Category Archives: Crime

किशोरी से रेप को लेकर तनाव, हंगामा

tension created after raped girl
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 भावनपुर क्षेत्र के औरंगाबाद गांव में दलित किशोरी को अगवा कर रेप के मामले में शुक्रवार को हंगामा हो गया। ग्रामीणों ने भाजपा नेताओं के साथ एसएसपी ऑफिस का घेराव किया। दो दिन में आरोपी की गिरफ्तारी न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।
किशोरी के परिजनों ने 14 फरवरी को आरोपी नाजिम पुत्र सैय्याद के खिलाफ भावनपुर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। गिरफ्तारी न होने पर शुक्रवार को भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. चरण सिंह लिसाड़ी के नेतृत्व में भाजपा नेताओं और दलित समाज के लोगों ने एसएसपी से शिकायत की। उन्होंने आरोप लगाया कि पहले तो पुलिस ने 24 घंटे बाद रिपोर्ट दर्ज कर मेडिकल कराया, उसके बाद गिरफ्तारी नहीं की गई। पूर्व विधायक रणवीर राणा ने कहा कि पुलिस सत्ता के दबाव में काम कर रही है, जिसके कारण आरोपी फरार है। गांव में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बन चुकी है और पुलिस झूठे आश्वासन दे रही है। एसएसपी जे. रविंदर गौड़ ने बताया कि सीओ सदर देहात और एसओ को कड़े निर्देश दिए हैं। जल्द आरोपी को गिरफ्तारी कर लिया जाएगा। हंगामा करने वालों में पूर्व विधायक विनोद हरित, कै लाश चंद, जगपाल सिंह, सांसद प्रतिनिधि बिजेंद्र सागर, सहन्सरपाल सिंह, राजेंद्र, ब्रजपाल, मनोज जाटव मौजूद रहे।

चेन लुटेरे को महिलाओं ने धुना

ladies beaten chain snatcher
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 शास्त्रीनगर में गोल मंदिर के पास शुक्रवार दोपहर बाइक सवार दो युवकों ने एक महिला से चेन झपट ली। इस पर महिला और उसके साथ एक अन्य महिला लुटेरों के पीछे दौड़ पड़ीं और बाइक पर पीछे बैठे युवक को पकड़ लिया। जबकि दूसरा बाइक छोड़कर भाग निकला। पकड़े गए आरोपी को महिलाओं और लोगों ने जमकर धुना। महिलाएं पुलिस के सामने ही युवक को पीटते हुए थाने तक ले गईं।
सूरजकुंड निवासी राजीव गर्ग की पत्नी ममता गर्ग अभिलाषा फाउंडेशन की संस्थापिका हैं। शुक्रवार दोपहर ममता अपनी सहेली रश्मि अग्रवाल निवासी न्यूमोहनपुरी के साथ पैदल ही सेंट्रल मार्केट में सामान खरीदने जा रही थीं। गोल मंदिर के पास पीछे से पल्सर बाइक पर पहुंचे दो युवकों ने ममता की चेन झपट ली। इस पर दोनों महिला शोर मचाते हुए बाइक के पीछे दौड़ पड़ीं और पीछे बैठे लुटेरेे की शर्ट पकड़ बाइक को गिरा दिया। इस दौरान बाइक चलाने वाला युवक बाइक छोड़कर भाग निकला। जबकि महिलाओं और आसपास के लोगों ने पकड़े गए युवक की जमकर पिटाई की। सूचना पर इंस्पेक्टर नौचंदी एसके राणा भी पहुंचे। पुलिस को देखकर युवक बेहोश होने का नाटक करने लगा। इस दौरान पुलिस ने जैसे ही लुटेरे को जीप में बैठाने की कोशिश की तो महिलाओं फिर उसे उतार लिया और चप्पलों से पीटा। थाने में लोग लुटेरे को लेकर पहुंचे और पीछे पुलिस थी। हंगामे की सूचना पर सीओ सिविल लाइन रितेश कुमार भी पहुंच गये। इंस्पेक्टर नौचंदी ने बताया कि महिला की तहरीर पर पकड़े गए युवक रवि पुत्र संत सिंह निवासी पूठा थाना टीपीनगर और फरार आरोपी परविंदर निवासी मलियाना के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। पल्सर बाइक परविंदर की है, जिसका नंबर फर्जी मिला। रवि ने बताया कि वह पुताई का काम करता है, जो टीपीनगर, कंकरखेड़ा और शास्त्रीनगर में आठ-दस लोगों से चेन, पर्स और मोबाइल लूट चुका है।

लूट के बाद नाली में फेंकी चेन
दोनों महिलाओं ने जब रवि से चेन मांगी तो उसने कहा कि वो दूसरा साथी लेकर भाग गया। पुुलिस के सामने ही महिलाओं ने लुटेरे पर खूब चप्पल बरसायीं। बाद में लुटेरे ने बताया कि चेन उसने नाली में फेंक दी। जिसके बाद नाली से चेन बरामद की। लोगों ने कहा कि चेन मिलने पर छोड़ दिया जाए, जिस पर दोनों महिलाओं ने कहा कि आज हमारी चेन लूटी है, कल किसी और के साथ लूट होगी। इसे जेल भिजवा के ही मानेंगी।

चलती कार में गैंगरेप होने पर भड़का जनाक्रोश

pepole protest after gangrape
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
भीख मांगकर परिवार का पेट पालने वाली महिला से चलती कार में गैंगरेप की घिनौनी वारदात को लेकर जन आक्रोश है। पुलिस दरिंदों को पकड़ने के बजाय मामले में लीपापोती करने में जुटी है। दो दिन बाद भी दरिंदों का पता लगाने के लिए सीसीटीवी कैमरों की फुटेज तक नहीं देखी। दिनभर लोगों ने अधिकारियों के ऑफिसों में हंगामा किया।

बेगमपुल पर भीख मांगकर लौटती महिला को बुधवार रात कार सवार युवकों ने 100 रुपये देने का इशारा देकर बुलाया और कार में डालकर ले गए। रातभर हाईवे पर चारों ने उससे गैंगरेप किया और कंकरखेड़ा थानाक्षेत्र में हाईवे पर फेंककर भाग गए। बृहस्पतिवार सुबह महिला खेत में पड़ी मिली। शुक्रवार को अखबारों में समाचार प्रकाशित होने पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। भाजपा महानगर अध्यक्ष करुणेश नंदन गर्ग, सामाजिक संस्था कार्यकर्ताओं ने एसपी सिटी, एसएसपी, डीआईजी और फिर आईजी ऑफिस में हंगामा किया। साथ ही पुलिस पर मामले को दबाने का आरोप लगाया।

किस काम के सीसीटीवी कैमरे
शहर के अधिकांश चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। घटनास्थल जीरो माइल पर भी कैमरा लगा हुआ है। दरिंदों ने महिला को परतापुर-कंकरखेड़ा बाईपास पर रातभर घुमाया। जहां 22 कैमरे निगरानी कर रहे हैं। लेकिन घटना के दो दिन बाद भी पुलिस ने फुटेज चेक नहीं की है।

लालकुर्ती थाने में केस ट्रांसफर
महिला का अपहरण जीरो माइल से होना बताया गया है। इसे देखते हुए कंकरखेड़ा पुलिस ने शुक्रवार को मुकदमा लालकुर्ती थाने में ट्रांसफर कर दिया। कंकरखेड़ा इंस्पेक्टर प्रशांत कपिल का कहना था कि लालकुर्ती पुलिस ही विवेचना करेगी। इस मामले में हमारा कोई रोल नहीं है।

ईवीएम की सुरक्षा में रखे गए लंगूर मालिक की हत्या, प्रशासन सहित प्रत्याशियों में मचा हड़कंप

Baboon boss killing in Security of EVM, Candidates, including administration created a stir
मौके पर डीएम बी चंद्रकला
जिले में विधानसभा चुनाव होने के बाद ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कताई मिल में पैरामिलेट्री फोर्स के अलावा मजिस्ट्रेट और पुलिस की गार्द तैनात की हुई है। कताई मिल परिसर में बंदर भगाने के लिए दो लंगूरों के मालिक को भी तैनात किया था। पैरामिलेट्री फोर्स के रहते हुए लंगूर मालिक की हत्या कर दी गई। बृहस्पतिवार शाम को गटर में नग्न हालत में शव मिला तो सनसनी फैल गई। पुलिस और प्रशासन के तमाम अधिकारी घटना स्थल पहुंचे। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। दोनों आंख और सिर में चोट के निशान मिले हैं। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी तलाशी जा रही है। इस बीच भाजपा और बसपा के कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंच गए है और उनका कहना है क‌ि इस मामले की सही ढंग से जांच हो।

मेडिकल थाना क्षेत्र के कालियागढ़ी निवासी किशनलाल (52) का लंगूर पालने का पेशा है, जिसके पास दो लंगूर थे। विधानसभा चुनाव के बाद ईवीएम को परतापुर क्षेत्र स्थित कताई मिल में रखा है। जहां ईवीएम की सुरक्षा में एक प्लाटून पैरामिलेट्री फोर्स के सीआईएसएफ के जवान तैनात हैं। साथ ही मजिस्ट्रेट के अलावा पुलिस की गार्द भी ड्यूटी लगाई गई है। बृहस्पतिवार को मिल परिसर में किशनलाल नहीं मिला, तो मजिस्ट्रेट ने फोर्स के जवानों से पूछा। इस दौरान अफसरों और फोर्स में हड़कंप मच गया। परतापुर, सीओ ब्रहमपुरी धर्मेन्द्र चौहान भी पहुंच गये। डॉग स्कवायड ने डेढ़ घंटे तक तलाश किया, जिसके बाद शव मिल परिसर में गटर में नग्न हालत में मिला। किसी तरह शव को बाहर निकाला गया। शरीर पर कोई कपड़ा नहीं था, दोनों आंख के पास नील पड़े हुए थे, कपड़े दूर रखे मिले, वहीं मोबाईल भी कपड़ों से कुछ दूरी पर पड़ा मिला। एक लंगूर भी गायब है। पुलिस शव को मेडिकल इमरजेंसी लेकर पहुंची, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मौत का पता चलते ही परिवार के लोगों में कोहराम मच गया। परिवार के लोगों का मोर्चरी पर रोकर बुरा हाल था।

किसी को घुसने की इजाजत नहीं
कताई मिल में ईवीएम की सुरक्षा को लेकर पैरामिलेट्री फोर्स तैनात है। बाहर के किसी भी व्यक्ति को घुसने की इजाजत नहीं है। मिल परिसर में घुसने पर जिला प्रशासन द्वारा गोली मारने के निर्देश दिए गये थे। गायब लंगूर को लेकर भी तलाश चल रही है।

प्रथम दृष्टा यह एक हादसा है। बिल्डिंग में  बंदर भगाने के दौरान गटर में गिरने का मामला लग रहा है। हो सकता है कि कपड़े निकालकर बाहर फेंक दिए हो। सिर में गंभीर चोट लगी हुई मिली है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पूरे मामले का पता चल सकेगा। आलोक प्रियदर्शी, एसपी सिटी

पैरा मिलिट्री फोर्स न होती तो खून बहाता इकराम

para milatry na hoti to khoon bahaata
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
50 हजार के इनामी बदमाश रहे इकराम ने पुलिस अफसरों को बताया कि वह 15 दिन पहले भी अपने साथियों के साथ लिसाड़ी गेट में प्रॉपर्टी डीलर की हत्या करने के लिए पहुंचा था। लेकिन वहां चौराहे पर पैरा मिलिट्री फोर्स लगी हुई थी। जिसके बाद वह चुनाव बाद हत्या करने का मन बनाते हुए साथियों के साथ दिल्ली लौट गया था।
एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी के अनुसार इकराम ने पूछताछ में बताया कि उसे तीन नवंबर 2016 को कचहरी में कस्टडी से उसके साथियों फरमान, नकीब, नईम व सरधना के लालकुआं मोहल्ला निवासी सुहेब उर्फ टिड्डी ने छुड़ाया था। कचहरी से भागने के बाद वह सुहेब के साथ बाइक से परतापुर पहुंचा था। उसके बाद सुहेब की प्रेमिका को बाइक पर बैठाकर हेलमेट लगाकर दिल्ली पहुंच गया था। वह दिल्ली, गाजियाबाद, लोनी, देहरादून में छिपता रहा। 15 दिन पहले वह सलीम मोटा नाम के रिश्तेदार की हत्या करने लिसाड़ी गेट आया था। लेकिन काम पूरा नहीं हो सका।

पैरोकारी के नाम पर किया बर्बाद
इकराम ने पुलिस को बताया कि अपने गांव के हसन रजा की हत्या की हत्या के मामले में 12 साल से सजा काट रहा था। आरोप लगाया कि उसे पैरोकारी के नाम पर बर्बाद कर दिया गया। गांव की सारी जमीन और घर भी बिक गया। एक व्यक्ति ने उससे 1.70 लाख रुपये उधार लिए थे, जिन्हें देने से वह टालता रहा। इन लोगों से बदला लेने के लिए ही उसने जेल ब्रेक की थी। फिर पकड़ा गया। उसके बाद कचहरी से भाग गया।

प्रेमिका के पास पहुंचा
पुलिस ने बताया कि इकराम की शादी नहीं हुई है। रिश्तेदारी की एक लड़की से उसकी नजदीकी थी। लोनी में प्रेमिका से शादी करने के लिए वहां रह रहा था। इकराम ने कहा कि उसका सब कुछ बर्बाद हो गया, आजीवन कारावास की सजा के बाद वह दूर रहकर अपना घर बसाना चाहता था।

जेल में बनाया गैंग
इकराम ने बताया कि जेल में उसने गैंग खड़ा कर रखा था। पहले वह ऊधम का शूटर रहा। उसके बाद भरतू गैंग से भी जुड़ गया। मेडिकल क्षेत्र में व्यापारी नेता के भतीजे की हत्या के आरोपी देवेश को भी अपने गैंग में शामिल कर लिया। बाद में मोनू जाट के लिए भी काम करने लगा। इकराम ने कहा कि उसकी जिंदगी तो जेल में कटनी है, लेकिन जरायम में वह बड़ा नाम कमाना चाहता है।

एसटीएफ के हाथ से फिसला
इकराम की एसटीएफ ने भी घेराबंदी की थी। लेकिन इस बार बाजी सदर बाजार पुलिस मार ले गई। बताया गया कि एसटीएफ ने ही इकराम पर इनाम 15 हजार से बढ़वाकर 50 हजार कराया था। लेकिन वह खुद एसटीएफ के हाथों से ही फिसल गया।

अब मैं पुलिस कस्टडी से नहीं भागूंगा, बल्कि जेल से ही करा दूंगा मर्डर

police ke saane haya ka elaan
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
50 हजार के इनामी रहे कुख्यात इकराम ने पुलिस लाइन में यह एलान कर सनसनी फैला दी कि उसके निशाने पर एक वरिष्ठ अधिवक्ता समेत चार लोग हैं। अब मैं पुलिस कस्टडी से नहीं भागूंगा, बल्कि जेल से ही मर्डर करा दूंगा।
गांव खिर्वा जलालपुर, सरधना निवासी इकराम पुत्र अमीरूद्दीन को एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी ने सोमवार को मीडिया के सामने पेश किया। एसपी सिटी ने बताया कि इकराम वर्ष 2010 में अपने नौ साथियों के साथ मेरठ जेल से फरार हो गया था। वर्ष 2011 में इकराम ने लिसाड़ी गेट में नदीम नाम के युवक की गोली मारकर हत्या के मामले में पुलिस ने उसे जेल भेजा था। तीन नवंबर 2016 को जेल से कचहरी पेशी पर आया इकराम को उसके साथी छुड़ाकर ले गए थे। रविवार रात एएसपी कैंट सिद्धार्थ मीणा और इंस्पेक्टर सदर पंकज पंत ने इकराम को रजबन में डी पार्क के पास से दबोचा। इस दौरान कुख्यात का साथी सुहेब उर्फ टिड्डी निवासी सरधना फरार हो गया। इकराम पर पांच दिन पहले ही डीजीपी जावीद अहमद ने 50 हजार का इनाम घोषित किया था। उसके पास से दिल्ली नंबर की चोरी की सेंट्रो कार, .32 बोर की दो पिस्टल, 54 कारतूस और छह खोखे बरामद किए गए।

अब नहीं कोई फरारी
प्रेस वार्ता के दौरान इकराम ने एलान किया कि वह 2010 में जेल ब्रेक कर चुका है। उसके  बाद पकड़ा गया तो पुलिस पर हमला कर कचहरी से भाग गया। लेकिन अब वह भागेगा नहीं। जेल में रहकर हत्या जरूर करा देगा। उसका सपना अधूरा है। कुख्यात ने मेरठ बार एसोसिएशन के एक वरिष्ठ अधिवक्ता समेत चार लोगों के नाम लेते हुए पुलिस के सामने ही धमकी दी। कहा कि इन लोगों ने उसकी जिंदगी तबाह कर दी। यह सभी लोग उसके निशाने पर हैं। जेल जाने के बाद भी इन्हें जिंदा नहीं छोड़ेगा।

एसएसपी ने टीम को सराहा
एसएसपी जे. रविंदर गौड़ ने इकराम की गिरफ्तारी पर एएसपी कैंट सिद्धार्थ, इंस्पेक्टर सदर पंकज पंत, साइबर सेल के प्रभारी कर्मवीर सिंह और पुलिस टीम की सराहना करते हुए कहा कि यदि इकराम नहीं पकड़ा जाता तो बड़ी घटना को अंजाम दे सकता था। उन्होंने पुलिस टीम को प्रशस्ति पत्र देने की बात कही।

युवती के पिता के पास आई कॉल, कहा अगर घर में आ गई बारात तो होगा कत्लेआम

shaddi samaaroh me khoon kharaabe ki dhamki
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 युवक और युवती के परिवार वाले शादी की तैयारियों में जुटे हैं। परिवारों में खुशी का माहौल है। शादी में केवल छह दिन बचे हैं। अचानक युवती के पिता के मोबाइल पर एक कॉल आई, जिसने दोनों परिवारों में दहशत फैला दी। फोन करने वाले ने धमकी दी कि यदि बारात आई तो वह शादी समारोह में खूनखराबा करेंगे। इस मामले की शिकायत बृहस्पतिवार को लड़के पक्ष के लोगों ने सिविल लाइन थाने में की है।

सिविल लाइन क्षेत्र के नंगलाभट्टू निवासी प्रवेश कुमार बिल्डर हैं। उनकी शादी मुरादाबाद में तय हुई है। दो दिन बाद सगाई और फिर 15 फरवरी को शादी है। युवती के पिता के मोबाइल पर बृहस्पतिवार सुबह एक युवक ने फोन कर धमकी दी। कहा कि अगर तुम्हारी बेटी की बारात आई तो मंडप में खूनखराबा होगा। युवती के पिता ने पहले अपने परिवार और फिर प्रवेश कुमार को मामले की जानकारी दी। प्रवेश के परिजन भी डरे हुए हैं। उन्होंने सिविल लाइन थाने में दरोगा धनवीर यादव से शिकायत की। दरोगा ने शिकायती पत्र लिया और तत्काल रिपोर्ट दर्ज कराई। परिवार के लोगों ने पुलिस से कहा कि आरोपी शादी समारोह में किसी भी वारदात को अंजाम दे सकते हैं।

हमें लगता मेरठ से कॉल हुई
बिल्डर प्रवेश कुमार ने बताया कि उसका कामकाज देखकर कुछ लोग रंजिश रखते हैं। उसको शक है कि कॉल मेरठ से हुई है। उसको एक युवक पर अंदेशा भी है। पुलिस सर्विलांस पर नंबर लगाकर पता कर सकती है कि आखिर धमकी देने वाला कौन है। एसएसआई ओमवीर गुप्ता ने बताया कि इस नंबर को सर्विलांस टीम को दे दिया है। इसका पता जल्द चल जाएगा।

सुरक्षा बढ़ा दो, कुछ हो न जाए
दोनों परिवार के लोगों में दहशत है। उन्होंने पुलिस से सुरक्षा की मांग की है। युवती के परिजनों ने भी मुरादाबाद एसएसपी से शिकायत की है। सिविल लाइन पुलिस ने लड़के पक्ष से कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है। सगाई से लेकर शादी तक पुलिस आपकी सुरक्षा करेगी। मुरादाबाद पुलिस से भी मदद ली जाएगी।

पशुओं से भरा कैंटर पकड़ा, थाने पर बखेड़ा

thaane ke baahar bhajpaaiyo ka baval
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 काली नदी पुल के पास बृहस्पतिवार शाम पशुओं से भरा कैंटर पकड़ने के बाद भाजपाइयों और भीड़ ने खरखौदा थाने पर करीब डेढ़ घंटे तक बवाल काटा। कैंटर में तोड़फोड़ कर आग लगाने की कोशिश की। हापुड़ रोड जाम कर दी गई। अफसरों से तीखी नोकझोंक के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर भीड़ को खदेड़ा।
कोल गांव स्थित काली नदी के पुल पर पशुओं से भरे कैंटर ने एक बाइक में साइड मार दी दी। इसी बीच भाजपा नेता मुखिया गुर्जर, रोबिन गुर्जर ,रविंद्र गुर्जर आदि अपने समर्थकों के साथ वहां से गुजर रहे थे। पशुओं भरा कैंटर देखकर भाजपाइयों ने कैंटर चालक और उसमें सवार लोगों से हाथापाई कर दी और उन्हें कैंटर समेत थाना खरखौदा ले गए। आसपास के गांवों के भी सैकड़ों लोग भी थाने पहुंच गए। भीड़ ने कटान के लिए पशु ले जाने का आरोप लगाते हुए कैंटर में तोड़फोड़ कर आग लगाने की कोशिश की। सैकड़ों लोगों ने मुख्यमंत्री और प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर मेरठ-हापुड़ रोड जाम कर दी।
भीड़ थाने में घुसकर कैंटर चालक और उसके साथियों पर केस दर्ज करने की मांग पर अड़ गई। थाने में नाममात्र के पुलिसकर्मी थे। लोगों की परेशानी देख शाम सात बजे जाम खोल दिया गया। लेकिन भीड़ थाने के बाहर डटी रही। थाने पहुंचे इंस्पेक्टर खरखौदा मनीष सक्सेना ने भीड़ को शांत करने की कोशिश की, तो भीड़ क्षेत्र में पशु कटान का आरोप लगाकर उनसे ही भिड़ गई। सूचना पर सीओ किठौर विनोद सिरोही, प्रशासनिक अफसर संतोष बहादुर कई थानों की पुलिस और पैरा मिलिट्री फोर्स के साथ पहुंच गए। अफसरों को चिंता थी कि मामला सांप्रदायिक तूल न पकड़ ले। पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो भगदड़ में कई लोग चोटिल हो गए। हंगामे के बाद मुखिया गुर्जर आदि वहां से चले गए।

यह हुआ केस दर्ज
इंस्पेक्टर ने बताया कि रविंद्र गुर्जर की तहरीर पर कैंटर चालक और उसमें सवार अन्य लोगों पर पशु क्रूरता अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज की जा रही है। वहीं, मुखिया गुर्जर, रविंद्र गुर्जर और रोबिन गुर्जर आदि नामजद और करीब 150 अज्ञात लोगों के खिलाफ तोड़फोड़ ,बलवा, धारा 144 का उल्लंघन, आचार संहिता का उल्लंघन, माहौल खराब करने सहित 7 सीएल एक्ट आदि संगीन धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की जाएगी।

गलत करोगे तो जेल भी भेजूंगा
इंस्पेक्टर खरखौदा और मुखिया गुर्जर के बीच तीखी झड़प हुई। मुखिया गुर्जर इंस्पेक्टर से बोले कि पशु तस्करी रोकना पुलिस का काम है। यदि पुलिस इसे नहीं कर सकती तो हम खुद देख लेंगे। इंस्पेक्टर ने हर काम कानूनी दायरे में होने की बात कह मुखिया गुर्जर से पूछा कि कैंटर में तोड़फोड़ क्यों की। मुखिया के इंकार करने पर दोनों में गर्मागर्मी हो गई। मुखिया ने इंस्पेक्टर से कह दिया कि लिख दो उन पर मुकदमा। भेज दो जेल। इंस्पेक्टर ने चिल्लाकर कहा कि लिखूंगा, जरूर लिखूंगा। गलत करोगे तो जेल भी भेजूंगा। मुखिया ने यहां तक कह दिया कि लो मुझे मारो। सीओ ने बमुश्किल दोनों को शांत किया।

बरेली से आए थे पशु
कैंटर चालक गढ़ निवासी सलीम ने बताया कि वह बरेली से अलीपुर मीट प्लांट में 26 पशु लेकर आया था। उसके साथ उसके दो बेटे और एक चालक ताहिर हैं। पशुओं के सभी कागज हैं। आरोप लगाया कि बवाल के दौरान भीड़ ने चार पशु लूट लिए।

हमने कुछ गलत नहीं किया
प्रचार से लौटते समय रास्ते में कैंटर मिला, जिसमें पशुओं को बुरी तरह ठूंसा हुआ था। क्षेत्र में बड़े पैमाने पर पशु कटान हो रहा है। पुलिस उसे रोक नहीं रही। भाजपा समर्थक कैंटर और उसमें सवार लोगों को थाने लेकर चले गये तो क्या गलती की। कैंटर में तोड़फोड़ किसने की, हमें नहीं पता। बेवजह उन्हें और भाजपाइयों को फंसाया जा रहा है। -मुखिया गुर्जर, भाजपा नेता

कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं
कानून हाथ में लेने का किसी को अधिकार नहीं। कैंटर में पशु थे तो पुलिस को सूचना देनी चाहिए थे। थाने पर कैंटर ले भी आए थे तो शांतिपूर्वक अपनी बात कहते। चुनावी माहौल में भीड़ जुटाकर बवाल करना, कैंटर में तोड़फोड़ कर अराजकता का माहौल पैदा करना गैर कानूनी है।- विनोद सिरोही, सीओ किठौर

तीन बदमाशों ने फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी से कैश से भरा बैग लूटकर की फायरिंग

finance company ka laakho ka cash
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
गढ़ रोड पर बृहस्पतिवार शाम अपाचे सवार तीन बदमाशों ने फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी से कैश से भरा बैग लूट लिया। बदमाशों ने कर्मचारी के सिर में तमंचे की बट मारकर घायल कर दिया। इस बीच वहां सेंट्रल बैंक की कैश वैन आ गई। उसमें मौजूद सुरक्षाकर्मियों ने बदमाशों का पीछा किया तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी, लेकिन सुरक्षाकर्मियों ने घेराबंदी कर एक बदमाश को दबोचकर बैग बरामद कर लिया। जबकि दो बदमाश भाग गए।

शास्त्रीनगर नगर निवासी महरूश मित्तल और मोहित कुमार जनलक्ष्मी फाइनेंस कंपनी में काम करते हैं। बृहस्पतिवार शाम करीब चार बजे दोनों कैश कलेक्शन करके किठौर की तरफ से मेरठ आ रहे थे। उनके पास बैग में दो लाख रुपये थे। गढ़ रोड पर काली नदी के पास पीछे से आए अपाचे बाइक सवार नकाबपोश तीन बदमाशों ने बाइक पर बैठे कर्मचारी को तमंचे की बट मारकर बाइक रुकवा ली और नोटों से भरा बैग लूट लिया। इस बीच पीछे से सेंट्रल बैंक की कैश वैन आ गई, जिसमें चार सुरक्षाकर्मी मौजूद थे। उन्होंने बदमाशों को पीछा करना शुरू कर दिया। यह देख बदमाशों ने तमंचे से फायरिंग कर दी, जिसमें एक फायर मिस हो गया, जबकि दूसरे बदमाश द्वारा चलाई गई गोली से एक गार्ड बाल-बाल बच गया। कैश वैन के सुरक्षाकर्मियों ने बाइक पर पीछे बैठे एक युवक को खींचकर गिरा लिया, जबकि दोनों बदमाश बैग छोड़कर भाग निकले। पकड़ा गया युवक फायरिंग कर खेत में कूदकर भागने लगा। लेकिन चारों सुरक्षाकर्मियों ने घेराबंदी कर उसे पकड़ लिया। उसके पास से एक तमंचा, तीन कारतूस, एक नशीला पदार्थ की शीशी बरामद हुई है। सूचना पर एसओ मेडिकल धर्मेंद्र कुमार भी फोर्स के साथ पहुंचे और बदमाशों की तलाश की, लेकिन उनका कोई सुराग नहीं लगा। पीड़ित कर्मचारी ने मेडिकल थाने में तहरीर दी है।

गोली चलाना ठीक नहीं समझा
सेंट्रल बैंक की कैश वैन पर आर्मी से रिटायर्ड कुलदीप यादव, अवधेश, राजकुमार और संतोष तैनात थे। उन्होंने खाकी वर्दी पहनी थी और उनके पास भी हथियार थे। कुलदीप ने बताया कि जब बदमाश तमंचा तान रहे थे तो उसने गोली चलानी सही नहीं समझी, लेकिन एक बदमाश को बट मारकर गिरा लिया था। जिससे अन्य दोनों बदमाश घिरता हुआ देखकर भाग गये। यदि आसपास के लोग साथ देते, तो दोनों बदमाश भी पकड़े जाते। सुरक्षाकर्मियों ने बताया कि तीनों बदमाशों पर तमंचे और पिस्टल थी। सीओ सिविल लाइन रितेश कुमार का कहना है कि पकड़े गए युवक से पूछताछ की जा रही है।

एक दर्जन से अधिक कर चुके हैं लूट
पकड़े गये युवक ने पुलिस को बताया कि उन्होंने बिजली बंबा बाईपास पर एक लूट की थी, उसके बाद गढ़ रोड पर महिला से लूट की थी। बाइक पर आते जाते लोगों को वह निशाना बनाते थे। गढ़ रोड, भावनपुर और अन्य स्थानों पर एक दर्जन से अधिक लूट कर चुके हैं।

ब्रह्मपुरी जैसी घटना हो सकती थी
यदि पीछे से कैश वैन की गाड़ी नहीं आती तो बदमाश लूट के बाद कर्मचारी को गोली भी मार सकते थे। पुलिस का मानना है कि कैश वैन के सुरक्षाकर्मियों पर हथियार थे, नहीं तो मेडिकल क्षेत्र में भी ब्रह्मपुरी जैसी घटना हो सकती थी। ब्रह्मपुरी में भी बदमाशों ने खुद को घिरता देख फायरिंग की थी, जिसमें व्यापारी के बेटे की जान चली गई थी।

शराब के ठेके पर महिलाओं का धावा

sharab ke theke par
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
लिसाड़ी गांव में शराब के ठेके पर प्रिंट रेट से अधिक पर शराब बेचने का विरोध करने पर रविवार रात को एक युवक को पीटा गया। बाद में ठेके पर मौजूद कर्मचारियों ने युवक को पुलिस के हवाले कर दिया। विरोध में  भाजपा कार्यकर्ताओं और महिलाओं ने ठेके पर धावा बोल दिया। महिलाओं ने नारेबाजी कर ठेके पर तालाबंदी कर दी। इस दौरान हंगामे की सूचना पर भाजपाइयों की पुलिस से तीखी नोकझाेंक भी हुई।
भाजपा नेता चरण सिंह लिसाड़ी का आरोप है कि लिसाड़ी गांव में शराब का ठेका सुबह सात बजे से देर रात्रि तक खुलता है। रात में दस बजे के बाद ठेके पर शराब के पव्वे पर 15 से 20 रुपये अधिक वसूले जाते हैं। रविवार रात एक साढे़ ग्यारह बजे भी ठेका खुला था। एक युवक ने अधिक पैसे लेने का विरोध किया तो उसे पीटा गया। बाद में पुलिस से पकड़वाकर थाने भिजवा दिया गया। रात में भाजपा कार्यकर्ता के अलावा 40-50 महिलाएं भी ठेके पर पहुंच गई। भीड़ ने ठेके पर जबरन ताला जड़ दिया। हंगामे की सूचना पर यूपी 100 और थाना पुलिस भी पहुंच गई। चरण सिंह लिसाड़ी ने आरोप लगाया कि ठेकेदार का कहना है कि थाने में तीन हजार और चौकी पर प्रतिमाह 20 हजार रुपये इसी बात के दिए जाते हैं। रात में भाजपाइयों ने एसपी सिटी से पूरे मामले की शिकायत की। एसपी सिटी आलोक प्रियदर्शी का कहना है कि पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान सांसद प्रतिनिधि बिजेंद्र सागर, मनोज, कुमार, दिनेश मोहन, विनोद कुमार, सुनीता, अनीता, राजेश, जयवती, कुसुम आदि रहे।