संजय लीला भंसाली की फिल्म चित्तौड़ की महारानी पर रोक की मांग

संजय लीला भंसाली चित्रोड़ की महारानी, नारी जगत की आदर्श, राजपूत समाज की गौरव, पदमनी जी पर एक फिल्म बनाने जा रहे है। जिसमें सही तथ्यों के अभाव, सटीक जानकारी न होने के कारण, तथ्यों को तोड़ मोड़कर राजपूत इतिहास को कलंकित करने की नीयति से महारानी पदमनी जी का चरित्र चित्रण किया गया है। जबकि महारानी पदमनी जी ने अपने स्वाभिमान एंव सतीत्व की रक्षा के लिए 16,000 हजार रानियों के साथ आग में कुदकर जौहर किया था। पूरे देश में करोड़ो लोग महारानी पदमनी जी को देवी के रूप् में पूजते है। फिल्मकारों को मनोरंजन के साथ-साथ देश की भावना का भी ख्याल चाहिये वह हमारा नैतिक कत्र्तव्य है कि देश की शौर्य, त्याग, बलिदान, साहस, वीरता की ऐसी पवित्र देवी महारानी पदमनी जी के चरित्र को संजय लीला भंसाली अपने निजी फायदे के लिये बिल्कुल गलत तरीके से जिस पंकार से तोड़ मरोड़कर जनता को दिखाना चाहते है उससे जनता के बीच आक्रोश भड़क गया तो उत्तर प्रदेश में सारे सिनेमा घर शमशान में तबदील होने में ज्यादा समय नहीं लग पायेगा, इसलिये इस फिल्म को तत्काल प्रभाव से रोक की मांग करते हुए  मानवीय मुख्यमंत्री जी को सिंह  सेना संगठन के अध्यक्ष  ने पत्र लिखा

Leave a Reply