिकतर वारदात शहर में ही की हैं।

सीसीटीवी फुटेज से धरे लुटेरे
लिसाड़ी गेट पुलिस ने सरताज और शाहिद निवासी खत्ता रोड ब्रह्मपुरी को गिरफ्तार किया। सरताज ने बिलाल के साथ मिलकर प्रह्लाद नगर में मॉर्निंग वॉक के दौरान सराफ से दो चेन लूटी थीं। ये वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई थी। उसकी मदद से पुलिस इन तक पहुंची। सरताज पर नौ और शाहिद पर सात मुकदमे हैं।

जीशान भी धरा गया
ब्रह्मपुरी पुलिस ने सरस्वती लोक के पास लुटेरे जीशान निवासी श्याम नगर लिसाड़ी गेट को धर लिया। उसने 19 जून को सराय देहली गेट के दीपक अग्रवाल से बागपत रोड पर अपने साथी समर खान के साथ मिलकर मोबाइल लूटा था। समर पहले ही पकड़ा गया था।

ये वारदात खुलीं
19 जून : माल रोड पर महिला से चेन लूट
सदर थाने के सामने से मोबाइल और कैश लूट
15 जून : प्रह्लाद नगर से सराफ से दो चेन लूट
15 जून : प्रेम प्रयाग कालोनी में चेन लूट
26 मई : इंद्रा चौक से मोबाइल लूट
29 मई : आनंद अस्पताल के सामने से चेन लूट
13 जून : बहादुर मोटर्स के सामने महिला से मोबाइल, पर्स लूट
19 जून : बागपत अड्डे से युवक से मोबाइल लूट

बरामदगी
13 मोबाइल फोन, 4 सोने की चेन, 3 बाइक, 23 हजार रुपये, स्मैक पाउडर, चरस

बंगलूरू के ठग की करतूत, मेरठ निवासी से ऐसे ठगे 50 लाख

The thugs of Bangalores thugs, 5 million such frauds from Meerut resident
50 लाख ठगे
बंगलूरू के ठग की करतूत जिसने देखी, वही हैरान रह गया। 50 लाख कीमत के स्क्रैप के बदले ठग ने बंगलूरू से बोरों में भरकर मिट्टी भेज दी। लालकुर्ती पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी ठग को बंगलूरू से गिरफ्तार कर लिया। जिससे पूछताछ की जा रही है।
पुलिस के अनुसार ब्रह्मपुरी थानाक्षेत्र के शिव शक्तिनगर निवासी अंकित जैन का दिल्ली में स्क्रैप का बड़ा कारोबार है। एक माह पहले अंकित ने लालकुर्ती के एक होटल में बंगलूरू के एक कारोबारी से स्क्रैप की डील की थी। जिसके लिए 50 लाख रुपये अंकित ने बंगलूरू भेजे थे। बंगलूरू से ट्रांसपोर्ट से स्क्रैप के बदले मिट्टी के बोरे आए तो अंकित हैरान रह गए। उन्होंने बंगलूरू के कारोबारी से बात की तो वह स्क्रैप भेजने की बात कहने लगा। 50 लाख रुपये की ठगी होने पर अंकित ने लालकुर्ती थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया। पुलिस ने गंभीरता से जांच की और लालकुर्ती थाने की एक टीम पांच दिन पहले बंगलूरू रवाना हो गई। पुलिस ने आरोपी साबिर निवासी बंगलूरू को गिरफ्तार कर लिया।

सर्विलांस से मिली सही लोकेशन

मेरठ निवासी से 50 लाख ठगे

लालकुर्ती थाने की एसएसआई नेहा चौहान और तीन पुलिसकर्मी बंगलूरू पहुंचे। आरोपी साबिर का कोई निश्चित पता नहीं था। एसएसआई ने मेरठ सर्विलांस सेल में साबिर का मोबाइल नंबर भेजा। सर्विलांस की मदद से लोकेशन लेते हुए पुलिस टीम ने आरोपी साबिर को बंगलूरू के एक गांव से दबोच लिया। साबिर को अंदाजा भी नहीं था कि मेरठ पुलिस उसे तलाशते बंगलूरू आ जाएगी।

आज करेगी पुलिस खुलासा 
इंस्पेक्टर लालकुर्ती सुधीर कुमार का कहना है कि पुलिस टीम आरोपी को बंगलूरू से लेकर सोमवार देर रात मेरठ पहुंची है। आरोपी अभी भी बंगलूरू से स्क्रैप भेजने की ही बात कह रहा है। पुलिस आज वारदात का खुलासा करेगी।

होटल संचालक की चाकू गोंदकर हत्या

दुहाई स्थित मनन धाम मंदिर के पास एनएच-58 पर रविवार रात साढ़े बारह बजे एक होटल संचालक की बाइक सवार दो लोगों ने चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। पब्लिक ने एक हत्यारोपी को मौके से ही दबोच लिया।

दोनों हत्यारोपी आपस में जीजा-साला हैं। बताया गया कि होटल से खाना न देने पर बाइकर्स ने पहले नौकर को पीटा और फिर होटल संचालक पर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर दिए। पुलिस ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर गिरफ्तार आरोपी जीजा को जेल भेज दिया। साले की तलाश की जा रही है।

मेरठ के खरखौदा थाना क्षेत्र के धनतला गांव निवासी जगपाल भड़ाना (45) ने अपने साथी प्रिंस त्यागी और संदीप निवासी गीता कालोनी, दिल्ली ने 10 दिन पूर्व हाईवे पर दुहाई स्थित मनन धाम मंदिर से सटे ऊं नम: शिवाय होटल किराए पर लिया था।

होटल चलाने के लिए वह तीनों और नौकर विनोद निवासी गढ़वाल उत्तराखंड आजकल होटल पर ही रुकते हैं। रविवार रात साढे़ बारह बजे होटल पर बाइक सवार दो युवक आए। उन्होंने नौकर विनोद ने खाना खिलाने को कहा।

नौकर ने होटल में खाना खत्म होने की बात कही। इस पर दोनों युवकों ने उसे चांटा मार दिया। झगड़े की आवाज सुनकर जगपाल भड़ाना होटल से बाहर आए तो उनकी भी दोनों युवकों से कहासुनी हो गई।

इस बीच एक युवक ने मेज पर रखा चाकू उठाया और जगपाल पर ताबड़तोड़ वार कर दिए। घायल जगपाल ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। शोर-शराबा सुनकर प्रिंस और संदीप भी होटल के बाहर आ गए। आरोपियों ने प्रिंस त्यागी पर हमला कर दिया।

हमले में प्रिंस और संदीप भी घायल हो गए। इसके बाद लोगों की मदद से एक युवक को दबोच लिया और पीटकर उसे कमरे में बंद कर दिया। हालांकि उसका साथी भागने में कामयाब रहा।

सीओ सदर पवन कुमार ने बताया कि प्रिंस त्यागी की तहरीर पर वेणू प्रियंकुल सैन निवासी डीडीए जनता फ्लैट प्रहलादपुर दिल्ली और विशाल गुप्ता निवासी जलालपुर रोड मुरादनगर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

वेणूू और विशाल आपस में जीजा-साले हैं। पुलिस ने जीजा वेणू को जेल भेज दिया है। उन्होंने बताया कि साले विशाल को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

रात में बाइक से होटल पहुंचे दोनों युवकों में से एक ने खुद को क्राइम ब्रांच और दूसरे युवक ने खुद को मीडियाकर्मी बताकर खाना मांगा था। जब होटल के नौकर विनोद ने खाना खत्म होने की बात कही तो आरोपियों ने उसे चांटा जड़ दिया। इसके बाद होटल मालिक जगपाल भड़ाना के होटल से बाहर आने पर मामला और बढ़ गया था।

एमडीए के 11 कर्मचारी निलंबित, कई पर तलवार

mda 11 employees suspend
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
वीसी कार्यालय पर हंगामा करने के मामले में सख्त एक्शन लिया गया है। एमडीए के 11 कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया है। जिनमें गिरफ्तार दोनों कर्मचारी भी शामिल हैं। माना जा रहा है कि इतने ही कर्मचारियों के खिलाफ अभी और कार्रवाई होगी।

शनिवार को एमडीए के उपाध्यक्ष योगेंद्र यादव के कार्यालय में कर्मचारियों द्वारा किया गया हंगामा प्रकरण अब और गंभीर होता जा रहा है। इसमें पचास से ज्यादा कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज कराया गया। रविवार सुबह ही पुलिस ने कर्मचारी यूनियन अध्यक्ष सुशील त्यागी तथा बलराम सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। अब सोमवार को वीसी ने लिपिक सुशील त्यागी, कपिल शर्मा, महेश शर्मा, संजीव कपिल, अनुचर आशाराम, हरि सिंह तथा  पंकज गुप्ता एवं मेट कुलदीप, घनश्याम, बलराम सिंह और महाराज सिंह को निलंबित कर दिया। वीसी ऑफिस में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के आधार पर यह कार्रवाई की गई।

तीन जेई के खिलाफ शासन को रिपोर्ट
बताया जा रहा है कि इस हंगामे के दौरान मौजूद रहने वाले तीन अवर अभियंताओं के खिलाफ भी शासन को रिपोर्ट प्रेषित की गई है। हालांकि यहां उन पर सीधा एक्शन नहीं लिया गया है। लेकिन इस बाबत शासन को अवगत कराया गया है। इनमें प्रांतीय स्तर के पदाधिकारी भी शामिल हैं।

गिरफ्तार कर्मचारियों की जमानत अर्जी खारिज
इस प्रकरण में गिरफ्तार कर्मचारी सुशील त्यागी और बलराम के जमानत प्रार्थना पत्र को न्यायालय सीजेएम ने सोमवार को खारिज कर दिया। आरोपियों की ओर से एडवोकेट अजय शर्मा, महावीर त्यागी, शिव शर्मा और संजय त्यागी ने पक्ष रखा तो वहीं सरकार की ओर से डीजीसी फौजदारी अनिल तोमर, संयुक्त निदेशक अभियोजन रूबी यादव, और अमित दीक्षित अधिवक्ताओं ने पक्ष रखा। आरोपी पक्ष की ओर से कहा गया कि उन्हें फर्जी तरीके से फंसाया गया है। वे कुछ मांगों को अधिकारियों के सामने रखने गए थे। वहीं, अभियोजन पक्ष ने दलील दी कि यदि सरकारी कार्य में इस प्रकार व्यवधान खुद सरकारी कर्मचारियों द्वारा किया जाता है तो एमडीए में कोई भी कार्य स्वच्छ स्तर से हो पाना संभव नहीं होगा। न्यायालय सीजेएम तरवेज आलम ने उचित आधार न पाते हुए जमानत याचिका खारिज कर दी।

एमडीए कर्मचारी नेताओं को समर्थन
गिरफ्तार एमडीए कर्मचारी नेताओं के पक्ष में निगम कर्मचारी भी आ गए हैं। स्वायत्त शासन कर्मचारी संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष नवल सिंह राघव एवं प्रांतीय मंत्री बाबू राम सैनी ने कहा कि अगर एमडीए कर्मचारी हड़ताल करते हैं तो निगम के कर्मचारी उसका पूर्ण समर्थन करेंगे। निगम कर्मचारी संघ के पूर्व अध्यक्ष ऋषिपाल ने कहा कि कर्मचारियों की आवाज को दबाया जाना ठीक नहीं है।

पुराने कई मामलों से भी घेरने की तैयारी
एमडीए ने इस बार पूरी तरह से कर्मचारियों को घेरने की तैयारी कर ली है। जहां पल्लवपुरम में फर्जी ढंग से की गई एक रजिस्ट्री के दस्तावेज निकाले जा रहे हैं, तो वहीं शैक्षिक योग्यता के दस्तावेजों की भी जांच कराई जा रही है। उधर, बलराम सिंह पर 32 लाख रुपये के बकाया प्रकरण को भी फिर से निकाला जा रहा है। हालांकि उस प्रकरण में हुई एफआईआर भी वापस हो चुकी है।

छावनी बना रहा एमडीए
सोमवार को एमडीए कार्यालय छावनी बना रहा। भारी पुलिस बल तैनात रहा। कर्मचारी पहले तो बैठक करने की बात कह रहे थे। लेकिन गुपचुप ही बैठक हो पाई, वह भी थोड़ी ही देर के लिए। उधर, वीसी आवास पर भी पुलिस तैनात की गई है।

दिल्ली पुलिस ने पकड़ा शातिर मोबाइल लूटेरा

थाना दिल्ली गेट क्षेत्र के डी एन कॉलेज के पास महिला से मोबाइल लूटकर के भाग रहे बदमाश को पुलिस ने दबोचा पुलिस को पूछताछ में आरोपी राशिद उर्फ कालू पुत्र अमीर  हसन निवासी अख्तर मस्जिद के  रूप में हुई