Category Archives: मेरठ न्यूज़

मृतकों के नाम पर भी बनवा दिए शौचालय

for name of dead person make toilet
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
स्वच्छ भारत मिशन के तहत मोरना गांव में बनाए जा रहे शौचालयों में घोटाले का खुलासा हुआ है। ग्राम प्रधान और संबंधित विभाग के अधिकारियों ने मिलीभगत कर मृतकों और गांव छोड़कर चले गए कुछ लोगों के नाम पर शौचालय बनवा दिए। कई लोग ऐसे भी हैं जिनके नाम पर सूची में दो शौचालय दर्ज हैं। वहीं अधिकारी कंप्यूटर की गलती से नाम गलत छपने की बात कह रहे हैं।
भावनपुर थाना क्षेत्र के गांव मोरना में स्वच्छ भारत मिशन के तहत 232 शौचालय बनवाने का काम चल रहा है। इन शौचालयों को निर्माण के लिए धनराशि सेक्रेेटरी के खाते में आती है। इसके माध्यम से ही प्रधान गांव में शौचालयों का निर्माण करवाते हैं। मोरना ग्राम प्रधान शहजाद ने गांव में शौचालय के लिए सर्वे कराया था। सर्वे के बाद जब दावेदारों की लिस्ट निकली तो उसमें कई ऐसे नाम सामने आए जिनकी काफी पहले मौत हो चुकी है। वहीं कुछ ऐसे भी थे जो काफी समय पहले गांव छोड़कर जा चुके हैं। दूसरी तरफ गांव में कई परिवार ऐसे हैं जो शौचालय बनवाने के लिए चक्कर काट रहे हैं। इसकी फर्जीवाड़े की शिकायत बजरंग दल के बूथ अध्यक्ष मोहित कांबोज, सह संयोजक निशांत शर्मा, सदस्य राजकुमार ने डीएम समीर वर्मा से की है। वहीं इस संबंध में सेक्रेटरी भोपाल सिंह ने कोई भी जानकारी देने से इनकार कर दिया।

इनकी लोगों की हो चुकी है मौत
मोरना निवासी नरेश पुत्र अतर सिंह, नत्थू पुत्र बंता सिंह, रामबल पुत्र रिशाल, रामेश्वर पुत्र द्वारका, सत्यप्रकाश पुत्र शेरा की काफी समय पहले मौत हो चुकी है। प्रधान ने इन सबको दावेदार बताते हुए शौचालय बनवा दिए।

ये लोग जा चुके गांव छोड़कर
मोरना निवासी महकार पुत्र राजेश, गुलफम पुत्र जमील, अश्वनी पुत्र ब़ुद्ध प्रकाश आदि शामिल है। यह सभी अपने परिवार के साथ बाहर शहरों में रहते हैं।

नाम में किया गया खेल  
शौचालयों को बनाने के मामले में नाम की स्पेलिंग में भी खेल किया गया है। इसी खेल के चलते अर्जुन पुत्र किरपाल के नाम पर दो शौचालय, भागचंद पुत्र हुकुम के नाम पर दो शौचालय, गंगाशरण पुत्र नत्थू, इस्लाम पुत्र बुंदू और सतेंद्र पुत्र मांगेराम के नाम पर भी दो शौचालय लिस्ट में दिखाए गए हैं। इनके नाम की स्पेलिंग में बदलाव किया गया है।

हरियाली तीज पर झूमा तन, मन

hariyaali teej, juuma tan man
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
 कजरी, गीत और मल्हार। हरी साड़ी पर सोलह सिंगार। मेहंदी रचे हाथ, झूलों पर सखियों का साथ। कुछ ऐसे नजारे बुधवार को शहर में हर ओर नजर आए। बुधवार को शहर में धूमधाम से हरियाली तीज मनाई गई। शहर में पार्कों, मंदिरों, कालोनियों, रेसीडेंसियल सोसाइटीज, स्कूल, कॉलेज आदि स्थानों पर तीजोत्सव हुआ। सिंधारे के लिए घेवर, गुझिया और मठरी की बिक्री खूब हुई। ब्यूटी पार्लर पर महिलाएं शृंगार कराने पहुंची। ब्यूटी पार्लर पर भी दोपहर तक खासी भीड़ रही। हरे परिधान में सोलह सिंगार, हरी चूड़ियों से सजकर महिलाओं ने तीज माता का पूजन किया। बड़े बुजुर्गों को बायना देकर लंबे सुहाग का आशीष लिया। शाम को महिलाएं परिवार सहित चाट-पकौड़ी का आनंद लेने बाजार पहुंचीं। रेस्टोरेंट, होटल,  चाट बाजार व स्ट्रीट फूड प्वांइट पर भारी भीड़ रही।

लेडीज पार्क में जमा तीज का रंग

लेडीज पार्क में नगर निगम की ओर से हर साल की तरह इस साल भी हरियाली तीज मेले का आयोजन हुआ। पार्क में झूले डाले गए। चाट, पकौड़ी के स्टॉल लगे। महिलाओं के लिए ओपन मंच सजाया गया। मंच पर नीता गुप्ता ने लोकगीतों की सुंदर प्रस्तुति दी। इसके बाद शहर के  विभिन्न इलाकों से पहुंची महिलाओं ने गीत, कविता, शायरी व गजल सुनाई। डीजे लगाकर फिल्मी गीतों पर डांस भी हुआ।

जैन मिलन महिलाओं का धमाल 

जैन मिलन महिला अरिहंत की तीज सभा रेलवे रोड जैन धर्मशाला में हुई। अनीता, राखी व पूनम ने शुभारंभ किया। लकी ड्रॉ निकाला। सदस्याओं ने नृत्य, गीत, संगीत की सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दीं। अचला व मीनाक्षी जैन ने तंबोला खिलाया। मंजू ने गेम्स कराए। शिखा, पूजा ने नाटिका दिखाई। कवियत्री अनामिका जैन अंबर ने कविता सुनाई। अनामिका जैन को जैन गौरव स्मृति वर्ष के तहत अनुराधा पौडवाल अवार्ड से सम्मानित किया गया। अध्यक्षा मंजू, सुनीता, ट्रेजरार बबीता ने आभार दिया। संचालन डॉ. मीनाक्षी जैन ने किया। सोनाली, रेनू, बबीता, अदिति, अंजली, शिखा, रीता, सीमा, पूजा, मंजू, आकांक्षा, डोली, शुभा, सोनी आदि ने सहयोग दिया।

जानवी बनीं तीज क्वीन
इस्माईल नेशनल महिला डिग्री कॉलेज में सदस्याओं ने मेहंदी व तीज के खेलों में भाग लिया। संचालन ममता वर्मा व ज्योति शर्मा ने किया। जानवी, अदीबा, पूजा, शुमायर व प्रियंका ने सहयोग दिया। तीज क्वीन जानवी बनीं। तंबोला व गेम्स में कृतिका, अंकिता, रेनू, शिवानी एवं अदीबा विजेता बनीं।

अंकिता जैन को मिला खिताब 
जैन मिलन संस्कार शाखा का आयोजन योगी फार्म हाउस में हुआ। संयोजिका मयूरी जैन, अंजली, प्रीति व सारिका रहीं। निर्णायक पूनम जैन ने अंकिता जैन को तीज की रानी चुना। सभा में अनुज जैन, अखिल, अमर, निमित, अमित जैन व सदस्यों ने सहयोग दिया।

जैन मिलन मेरठ की तीज सभा
जैन मिलन मेरठ की तीज सभा दिगम्बर जैन गर्ल्स इंटर कॉलेज सदर में हुई। रेनू, प्रियंका, सविता ने लोकगीत सुनाए। सांस्कृतिक प्रस्तुतियाें से समां बांधा। सोनिया, मीना, मीनू, आकाश, सविता, रानी ने भजन गाए। ट्रेजरार अनिल जैन, अध्यक्ष एसके जैन व सदस्य मौजूद रहे।

पीवीवीएनएल आफिसर्स महिला क्लब ने मनाई हरियाली तीज
हाइडिल कालोनी स्थित शक्ति क्लब में पीवीवीएनएल आफिसर्स महिला क्लब के कार्यक्रम का शुभारंभ क्लब अध्यक्षा एवं एमडी अभिषेक प्रकाश की मां विभा सिन्हा एवं उपाध्यक्षा मंजू अग्रवाल ने दीप किया। मंजू अग्रवाल, रश्मि वत्स, कविता गुप्ता ने सावन के गीत व भजन सुनाकर समां बांध दिया। पीवीवीएनएल के तमाम अधिकारियों की पत्नी मौजूद रहीं।

डॉक्टर अपहरण कांड : एसटीएफ ने एक और आरोपी दबोचा, डॉक्टर को मारने की थी प्लानिंग

Doctor kidnapping : STF arrested another accused
आरोपी गिरफ्तार
दिल्ली के डॉक्टर श्रीकांत गौड़ के अपहरण के मामले में आरोपी विवेक मोतला निवासी दादरी को मेरठ एसटीएफ ने पकड़ लिया। अभी पांच आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश में दिल्ली पुलिस और एसटीएफ लगी हुई है। एसपी एसटीएफ आलोक प्रियदर्शी व उनकी टीम ने मुखबिर की सूचना पर विवेक मोतला को भैसाली अड्डे के पास एक होटल से गिरफ्तार किया है। एसटीएफ की टीम आरोपी को सदर बाजार थाने ले गई और पूछताछ की। उसने बताया कि छह जुलाई को दिल्ली के प्रीत विहार से डॉक्टर श्रीकांत का अपहरण किया था। तभी से वह डॉक्टर के साथ था। मुख्य आरोपी सुशील व अनुज ने डॉक्टर को पहले रोहटा रोड, बिजनौर, एनएच-58 हाईवे स्थित कुंडा गांव व फिर शताब्दीनगर में बंधक बनाकर रखा था। दिल्ली पुलिस से मुठभेड़ के दौरान वह शताब्दीनगर से अपने साथियों का खाना लेने के लिए बाजार में गया था। वह बाजार में था तो उसको जानकारी मिली थी कि दिल्ली पुलिस ने छापा मारकर डॉक्टर को छुड़ा लिया। पुलिस ने उसके साथी प्रमोद को गोली मार दी है और अमित, नेपाल और सोहनवीर को भी गिरफ्तार कर लिया। तभी वह बाजार से भाग गया था। इंस्पेक्टर एसटीएफ धर्मेंद्र यादव का कहना है कि इस मामले में अभी सुशील, अनुज, गौरव समेत पांच आरोपी फरार हैं। जिनकी तलाश जारी है।
आरोपी बोला- 20 जुलाई को डॉक्टर को करना था हरिद्वार शिफ्ट
सदर बाजार थाने की हवालात में बंद आरोपी विवेक मोतला ने कई राज खोले। उसने कहा कि अगर 19 जुलाई को दिल्ली और मेरठ पुलिस शताब्दीनगर में दबिश नहीं देती तो उसका एक भी साथी नहीं पकड़ा जाता। क्योंकि अगले दिन (20 जुलाई) डॉक्टर को हरिद्वार में शिफ्ट करने का प्लान बनाया था। मुख्य आरोपी सुशील ने कहा था कि हरिद्वार जाते ही डॉक्टर को मारो या फिर उसको छोड़ दो। मास्टर माइंड सुशील ने डॉक्टर के अपहरण में शामिल साथियों से 18 जुलाई को कहा था कि अगर फिरौती नहीं मिली तो अपनी जान बचाओ, क्योंकि पुलिस उनकी घेराबंदी में जुटी थी। 20 जुलाई को सभी को हरिद्वार में पहुंचने की बात कही थी। फिरौती न मिलने और डॉक्टर को बंधक बनाकर रखना उनको अब भारी होने लगा था। पुलिस उनको नहीं पकड़ती तो डॉक्टर के साथ कुछ भी हो सकता था। हरिद्वार से डॉक्टर को ट्रेन में बैठाकर भेजने की बात पर सहमति बनी थी। लेकिन दो साथी बोल रहे थे कि अगर डॉक्टर को जिंदा छोड़ा तो पुलिस को वह सारी बातें बताएगा। उसकी हत्या करने का भी प्लान बनाया गया।

दुकान में घुसकर लूटपाट

theft done in the shop
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
एनएच-58 पर सुभारती पुलिस चौकी के सामने दो बदमाश रविवार दिनदहाड़े कपड़े की दुकान में घुसकर 25 हजार रुपये और दुकानदार से मोबाइल फोन लूटकर फरार हो गए।
डूंगरावली परतापुर निवासी जगन्नाथ की टीपी नगर थाना क्षेत्र में हाईवे स्थित बालाजी कांप्लैक्स में बिग ब्रांड नाम से रेडीमेड कपड़ों की दुकान है। दोपहर करीब 2:30 बजे दुकान पर पहुंचे दो बदमाशों ने जगन्नाथ, उनके बेटे रवि और कारीगर संजय पर पिस्टल तान दी। एक बदमाश ने गल्ले में रखा कैश कब्जे में कर लिया। दोनों बदमाश जगन्नाथ से पर्स और मोबाइल लूटकर बाइक से फरार हो गए।
घटना के बाद दुकानदार दहशत में आ गया। मौके पर पहुंचे एसएसआई ने बताया कि जगन्नाथ ने वारदात की सूचना आसपास के दुकानदारों को नहीं दी। घटना के दौरान उनके गांव के दो ग्राहक भी दुकान पर आए थे। लेकिन उन्हें भी कुछ नहीं बताया। कुछ ही दूरी पर यूपी 100 पुलिस की गाड़ी खड़ी थी। लेकिन वहां जाकर भी सूचना नहीं दी। काफी देर बाद थाना पुलिस को सूचना दी गई। दुकानदार ने थाने पर तहरीर दी है।

पर्स चोरी करने वाली महिला गिरफ्तार

lady arrested for theft purse
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
सदर बाजार में कपड़े की दुकान से पर्स चोरी करने की आरोपी महिला को पुलिस ने रविवार को गिरफ्तार कर लिया।  इंस्पेक्टर सदर पंकज पंत ने बताया कि बीते बृहस्पतिवार को सदर बाजार स्थित मंत्रा एक्सक्लूसिव नाम की दुकान पर सूट देखने के बहाने एक महिला अपनी बेटी की सहायता से गल्ले से पर्स चोरी कर ले गई थी।  दुकानदार हरमीत चावला ने थाने पर सीसीटीवी फुटेज देते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पर्स में करीब 10 हजार रुपये थे। अमर उजाला ने फुटेज को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। शनिवार को आरोपी महिला की पहचान सीमा पत्नी बिजेंद्र निवासी कुम्हारो वाली गली देहली गेट के रूप में करते हुए मोहल्ले वालों ने पुलिस को सूचना दी थी। सदर पुलिस ने रविवार को आरोपी महिला सीमा को उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। इंस्पेक्टर के अनुसार महिला का पति एक जिम में नौकरी करता है। महिला ने बताया कि उसने पर्स से मिले कागज कहीं फेंक दिए थे। उसके घर से कई पर्स और चोरी का अन्य सामान भी बरामद किया गया है। महिला पैंठ और भीड़भाड़ वाले स्थानों से चोरी की कई घटना कर चुकी है।

युवक की गोली मारकर हत्या

boy killed with gun shot
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
बेखौफ हमलावरों ने रविवार दोपहर दिनदहाड़े भटीपुरा के निकट बाइक सवार युवक की गोली मारकर  हत्या कर दी। मौत की तसल्ली करने के बाद ही हत्यारे हथियार लहराते हुए फरार हुए। हत्यारों के फरार होने पर आसपास के लोग जुटे और कंट्रोल रूम को सूचना दी। मृतक के परिजनों और ग्रामीणों ने मौके पर इंस्पेक्टर किठौर और सीओ को घेर लिया और घटना के खुलासे की मांग की। हत्या को लेकर पुलिस कई बिदुंओं पर जांच कर रही है।

माछरा निवासी आकाश भाटी (27) पुत्र ब्रिजेश भाटी गांव में ही खेती करता था। रविवार दोपहर को युवक अपने पिता की बुआ का सिंधारा लेकर भावनपुर थाना क्षेत्र के ग्राम सधारणपुर के लिये चला था। वह दो बजे बाइक से हसनपुर कलां एवं भटीपुरा के बीच पहुंचा तो बाइक सवार हमलावरों ने आकाश को रोककर उसके सिर में गोली मार दी। खून से लथपथ होकर आकाश जमीन पर गिर पड़ा। जिसके बाद हमलावरों ने जमीन पर पड़े आकाश के सीने में भी गोली दाग दी। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी बाइक से फरार हो गये। आसपास के जंगल में मौजूद लोग मौके पर पहुंचे तो युवक खून से लथपथ हालत में पड़ा था। कंट्रोल रूम की सूचना पर यूपी 100 की गाड़ी और इंस्पेक्टर किठौर किशनपाल सिंह मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली। युवक की जेब से मिले दो मोबाइल फोन की पुलिस ने जांच की। इसके बाद पुलिस ने आकाश के पिता को वारदात की जानकारी दी। आनन फानन में परिजन और ग्रामीण मौके पर पहुंचे और इंस्पेक्टर एवं सीओ किठौर का घेराव किया। हंगामे की सूचना पर एसपी देहात राजेश कुमार भी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव काे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक के पिता ने अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

कांवड़ यात्रा 2017 : हाईवे और दिल्ली रोड बंद, आधा शहर ‘कैद’

highway and delhi road close
फाइल फोटोPC: अमर उजाला ब्यूरो
कांवड़ यात्रा को लेकर ट्रैफिक पुलिस ने जहां सोमवार आधी रात को दिल्ली देहरादून हाईवे (एनएच-58) पर सभी प्रकार के वाहन बंद कर दिए थे। वहीं ट्रैफिक पुलिस ने मंगलवार को दिल्ली रोड पर चार पहिया वाहनों पर भी सख्ती करते हुए बंद करा दिया। हाईवे और शहर में अंदर दिल्ली रोड पर सिर्फ ट्रैफिक पुलिस द्वारा जारी किए गये पास वाले वाहन ही आ जा सके। लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में परेशानी हो रही है। जिससे करीब आधा शहर कैद हो गया।
एसपी ट्रैफिक संजीव वाजपेयी ने बताया कि एनएच-58 को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। इस हाईवे पर कांवड़ियों के वाहनों के अलावा पास वाले हलके वाहन कांवड़ मार्ग को छोड़कर चल रहे हैं। मोदीपुरम से रुड़की रोड, जीरोमाइल, बेगमपुल, केसरगंज, रेलवे रोड चौराहा, मेट्रो प्लाजा, रिठानी और परतापुर तिराहे तक भी दिल्ली रोड पर चार पहिया वाहन बंद कर दिए। ट्रैफिक पुलिस ने इमरजेंसी में आने वाली कारों को ही दिल्ली रोड पर आने दिया। कुछ मुख्य चौराहों पर पुलिस ने कार चालकों के साथ भी सख्ती की। इस दौरान शारदा रोड और परतापुर तिराहे पर लोगों की पुलिस से नोकझोंक भी हुई।

एसपी ट्रैफिक का कहना है कि बुधवार से डॉक कांवड़ हरिद्वार से आनी शुरू हो जाएंगी। ऐसे में हाईवे पर कांवड़ियों की सुरक्षा को लेकर चार पहिया वाहन किसी भी कीमत पर नहीं आने जाने दिए जाएंगे।

शहर में भी परेशानी
बेगमपुल से बच्चा पार्क, इंदिरा चौक, हापुड़ अड्डा, एल ब्लॉक तिराहा और बिजली बंबा पुलिस चौकी तक ट्रैफिक पुलिस ने एक तरफ ही हलके वाहन आने जाने दिय। इन मार्गों पर कट बंद होने के बाद व-नवे व्यवस्था है। जिसके चलते कार सवार लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। पुलिस ने दिल्ली रोड पर मोदीपुरम से बेगमपुल, बेगमपुल से परतापुर तिराहा, बेगमपुल से हापड़ अड्डा और हापुड़ अड्डा से बिजली बंबा चौकी तक ऑटो, ई रिक्शा, टेंपो, यात्री जीप पूरी तरह से बंद कर दी हैं।

पूर्व मंत्री याकूब की चाबुक वाली बेटी पर लगेगा गुंडा एक्ट! दो और धरे

Former minister Yakubs lashing daughter will look at the gang act
याकूब की बेटी पर होगी कार्रवाई

मेरठ पब्लिक गर्ल्स स्कूल में घुसकर छात्राओं, शिक्षिकाओं की हंटर से पिटाई और गुंडागर्दी के मामले में पुलिस ने दो ओर लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। एसएसपी मंजिल सैनी ने कहा कि हंटर वाली महिला की हर हाल में गिरफ्तारी होगी। कोर्ट से गैर जमानती वारंट मांगा गया है। पुलिस को सहयोग नहीं करने के लिए एसएसपी ने स्कूल को नोटिस जारी है। एसएसपी के मुताबिक आरोपियों पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई होगी।

एसएसपी मंजिल सैनी ने बताया कि जो सीसीटीवी फुटेज मिली है उसमें एक महिला कुछ महिलाओं और लड़कों के साथ एमपीजीएस में घुस रही है। उसके हाथ में हंटर जैसी कोई चीज है। पीड़ित छात्रा के परिवार और स्कूल की तरफ से मुकदमा लिखाया गया है। सभी आरोपी को अज्ञात बताया गया है। सीसीटीवी फुटेज देखकर महिला की पहचान हो गई है। सभी आरोपी पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के परिवार से हैं। हंटर लेकर स्कूल में गई महिला याकूब कुरैशी की बेटी है। उसकी गिरफ्तारी के लिए गैर जमानती वारंट मांगा गया है। बुधवार को भी पुलिस ने लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र के रशिदनगर में दबिश देकर तनवीर आजम पुत्र हसमुद्दीन और विकासपुरी निवासी शहजाद पुत्र नसीरूद्दीन को गिरफ्तार किया है। उनसे पूछताछ में भी कई और नामों की पुष्टि हुई है।

गुंडा गर्दी की है, गुंडा एक्ट भी लगेगा

हाथ में हंटर लेकर जाती महिला

मंगलवार को भी पुलिस ने दबिश देकर एक नाबालिग सहित चार की गिरफ्तारी की थी। जिसमें से तीन जेल जा चुके हैं। एसएसपी के अनुसार इस मामले में पीड़ित पक्ष और स्कूल प्रशासन दोनों की ओर से ही उपेक्षित सहयोग नहीं मिल रहा था । सहयोग न करने पर स्कूल प्रशासन को नोटिस जारी किया गया है।

एसएसपी ने कहा कि छात्राओं के स्कूल में युवकों को लेकर घुसना ,मारपीट और बदसलूकी करना बेहद गंभीर मामला है। इस तरह की गुंडागर्दी नहीं चलने दी जाएगी। इस मामले को पुलिस बेहद गंभीरता से ले रही है और इसमें गुंडा एक्ट में भी कार्रवाई होगी। मंजिल सैनी ने बताया कि स्कूलों की सुरक्षा के लिए पुलिस गंभीर है, जल्द ही स्कूलों की सुरक्षा के लिए प्रधानाचार्यों की बैठक बुलाई जाएगी।

दोनों आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज
पुलिस ने गिरफ्तार दोनों आरोपियों तनवीर और शहजाद को बुधवार को न्यायालय सीजेएम तबरेज अहमद की अदालत में पेश किया। न्यायालय के समक्ष दोनों आरोपियों की ओर से जमानत प्रार्थना पत्र दाखिल किया गया। न्यायालय ने मामले को बेहद गंभीर मानते हुए दोनों के जमानत प्रार्थनापत्रों को खारिज कर दिया। दोनों आरोपियों की पेशी के समय न्यायालय में काफी संख्या में लोग मौजूद थे। जिसके चलते न्यायालय ने सभी लोगों को अदालत से बाहर निकाले जाने के निर्देश दिए। उसके बाद ही न्यायालय ने जमानत प्रार्थना पत्र पर सुनवाई की।

आरोपियों के बचाव के रास्ते बंद कर रही पुलिस

मेरठ पब्लिक गर्ल्स स्कूल

स्कूल का ये चर्चित मामला शासन तक पहुंच चुका है। भाजपाइयों ने ट्विटर और अन्य माध्यमों से ये मामला सीएम तक भी पहुंचा दिया है। लिहाजा पुलिस भी अब इस मामले में कोई चूक नहीं करना चाहती। सूत्रों के अनुसार पुलिस को अंदर खाने इस बात की सूचना मिल रही थी कि पीड़ित पक्ष पर समझौते का दबाव बनाया जा रहा है। पुलिस को आशंका थी कि कहीं पीड़ित पक्ष दबाव में कमजोर ना पड़ जाए, इसी वजह से पुलिस ने मंगलवार को स्कूल प्रशासन की तहरीर आते ही तुरंत एक ओर मुकदमा दर्ज कर लिया और उच्चाधिकारियों और शासन में बात करने के बाद ही रात को ही पूर्व मंत्री के यहां दबिश दी गई । तीनों आरोपियों को रातों रात कोर्ट पेश किया गया और जेल भेज दिया गया। सूत्रों के अनुसार पुलिस ने स्कूल की तहरीर पर अलग मुकदमा इसलिए लिखा कि पीड़ित पक्ष द्वारा सुलह करने के बाद भी स्कूल प्रशासन के मुकदमे पर आरोपियों पर सख्त कार्रवाई हो सके और आरोपी पक्ष के लिए बचाव की कोई गुंजाइश ना रहे।

पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के घर दबिश, बेटी भूमिगत, फेमिली के सभी बच्चे स्कूल से निकाले गए

Home Minister Yakub Qureshi's house raid
याकूब के घर छापे के दौरान आरएएफPC: अमर उजाला ब्यूरो
कैंट स्थित एमपीजीएस (मेरठ पब्लिक गर्ल्स स्कूल) में छात्राओं और शिक्षिकाओं को चाबुक से पीटने का मामले में मंगलवार को पुलिस प्रशासन एक्शन में आ गया। भारी पुलिस बल, पीएसी और पैरा मिलेट्री फोर्स के साथ पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के आवास पर दबिश दी जहां उनसे जुड़े चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। इससे पूर्व छात्राओं के अभिभावक, व्यापारी नेता और सामाजिक संस्था स्कूल में पहुंचे जिस पर स्कूल प्रबंधन ने तीन छात्राओं को स्कूल से निष्कासित कर दिया। हालांकि चाबुक चलाने वाली महिला पर पुलिस ने अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। वेस्ट एंड रोड स्थित एमपीजीएस में सुबह सात बजे अपनी अपनी बेटियां के साथ अभिभावक पहुंचे। स्कूल के बाहर हंगामा शुरू होते ही सदर बाजार के व्यापारी नेता भी पहुंचे। एबीवीपी के कार्यकर्ता स्कूल प्रशासन व पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। मामला तूल पकड़ने लगा तो पुलिस फोर्स स्कूल में पहुंच गई। पुलिस ने सफाई दी कि स्कूल प्रशासन से कोई शिकायत नहीं आई। अभिभावक और एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने स्कूल प्रशासन की घेराबंदी कर ली। पुलिस को स्कूल प्रशासन ने तुरंत लिखित में शिकायत दी। मामला पुलिस के आला अधिकारियों तक पहुंचा। अभिभावक जिद पर अड़े कि स्कूल में हथियारों से लैस घुसकर छात्राओं और शिक्षिकाओं को घोड़े की चाबुक से पीटने वालों को गिरफ्तार करो। मामला तूल पकड़ने लगा तो एसएसपी ने लखनऊ में आला अधिकारियों को इसके बारे में अवगत कराया। एसएसपी ने बसपा नेता पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के घर पर दबिश देने की तैयारी करने की बात पुलिस से कही। वहां से हरी झंडी मिलने पर थाना कोतवाली पुलिस, पीएसी और आरएएफ ने याकूब कुरैशी के यहां दबिश दी। याकूब से जुड़े उसी के आवास पर से बरनावा बागपत निवासी समीर एवं आरिफ, सरधना निवासी फैजल को गिरफ्तार कर लिया। बताया गया कि वह पशु व्यापारी हैं और इसके सिलसिले में ही यहां आए थे। इसके अलावा पड़ोस में रहने वाले सलीम के नाबालिग पुत्र को भी पुलिस ने हिरासत में लिया जिसे देर रात थाने से ही जमानत पर छोड़ दिया गया।

युवक को पकड़कर ले जाती पुलिसPC: अमर उजाला ब्यूरो

आरएएफ देखते ही छंट गई भीड़
आरएएफ को देखते लोगों की भीड़ खुद अपने आप पीछे हटने लगी। याकूब कुरैशी के परिवार के लोग कहने लगे कि हम लोग कानून को मानने वाले है। बच्चों से अगर गलती हुई है तो उनको माफ कर दो। किसी दबाव में कार्रवाई मत करो। स्कूल में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज देखकर उचित कार्रवाई करे। सीओ कोतवाली ने उन्हें समझाया कि कोई गलत काम नहीं होगा।कोतवाली में बन गया एक्शन प्लान
पुलिस फोर्स, पीएसी और आरएएफ ने दोपहर को कोतवाली इलाका घेर लिया। एसपी सिटी, सीओ कोतवाली और एएसपी कैंट पुलिस फोर्स लेकर कोतवाली पहुंचे। याकूब कुरैशी के घर पर पुलिस पहुंची तो लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। हंगामा होने लगा और पुलिस से तीखी झड़प हुई। माहौल गर्माने लगा। फोर्स हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार थी।

नाम बताओ, थाने भेज देंगे
एसपी सिटी मानसिंह चौहान, सीओ कोतवाली रणविजय सिंह, एएसपी कैंट अंकित मित्तल, एसओ कोतवाली विजय गुप्ता पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के घर पहुंचे। याकूब पुलिस को देखकर बोले कि इतना बड़ा मामला तो नहीं हुआ, जोकि इतनी फोर्स बुलानी पड़ी। जिनके नाम बताओ, उसको थाने भिजवा देंगे। पुलिस अफसर बोले कि ऐसा कोई मामला नहीं है। पानी तो पिला दो। याकूब ने पानी और कोल्डड्रिंक मांगकर पिलाई।

15 लोग हथियार और चाबुक लेकर स्कूल में घुसे थे

स्कूल के कमरे बंद कर कराई गई परीक्षाPC: अमर उजाला ब्यूरो

कैंट स्थित मेरठ पब्लिक स्कूल फॉर गर्ल्स (एमपीजीएस) में घुसकर हुई गुंडई के मामले में गुस्साए सैकड़ों अभिभावकों ने मंगलवार को जमकर हंगामा काटा। स्कूल प्रबंधक और प्रधानाचार्य को घेरकर सुरक्षा पर सवाल दागे। आरोप लगाया कि प्रबंधन को छात्राओं से ज्यादा अपनी साख की चिंता है। इतना सब होने के बाद भी प्रबंधन ने रिपोर्ट दर्ज कराने की बजाय मामले में लीपापोती की। अगर इस तरह की असुरक्षा भविष्य में रही और छात्राओं के साथ क्लास रूम में घुसकर कोई अनहोनी हो जाती है तो कौन जिम्मेदार होगा। सुबह करीब आठ बजे प्रबंधक ताराचंद शास्त्री जब स्कूल पहुंचे तो काफी संख्या में अभिभावक उनके कक्ष में घुस आए और घटना पर जवाब मांगने लगे। अभिभावकों ने आरोप लगाते हुए कहा कि यदि कोई अभिभावक किसी काम से स्कूल में आता है तो उससे गेट पर तरह-तरह के सवाल पूछे जाते हैं। एंट्री कराई जाती है। इंतजार कराया जाता है। लेकिन करीब 15 लोग हथियार और चाबुक लेकर स्कूल में घुस गए। क्लास रूम में घुसकर गुंडई की। छात्राओं, शिक्षिकाओं को पीटा। लेकिन उन्हें रोकने की हिम्मत स्कूल प्रबंधन की नहीं हुई। आधा घंटे से ज्यादा तक वे स्कूल में गुंडागर्दी करते रहे। उसी वक्त पुलिस बुलाकर उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं कराया गया।

जो हुआ स्कूल के अंदर हुआ
अभिभावकों ने आरोप लगाया कि सोमवार को स्कूल में जब यह घटना हुई तो प्रबंधक स्कूल में ही मौजूद थे। लेकिन इसके बावजूद ये सब हुआ। किसी छात्र या छात्रा के साथ स्कूल के बाहर कोई घटना होती है तो स्कूल वाले कहते हैं कि उनकी जिम्मेदारी केवल स्कूल के अंदर की है। लेकिन यह घटना तो स्कूल के अंदर की है, फिर भी स्कूल प्रशासन ने अपनी तरफ से थाने पर तहरीर देनी तक उचित नहीं समझी। इन हालातों में अभिभावक किस पर भरोसा करें। उनकी बच्चियां इतनी डरी हुई हैं कि स्कूल आने से ही मना कर रही हैं। गिरीश गुप्ता, नवीन शर्मा, रश्मि, संजीव गुप्ता आदि अभिभावकों के अलावा भाजपा नेता अजय गुप्ता, सारथी संस्था की अध्यक्ष कल्पना पांडे आदि ने असुरक्षा के आरोप लगाकर घटना पर गहरी नाराजगी जतायी।

दो दिन पहले सबक ले लेते तो न होती घटना

ताराचंद शास्त्री से अभिभावकों की नोकझोकPC: अमर उजाला ब्यूरो

मेरठ पब्लिक स्कूल फॉर गर्ल्स (एमपीजीएस) में सोमवार को अभिभावकों ने जो गुंडागर्दी की है, वह स्कूल प्रबंधन की भारी लापरवाही का नतीजा है। बीते शनिवार दोपहर कोे भी छात्राओं के साथ बुर्का पहने महिला कुछ गुंडों व लड़कों को लेकर छात्राओं व शिक्षिकाओं को पीटने के इरादे से हंटर लेकर स्कूल पहुंची थी। स्कूल कॉरिडोर में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में स्कूल की लापरवाही साफ नजर आ रही है। स्कूल के मेन गेट और कॉरिडोर में जो सीसीटीवी कैमरे लगे हैं, उसमें आठ जुलाई यानी शनिवार की फुटेज कैद है। इस फुटेज में साफ दिख रहा है कि बुर्का पहने महिला लाल रंग का दुपट्टा डालकर, हंटर, गुंडों को साथ लेकर स्कूल पहुंची है। महिला के साथ आए लड़कों ने कॉरिडोर में ही रुमाल बांधकर अपने चेहरे ढंक लिए। ताकि घटना के वक्त उनकी पहचान न हो पाए। ये लोग पहले स्कूल में घूमे। पूरा स्कूल खाली मिला तो इन्होंने स्कूल में तोड़फोड़ कर दी और दोबारा आने की धमकी देकर वापस लौट गए। शनिवार की वीडियो फुटेज में स्कूल शिक्षिकाएं और यूनिफार्म में छात्राएं नहीं दिख रही हैं। जबकि 10 जुलाई सोमवार की वीडियो फुटेज में वही महिला दोबारा हंटर लिए हुए स्कूल में आती दिख रही है। महिला के साथ गुंडे, मेन विंग की यूनिफार्म पहने कुछ लड़के व दोनों छात्राएं हैं। इस वीडियो फुटेज में स्कूल शिक्षिका नीली साड़ी पहने उस महिला को रोकती हुई साफ दिख रही है। स्कूल यूनिफार्म में कु छ छात्राएं भी कॉरिडोर में नजर आ रही हैं जो उस महिला को रोकती हैं। लेकिन बुर्के वाली महिला हंटर लेकर गुंडों के साथ स्कूल में जबरन घुसकर पूरी घटना को अंजाम देती है। वीडियो फुटेज गवाह है कि ये लोग शनिवार को भी मारपीट के इरादे से स्कूल में घुसे थे। लेकिन छुट्टी हो जाने के कारण घटना नहीं हो पाई थी। स्कूल प्रशासन इस फुटेज से सबक लेकर अगर पुलिस को सूचना देकर सतर्क हो जाता तो सोमवार को यह घटना होती ही नहीं। लेकिन प्रबंधन ने पूरे मामले को दबाए रखा। बल्कि मीडिया को सोमवार को जो तस्वीरें और वीडियो दीं वो भी 8 जुलाई की घटना की थीं, ताकि पूरा मामला दबा रहे। मंगलवार को जब स्कूल प्रशासन पर अभिभावकों ने दबाव बनाया तब उन्होंने 10 जुलाई की वीडियो मजबूरन जारी करनी पड़ी। स्कूल से मिली दोनों वीडियो ने पूरी घटना में स्कूल प्रबंधन की लापरवाही साफ जाहिर कर दी है।

तीनों छात्राएं निष्कासित

तीनों छात्रों की टीसी दिखाती प्रिंसिपलPC: अमर उजाला ब्यूरो

एमपीजीएस प्रबंधन ने जहां याकूब के परिवार की आठवीं कक्षा की दोनों आरोपी छात्राओं को निष्कासित किया गया है तो इसी परिवारी की नवीं कक्षा की उस छात्रा को भी प्रबंधन ने निष्कासित कर दिया है जिसने प्रिंसिपल के सामने इन दोनों छात्राओं को सच्चाई बताने से रोका और गुमराह किया। तीनों छात्राओं हाजी याकूब कुरैशी के परिवार से हैं। स्कूल की प्रिंसिपल मधु सिरोही के मुताबिक इस परिवार का कोई भी बच्चा अब इस स्कूल में नहीं पढ़ाया जाएगा।

दबाव पड़ने पर लिखी तहरीर
अभिभावकों ने स्कूल प्रबंधन पर भी इस मामले में अपनी तरफ से रिपोर्ट दर्ज कराने का दबाव बनाया, जिसके बाद प्रबंधन की तरफ से पेंसिल से तहरीर लिखी जाने लगी तो अभिभावक फिर भड़क गए। कहा कि तहरीर पैन से लिखी जाती है। इसके बाद पैन से तहरीर लिखी गई।

बेटियां तो सबकी की हैं
कई महिला अभिभावकों ने प्रबंधक और प्रधानाचार्या से सवाल किया कि बेटियां तो सबकी हैं। अगर आपकी बेटी के साथ ये सब हो तो कैसा लगेगा? क्या ऐसे माहौल में वे अपनी बेटियों को स्कूल भेजेंगे? कहा कि जो काम स्कूल प्रबंधन को करना चाहिए, वह अभिभावकों को करना पड़ रहा है। तुरंत घटना की रिपोर्ट दर्ज कराकर पुलिस पर आरोपियों की गिरफ्तारी का दबाव बनाना चाहिए था।

सुरक्षा तो दो
अभिभावकों ने प्रबंधक से पूछा कि स्कूल में इतनी छात्राएं पढ़ती हैं। लेकिन बच्चियों की सुरक्षा के नाम पर केवल एक निहत्था गार्ड गेट पर है। क्या यही सुरक्षा है? क्या प्रबंधन स्कूल में छात्राओं को सुरक्षा तक नहीं दे सकता?

हम सभी साथ हैं

सभी स्कूलों के प्रंबधकों की बैठकPC: अमर उजाला ब्यूरो

हम सभी प्रिंसिपल एमपीजीएस के साथ हैं। छात्राओं के अभिभावकों ने जो किया वो बहुत गलत है। इस तरह किसी भी स्कूल में गुंडागर्दी नहीं होनी चाहिए। मेरठ सहोदय इस मामले में जल्द कोई कदम उठाएगा। -एच.एम.राउत प्रिंसिपल दीवान पब्लिक स्कूल

काफी शर्मनाक घटना
काफी शर्मनाक घटना है। हम सभी इसका विरोध करते हैं। अच्छे हालात हों, जब शिक्षक बच्चों को पढ़ा सकें। प्रिंसिपलों की बैठक में यही तय करेंगे कि आगे क्या करना है। स्कूलों में बच्चों को पढ़ाना भी मुश्किल हो रहा है। छात्रों का यूं आवेश में आकर ऐसा कदम उठाना बेहद अशोभनीय हैं। -प्रेम मेहता, प्रिंसिपल सिटी वोकेशनल पब्लिक स्कूल

एसएसपी से मांगेंगे सुरक्षा
स्कूलों में अभिभावकों द्वारा अभद्रता करने की घटनाएं लगातार हो रही हैं। अभिभावक चाहते हैं कि बच्चे अच्छे नागरिक बनें, जब स्कूल बच्चों को पढ़ाते हैं तो अभिभावक इस तरह की घटनाएं करते हैं। यह बहुत निंदनीय घटना है। सभी स्कूल संचालक व प्रिंसिपल मिलकर एसएसपी से मुलाकात करेंगे। स्कूल अपनी तरफ से पूरी सुरक्षा व्यवस्था रखते हैं, फिर भी ऐसी घटना हुई, इसलिए एसएसपी से मिलकर स्कूलों की छुट्टी के वक्त हर स्कूल को दो पुलिसकर्मी दिए जाएं, इसकी मांग करेंगे। काली पट्टी बांधकर सभी शिक्षक और प्रिंसिपल विरोध भी करेंगे। -राहुल केसरवानी, सहोदय सचिव

आगे की रणनीति बनाएंगे
जिस तरह अभिभावकों ने स्कूल में घुसकर गुंडागर्दी की, वह बहुत अशोभनीय है। शिक्षकों का कक्षाओं में पढ़ाना मुश्किल हो रहा है। मेरठ सहोदय और मेरठ स्कूल मैनेजमेंट फेडरेशन एमपीजीएस की घटना की निंदा करता है। आगे क्या करना है, बुधवार को हम सभी शिक्षक मिलकर इसकी रणनिति बनाएंगे। -विशाल जैन, डायरेक्टर शांति निकेतन ग्रुप

आरोपी छात्रों की पहचान कर होगी कार्रवाई

ताराचंद्र शास्त्री से तहरीर लिखवाते अभिभावकPC: अमर उजाला ब्यूरो

एमपीजीएस में गुंडागर्दी करने वालों में मेरठ पब्लिक स्कूल मेन विंग के छात्रों का नाम शामिल है। स्कूल से मिली फुटेज में ये छात्र हंटर वाली महिला के साथ शनिवार और सोमवार दोनों दिन स्कूल में घुसते हुए साफ दिख रहे हैं। पहले से स्कूल प्रशासन इस बात को मानने से इंकार कर रहा था। लेकिन मंगलवार को जब अभिभावकों ने स्कूल में जाकर हंगामा किया और उन छात्रों को स्कूल से निकालने की मांग की, तो मजबूरन स्कूल प्रशासन को कदम उठाना पड़ा। मेन विंग के प्रिंसिपल डॉ. संजीव अग्रवाल ने बताया कि शनिवार और सोमवार दोनों दिनों की अनुपस्थित छात्रों की सूची मंगाई है। इस सूची का मिलान वीडियो फुटेज वाले छात्रों से करेंगे। अगर दोषी छात्र हमारे विद्यालय के हैं तो उन पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। बुधवार को हाजिरी रजिस्टर का मिलान किया जाएगा।

एमपीजीएस के साथ आया मेरठ सहोदय

पुलिस से अभिभावकों की हुई नोकझोकPC: अमर उजाला ब्यूरो

एमपीजीएस में घुसकर हुई गुंडागर्दी का विरोध करने के लिए मंगलवार को मेरठ सहोदय के सदस्य, विभिन्न स्कूलों के प्रिंसिपल एवं मेरठ स्कूल मैनेजिंग फेडरेशन के सदस्य स्कूल पहुंचे। पब्लिक स्कूलों के प्रिंसिपलों व निदेशकों ने पूरी घटना को निंदनीय बताकर विरोध किया। साथ ही एमपीजीएस प्रबंधन से कहा कि पूरी घटना में सभी पब्लिक स्कूलों के प्रिंसिपल व संचालक आपके साथ हैं। एक घंटे तक एमपीजीएस में स्कूल प्रिंसिपलों व निदेशकों की बैठक हुई। सहोदय सचिव राहुल केसरवानी ने बताया कि स्कूल प्रबंधन ने पुलिस को पूरी वीडियो फुटेज देकर मामला दर्ज करा दिया है। सभी स्कूल प्रबंधन इस मामले की घोर निंदा करते हैं। हम सभी साथ हैं। पुलिस से न्याय की मांग करेंगे। साथ ही स्कूलों की सुरक्षा के लिए एसएसपी से मुलाकात करके स्कूलों में छुट्टी के वक्त अतिरिक्त पुलिस सुरक्षा बल प्रदान कराने की मांग करेंगे। शांति निकेतन के डायरेक्टर विशाल जैन ने बताया कि जो घटना हुई वो छात्राओं के लिए बहुत गलत है। हम शिक्षक हैं और छात्राओं का बुरा नहीं देख सकते। इसलिए सभी स्कूलों के शिक्षक, प्रिंसिपल व छात्र मिलकर एक दिन काली पट्टी बांधकर विरोध करेंगे। अन्य रणनीति तय करने के लिए बुधवार को मेरठ सहोदय की बैठक होगी।  प्रिंसिपलों की बैठक विद्या ग्लोबल स्कूल में दोपहर 2 बजे से होगी। इस बैठक में तय होगा कि आगे क्या करना है। बैठक में एमपीजीएस की प्रिंसिपल मधु सिरोही, एमपीएस ग्रुप की डायरेक्टर कुसुम शास्त्री, दीवान पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल एच.एम.राउत, सिटी वोकेशनल पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल प्रेम मेहता, एमआईटी ग्रुप के डायरेक्टर विष्णु शरण अग्रवाल, गौरव अग्रवाल, शांति निकेतन ग्रुप के डायरेक्टर विशाल जैन, विद्या नॉलेज पार्क के डायरेक्टर सौरभ जैन, मेरठ सहोदय सचिव राहुल केसरवानी, एमपीएस ग्रुप के प्रबंध निदेशक विक्र म शास्त्री, जीटीबी के डायरेक्टर संजीत पी सिंह, एमपीएस मेन विंग के प्रिंसिपल डॉ. संजीव अग्रवाल उपस्थित रहे।

हंटर चलाने वाली दबंग आसमां हो गई भूमिगत

सीसीटीवी में कैद बुर्के में चाबुक वाली महिलाPC: अमर उजाला ब्यूरो

स्कूल में पहुंचकर छात्राओं और शिक्षिकाओं पर हंटर चलाने वाली पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी की बेटी आसमां मंगलवार को भूमिगत हो गई। पुलिस ने फौरी कार्रवाई कर पल्ला झाड़ने का काम किया हैं। पुलिस ने साठगांठ कर केस की नींव कमजोर खड़ी की। ताकि याकूब के परिवार को बचाया जा सके। सरेआम स्कूल में गुंडागर्दी, हथियारों से लैस लोग, मारपीट और तोड़फोड़ वाली धारा मुकदमे में नहीं लगी। सभी के चेहरे सीसीटीवी कैमरे में कैद है, इसके बावजूद पुलिस ने अनदेखी की।
इंस्पेक्टर सदर बाजार पंकज पंत ने बताया कि  पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी की बेटी आसमां पत्नी शादाब निवासी हापुड़ समेत आठ लोगों के नाम मुकदमे में शामिल कर लिए है। स्कूल में गुंडागर्दी का सीन देखकर अभिभावक आगबबूला है। चौतरफा से दबाव पड़ने पर पुलिस ने सिर्फ फौरी कार्रवाई की है। पुलिस का दावा, हंटर चलाने वाली आसमां कुरैशी भूमिगत हो गई। उसकी तलाश में पुलिस फोर्स ने महिला पुलिस को लेकर याकूब कुरैशी के घर पर दबिश दी थी, लेकिन वहां कोई महिला नहीं मिली।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक इस मामले में गंभीरता से पुलिस ने एक्शन नहीं लिया। याकूब कुरैशी के सामने जाते पुलिस नमस्तक हो गई थी। याकूब ने तीन लोग पुलिस को सौंपे। पुलिस ने तीनों युवकों को गिरफ्तार किया है। जबकि हंटर चलाने वाली आसमां के बारे में पुलिस ने उनसे पूछना भी मुनासिब नहीं समझा है। सवाल उठता कि सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में साफ दिखाई दे रहे है आरोपियों को क्यों गिरफ्तार नहीं किया। महिला थाने की एसओ और उसकी टीम चुपचाप खड़ी रही।असली गुनहगार कहां है
तीन आरोपी समीर, आरिफ और फैजल पर पुलिस ने 151 की कार्रवाई की है। तीनों आरोपी फुटेज में नहीं है। पुलिस सूत्रों की मानें तो तीनों आरोपी बेकसूर है, लेकिन असली आरोपी कहां है। असली आरोपी की गिरफ्तारी में पुलिस को पसीने छूट रहे है। समीर, आरिफ बरनावा बागपत के और फैजल सरधना का निवासी है। इस मामले में सभी आरोपी कोतवाली के थे।

बलवा और आर्म्स एक्ट भी नहीं लगाई
सदर बाजार पुलिस ने इस मुकदमे की नींव बहुत कमजोर खड़ी की है। इस मुकदमे में बलवा व आर्म्स एक्ट की कार्रवाई नहीं की। पुलिस ने पास आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सुबूत है। स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं के अभिभावकों का कहना है कि पुलिस ने बसपा नेता से साठगांठ कर ली। इस मामले में पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखाई। पुलिस खानापूर्ति कर रही है।

मुकदमा दूसरा, आरोपी दूसरी धारा में भेजे
लोगों ने बताया पुलिस ने आरोपियों के साथ प्लानिंग बनाकर कार्रवाई की है। जेल भेजे तीनों आरोपी वारदात में नहीं थी, इसकी पुष्टि पुलिस अधिकारियों ने की है। इसको देखते पुलिस ने उन पर 151, 116 और 117 की कार्रवाई की गई है। जबकि सोतीगंज के यूसुफ ने हंटर चलाने वाली महिला समेत दर्जनों लोगों पर 147, 323, 504 की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया था।

याकूब बोले, भाजपाईयों की साजिश

याकूब कुरैशी

इस संबंध में हाजी याकूब कुरैशी ने कहा कि शिवरात्रि के पर्व पर पुलिस प्रशासन ने भाजपाइयों के साथ मिलकर जानबूझकर शहर का माहौल बिगाड़ने की कोशिश की। मामूली धाराओं में दर्ज मुकदमों पर आरएएफ लगाकर ऐसी दबिश दी गई कि न जाने क्या आफत आ गई हो? हमने धैर्य दिखाया। बच्चों का मामला था पर जानबूझकर इसे दूसरा रंग दिया जा रहा है। मेरी बेटी ने जाकर किसी को स्कूल में नहीं पीटा। यह पूरी तरह से गलत हो रहा है।
आठ जुलाई को भी हंटर और गुंडे लेकर स्कूल पहुंची थी महिला, मामले को दबा गया था स्कूल प्रशासन, नहीं लिया था एक्शन, 10 जुलाई की घटना में जारी कर दी 8 जुलाई की फुटेज, पुलिस को देखकर भड़के लोग, आरएएफ देखते साधी चुप्पी, दिन निकलते एमपीजीएस अभिभावकों ने घेरा, हुआ हंगामा, कोतवाली इलाका बनाया छावनी, चप्पे चप्पे पर पुलिस फोर्स, तीन छात्राओं को स्कूल प्रबंधन ने दिखाया बाहर का रास्ता

जानिए कौन है घाटी से गिरफ्तार लश्कर का आतंकी संदीप, UP से क्या है नाता?

Sandeep alias Adil, suspect arrested from J & K connection with UP
जम्मू-कश्मीर के आईजी मुनीर खान
जम्मू-कश्मीर से पकड़े गये संदिग्ध आतंकी संदीप शर्मा उर्फ आदिल का यूपी से क्या नाता है। आदिल पर तमाम आरोप लगे हैं। यूपी के मुजफ्फरनगर का रहने वाला संदिग्ध आतंकी संदीप उर्फ आदिल को सोमवार को जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।
जम्मू-कश्मीर के आईजी मुनीर खान का दावा है कि यह लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी है। उन्होंने बताया कि आतंकी को लश्कर के कमांडर बशीर लश्करी से मुठभेड़ के दौरान पकड़ा गया है। संदीप के पिता का नाम राम शर्मा है और वह दो पहचान के साथ रहता है। स्थानीय लोग उसे आदिल के नाम से जानते हैं। वहीं पुलिस ने बताया कि संदीप पर हथियार लूटने और सेना पर हमले के तमाम आरोप हैं। आदिल की गिरफ्तारी के बाद यूपी पुलिस और एटीएस में हड़कंप मचा हुआ है।

आपको बता दें कि संदीप उर्फ आदिल पर तमाम आरोप हैं। जैसे- 1. एसएचओ फिरोज डार की हत्या में भी शामिल था। 2. 3 आतंकी घटनाओं को अंजाम दिया। 3. हथियार लूटने और आतंकी घटनाओं को अंजाम देने का आरोप है। 4. संदीप उर्फ आदिल की मदद से आतंकियों ने एटीएम लूटे। 5. पहली बार कोई गैर-कश्मीर युवक लश्कर में शामिल हुआ है।