Category Archives: Crime

पुलिस पहुंची तो गोवंश की खाल उतारता मिला ठेकेदार

Contractor found to take down skeleton skeleton, police invoices
गोवंश की खाल उतारता मिला ठेकेदार
बागपत के कान्हड़ गांव में श्मशान घाट के पास गोकशी की सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया। पुलिस और शिव सेना के जिला प्रभारी पहुंचे तो मुर्दा मवेशी का ठेकेदार गोवंश की खाल उतारता मिला। इसको लेकर शिव सैनिकों ने हंगामा किया। पुलिस ने ठेकेदार का शांति भंग में चालान कर दिया। शुक्रवार को शिव सेना के जिला प्रभारी रणवीर सिंह को सूचना मिली कि कान्हड़ गांव में श्मशान घाट के पास गोकशी की जा रही है। इस पर उन्होंने दोघट पुलिस को सूचना दी।

15 दिन में दहशत भरी दर्जनभर चिट्ठियां

last 15 days threatning letter
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से वेस्ट यूपी में अब तक आतंकियों के नाम से 12 धमकी भरी चिट्ठियां आ चुकी हैं। माना जा रहा है कि ये चिट्ठियां किसी आतंकी धमाके के लिए नहीं, बल्कि दहशत फैलाने के लिए भेजी जा रही हैं। शुक्रवार को एक के बाद एक दो चिट्ठियां मिलने के बाद आईजी मेरठ जोन अजय आनंद ने कई विभागों के अधिकारियों से जानकारी ली। शरारती तत्व कोई बड़ा बखेड़ा न कर दें, इसे देखते हुए कई जगहों पर पुलिस के साथ पीएसी, आरएएफ की तैनाती शुरू करा दी है। पुलिस अफसरों का मानना है कि चिट्ठी भेजने वाला एक ही गैंग है। गृह मंत्रालय ने सुरक्षा एजेंसियों से इसकी रिपोर्ट तलब की है।
15 दिनों में मेरठ में पांच, मुजफ्फरनगर में तीन, सहारनपुर में दो समेत वेस्ट यूपी के जिलों में 12 धमकी भरी चिट्ठियां मिल चुकी हैं। इनमें से सिर्फ पांच ही उजागर हुई हैं, जबकि सुरक्षा एजेंसियां अन्य चिट्ठियों की जांच में जुटी हैं। जांच एजेंसियों की मानें तो ये चिट्ठियां एक ही तरीके से भेजी गईं और लिखने का तरीका भी मिलता-जुलता हुआ है।

गृह मंत्रालय का फोकस सौहार्द बनाने पर
धमकी भरी चिट्ठियों की जानकारी लेते हुए गृह मंत्रालय ने जांच एजेंसियों को ताकीद दी है कि वेस्ट यूपी में सांप्रदायिक सौहार्द न बिगड़ने पाए। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी ने पुलिस-प्रशासन के आला अधिकारियों से कहा है कि सांप्रदायिक घटना पर ज्यादा फोकस होना चाहिए। पुलिस सूत्रों के मुताबिक नई सरकार बनने के बाद सक्रिय हुए कुछ शरारती तत्व बखेड़ा कराने की कोशिश में हैं।

आरएएफ, पीएसी तैनात करने की तैयारी
धमकी भरी चिट्ठियों और खुफिया विभाग के इनपुट के बाद पुलिस अधिकारियों ने आरएएफ व पीएसी अधिकारियों के साथ मीटिंग कर कई जगहों पर फोर्स तैनात करने की प्लानिंग बनाई। इसके लिए मिश्रित आबादी वाले कई इलाके चिह्नित किए गए हैं।

कौन और कैसे जारी कर रहा चिट्ठी
सुरक्षा एजेंसियां यह जांच करने में जुटी हैं कि चिट्ठी कैसे और कौन जारी कर रहा है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, चिट्ठी भेजने वालों को कुछ पैसा देकर भेजा जाता है। दरअसल, 12 में से पांच मामले ऐसे हैं, जिनमें पैसे देकर चिट्ठी भेजने की बात सामने आई है। पुलिस ने कई जगहों पर सीसीटीवी भी खंगाले हैं, जिससे कोई क्लू हाथ लग सके।

पांच हजार रिश्वत लेते धरा अकाउंटेंट

accountant arrested taking 5 thousand bribe
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
एंटी करप्शन की टीम ने शुक्रवार दोपहर विद्युत वितरण खंड प्रथम में तैनात अकाउंटेंट को पांच हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपी अकाउंटेंट ने जीपीएफ निकालने के नाम पर पॉवर कार्पोरेशन के स्वीपर से ही रिश्वत ली थी। आरोपी के खिलाफ सिविल लाइन थाने में रिपोर्ट दर्ज की गई है।
विद्युत विभाग में तैनात स्वीपर मुकेश कुमार लोहियानगर स्थित बिजलीघर पर तैनात हैं। वह वर्कशाप का भी काम देखते हैं। मुकेश कुमार का आरोप है कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी के लिए जीपीएफ निकालने के लिए आवेदन किया था। लेकिन विद्युत वितरण खंड प्रथम में अकाउंटेंट पंकज खन्ना ने पैसा निकालने के नाम पर पांच हजार रुपये की मांग की थी। इस पर मुकेश कुमार ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन में की। जिसके बाद एंटी करप्शन की टीम ने पूरे मामला जिलाधिकारी को बताया। शुक्रवार दोपहर पीड़ित ने जैसे ही अकांउटेंट को पांच हजार रुपये रिश्वत के दिए, उसी समय एंटी करप्शन के प्रभारी निरीक्षक अशोक राणा ने आरोपी अकाउंटेंट पंकज खन्ना को गिरफ्तार कर लिया। टीम आरोपी को सिविल लाइन थाने ले गई और पहुंची को सौंप दिया। इंस्पेक्टर सिविल लाइन विजय कुमार ने बताया कि आरोपी अकाउंटेंट पंकज खन्ना निवासी मंडी चौक, थाना मुगलपुरा जिला मुरादाबाद के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। बाद में एंटी करप्शन की टीम में शामिल शारदा सिरोही, कुंवरपाल सिंह, उदयवीर और विजय कुमार ने जांच पड़ताल की।

मुझे फंसाया गया है
आरोपी पंकज खन्ना ने सिविल लाइन थाने में बताया कि मुकेश कुमार से उन्होंने कोई रिश्वत नहीं ली थी। मुकेश ने पांच हजार रुपये यह कहकर सौंपे थे कि बाबू जी के हैं वह आकर ले लेंगे। साजिश के तहत उसे फंसाया गया है।

स्वीपर से प्रभारी जेई बन गया था मुकेश
मुकेश बिजली विभाग में स्वीपर की पोस्ट पर लगा था, लेकिन जुगाड़बाजी के बल पर मुकेश का प्रमोशन टीजी-2 के पद पर हो गया था। इसके बाद चहेते अधिकारियों की मिलीभगत से प्रभारी जेई का पद भी हथिया लिया था। कई साल तक शहर के कई बिजलीघरों पर रहे मुकेश के खिलाफ भ्रष्टाचार में शिकायत हुई, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। सुप्रीम कोर्ट के प्रमोशन में आरक्षण खत्म करने के आदेश के बाद मुकेश टीजी-2 पद से रिवर्ट होकर फिर से स्वीपर पद पर आ गया। वहीं इस संबंध में अधिशासी अभियंता प्रथम विद्युत वितरण खंड मेरठ मनोज कुमार का कहना है कि मुकेश एसडीओ तृतीय के कार्यालय में स्वीपर के पद पर तैनात है। उन्हें प्रकरण की जानकारी मिली है। स्वीपर का प्रमोशन टीजी-2 पद पर हो गया था। इसके बाद ही इसे प्रभारी जेई का चार्ज मिला था। मामले की जांच कराई जाएगी।

विवाहिता की प्रेस से पीटकर हत्या

murder by press
मौके पर जांच करती पुलिस टीम।PC: अमर उजाला
गांव भैंसा में दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर विवाहिता की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। सूचना पर पहुंची पुलिस को मौके से खून से सनी हुई प्रेस मिली है। आशंका जताई जा रही है कि विवाहिता के सिर में इसी प्रेस से वार किए गए हैं। मौके पर पहुंचे परिजनों ने दहेज में एक लाख रुपये और बाइक की मांग पूरी नहीं होने पर ससुराल पक्ष पर हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने पति सहित सात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
गढ़मुक्तेश्वर निवासी फरियाद पुत्र लुत्फ अली ने तहरीर दी है कि उसकी बहन नाजमा उर्फ छोटी का निकाह 16 सितंबर 2016 को गांव भैंसा निवासी नदीम पुत्र मोईन अली से हुआ था। निकाह के समय सभी जरूरतों का सामान दहेेज में दिया गया था। आरोप है कि ससुराल पक्ष के लोग नाजमा को अक्सर कम दहेज लाने की बात कहकर प्रताड़ित करते थे। पति नदीम, सास हदीसा, ननद आयशा तथा फरमान, महताब, परवेज, वसीम चचिया ससुर आदि नाजमा से मारपीट भी करते थे। आरोपियों ने एक लाख रुपये नकद और बाइक की मांग कर रखी थी।
आरोप लगाया कि दो दिन पहले भी नाजमा के पति ने मांग पूरी नहीं होने पर नाजमा को जान की धमकी दी थी। रविवार की सुबह गांव भैंसा निवासी उसके दूसरे बहनोई मलवा ने फोन कर नाजमा के परिजनों को उसकी मौत होने की जानकारी दी। परिजनों की सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंची। पुलिस ने मौके से लोहे की प्रेस बरामद की है। प्रेस पर खून के निशान लगे हुए थे।
पुलिस सूत्रों के अनुसार इसी प्रेस से सिर पर वारकर विवाहिता की हत्या की गई है। सूचना पर सीओ अंकित मित्तल और थाना प्रभारी राजेश चतुर्वेदी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को सीलकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।  मृतका के ससुराल पक्ष के सभी लोग घर से फरार हो गए हैं। थाना प्रभारी राजेश चतुर्वेदी ने बताया कि सभी सात आरोपियों के खिलाफ दहेज हत्या की रिपोर्ट दर्ज की गई है। थाना प्रभारी ने बताया कि मृतका के सिर और गले पर चोट के निशान मिले हैं।

विदेशी पर्यटकों से लूट, गम भुलाने के लिए मंगाई बीयर

robery from tourist
पुलिस द्वारा मंगाई गई बीयर पीते पर्यटक।PC: अमर उजाला
आयरलैंड से देश घूमने आए विदेशी पर्यटकों से सदर थाना क्षेत्र के न्यू मार्केट में तीन बदमाशों ने सरे बाजार लूटपाट कर दी। एक बदमाश से पर्यटकों की हाथापाई भी हुई। पर्यटकों ने बदमाशों का पीछा भी किया लेकिन वे हाथ नहीं आए।
आयरलैंड के कैरी शहर निवासी महिला टूरिस्ट लैनी अपने दोस्त ब्लैन लायर, क्वीड लेडी, रिची कैन के साथ इंडिया घूमने आए हैं। रविवार को चारों बाइक से दिल्ली से ऋषिकेश डॉक्युमेंट्री बनाने जा रहे थे। शाम सात बजे वह बेगमपुल पर कचहरी रोड स्थित होटल ऑसम में रुक गए। उन्होंने होटल में दो कमरे बुक कराए और अपना सामान रखकर पैदल मार्केट में घूमने निकल गए। रात करीब सवा नौ बजे सदर थाना क्षेत्र के न्यू मार्केट में बाइक सवार तीन बदमाशों ने उन्हें ओवरटेक कर रोक लिया। दो बदमाश बाइक को कुछ आगे लेकर खडे़ हो गए जबकि एक बदमाश ने महिला से बैग लूट लिया। पर्यटकों ने विरोध किया तो उसने हाथापाई कर दी और भाग गया। चारों पर्यटकों ने उसका पीछा किया, लेकिन वे फरार हो गए। सूचना पर आबूलेन चौकी पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक पर्यटक होटल लौट गए थे। बाद में इंस्पेक्टर लालकुर्ती धीरज कुमार शुक्ला, बेगमपुल चौकी इंचार्ज होटल पहुंचे और विदेशी पर्यटकों से घटना की जानकारी ली। सदर पुलिस ने उनकी तहरीर ली। वहीं बताया जा रहा है कि बदमाश के पास तमंचा था और पर्यटकों के पास कैश भी अधिक था, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई। तहरीर में भी इसका जिक्र नहीं किया।

रहस्य के घेरे में परिवार की मौत का राज

murder haveing mistery
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
 रूपम एम्पोरियम के मालिक योगेश वर्मा की बेटी और पत्नी समेत मौत के कारण रहस्य के घेरे में हैं। पोस्टमार्टम हाउस से जुड़े सूत्र मां-बेटी से रेप की तरफ इशारा कर रहे हैं। लेकिन, इसकी पुष्टि के लिए अभी फाइनल रिपोर्ट का इंतजार है। इस सनसनीखेज मामले में अभी कई सवाल अनसुलझे हैं। जिनके जवाबों में इस केस की अहम कड़ी जुड़ी है। पुलिस यदि गहनता से जांच करती है तो चौंकाने वाला सच सामने आ सकता है।
शास्त्रीनगर सेक्टर-2 निवासी योगेश वर्मा, उसकी पत्नी बरखा और बेटी सनाया की मौत को दो दिन बीत चुके हैं। पुलिस अफसर प्रारंभिक तौर पर इसे आम घटना मानते हुए आत्महत्या के मामले से जोड़कर चल रहे हैं। इसका आधार पुलिस अफसरों ने योगेश द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट को भी बनाया। यह भी कहा कि योगेश ने खुद को साबित नहीं कर पाने की हताशा में आकर पहले अपनी पत्नी और बेटी को जहर दिया और फिर खुद भी जान दे दी। लेकिन, जिस तरह से इस दंपति और योगेश के परिवार का स्टेटस और उनसे जुड़ी बातें सामने आ रही हैं, उससे इस केस के अब हाई प्रोफाइल होने के साथ ही इन तीन मौतों का रहस्य और गहराता जा रहा है।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने उलझाई गुत्थी
पूरे प्रकरण को बरखा और सनाया के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने बुरी तरह उलझा दिया। रिपोर्ट में रेप की तरफ इशारा किए जाने और स्लाइड बनाने के बाद से जांच के कई नए बिंदु खड़े हो गए हैं। हालांकि, अभी फाइनल रिपोर्ट से ही इसकी पुष्टि हो पाएगी। लेकिन, कहीं न कहीं यदि यह इशारा सही दिशा में जाता है तो इसका खुलासा और भी ज्यादा चुनौतीपूर्ण हो जाएगा। पुलिस के एक अधिकारी की मानें तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मामला अलग तरह का हो गया है। स्लाइड और बिसरा को जांच के लिए विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) आगरा भेजा गया है। इसकी रिपोर्ट आने के बाद कुछ हद तक इस केस की तस्वीर साफ होगी।

पुलिस की खामोशी की क्या वजह
नौचंदी पुलिस की खामोशी और जांच का स्तर भी सवालों के घेरे में है। मौके से मिले साक्ष्यों को पुलिस ने अभी जांच में साझा नहीं किया है। फोरेंसिक एक्सपर्ट ने योगेश के फ्लैट के किचन से दो कप, बेडरूम से लैपटॉप, सुसाइड नोट, मोबाइल फोन और कई जगह से फिंगर प्रिंट उठाए। लेकिन, अभी तक इनसे कोई क्लू न मिलने की बात कही है। यह भी सामने नहीं आया है कि बरखा और सनाया की मौत किस जहरीले पदार्थ से हुई। इस घटना से पहले योगेश और बरखा आखिरी बार किससे मिले या किससे फोन पर बात की। योगेश ने जो सुसाइड नोट छोड़ा, क्या वह उसी की हैंडराइटिंग में था। अहम सवाल यह भी कि सुसाइड नोट में योगेश ने कोई पुलिस केस न करने पर क्यों जोर दिया। योगेश जिस अपार्टमेंट में रहता था, उसके पड़ोसियों और कॉलोनी के लोगों से भी पुलिस ने सच जानने की कोशिश नहीं की। कहा यह भी जा रहा है कि पुलिस इसे बेवजह का झंझट मानकर केस को आत्महत्या बताने पर तुली है। लेकिन, सूत्रों का कहना है कि पुलिस को कहीं न कहीं इन तीनों मौतों के कारणों की गहरी जानकारी है, इसलिए खामोश है।

ये हैं अनसुलझे सवाल
– पोस्टमार्टम रिपोर्ट के इशारे से क्यों कतरा रही पुलिस
– बरखा और सनाया की मौत में किस जहर का प्रयोग हुआ
– क्या योगेश ने यह सब हताशा में किया या इसके पीछे कोई और है
– बरखा जब मुंबई से लौटी तो सीधे अपने फ्लैट पर क्यों नहीं गई
– लैपटॉप और मोबाइल कॉल डिटेल में पुलिस को क्यों कुछ नहीं मिला
– रसोई में सिर्फ दो कप ही क्यों मिले, जबकि योगेश अक्सर तीनों के लिए चाय बनाता था
– सनाया अगर योगेश की लाड़ली थी, तो उसे जहर देकर क्यों तड़पाया
– योगेश अगर चाहता तो फांसी के बजाय खुद भी जहर का सेवन कर सकता था
– पुलिस ने योगेश और बरखा के सर्किल में अभी तक क्यों झांकने की कोशिश नहीं की
– पड़ोसियों ने योगेश को बुधवार शाम तक घबराहट और हड़बड़ाहट में देखा, इसका क्या राज था

9th की छात्रा से गैंगरेप कर बनाया वीडियो, नेट पर डालने की दी धमकी, तीनों युवक फरार

IX student rape-created video, the threat to put on the net
रेप पीड़िता
मेरठ में शुक्रवार को नौवीं की एक छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सामने आया है। पुलिस ने छात्रा के परिजनों की तहरीर पर गांव के तीन युवकों के खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज करते हुए पीड़िता को मेडिकल के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। घटना के बाद से आरोपी तीनों युवक फरार हैं, छात्रा ने बताया कि आरोपी युवकों ने वीडियो भी बना ली।
भावनपुर थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी 16 वर्षीय छात्रा गांव के ही इंटर कॉलेज में कक्षा नौ की पढ़ाई कर रही हैं। छात्रा का आरोप है कि 28 फरवरी को गांव के तीन युवक उसे अगवा करके ले गए। जहां नशीला पदार्थ सुंघाकर उसके साथ गैंगरेप किया। फिर बाद में उसे बेहोशी की हालत में गांव के बाहर फैंककर फरार हो गये। छात्रा का आरोप है कि आरोपी युवकों ने उसकी मोबाइल से अश्लील वीडियो भी बनाई थी। साथ ही उन्होंने धमकी दी थी कि अगर घर में परिजनों या पुलिस में शिकायत की तो वीडियो को नेट पर डाल देंगे।

बता दें कि बृहस्पतिवार को भी आरोपियों ने छात्रा को धमकी दी। छात्रा ने परिजनों को आपबीती सुनाई जिसके बाद परिजन छात्रा को लेकर भावनपुर थाने पहुंचे। एसओ भावनपुर सत्येंद्र यादव का कहना है कि तहरीर के आधार पर तीन युवकों के खिलाफ अपहरण और गैंगरेप की धारा के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। छात्रा को मेडिकल के लिए भेजा गया है। पुलिस ने बताया कि जांच पड़ताल में आया है कि आरोपियों ने मोबाइल फोन से अश्लील वीडियो भी बना ली। आरोपी की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

रोहटा में तीन युवकों को गोली मारी, सांप्रदायिक तनाव

three boy murdered in rohta
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
रोहटा थाना क्षेत्र के बाड़म गांव के जंगल में बृहस्पतिवार सुबह गांव के तीन युवकों को दूसरे समुदाय के युवकों ने गोली मार दी। सारा विवाद दूसरे समुदाय के युवकों का खेत में दो छात्राओं के साथ आपत्तिजनक हालत में पकड़े जाने के बाद हुआ। गोलीबारी की सूचना पर जब ग्रामीण मौके पर पहुंचे तो आरोपी छात्राओं के साथ फरार हो गए। तीनों घायलों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना को लेकर बाड़म के अलावा दमगढी-रासना गांव में सांप्रदायिक तनाव बना है। जहां पुलिस फोर्स तैनात की गई है।
पुलिस के अनुसार रोहटा क्षेत्र के बाड़म गांव निवासी शिवनंदन का बेटा कृष्ण सुबह करीब 11 बजे खेत पर गया था। उसके खेत के पास एक स्कूटी और बाइक खड़ी थी, जहां पर दो युवक आपस में बातचीत कर रहे थे। कृष्ण ने दोनों युवकों से वहां पर खड़े होने की बात पूछी। जिस पर दोनों युवकों ने उसे धमकाते हुए वहां से जाने को कह दिया। तभी कृष्ण को अपने ईख के खेत में दो छात्राएं स्कूल ड्रेस में देखीं। कृष्ण ने इस बात का विरोध किया तो  खेत से दो और युवक बाहर आ गए
इसको देखते हुए कृष्ण ने अपने दोस्त कपिल और गौरव को गांव से बुला लिया। जबकि उन युवकों ने भी फोन करके आधा दर्जन युवक वहां बुला लिए। देखते ही देखते दोनों पक्षों में मारपीट शुरू हो गई। जिसके बाद दोनों छात्राएं भी खेत से निकल आईं। कृष्ण, कपिल और गौरव के शोर मचाने पर युवकों ने उन पर गोलियां बरसा दीं। जिसमें एक  गोली कृष्ण के कंधे पर और दूसरी गोली कपिल के पैर में लगी। जबकि एक गोली गौरव के हाथ से छूती हुई निकली। तीनों युवकों को गोली लगने की सूचना पर गांव से सैकड़ों ग्रामीण मौके पर पहुंच गए।

आमने-सामने आए दो गांवों के लोग
आरोपियों का गांव दमगढी-रासना भी पास में बताया गया। जहां से दो दर्जन से अधिक लोग खेतों पर पहुंचे। दोनों समुदाय के लोग आमने-सामने आए तो सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया। बखेड़ा होने से पहले ही रोहटा थाना पुलिस मौके पर पहुंची। ग्रामीणों ने पुलिस की मदद से तीनों घायलों को पहले रोहटा सीएचसी में भर्ती कराया, जहां से तीनों युवकों को जिला अस्पताल रैफर कर दिया गया।

नामी स्कूल की बताईं छात्राएं
ग्रामीणों ने बताया कि दोनों छात्राओं ने मेरठ कैंट स्थित एक नामी स्कूल की ड्रेस पहनी हुई थी। दोनों एक ही स्कूटी से जंगल में आई थीं। छात्राओं के मोबाइल फोन में आरोपियों के नंबर मिले हैं। आरोपी युवक और छात्राएं कई दिनों से फोन पर बातचीत कर रहे थे। बाड़म के ग्रामीणों का कहना है कि हमलावरों ने सीधे गोली चलाई थी। गनीमत रही है कि गोली से किसी की जान नहीं गई।

हमलावरों पर केस दर्ज
पुलिस ने बताया कि घायल कृष्ण के पिता शिवनंदन ने दमगढी-रासना निवासी अताउर्रहमान पुत्र सगीर सहित कई अज्ञात के खिलाफ रोहटा थाने में हत्या के प्रयास की रिपोर्ट दर्ज कराई है। ग्रामीणों ने बताया कि उन्होंने एक आरोपी युवक और उसके साथ मौजूद छात्रा का मोबाइल फोन बरामद कर पुलिस को सौंपा है। रोहटा इंस्पेक्टर का कहना है कि आरोपी युवकों की तलाश की जा रही है।

हत्या से पहले मां-बेटी से हुआ दुष्कर्म

murder before girl and mother raped
फाइल फोटोPC: अमर उजाला
शास्त्रीनगर में बुधवार रात हुई व्यापारी योगेश वर्मा, उसकी पत्नी बरखा और बेटी सनाया की मौत की गुत्थी बृहस्पतिवार को बुरी तरह उलझ गई। पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सकों का कहना है कि मौत से पहले मां-बेटी से रेप हुआ था। इसकी पुष्टि उन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट के हवाले से की है। इस अंदेशे पर भी जांच की जा रही है कि कहीं तीनों की हत्या तो नहीं हुई। क्योंकि रिपोर्ट में तीनों की मौत के समय में अंतर बताया गया। पूरी तरह गहरा चुके इस राज के बाद अब अहम सवाल यह भी कि आखिर मां-बेटी से फ्लैट में किसने दुष्कर्म किया।
शास्त्रीनगर स्थित रूपम एम्पोरियम के मालिक योगेश वर्मा, पत्नी बरखा और नौ साल की बेटी सनाया के शव नौचंदी पुलिस ने फ्लैट के एक कमरे से बरामद किए। इंस्पेक्टर नौचंदी एसके राणा ने प्रारंभिक जांच में बताया था कि योगेश ने पत्नी और बेटी को जहर देकर खुद फांसी लगा ली थी। लेकिन बृहस्पतिवार को तीनों शवों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट चौंकाने वाली आई। पोस्टमार्टम करने वाले चिकित्सकों के पैनल में शामिल डॉ. वीर सिंह और डॉ. प्रीति गिल ने बताया कि मौत से पहले मां-बेटी के साथ दुष्कर्म किया गया। महिला चिकित्सक ने मां-बेटी के शव का पोस्टमार्टम करने में करीब चार घंटे लगाए। काफी जांच पड़ताल हुई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहरीला पदार्थ भी आना बताया गया। उसके बाद चिकित्सकों ने स्लाइड बनाते हुए बिसरा सुरक्षित रखा है। जिसे जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेजा गया है।

इन सवालों से उलझी गुत्थी
चौंकाने वाली पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आने के बाद अहम सवाल यह खड़ा हो गया कि फ्लैट में मां-बेटी से दुष्कर्म किसने किया। मां-बेटी की लाश बेड पर और योगेश की पंखे पर लटकी क्यों मिली। बड़ा सवाल यह भी है कि पत्नी और बेटी को जहर देने के बाद योगेश ने खुद जहर क्यों नहीं खाया। ऐसे कई सवाल इस गुत्थी को और उलझा रहे हैं। चिकित्सकों के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आया है कि मां-बेटी की मौत बुधवार दोपहर को हुई, जबकि योगेश की मौत का समय शाम करीब छह से सात बजे बताया गया।

 मुंबई से एक दिन पहले आई बरखा
पुलिस के अनुसार करीब ढाई महीने पहले बरखा मुंबई में मेकअप आर्टिस्ट का कोर्स करने गई थी। बरखा की जेठानी अवनी पहले से मुंबई में है। बीते मंगलवार को ही बरखा मुंबई से लौटी थी। जो उसी रात को अपनी बड़ी बहन आंचल के घर लालकुर्ती में रुकी थी। जबकि योगेश अपने घर शास्त्रीनगर में था। बुधवार सुबह दस बजे योगेश ही बरखा को लालकुर्ती से शास्त्रीनगर सेक्टर-6 में अपने किराये के फ्लैट में लाया था। इसके बाद करीब तीन घंटे के अंतकाल में इस फ्लैट में क्या-क्या हुआ, इसका जवाब अभी किसी के पास नहीं है।

सनाया पेपर देकर जल्दी आई थी
सनाया की लाश स्कूल ड्रेस में बेड पर बरखा के पास मिली। स्कूल से आने के बाद बच्चा अक्सर ड्रेस बदल लेता है। जिससे अंदेशा लगाया जा रहा है कि घटना दोपहर को हुई है। क्योंकि सनाया का एग्जाम था और वह  सुबह 11:30 बजे ही अपने घर पहुंच गई थी। जिसके बाद योगेश अपनी बेटी को स्कूल से फ्लैट में ले गया। जहां  मां-बेटी की लाश मिली।

फ्लैट में सब सुरक्षित मिला
फ्लैट के जिस कमरे में पुलिस ने तीनों शव बरामद किए थे, उसके मौका-ए-मुआयने की पुलिस ने वीडियोग्राफी कराई। मां-बेटी की लाश बेड पर और योगेश की लाश पंखे पर लटकी थी। मां-बेटी जिस बेड पर थी, उसकी चादर में सिलवट तक नहीं पड़ी थी। कोई सामान भी इधर से उधर नहीं हिला था। सवाल उठता है कि अगर जहरीला पदार्थ देकर दोनों को मारा जाता, तो मां-बेटी कुछ तो विरोध करतीं। मौत से पहले हाथ पैर तो हिलातीं। यह सवाल भी अहम माना जा रहा है।

सुसाइड नोट पर उठे सवाल
पुलिस ने जो सुसाइड नोट बरामद किया है, उस पर सवाल उठ रहे हैं। सुसाइड नोट को पढ़ने से ऐसा प्रतीत होता है कि जैसे बहुत जल्दबाजी में लिखा गया हो। योगेश ने इस सुसाइड नोट में अपने परिवार की मौत खुद अपने सिर पर ली है। यह भी लिखा कि बरखा और उसके परिवार को कोई परेशान न करे। मरने का कोई खास कारण सुसाइड नोट में नहीं लिखा। सुसाइड नोट की भी गंभीरता से जांच होने की जरूरत है।

पत्नी-बेटी को जहर देकर फांसी पर झूला व्यापारी

suicide in meerut sastrinagar
शास्त्रीनगर में घटना के बाद पहुंची पुलिस जांच करती।PC: अमर उजाला
शास्त्रीनगर सेक्टर-6 में एमपीजीएस के पास बुधवार रात सनसनीखेज घटना हो गई। एक व्यापारी पत्नी और नौ साल की बेटी को जहर देकर खुद फांसी पर झूल गया। मां-बेटी की लाश बेड पर और व्यापारी को पंखे पर लटका देखकर लोगोें का दिल दहल उठा। पुलिस के अनुसार योगेश के एक युवती से अवैध संबंध थे। इसे लेकर दंपति में विवाद चल रहा था।
पुलिस के मुताबिक, शास्त्रीनगर सेक्टर-2 निवासी योगेश वर्मा शास्त्रीनगर में एमपीजीएस से सटी बिल्डिंग की तीसरी मंजिल पर फ्लैट नंबर बी-3 में पत्नी बरखा वर्मा (32) और बेटी सनाया वर्मा के साथ किराये पर रहता था। उनका शास्त्रीनगर में स्कूल और फैंसी ड्रेस का रूपम एंपोरियम है। बुधवार देर रात योगेश का एक रिश्तेदार फ्लैट पर पहुंचा था। उसने दरवाजा खटखटाया, लेकिन अंदर से कोई जवाब नहीं मिला। उसके बाद रिश्तेदार ने योगेश के भाई हरीश वर्मा को फोन किया। हरीश और उनका बेटा संयम वहां पहुंचे।

शव देखकर बेहोश हुए
पिता-
पुत्र और रिश्तेदार ने दरवाजा तोड़ा तो अंदर का मंजर दिल दहलाने वाला था। बरखा और सनाया का शव बेड पर पड़ा था, जबकि योगेश का शव पंखे पर लटका हुआ था। तीनों की लाश देखकर पिता-पुत्र बेहोश हो गए। घटना की जानकारी पर सीओ सिविल लाइन रितेश कुमार और इंस्पेक्टर नौचंदी एसके राणा मौके पर पहुंचे। सीओ ने बताया कि कमरे से मिले सुसाइड नोट में योगेश ने परिवार की मौत का जिम्मेदार खुद को ठहराया है। वहीं, इंस्पेक्टर के अनुसार योगेश के एक युवती से अवैध संबंध थे। जिसका बरखा विरोध करती थी।