Category Archives: Crime

स्कूल से लौट रहे किशोर की अगवा करके हत्या

 student murdered retuning from school
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
परीक्षितगढ़ स्थित सरस्वती स्कूल से लौटते छात्र की लालपुर-नंगलासाहू के जंगल में अगवा करके हत्या कर दी गई। हत्यारों ने पहले छात्र के घर फोन से पचास लाख की फिरौती मांगी, छात्र को खोजते हुए ग्रामीण जंगल में पहुंचे तो छात्र की हत्या करके हत्यारे फरार हो गये। परिजनों ने दूसरे समुदाय के लोगों पर हत्या करने का अंदेशा जताया हैं। गुस्साए ग्रामीणों ने देर रात मोर्चरी के सामने गढ़ रोड पर जाम लगा दिया। पुलिस ने तीन लोगों को पूछताछ के लिए उठाया है।

इंचौली थानाक्षेत्र के नबीपुर गांव निवासी रणवीर सिंह गुर्जर का बेटा शिवा (15) उर्फ भोलू परीक्षितगढ़ में रोजाना साइकिल से पढ़ने जाता था। सोमवार को शाम चार बजे तक शिवा नहीं लौटा तो बहन शिखा ने उसके मोबाइल पर कॉल की। फोन पर शिखा को धमकाते एक व्यक्ति ने शिवा को अगवा बताया और छोड़ने की एवज में 50 लाख फिरौती मांगी। फिरौती की रकम हरियाणा पहुंचाने की बात कही। आसपास के लोगों को इसकी जानकारी लगी तो वह एकत्र होने लगे। इसी दौरान गांव के मनीष और राजवीर ने बताया कि शिवम को साइकिल से आते नंगलासाहू गांव के जंगल में आते देखा था। ग्रामीण ट्रैक्टर ट्राली पर सवार होकर छात्र को खोजने निकल पडे़। लालपुर-नंगलासाहू गांव के जंगल में ग्रामीणों को गोली की आवाज सुनी तो वह दौड़कर वहां पहुंचे। सड़क से करीब तीन किमी. कच्चे रास्ते पर ईख के खेत में शिवा खून से लथपथ पड़ा था। ग्रामीणों ने आनन फानन में उसको आनंद हॉस्पिटल में भी भर्ती कराया, जहां उसकी मौत हो गई।

गाय के विवाद में हुई हत्या 
ग्रामीणों ने बताया कि रणवीर सिंह खेत बाड़ी का काम करते हैं। उनके 15 बीघा जमीन है और हत्यारों ने 50 लाख रुपये की फिरौती मांगी। यह मामला फिरौती का नहीं हैं। पुलिस के मुताबिक रणवीर सिंह ने कुछ दिन पहले 15 हजार रुपये में नंगलासाहू गांव के दूसरे समुदाय के एक किसान को गाय बेची थी। चार दिन पूर्व गाय की मौत हो गई। जिस पर नंगलासाहू का किसान रोजाना शिवा को बीमार गाय बेचने की बात कहकर टोकता था। कई बार दोनोें में कहासुनी भी हुई। ग्रामीणों को अंदेशा है कि इसी विवाद में शिवा की हत्या हुई हैं।

ग्रामीणों की आवाज सुनकर मारी गोली 
पुलिस के मुताबिक नबीपुर, नंगलासाहू और लालपुर गांव एक दूसरे से सटे हैं। ग्रामीण शिवा को ढूंढ रहे थे। हत्यारों को ग्रामीणों के पहूंचने का आभास हो गया था। आवाज सुनते ही हत्यारों ने शिवा के सीने में सटाकर गोली मार दी। बदमाशों ने तीन बजे से शिवा को बंधक बनाया था और उसको शाम करीब छह बजे गोली मारकर फरार हुए। पुलिस को अंदेशा है कि नबीपुर के ग्रामीण बदमाशों तक पहुंच गए थे। शिवा उनको जानता होगा। शिवा को छोड़ देते तो उनकी पहचान खुल जाती, इस वजह से उसको गोली मार दी।

घटना के बाद सांप्रदायिक तनाव 
बच्चे की हत्या के बाद नबीपुर और नंगलासाहू गांव में सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बन गई। हत्या करने वाले दूसरे समुदाय के हैं। इसको लेकर नबीपुर के ग्रामीणों में आक्रोश हैं। इसकी जानकारी पर एसएसपी मंजिल सैनी दहल, एसपी देहात राजेश कुमार समेत कई थाने की पुलिस मौके पर पहुंची।

गुरुग्राम में बच्चे की हत्या के मामले में बड़ी कार्रवाई, रयान स्कूल के दो सीनियर अधिकारी गिरफ्तार

गुरुग्राम में बच्चे की हत्या के मामले में बड़ी कार्रवाई, रयान स्कूल के दो सीनियर अधिकारी गिरफ्तार

गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की शुक्रवार को हत्या कर दी गई थी

खास बातें

  1. सोहना के SHO को सस्पेंड किया गया
  2. स्कूल का जूनियर और नर्सरी सेक्शन अगले आदेश तक बंद
  3. SIT जांच में स्कूल में कई खामियां उजागर

गुरुग्राम: गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की बेरहमी से की गई हत्या के मामले में स्कूल मैनेजमेंट के दो सीनियर अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. स्कूल के रीजनल हेड और एचआर हेड को गिरफ्तार किया गया है और दोनों को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा. कुछ अन्य टीचरों से भी पूछताछ की जा रही है. वहीं सोहना थाने के एसएचओ को भी सस्पेंड कर दिया गया है. स्कूल कम से कम मंगलवार तक बंद रहेगा. रयान इंटरनेशनल स्कूल मैनेजमेंट ने अभिभावकों को सूचित किया कि जूनियर और नर्सरी सेक्शन अगले आदेश तक बंद रहेंगे. हालांकि छठी से 12वीं तक के क्लास बुधवार को परीक्षा के लिए खुलेंगे. हत्या की जांच कर रही एसआईटी को स्कूल में कई खामियों का पता चला है. जांच टीम की रिपोर्ट के मुताबिक स्कूल में एक-दो नहीं, बल्कि कई स्तर पर लापरवाही बरती जा रही थी. एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि स्कूल में सीसीटीवी लगाने में गड़बड़ी की गई थी. साथ ही स्कूल के अंदर ड्राइवर और कंडक्टरों के लिए अलग से कोई टॉयलेट की व्यवस्था नहीं थी. स्कूल की बाउंड्री भी टूटी हुई थी और टॉयलेट बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं थे.

एसआईटी के सदस्यों ने यह भी बताया कि स्कूल के कर्मचारियों की सही तरीके से पुलिस वेरिफिकेशन नहीं की जाती है. रविवार को नाराज लोगों ने स्कूल के पास के शराब के एक ठेके को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज किया. कुछ मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई हैं. अभिभावक लगातार स्कूल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कहा है कि इस मामले में कोई नरमी नहीं बरती जाएगी और स्कूल प्रबंधन को जबावदेह ठहराया जाएगा. वहीं हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने रविवार को कहा कि इस मामले में आरोपपत्र सात दिन में तैयार होगा. बहरहाल, अगर बच्चे के माता-पिता सीबीआई या किसी दूसरी एजेंसी से जांच की मांग करते हैं तो सरकार उनकी मांग स्वीकार कर लेगी.

VIDEO : एसआईटी रिपोर्ट में गुरुग्राम के स्कूल में कई खामियों का जिक्र

बीते शुक्रवार को स्कूल के टॉयलेट में दूसरी कक्षा के प्रद्युम्न ठाकुर की गला काटकर हत्या कर दी गई थी. इस कांड के सिलसिले में बस कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया गया है.

नवविाहिता की गला रेतकर हत्या कर… पति ने उठाया ये खौफनाक कदम

Killed the wife, husband raised this creepy step
निधि का फाइल फोटो
एक युवक ने अपनी नवविवाहिता पत्नी की छुरे से गला रेतकर हत्या दी और खुद पटरी पर सिर रखकर ट्रेन से कटकर जान दे दी। गांव वालों का कहना है कि युवक मानसिक रूप से बीमार था।

बिजनौर के गांव खानपुर माधो उर्फ तिमरपुर निवासी अंकित का विवाह 27 जून को चांदपुर थाने के गांव हल्ला नंगली निवासी निधि से हुआ था। अंकित घरवालों के साथ मिलकर खेती करता था। रविवार को अंकित की मां, पिता व भाई एक रिश्तेदारी में आरिष्टी में शामिल होने कोतवाली शहर के गांव सड़ियापुर गए थे। घर पर निधि, अंकित, अंकित की दादी कलावती व निधि के ताऊ कूड़े सिंह थे। दोपहर करीब साढ़े 12 बजे अंकित ने कूड़े सिंह को खाना खिलाया और उनके कमरे में तेज आवाज में टीवी चला दिया। अंकित ने अपने कमरे में जाकर वहां मौजूद निधि की छुरे से गला रेतकर हत्या कर दी और घर से फरार हो गया। अंकित की दादी ने उसे घर से भागते देखा, लेकिन ध्यान नहीं दिया। करीब डेढ़ बजे कूड़े सिंह अपने कमरे से बाहर निकले तो उन्होंने निधि के कमरे से खून बहकर आंगन में आता देखा। वे भागकर कमरे में गए तो वहां निधि का रक्तरंजित शव जमीन पर पड़ा था। पास में ही हत्या में प्रयुक्त छुरा पड़ा था। सूचना पर निधि के घरवाले भी गांव पहुंच गए। उन्होंने निधि के ससुरालवालों पर उसे प्रताड़ित करने का आरोप लगाया। उनका कहना था कि मायके वाले निधि को उनसे फोन पर बात तक नहीं करने देते थे। निधि ने किसी तरह शुक्रवार को घर फोन कर अपना हाल बताया था। तब उसके ताऊ कूड़े सिंह उसके घर आए थे।

हत्या कर फरार हो गया था पति

जांच करने पहुंची पुलिस

इस बीच करीब तीन बजे बालावाली व चंदक स्टेशन के बीच गांव नाईवाला के पास एक युवक का शव रेलवे ट्रैक पर पड़े होने की सूचना मिली। गांव वाले मौके पर पहुंचे तो शव की शिनाख्त अंकित के रूप में की। अंकित ने पटरी पर सिर रखकर ट्रेन से कटकर आत्महत्या की थी। नवदंपति की मौत से घर में मातम का माहौल है। गांव वालों का कहना है कि अंकित, घरवालों के साथ खेती में हाथ बंटाता था। फसलों में दवाइयों, कीटनाशकों आदि का छिड़काव अंकित ही करता था। करीब एक महीना पहले फसलों में दवा छिड़कते समय उसके दिमाग पर दवाइयों की गर्मी चढ़ गई थी, तब से उसका दिमागी संतुलन ठीक नहीं था। परिजन उसका उपचार करा रहे थे। सीओ सिटी गजेंद्रपाल सिंह व एसओ जसवीर सिंह मौके पर पहुंचे और मृतका के मायके वालों को शांत कर शव कब्जे में लिया। अभी तक मामले की तहरीर नहीं दी गई है।

Encounter : पुलिस कस्टडी से भागा बदमाश मुठभेड़ में ढेर, एक घायल

Encounter : stack in a scam shootout fleeing police custody, a injured
बदमाश मुठभेड़ में ढेर
मुजफ्फरनगर में जटवाड़ा गंगनहर पटरी पर पुलिस मुठभेड़ में मारा गया नदीम शातिर अपराधी था। उसके खिलाफ लूट, हत्या, अपहरण आदि जघन्य अपराधों के करीब 15 मुकदमे दर्ज हैं। वह दो दशक से अपराध कर रहा था। दिल्ली में आपराधिक वारदातों को अंजाम देने पर उसे दस साल की सजा भी हुई थी। सजा काटने के बाद वह फिर से अपराध की दुनिया में सक्रिय हो गया।
नई मंडी कोतवाली क्षेत्र के गांव बागोवाली निवासी नदीम पुत्र इरशाद 20 वर्षों से जघन्य अपराध कर रहा था। कुछ समय पूर्व ही वह दिल्ली जेल में सजा काटने कर बाहर आया था। नदीम ने 10 अगस्त 2017 को बागोवाली गांव में ही सुनार की दुकान करने वाले शहर के मोहल्ला आबकारी निवासी सराफ महेश वर्मा से लूट की थी। नदीम अपने दो साथियों के साथ दिन में ही सर्राफ वर्मा की दुकान पर पहुंचा और 40 हजार की नगदी के अलावा करीब पांच लाख के जेवरात लूटे थे। जाते हुए नदीम ने सराफ से कहा था कि मेरा नाम नदीम है, शिकायत की तो अंजाम बुरा होगा। नई मंडी कोतवाली पर उसके खिलाफ लूट का मामला दर्ज किया गया था। वह तभी से फरार चल रहा था। उस पर 12 हजार का इनाम घोषित किया गया था। मंगलवार को ही पुलिस ने उसे कैराना के गांव तितरवाड़ा से गिरफ्तार किया था। मगर, बुधवार को वह पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था।

लाल घेरे में बदमाश नदीम

एसपी देहात अजय सहदेव ने बताया कि नदीम शातिर अपराधी था, उस पर दिल्ली से लेकर मुजफ्फरनगर, शामली, सहारनपुर, मेरठ आदि जिलों के थानों में लूट, हत्या, डकैती आदि संगीन अपराधों के 15 मुकदमे दर्ज हैं। सिविल लाइन क्षेत्र में भी उसने हत्या की थी। वहीं, एसएसपी ने कहा कि ककरौली थाना प्रभारी अनिल सिंह और इंस्पेक्टर विजय कुमार त्यागी नगद पुरस्कार के साथ पदोन्नति भी मिलेगी। इसके अलावा उन्होंने एसपी देहात अजय सहदेव सिंह और सीओ भोपा रिजवान अहमद, कांस्टेबल बालकिशन, राहुल, भारत भूषण, राहुल को भी शाबासी दी।

आज ही घोषित हुआ था 15 हजार का इनाम 
मंगलवार को नदीम के पकड़े जाने पर उस पर घोषित 12 हजार का इनाम खत्म हो गया था। मगर, बुधवार को वह पुलिस कस्टडी से फरार हो गया था। एसएसपी की संस्तुति पर एडीजी मेरठ प्रशांत कुमार की ओर से शुक्रवार को ही उस पर 15 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था।

मुठभेड़ में इनामी दबोचा, दो साथी भाग निकले

एक बदमाश घायल

इंस्पेक्टर चमन सिंह चावड़ा को शुक्रवार को देर शाम मंदवाड़ा रोड पर बदमाशों के होने की सूचना मिली। इंस्पेक्टर पुलिस बल के साथ मंदवाड़ा रोड पर पहुंचे। पुलिस ने सामने से आते एक बाइक सवार तीन युवकों को टॉर्च से इशारा कर रोकने की कोशिश की। बाइक सवार बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायर किया। फायर करते ही बदमाश बाइक सड़क पर डालकर खेतों की ओर भागे। पुलिस ने भी जवाबी फायर किया। पैर में गोली लगने से घायल बदमाश को पुलिस ने पकड़ लिया। दो बदमाशों की तलाश पुलिस ने कांबिंग की, लेकिन बदमाश गन्ने के खेतों में फरार हो गए। पुलिस ने मौके से तमंचा, कारतूस और बाइक बरामद की। पूछताछ के बाद पुलिस ने बताया कि पकड़ा गया बदमाश फुरकान मंदवाड़ा गांव का रहने वाला है। वह वर्ष 2016 में थानाभवन में पड़ी डकैती और एक जुलाई को मंदवाड़ा में हुई लूट के मामले में भी फुरकान फरार चल रहा है। पुलिस ने बताया कि करीब 20 दिन पहले फुरकान पर पांच हजार का इनाम घोषित हुआ है। पैर में गोली लगने से घायल फुरकान को पुलिस ने जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया है।

परत दर परत खुल रहे हैं डेरा सच्चा सौदा के राज, अब विस्फोटक बनाने की फैक्ट्री बरामद

परत दर परत खुल रहे हैं डेरा सच्चा सौदा के राज, अब विस्फोटक बनाने की फैक्ट्री बरामद

सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा परिसर में तलाशी अभियान दूसरे दिन भी जारी है

सिरसा: हरियाणा के सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय में आज दूसरे दिन भी तलाशी अभियान जारी है. आज तलाशी अभियान के दौरान डेरा परिसर में विस्फोटक बनाने की अवैध फैक्ट्री पकड़ी गई हैं. इस फैक्ट्री से 82 पेटी विस्फोटक बरामद हुए हैं. फॉरेंसिंक विभाग की टीम यहां गहन छानबीन में जुटी है. वहीं आज डेरा परिस के अंदर जमीन की खुदाई भी होगी. शनिवार से जारी तलाशी अभियान में धीरे-धीरे डेरे के राज सामने आ रहे हैं. डेरे से शनिवार को 5 लोगों को आजाद कराया गया था, जिनमें 2 नाबालिग हैं.

फॉरेंसिंक टीम ने उस गुफा का भी मुआयना किया, जिसमें राम रहीम ने दो महिलाओं के साथ रेप किया था. जांच में कैश भी बरामद हुआ है, कुछ हार्ड डिस्क भी मिली है. शनिवार को तलाशी के दौरान बिना रजिस्ट्रेशन प्लेट वाली एक लग्जरी कार और पुराने करंसी नोट बरामद किए गए. एक ओबी वैन, बिना लेबल वाली कुछ दवाएं और एक वॉकी-टॉकी सेट बरामद किया गया.

VIDEO : सर्च ऑपरेशन में खुलते जा रहे हैं डेरा सच्चा सौदा के राज

पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट के नियुक्त किए गए कोर्ट कमिश्नर की निगरानी में तलाशी अभियान चल रहा है. इस अभियान को 10 भागों में बांटा गया है. सर्च ऑपरेशन के लिए एसपी रैंक के अधिकारियों की 10 टीमें बनाई गई हैं. सिरसा में फिलहाल कर्फ्यू लगा हुआ है. पूरे तलाशी अभियान की सीलबंद रिपोर्ट हाइकोर्ट को सौंपी जाएगी.

स्कूल में बच्चे का यौन शोषण नहीं कर सका तो गला, कान काट दिया और हाथ धोकर निकल गया कंडक्टर

 गुरूग्राम में रयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार (8 सितंबर) सात वर्षीय एक छात्र की गला रेतकर हत्या कर दी गयी और वह शौचालय में खून से लथपथ पड़ा मिला। पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि छात्र की हत्या कथित रूप से बस कंडक्टर ने की है और उसने बच्चे का यौन शोषण करने का भी प्रयास किया था। पुलिस ने इस हत्याकांड के कुछ ही घंटो बाद इसे सुलझा लेने का दावा करते हुए कहा कि इस मामले में स्कूल के बस कंडक्टरों में से एक अशोक कुमार को गिरफ्तार कर लिया गया है। गुरूग्राम के डीसीपी सुमित कुहर ने कहा‘‘ कथित हत्यारे ने कक्षा दो के छात्र का यौन शोषण करने का भी प्रयास किया लेकिन छात्र ने इसका विरोध किया और चिल्लाया। इसके बाद उसकी हत्या कर दी गयी और हत्यारा चाकू छोड़कर भाग गया।’’

पुलिस ने कहा था कि उसने 10 लोगों को हिरासत में लिया है। अशोक कुमार से एक टीम ने पूछताछ की जिसके बाद उसने अपना गुनाह कबूल लिया। लड़के के पिता एवं गुरूग्राम में एक निजी फर्म में गुणवत्ता प्रबंधक के तौर पर कार्यरत वरूण ठाकुर ने स्कूल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया। ठाकुर ने कहा, ‘‘उन्होंने मुझे बताया कि उसकी तबीयत अचानक खराब हो गई। उन्होंने मेरे पुत्र की देखभाल नहीं की। उसे यदि समय पर अस्पताल पहुंचा दिया गया होता तो उसका जीवन बच सकता था।’’

दुखी पिता ने कहा, ‘‘ मैंने उसे आज सुबह करीब साढ़े सात बजे स्कूल छोड़ा था। वह बहुत खुश था।’’ इस घटना के बाद निराश सैकड़ों अभिभावकों और स्थानीय लोगों ने निजी स्कूल के बाहर इकट्टा होकर स्कूल प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन किया। स्कूल की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि कुछ छात्रों ने सोहना क्षेत्र में स्थित स्कूल इमारत के शौचालय में पीड़ित बच्चे को सुबह साढे आठ बजे देखा।

गुड़गांव पुलिस के जन संपर्क अधिकारी रवीन्द्र कुमार ने बताया, ‘‘छात्रों ने शिक्षकों को सूचना दी और स्कूल प्रशासन ने पुलिस को सूचित किया। छात्र को आर्टेमिस अस्पताल ले जाया गया। चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।’’ पुलिस ने बताया कि आरोपी अशोक कुमार ने उन्हें बताया कि वह स्कूल के भीतर चाकू इसलिए ले जा सका क्योंकि वह जानता था कि गेट पर सुरक्षा गार्ड उसकी जांच नहीं करेंगे क्योंकि वह जाना पहचान चेहरा था।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पीटीआई भाषा को बताया कि इसके बाद वह शौचालय गया और वहां किसी छात्र का इंतजार करने लगा। जैसे ही बच्चा शौचालय में आया तो कुमार ने उसे पकड़ लिया। लेकिन बच्चे ने इसका विरोध किया और आरोपी बच्चे का यौन शोषण नहीं कर सका और उसका गला तथा एक कान काट दिया।

पुलिस का दावा है कि इसके बाद आरोपी ने अपने हाथ धोये और चाकू छोड़कर शौचालय के बाहर टहलने लगा। उसने बच्चे को अस्पताल ले जाने के दौरान शिक्षकों की मदद करने का भी प्रयास किया। पुलिस ने इससे पूर्व बताया था कि एक माली, कंडक्टरों और चालकों समेत 10 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है।

इस बीच स्कूल ने एक बयान में कहा कि ‘‘ इस घटना से बहुत दुख पहुंचा है।’’ बयान में कहा गया ‘‘बच्चा गंभीर रूप से घायल था और उसे स्कूल हैड द्वारा तुरन्त अस्पताल ले जाया गया। काफी प्रयासों के बावजूद दुर्भाग्यवश उसे नहीं बचाया जा सका।’’ बयान में कहा गया है कि मामले की जांच में स्कूल पुलिस के साथ सहयोग करेगा। फोरेंसिक विशेषज्ञों समेत पुलिस की एक टीम ने इससे पूर्व खून के नमूने इकट्टा किये थे, शौचालय से अंगुलियों के निशान लिये थे और मौके से बरामद चाकू को जांच के लिए भेजा। पुलिस ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

ड्रग इंस्पेक्टर बताकर सराफ से 10 लाख की ठगी

said drug inspector, commit 10 lakh thagi
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो

 शहर के मुख्य बाजार में अर्से से सक्रिय ठग गिरोह ने बुधवार दिनदहाड़े काशीपुर के सराफ से जेवर समेत 10 लाख रुपये की ठगी कर ली। बदमाशों ने खुद को ड्रग इंस्पेक्टर बताकर यह घटना की। घटना के विरोध में सराफा व्यापारियों ने हंगामा किया।

काशीपुर के सराफ कृष्ण कुमार बुधवार को अपने नौकर के साथ शहर सराफा में जेवरों की मरम्मत कराने आए थे। सुबह करीब 11:45 बजे कार टाउन हॉल पार्किंग में खड़ी करने के बाद वे नौकर के साथ पैदल ही बाजार आ रहे थे। लाला का बाजार से नील गली की तरफ मुड़ते ही एक व्यक्ति ने नौकर को रोकते हुए कहा कि ड्रग इंस्पेक्टर साहब चेकिंग को बुला रहे हैं। नौकर बैग कृष्णकुमार को देकर उसके साथ चला गया। काफी देर बाद भी नौकर के न लौटने पर कृष्णकुमार खुद उस गली में पहुंचे तो वहां 5-6 व्यक्ति नौकर को घेरे खड़े थे। एक बदमाश ने खुद को ड्रग इंस्पेक्टर बताकर कृष्ण कुमार की भी तलाशी लेनी शुरू कर दी। इस बीच झांसा देते हुए बैग से जेवर और नकदी उड़ा ली। कुछ दूर चलने पर सराफ ने शक होने पर बैग देखा तो उसमें रखे करीब 250 ग्राम वजन के करीब आठ लाख के जेवर और दो लाख रुपये गायब थे।

सराफ के शोर मचाने पर सराफा बाजार व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष लोकेश अग्रवाल, महामंत्री दिनेश रस्तोगी आदि कई सराफ मौके पर पहुंचे। सूचना पर एसओ देहली गेट विजय गुप्ता पहुंचे तो व्यापारियों ने हंगामा कर दिया। व्यापार संघ के संरक्षक विपिन अग्रवाल ने पीड़ित सराफ को रिश्तेदार बताते कहा कि घटना के बाद कृष्णकुमार बहुत घबरा गए थे और तहरीर देकर वापस चले गए। वहीं, सीओ कोतवाली के अनुसार घटना का जल्द खुलासा होगा।

फुटेज में कैद हुआ एक युवक
पुलिस ने सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक की तो उसमें सराफ के नौकर के कंधे पर हाथ रखकर बात करता एक युवक कैद हुआ है। यही युवक नौकर को तलाशी के  लिए बुलाकर ले गया था। जिसकी पुलिस तलाश में है। हालांकि घटना को लेकर पुलिस को संदेह है। इन तथ्यों की पुष्टि पुलिस कर रही है।

‘कब तक लुटते रहेंगे व्यापारी’
व्यापारी नेता लोकेश अग्रवाल, दिनेश रस्तोगी आदि के नेतृत्व में सराफा व्यापारियों ने एसएसपी मंजिल सैनी से मिलकर घटना पर रोष जताया। व्यापारियों ने बताया कि इससे पहले बाजार में बरेली के सराफ मुकेश रस्तोगी से भी 20 लाख के जेवरों की ठगी हुई थी। बदमाशों ने खुद को क्राइम ब्र्रांच से बताकर तलाशी ली थी। वैली बाजार और बीआर स्टूडियो के सामने देहरादून के व्यापारी के साथ घटना हुई थी। बहुत से व्यापारी तो डर की वजह से मुकदमा तक दर्ज नहीं कराते। बाजार में लंबे समय से गैंग सक्रिय है। लेकिन पुलिस फुटेज मिलने के बाद भी कार्रवाई के बजाय हर घटना को फर्जी बताती है। यदि इसी तरह व्यापारी लुटते रहेंगे तो बाहर के व्यापारी यहां आना बंद कर देंगे। एसएसपी ने घटना को गंभीरता से लेकर खुलासा कराने का आश्वासन दिया।

मकान में हड्डियों का ढेर, विरोध पर पिस्टल तानी

bones collection in house, protest
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
 लिसाड़ी गेट के लक्खीपुरा के एक मकान में कुछ लोगों ने पशुआें की हड्डियों का ढेर जमा कर लिया है। जिससे मोहल्ले में दुर्गंध से लोग परेशान हैं। मंगलवार को कुछ लोगों ने विरोध किया तो उन पर पिस्टल तान दी गई।

लक्खीपुरा के गली नंबर 26 निवासी उस्मान आदि ने बताया कि उनके मोहल्ले के एक मकान के अंदर पशुओं की हड्डियां भरी हुई हैं। दो भाई इसका अवैध कारोबार करते हैं। इन हड्डियों की वजह से मोहल्ले में दुर्गंध फैली हुई है। पूरा मोहल्ला इससे परेशान है। उस्मान का आरोप है कि मंगलवार को उसने दोनों भाईयों से इस पर एतराज किया। उसने हड्डियों को मकान से हटाने को कहा तो दोनों भाई उससे मारपीट पर उतारू हो गए।

लोगों ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस के पहुंचने से पहले ही दोनो वहां से गायब हो गए। मौके पर भीड़ जमा हो गई। लोगों ने पुलिस से कहा कि मोहल्ले के अंदर इस तरह हड्डियां जमा करना गलत है। दुर्गंध की वजह से बीमारी फैल सकती हैं। लोगों ने हड्डियों को हटवाने की मांग पुलिस से की। लोगों ने शक जताया कि मकान के अंदर मिनी कमेला चल रहा है। लोगों का आरोप था कि पुलिस इस मामले में खानापूरी कर चली गई। कोई कार्रवाई नहीं की गई।

बेटी पैदा होने व दहेज कम देने पर ससुरालियों ने दी ऐसी खौफनाक सजा

Punish the daughter-in-law on giving birth to dowry
पत्नी की मौत के बाद पुलिस के सामने रोता पति
सहारनपुर में बेटी पैदा करने पर नेहा को एक साल से लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था। उसे घर से नहीं निकलने देते थे, मायके वालों से बात नहीं करने देते थे, दहेज कम लाने का उलाहना देते रहते थे। रक्षाबंधन पर फिर से घर जाने की बात कही तो मिट्टी का तेल डालकर उसे जिंदा जला डाला।

कुतुबशेर थाना क्षेत्र के गुरुद्वारा रोड स्थित मोहल्ला सुभाष नगर में विवाहिता नेहा उर्फ राधिका खुराना की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत होने पर उसके परिजनों ने ससुराल वालों पर ये आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है। नागल के अश्वनी अरोड़ा की बेटी नेहा उर्फ राधिका (23 वर्ष) की शादी दो वर्ष पूर्व सुभाष नगर के राकेश खुराना के बेटे गौरव खुराना के साथ हुई थी। लगभग 11 माह पूर्व उसने एक बेटी भव्या को जन्म दिया। शुक्रवार की सुबह लगभग 11 बजे नेहा की प्रथम तल पर बने कमरे में संदिग्ध परिस्थितियों में जलकर मौत हो गई।

मारपीट भी करते थे

घर में जांच करती पुलिस

सास रानी ने बताया कि वह रक्षाबंधन पर घर जाने के लिए कह रही थी। उन्होंने बेटी के बीमार होने के कारण मना कर दिया। जिस पर आक्रोशित होकर उसने मिट्टी का तेल डालकर खुद को आग लगाकर आत्महत्या कर ली। जबकि मृतका के पिता नांगल निवासी अश्वनी अरोड़ा ने आरोप लगाया है कि पहले उसे दहेज के लिए प्रताड़ित किया जाता रहा, फिर बेटी पैदा होने पर प्रताड़ित किया जाने लगा। उसे मायके भेजना बंद कर दिया। यहां तक कि फोन पर बात भी नहीं करने दिया जाता था। वह काफी दिनों से परेशान थी। पिछली बार जब उसने मायके जाने के लिए कहा था तो ससुरालियों ने रक्षाबंधन पर भेजने का बहाना बना दिया था। मारपीट भी कर रहे थे। अश्वनी ने नेहा की हत्या का आरोप लगाते हुए पति गौरव खुराना, ससुर राकेश खुराना और सास रानी खुराना के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है।

विवाहित बेटी को अगवा कर ले गए परिजन

मोदीपुरम। पल्लवपुरम थाना क्षेत्र के धंजू गांव में रविवार रात विवाहिता के मायके पक्ष के लोगों ने जबरन घर में घुसकर अपनी बेटी को ही अगवा कर लिया। परिजन बेटी के प्रेम विवाह करने से नाराज थे।

पुलिस के अनुसार धंजू गांव निवासी दीपक ने तीन माह पहले मीरापुर निवासी नेहा से कोर्ट मैरिज की थी। विवाहिता के परिजनों ने मीरापुर में अपहरण का मामला दर्ज करा दिया। बाद में कोर्ट ने दोनों को बालिग माना। विवाहिता धंजू गांव में दीपक के साथ रहने लगी। रात में मायके पक्ष के लोग पहुंचे और दीपक व उसके परिजनों को घर में घुसकर पीटकर नेहा को जबरन कार में डालकर ले गये। कंट्रोल रूम की सूचना पर पुलिस ने कार का पीछा कर महिला को बरामद कर लिया। एसओ पल्लवपुरम का कहन है कि मामले की जांच की जा रही है।